संपादकीय
Home >> Abhivyakti >> Editorial
  • नरेंद्र मोदी ने नाम नहीं लिया है, लेकिन उनका इशारा साफ था कि एक परिवार संसद में व्यवधान के लिए जिम्मेदार है, जिस कारण महत्वपूर्ण विधायी कार्य तथा सुधार रुके पड़े हैं। प्रधानमंत्री ने सवाल उठाया कि क्या वे 2014 के आम चुनाव में अपनी हार का बदला ले रहे हैं? जिन पर निशाना था, बात वहां तक पहुंची। तुरंत राहुल गांधी ने जवाब दिया कि अपने वादे पूरे न कर पाने के कारण मोदी बहाना बना रहे हैं। आक्रामक मुद्रा में उन्होंने कहा कि कांग्रेस प्रधानमंत्री को ऐसी सरकार नहीं चलाने देगी, जो सिर्फ तीन या चार उद्योगतियों...
    04:04 AM
  • पंजाब दुनिया की उन जगहों में से है, जहां महिला-पुरुष अनुपात सबसे कम है। 2001 की जनगणना में वहां प्रति हजार पुरुषों पर सिर्फ 846 महिलाएं थीं। दस साल बाद 2011 की जनगणना में यह अनुपात कुछ बढ़ा और प्रति 1000 पुरुषों पर 893 महिलाएं हो गईं, लेकिन चिंताजनक पक्ष तो यह था कि बच्चों में लिंगानुपात घट रहा था। पहले यह प्रति हजार बालकों पर 961 बालिकाओं का था, जो बाद में घटकर 846 बालिकाओं का रहा। 2015 मंे राज्य में महिलाओं की संख्या प्रति हजार पुरुषों पर 903 महिलाएं हैं, जो उल्लेखनीय प्रगति कही जा सकती है। यह बड़े सामाजिक बदलाव का...
    February 5, 06:04 AM
  • वैक्सीन: जिनसे बची लाखों ज़िंदगियां
    आपने आधुनिक सर्जरी और पैनिसिलीन जैसी चमत्कारिक दवाओं के बारे में पढ़ा होगा, लेकिन वैक्सीन यानी टीकाकरण ने जितनी ज़िंदगियां बचाईं, उसकी कोई मिसाल नहीं है। जानिए- वैक्सीनेशन टीकाकरण अाधुनिक चमत्कार है, जिसने चिकित्सा जगत की अन्य किसी खोज की तुलना में कहीं ज्यादा जिंदगियां बचाई हैं पर वैक्सीन बनाने वालों ने भी अपनी जिंदगियां दांव पर लगाई और ये सभी मेडिकल पेशे के लोग नहीं थे। ईसा से हजार साल पहले आयुर्वेद के शाक्तेय ग्रंथम में चेचक रोगी के घाव की पपड़ी (स्कैब) से बने चूर्ण का वैक्सीन की तरह...
    February 5, 05:57 AM
  • जीका वायरस का आतंक जिस तेजी से दुनिया में फैला है, उसके मद्देनजर उचित होगा कि भारत में भी इससे बचाव की एहतियाती तैयारियां शुरू की जाएं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) इस इन्फेक्शन के प्रभाव से उत्पन्न स्थिति को सार्वजनिक स्वास्थ्य इमरजेंसी घोषित कर चुका है। 22 देशों में इस रोग के लक्षण मिलने के बाद डब्ल्यूएचओ ने यह चेतावनी जारी की। पहले माना गया कि ये संक्रमण मच्छरों के काटने से फैलता है। बाद में पता चला कि यौन संबंधों के जरिये भी इसका प्रसार होता है। अमेरिका के टेक्सास में यौन संबंध से...
    February 4, 05:33 AM
  • ऐसा कम ही होता है जब सुप्रीम कोर्ट किसी मामले में क्यूरेटिव पिटीशन स्वीकार कर ले, लेकिन अप्राकृतिक यौन संबंध को अपराध घोषित करने वाली भारतीय दंड संहिता की धारा 377 के मामले में उसने यह असाधारण निर्णय लिया है। यह धारा 1862 में अस्तित्व में आई थी। जाहिर है, उसके बाद नैतिकता संबंधी मानदंडों में भारी बदलाव आ चुके हैं। वह दौर अंग्रेजों की गुलामी का था, जबकि आजादी के बाद भारत में लागू हुए संविधान में व्यक्ति की मूलभूत स्वतंत्रताओं की रक्षा पर खास जोर है। इन्हीं परिवर्तनों का परिणाम था कि 2009 में दिल्ली...
