संपादकीय

  • देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस
Home >> Abhivyakti >> Editorial

Editorial

  • नकल माफिया पर शिकंजा कसें, शिक्षा व्यवस्था को सुधारें
    देश के सभी राज्यों में बोर्ड परीक्षाओं का दौर जारी है। परीक्षा का सही मायनों में अर्थ होता है छात्रों की शैक्षिक गुणवत्ता की जांच करना लेकिन, अगर हम देश के उत्तर भारतीय राज्यों की ओर देखें तो उत्तर प्रदेश, बिहार व हरियाणा जैसे बड़े राज्यों में बोर्ड परीक्षाओं के आरंभ के साथ ही नकल माफिया भी सक्रिय हो गया है। वह छात्रों का भविष्य बिगाड़ रहा है। इन राज्यों में खुलेआम स्थानीय परीक्षाओं से लेकर बोर्ड परीक्षाओं तक में छात्रों को सामूहिक नकल करवाई जा रही है। हाल ही में प्रधानमंत्री ने भी अपनी रैली...
    March 28, 07:28 AM
  • राष्ट्रवाद वाले हिंदुत्व की राजनीति का दौर
    यदि राजनीतिक इतिहास को युगों में बांट दिया जाए तो इंदिरा गांधी का युग 1969 में शुरू होता है, जब उन्होंने कांग्रेस का विभाजन कर दिया था और वह 1989 में समाप्त हुआ जब राजीव गांधी सत्ता खो बैठे। दो उभरती राजनीतिक ताकतों ने यह संभव किया : मंदिर और मंडल। उसके बाद कांग्रेस 15 साल सत्ता में रही (पीवी नरसिंह राव के मातहत एक और सोनिया गांधी व मनमोहन सिंह के मातहत दो कार्यकाल) फिर भी वह कभी अपनी ऊर्जा वापस प्राप्त न कर सकी। असली ताकत तो विभिन्न चरणों में मंदिर व मंडल की संतानों में बंट गई। 1989 बाद की राजनीति उत्तर...
    March 28, 07:17 AM
  • उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने शासन के एक हफ्ते के भीतर भले कैबिनेट की मीटिंग नहीं कर पाए हों लेकिन, उन्होंने पुलिस और प्रशासन को कई स्तर पर सक्रिय किया है और प्रदेश में उसकी चमत्कारिक चर्चाएं जोरों पर हैं। इन चर्चाओं में एक तरफ उनके हर कदम को बड़ी संभावना के रूप में देखने वाले उनके समर्थक हैं तो दूसरी तरफ आशंकाएं पालने वाले उनके विरोधी हैं। जाहिर है उनमें गोवंश की तस्करी पर रोक, अवैध बूचड़खानों पर कार्रवाई और एंटी रोमियो अभियान से लेकर दफ्तरों में पान-गुटखा थूकने पर...
    March 28, 07:17 AM
  • विश्व के ज्यादातर देशों के नागरिकों के लिए अमेरिका का वीज़ा हासिल करना मुश्किलों के चरण पार करने जैसा है। या तो उन्हें लंबी या बहुत लंबी प्रक्रिया का सामना करना पड़ेगा। या उन्हें छह महीने या एक साल का वक्त लग सकता है। या फिर उपरोक्त दोनों स्थितियों का सामने करने के बाद अंत में इनकार कहा जा सकता है। भारत जैसे अमेरिका के सहयोगी देश भी ट्रम्प प्रशासन की नई आव्रजन नीति से नहीं बच पाए हैं। पहले की बात अलग थी, लेकिन अब वह नीति पहले से ज्यादा जटिल हो गई है। 1) दस्तावेज व प्रक्रिया : सबसे पहले गैर आप्रवासी...
    March 27, 07:51 AM
  • कई देशों में रेस्तरां, फैक्ट्रियों और विमानतलों पर रोबोट भी काम करते दिख जाते हैं, लेकिन अब लॉ फर्म में उनसे काम लिए जाने का दौर आ गया है। अमेरिका की बड़ी लॉ फर्में इस पर करोड़ों रुपए खर्च कर रही हैं। हालांकि, इसमें कुछ सवाल भी हैं। कुछ का मानना है कि सिलिकॉन वैली का अगला निशाना वकीलों का पेशा हो सकता है, लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि वकालत के पेशे पर फिलहाल कोई खतरा नहीं है। जानिए- रोबोट कई वर्षों से फैक्ट्रियों में काम कर रहे हैं। वहीं उन्होंने काम करना भी सीखा और वाहनों की ड्राइविंग भी।...
