अभिव्यक्ति

Home >> Abhivyakti
अभिव्यक्ति
 

संपादकीय

कल्पेश याग्निक का कॉलम : हे मेरे सैनिक- आओ, लहू का भीगा हुआ हाथ मुझसे मिलाओ

तुम्हारी मृत्यु का मुझे कोई दु:ख नहीं है। वह तो वीरगति है। उस पर तो तुम्हारे परिवार के समान...
 

अर्थव्यवस्था पर मूडी की रेटिंग खारिज करना आसान नहीं

भारत सरकार के वित्त मंत्रालय ने अर्थव्यवस्था की अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजेंसी मूडी के आकलन...

महाराष्ट्र में मराठा आंदोलन से मिले खतरनाक संकेत

पहले गुजरात फिर हरियाणा और अब महाराष्ट्र में उभरे शासक वर्ग के आंदोलन ने जहां राज्य सरकार...

रेलवे में चमत्कार होगा या पुरानी स्थिति ही रहेगी?

निश्चित तौर पर अंग्रेजों के जमाने की अकवर्थ कमेटी के सुझाव और जापान की नकल पर 1924 में शुरू हुई...

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शरीफ के मंसूबे नाकाम करने होंगे

पाकिस्तान ने जितनी तेजी से संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर के मुद्‌दे को उठाने की तैयारी की है...

साहस और संयम के साथ हमले का जवाब देना होगा

कश्मीर के उड़ी क्षेत्र में सैनिक शिविर पर आतंकी हमले ने भारत और पाकिस्तान के लगातार बिगड़ते...
 
 
 
विज्ञापन

RECOMMENDED