    February 3, 03:58 AM
  • कमजोर तबकों की भलाई के लिए बने कानूनों को लागू करने में लापरवाही पर सुप्रीम कोर्ट ने अपनी नाराजगी सख्त लहजे में जताई है। सूखाग्रस्त राज्यों में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून, मनरेगा (महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी अधिनियम), मिड-डे मील आदि जैसी योजनाओं पर अमल में ढिलाई से खफा जस्टिस मदन बी. लोकुर और जस्टिस आरके अग्रवाल की खंडपीठ ने सवाल उठाया कि क्या कोई राज्य सरकार संसद से पारित कानून को लागू करने से इनकार कर सकती है? हालांकि, समाज कल्याण से संबंधित कानूनों पर अमल का कई प्रदेशों का...
    February 2, 04:03 AM
  • शरीर वाहन और आत्मा है ड्राइवर
    निस्वार्थ रहना या निस्वार्थ कर्म का क्या है? ऐसे कर्म का भाव ऐसी चीज है, जिसे धीरे-धीरे प्राप्त किया जा सकता है। यह कोई ऐसी चीज नहीं है जिसे क्षण भर में समझा या प्राप्त किया जा सके। लंबे समय तक इसके साथ सजगता बनी रहनी चाहिए। यह गीता की अवधारणा है। कार्य कौन संपादित करता है? शरीर, मन या आत्मा? गीता में इसका उत्तर दिया गया है। तदनुसार शरीर के अंदर बैठी आत्मा कार्य संपादित कर रही है। इस संदर्भ में कार और चालक की उपमा प्रासंगिक है। कार को कौन चलाता है? एक कार सिर्फ धातुओं से बनी एक संरचना है, जिसमें गियर...
    February 1, 04:46 AM
  • कल्पेश याग्निक का कॉलमः इसे केरल का घोटाला कहकर शर्मिंदा न करें...
    इसे केरल का घोटाला कहकर शर्मिंदा न करें - यह तो नैतिक पतन का क्रूर अट्टहास है कुछ धोखे इतने महीन होते हैं -इतनी खूबसूरती से बुने हुए -कि आकर्षित होकर उनमें न फंसना विशुद्ध मूर्खता होगी। - ब्रिटिश चिंतक चार्ल्स कोल्टन (1780-1832) आज के कॉलम में मौलिक लेखन नहीं है -किन्तु केरल के काले कारनामों की मौलिकता बचाए रखने के लिए ऐसा करना जरूरी था। केरल में अकल्पनीय कलंक लगा। मुख्यमंत्री ओमन चांडी पर एक सत्ता की दलाल ने भयंकर आरोप जड़े -यह बहुत छोटी-सी कहानी है। उस दलाल सरिता एस. नायर के लिव-इन...
    January 30, 08:06 AM
  • केरल हाईकोर्ट से मुख्यमंत्री ओमन चांडी को फौरी राहत जरूर मिली है, लेकिन इससे उनकी राजनीतिक परेशानियां दूर नहीं होंगी। उलटे शुक्रवार को बहुचर्चित सौर पैनल घोटाले की मुख्य अभियुक्त सरिता एस. नायर ने मुख्यमंत्री और उनके परिवार के सदस्यों पर नए इल्जाम लगा दिए। घोटाले की जांच कर रहे न्यायिक आयोग के सामने बुधवार को नायर ने मुख्यमंत्री और राज्य के बिजली मंत्री अरायादान मोहम्मद को रिश्वत देने का आरोप लगाया था। कहा था कि सौर परियोजना का ठेका पाने के लिए उसने एक करोड़ 90 लाख रुपए चांडी के मुख्य सहायक...