    March 27, 07:48 AM
  • लक्ष्य पाना है तो पहले भीतर के बंधनों से मुक्ति पाएं
    बाहरी बाधाओं की बजाय हमारे भीतरी बंधन ही हमें जीवन के लक्ष्य पाने से रोकते हैं। मनोवैज्ञानिक तरीकों से इनसे मुक्त हो जाइए। आप जहां हैं और आपके पास जो है, उसी से शुरुआत कर दीजिए। सही वक्त का ज्यादा इंतजार मत कीजिए। संभव हो तो धन वरना सेवा का दान कीजिए। मांगने वाले की जगह देने वाला बनने से नज़रिया बदलता है। अक्सर हम अपने आंत्रप्रेन्योरशिप कोचिंग प्रोग्राम में प्रतिभागियों से कहते हैं कि अपनी सारी कमजोरी, हीन भावना, आत्म ग्लानि, बुरे अनुभव, नकारात्मकता और भय को एक कागज पर लिख लें। ये लिखते हुए...
    March 27, 07:46 AM
  • गुरु से जब ज्ञान उतरता है, तब आता है संगीत
    हमारा परिवार संगीतकारों का परिवार नहीं था लेकिन, पिता संगीतप्रेमी थे और ऑल इंडिया रेडियो पर प्रसारित शास्त्रीय संगीत सुना करते थे। उन्होंने ही हमें शास्त्रीय संगीत के प्रति रुचि जगाई और इसकी बारीकियां समझाईं। स्कूल के दिनों में मुझे संगीत के साथ भरतनाट्यम, चित्रकला और ललित कला के अन्य रूपों में समान रुचि थी। मैं इनमें से किसी को भी अपने जीवन का लक्ष्य बना सकती थी लेकिन, पिताजी से शुरुआत में मिले संगीत के संस्कारों ने मुझे अंतत: उसी ओर मोड़ दिया और कॉलेज में वह मेरा एक विषय बन गया। मैं अपने...
    March 27, 07:43 AM
  • भास्कर में लिखेंगे जावेद अख्तर, शुरुआत 'समाज, सिनेमा और सेक्युलरिज़्म' से
    नई दिल्ली. फेमस शायर, गीतकार और स्क्रिप्ट राइटर जावेद अख़्तर अब दैनिक भास्कर के रीडर्स के लिए लिखेंगे। यह पहली बार है कि वे किसी अखबार में नियमित रूप से लिख रहे हैं। भारतीय समाज व संदर्भों को लेकर उनके अपने विचार हैं। शुरुआत समाज, सिनेमा और सेक्युलरिज़्म लेख से... समाज में दो मुसलमान हो गए। एक वह जो पर्दे पे दिखाई दे रहा है और शेरवानी पहने, गाव-तकिये से टिका, शमा के सामने कोई ख़ूबसूरत सी ग़जल गा रहा है और दूसरा, मोहल्ले की गली में रहने वाला मुसलमान जिसकी साइकिल के पंक्चर जोड़ने की दुकान है और जिसे एक...
    March 26, 08:14 AM
  • कल्पेश याग्निक का कॉलम: राम को रुलाया, अल्लाह को आहत किया- शैतान के अट्‌टहास से तो जागो अब
    हे ईश्वर, इन्हें क्षमा करना - ये नहीं जानते ये क्या कर रहे हैं। - प्रभु यीशु (बचपन से समूचा विश्व इस पंक्ति को पढ़ रहा है, किन्तु पालन कोई नहीं करता।) शैतान ठहाके लगा रहा होगा। भगवान् को हमने दु:खी कर दिया। अल्लाह को ठेस पहुंचाई। हम सिद्ध करना चाहते हैं कि राम हमारे। उनकी जन्मभूमि यहां। इसलिए मंदिर वहीं बनाएंगे। हम इस होड़ में डटे हुए हैं कि रहमान पर हक हमारा। इबादत यहीं होती थी। इसलिए मस्जिद तो वहीं होगी। हे! राम। राम ने कठोर संघर्ष किया। पल-पल कष्ट उठाए। मानसिक यातना झेली। एक पल, किन्तु, न डिगे।...
    March 25, 09:54 AM
  • अयोध्या का हल सिर्फ बातचीत से ही होगा
    अयोध्या विवाद बातचीत से सुलझाया जाए, यह बात सर्वोच्च न्यायालय ने क्यों कही है? यदि हम इस झगड़े को निपटाना चाहते हैं तो पहले हमें इसी पहेली को हल करना चाहिए। सबसे बड़ी अदालत ने कोई फैसला नहीं दिया लेकिन, 2010 में इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने 61 साल से चल रहे मुकदमे का फैसला दे दिया था। क्या उसे तीनों पक्षों ने मान लिया? इसके बावजूद नहीं माना कि सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और रामलला- तीनों को अदालत ने विवादास्पद जमीन बांट दी थी। तीनों संतुष्ट हो सकते थे लेकिन, न हिंदू संतुष्ट हुए और न ही मुसलमान! न विश्व...
    March 25, 07:24 AM
  • अतिराजनीतिक हो चुकी सरकार से विश्व यक्षमा (टीबी) दिवस के बहाने यह अपील की जानी चाहिए कि वह देश को जल्द से जल्द टीबी मुक्त देश बनाए। ऐसा कहने की ठोस वजहें हैं। भारत में दुनिया के 24 प्रतिशत टीबी मरीज रहते हैं और हर साल 28 लाख नए टीबी मरीज इस कतार में खड़े हो रहे हैं। यह एक भयानक दृश्य है, जो 2025 तक देश को टीबी मुक्त बनाने के सपने के करीब भी नहीं फटकने देगा। अगर ऐसा हुआ तो 2030 तक हम टिकाऊ विकास के लक्ष्य को भी नहीं पा सकेंगे। अभी टीबी के कारण देश का 24 अरब डॉलर सालाना नुकसान हो रहा है। यहां देश के एक बड़े...
    March 25, 07:24 AM
  • ब्रिटिश कवि शैली ने अपनी कविता में पूछा था, यदि शीत ऋतु आ गई है तो क्या वसंत बहुत दूर है? जहां तक विश्व अर्थव्यवस्था का सवाल है, इस दशक के ज्यादातर हिस्से में जवाब यही था, हां, हो सकता है। उम्मीद की वह हल्की-सी चमक, जिसने सबसे धैर्यवान लोगों के भरोसे की परीक्षा लेने के बाद निराश किया, उसके बाद अब लगता है कि अर्थव्यवस्था में गर्माहट लौट रही है। 2010 के बाद पहली बार इस वर्ष दुनिया के धनी देश और विकसित होती अर्थव्यवस्थाएं दोनों में एक ही लय-ताल में वृद्धि का उत्साह दिख रहा है। यह सही है कि चिंता के अब भी...
    March 24, 07:19 AM
  • ईवीएम से मिली प्रतिष्ठा को ठेस न पहुंचाएं
    वर्ष 1997 की शुरुआत में जब मैं मुख्य चुनाव आयुक्त था तो नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) की आलोचना की। 1977 के करीब भारत सरकार ने इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड को ईवीएम विकिसत करने को कहा था। बाद में भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड को भी इसमें शामिल किया गया। भारतीय डिज़ाइन पर करीब 75 करोड़ रुपए की मशीनें बनाई गईं। 1982 में उन्हें केरल के 50 मतदान केंद्रों पर आजमाया गया। इसमें कुछ कानूनी चुनौतियां सामने आईं और मशीन को आगे इस्तेमाल करने के प्रयास छोड़ दिए...
    March 24, 07:10 AM
  • अन्नाद्रमुक की विरासत की जंग में नया मोड़ दोनों धड़ों से दो पत्तियों वाला चुनाव निशान छिन जाने का है। चुनाव आयोग ने न सिर्फ दोनों गुटों को अलग-अलग चुनाव चिह्न दिए हैं बल्कि उनके नाम भी बदल दिए हैं। जहां अभी कमजोर और अलग-थलग पड़े ओ. पन्नीरसेल्वम को बिजली का खंभा चुनाव चिह्न मिला है और उनकी पार्टी का नाम अन्नाद्रमुक-पुराची थलावी- अम्मा हो गया है। वहीं वीके शशिकला की पार्टी का नाम अन्नाद्रमुक-अम्मा और चुनाव चिह्न टोपी (हैट) हो गया है। अन्नाद्रमुक के समर्थक और उसकी राजनीति के विश्लेषकों का मानना...
    March 24, 07:09 AM
  • क्या उपमुख्यमंत्री पद तुष्टिकरण का जरिया भर है?
    आज़ादी के बाद से अब तक राज्यों में सत्ताधारी पार्टियों द्वारा राजनीतिक जरूरत के अनुसार उपमुख्यमंत्री पद का सृजन किया जाता रहा है। अब उत्तरप्रदेश में केशवप्रसाद मौर्य व दिनेश शर्मा को उपमुख्यमंत्री बनाया गया है। संविधान में कहीं भी इस पद का उल्लेख नहीं है। वह भी साधारण मंत्री के रूप में शपथ लेता है, उपमुख्यमंत्री के रूप में नहींं। उत्तर प्रदेश में तर्क दिया गया है कि इतने बड़े प्रदेश के सुशासन के लिए अकेले मुख्यमंत्री पर्याप्त नहीं हैं, उन्हें दो भुजाओं की आवश्यकता है। अगर ऐसा है तो मेरे...