    January 30, 03:04 AM
  • इन तीन लोगों ने 'जिद' से बदल दी ऐप की दुनिया, उंगली तले ला दिया नेट
    आपने कम्प्यूटर, इंटरनेट और मोबाइल के आविष्कार के बारे में तो पढ़ा होगा, लेकिन ऐप के आविष्कार का जिक्र कहीं नहीं होता। कई लोगों की इस जिद ने नेट को WWW टाइप करने से आजाद कर दिया। ऐप बनाने में भारत भी प्रमुख... एक समय था, जब मोबाइल का काम केवल बातें करना और मैसेज भेजना होता था। ऐप तैयार करने की संभावनाएं बढ़ीं और फिर क्रांति ही आ गई। आज पूरी दुनिया ऐप बना रही है, लेकिन 10 देशों का कब्जा है। उनमें भारत भी प्रमुख है। हाथ पर चलने वाला कम्प्यूटर​... ऐप ऑपरेट करने के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम जरूरी था। ब्रिटेन...
    January 29, 12:19 PM
  • ज़िद यानी विफलता, कठिनाइयों, बाधाओं और प्रगति में ठहराव के बावजूद लंबे समय तक लक्ष्य की दिशा में प्रयास और रुचि बनाए रखना। वह क्या बात है, जो लोगों को डटे रहकर किसी काम को पूरा करने की ज़िद देती है? विज्ञान कहता है कि हमारे दिमाग के अगले हिस्से से निकलने वाला डोपामाइन वह हार्मोन है, जो ज़िद को भड़काता है। वैज्ञानिकों ने पाया है कि डोपामाइन का स्तर हमेशा अधिक बना रहे तो ज़िद जिंदगी भर की आदत बन जाती है। जॉर्जिया यूनिवर्सिटी के ब्रेन एंड बिहेवियर डिस्कवरी इंस्टीट्यूट के को-डायरेक्टर डॉ. जो जेड त्सीएन...
    January 29, 07:01 AM
  • सरकारों का फैसला राजभवन में न हो
    अरुणाचल प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने के विरुद्ध याचिका पर, राज्यपाल की रिपोर्ट मांगने के साथ सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को 29 जनवरी तक जवाब दाखिल करने के लिए कहा है। मामले की अगली सुनवाई 1 फरवरी को होगी। अरुणाचल पूर्वोत्तर का सबसे शांत राज्य है, जहां अप्रैल 2014 में हुए चुनावों में कांग्रेस ने 60 में 42 सीटें जीतकर नबाम तुकी के नेतृत्व में सरकार बनाई थी। गत वर्ष 16 दिसंबर को कांग्रेस के 21 बागी विधायकों ने भाजपा तथा निर्दलीय विधायकों के सहयोग से निजी सामुदायिक भवन में बैठक करके उसे विधानसभा सत्र...
    January 28, 09:06 AM
  • भारत में आम चर्चा में भ्रष्टाचार का मुद्दा फिलहाल ज्वलंत भले न हो, लेकिन इस समस्या से देशवासियों को ज्यादा राहत नहीं मिली है। अंतरराष्ट्रीय गैर-सरकारी संस्था ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल (टीआई) की करप्शन परसेप्शन्स इंडेक्स रिपोर्ट-2015 (सीपीआई) का निष्कर्ष है कि केंद्र में सरकार बदलने से देश की भ्रष्टाचार संबंधी धारणा पर ज्यादा फर्क नहीं पड़ा है। ताजा रिपोर्ट में भारत 76वें स्थान पर आया है। 2014 में भारत 85वें नंबर पर था, लेकिन पिछली रिपोर्ट 168 देशों की थी, जबकि इस बार 174 देशों को टीआई ने अपने अध्ययन में...
    January 28, 09:05 AM
  • आजाद हिंद का 'कौमी तराना' था हमारा राष्ट्र गान, रिपब्लिक डे के Rare Facts
    बंगाली में लिखे टैगोर के जन-गण-मन को नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने हिंदुस्तानी में फिर लिखवाया और यह आजाद हिंद फौज का कौमी तराना बना। इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकर्णो पहले गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि थे, जबकि दो बार पाकिस्तानी और एक बार चीनी पदाधिकारी समारोह के मुख्य अतिथि बने। गणतंत्र दिवस पर आज एेसे ही रेयर फैक्ट्स का स्मरण। ठीक 10 बजकर 18 मिनट पर भारत बना गणराज्य... दिल्ली में तब के गवर्नमेंट हाउस के दरबार हाल मेें गवर्नर जनरल चक्रवर्ती राजगोपालाचारी ने 26 जनवरी 1950 को ठीक 10 बजकर 18 मिनट...