    March 23, 07:02 AM
  • उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार ने समाजवादी सरकार की अल्पसंख्यक समर्थक नीतियों की प्रतिक्रिया में अपने कट्टर हिंदुत्व का एजेंडा लागू करना शुरू कर दिया है। अवैध बूचड़खानों पर कार्रवाई और ऑपरेशन रोमियो इसके दो अहम कदम हैं। ऑपरेशन रोमियो से उन तमाम युवाओं को डराया जा रहा है जो धर्म और जाति के दायरे से बाहर जाकर प्रेम करने के बारे में सोचते हैं या फिर अपने परिवार और समाज की सोच से अलग एक वयस्क की स्वतंत्रता महसूस करते हैं। यहां धार्मिक भावना के तहत कानून का इस्तेमाल किया जा रहा है। यही...
    March 23, 06:59 AM
  • क्यों आदित्यनाथ मुख्यमंत्री पद के लिए ठीक नहीं हैं?
    ऐसा लगता है कि अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा को रोका ही नहीं जा सकता। किंतु उनके पुरातन हिंदुत्ववाद के बावजूद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में योगी आदित्यनाथ का चुनाव बहुत ही खराब निर्णय है। पांच बार सांसद चुने जाने के बाद भी इस पद के लिए वे पात्र नहीं हैं। उनके हिंदू राष्ट्रवाद का स्तब्ध करने वाला रिकॉर्ड और इस्लामोफोबिया भारतीय संविधान का अपमान ही है, जिसके वजूद का उन्हें पता होगा, इस पर मुझे संदेह है। भूतकाल में उन्होंने मदर टेरेसा पर ईसाई धर्म का...
    March 22, 07:54 AM
  • सिंधु जल संधि की चर्चा में दांव पर पर्यावरण
    जब विश्व जल दिवस की पूर्व संध्या पर 20-21 मार्च को भारत और पाकिस्तान का स्थायी सिंधु जल आयोग इस्लामाबाद में अपनी 113वीं बैठक के लिए मिल रहा है तो बहुत कुछ दांव पर लगा हुआ है। फिर तात्कालिक मुद्दे और सिंधु जल संधि तो है ही। दोनों पड़ोसी देशों के बीच सिंधु जल संधि एक उज्ज्वल पहलू रहा है और यह संधि बार-बार उन्हें बातचीत की मेज पर ले आती है। यह साझा नदी का जादू है! दोनों देशों के बीच 1960 की संधि के तहत गठित स्थायी सिंधु आयोग में सूचनाएं साझा करने और सहयोग करने व परस्पर चर्चा की संस्थागत व्यवस्था है। इसके...
    March 22, 07:49 AM
  • भारतीय लोकतंत्र हिंदुत्व की योजना में उलझ गया है और उसके प्रमाण बार-बार उपस्थित हो रहे हैं। सबसे ताजा प्रमाण सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की यह टिप्पणी है कि राम मंदिर का विवाद दोनों पक्ष अदालत के बाहर बैठकर सुलझाएं और वे इसमें मदद करेंगे। उन्होंने इसके लिए 31 मार्च तक का समय भी दिया है। अदालत की यह टिप्पणी भाजपा नेता और याचिकाकर्ता सुब्रह्मण्यम स्वामी के माध्यम से सामने आई है और इसका अयोध्या आंदोलन के सभी समर्थकों ने स्वागत किया है, जिनमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ...
    March 22, 07:48 AM
  • कुमार मंगलम बिरला की मोबाइल कंपनी आइडिया सेल्यूलर और वोडाफोन की भारतीय इकाई के विलय की घोषणा के साथ 40 करोड़ ग्राहकों वाला यह संयुक्त उपक्रम न सिर्फ देश का सबसे बड़ा टेलीकॉम उपक्रम बनेगा बल्कि इससे देश के दूरसंचार बाजार में भूकंप आने की भी आशंका है। इसके संकेत आइडिया सेल्यूलर कंपनी के शेयर में 15 प्रतिशत की उछाल के बाद हुई 8 प्रतिशत की गिरावट से मिले हैं। यह विलय वोडाफोन के बढ़ते आर्थिक संकट का सूचक है और बाजार में बढ़ती प्रतिस्पर्धा का भी। टेलीकॉम कंपनियां न सिर्फ अपने आर्थिक संकट को दूर...
    March 21, 07:20 AM
पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

* किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.