    January 26, 07:29 AM
  • रिपब्लिक की डिक्शनरी : हर जगह अलग मतलब
    रेस पब्लिका से निकला रिपब्लिक: यह ग्रीक शब्द पोलिटिया का लैटिन अनुवाद है। सिसरो (ईसा पूर्व 106-43) सहित कई लैटिन लेखकों ने पोलिटिया का अनुवाद रेस पब्लिका किया। यूरोप के पुनर्जागरण काल के लेखकों ने इसे रिपब्लिक कर दिया। अरस्तु ने अपनी किताब पोलिटिक्स-बुक थ्री (1279) में पहली बार रिपब्लिक का जिक्र करते हुए कहा कि लोगों का कल्याण करने वाली शासन पद्धति को रिपब्लिक कह सकते हैं। अर्थ : ऐसा राज्य जहां जनता को किसी राजा या वंश की जीहुजूरी न करनी पड़ती हो। रिपब्लिक में जनता को खुद पर शासन करने के राजनीतिक और...
    January 26, 04:14 AM
  • खुद को जानें, सारे कष्ट दूर हो जाएंगे
    गुरुवाणी में आता है कि शोक उसी का कीजिए जो अनहोनी होय। और अनहोनी होती नहीं, होनी है सो होय।। इस संसार में कुछ भी अनहोनी नहीं है। क्या मृत्यु अनहोनी है? क्या जन्म अनहोनी है? क्या दु:ख अनहोनी है? दु:ख, शोक, विषाद ऐसे शब्द हैं, जिनके कारण व्यक्ति ऊंचे लक्ष्य तक नहीं पहुंचता। पहुंचना तो चाहता है किसी श्रेष्ठ स्थिति पर, लेकिन अनजाने दु:ख का भय उसे रोके रहने पर मजबूर करता है। तू आया है इस दुनिया में तो उसका कुछ कारण है। बिना कारण इस संसार में कुछ भी नहीं है। क्या खाना, पीना, सोना और मरना ही तेरे इस संसार में...
    January 25, 04:08 AM
  • कल्पेश याग्निक का कॉलम: यदि आप युवा हैं और कई संदेह हैं तो इसे जरूर पढ़ लीजिए
    सभी युवाओं से कह दो : अभी सर्वश्रेष्ठ होना शेष है। न सर्वश्रेष्ठ सरकार बनी है, न सर्वश्रेष्ठ नेता। न सर्वश्रेष्ठ न्यायाधीश बने हैं। सर्वश्रेष्ठ संपादकीय लिखे जाने बाकी हैं। सर्वश्रेष्ठ किताबें, चित्र, फोटो, नृत्य, खेल सबकुछ बचा है। बस, आपकी प्रतीक्षा है। - अज्ञात। रोहित वेमुला, श्रेष्ठ की दिशा में बढ़ रहे एक सुंदर सपने का नाम था। एक कुरूप झटके ने उस स्वप्न को तोड़ दिया। साथ ही उठ गया कोलाहल -कि स्वार्थ के सवर्ण भाव से उठा भेद इस दारुण दु:ख का कारण बना। सत्ता की उच्च, केंद्रीय प्राचीरों में...
    January 23, 04:58 AM
  • सुनंदा पुष्कर की मौत के दो साल बाद अब जाकर पुष्टि हुई है यह दुखद घटना कुदरती नहीं थी। बल्कि इसका कारण चिंता भगाने की दवा अल्प्रैक्स का अत्यधिक मात्रा में सेवन था। अभी भी यह साफ नहीं है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस सांसद शशि थरूर की पत्नी पुष्कर ने यह दवा खुद खाई अथवा उन्हें यह खिलाई गई। उल्लेखनीय है कि साल भर पहले दिल्ली पुलिस ने इस मामले में हत्या का केस दर्ज किया था। 17 जनवरी 2014 को जब दिल्ली के लीला होटल के एक कमरे में सुनंदा मृत अवस्था में पाई गईं, तब उनके बदन पर चोट के 15 निशान थे। इनमें एक...
    January 23, 04:58 AM
  • संवाद तो साधा नहीं, सजा दे दी
    पिछले वर्ष एफटीआईआई आंदोलन जब चरम पर था, एक मंत्री ने फोन करके छात्र-आंदोलन पर जरूरत से ज्यादा ध्यान केंद्रित करने की शिकायत की। उन्होंने कहा, ये नक्सलियों से सहानुभूति रखते हैं, कृपया उनका प्रचार मत कीजिए। जब मैंने उनसे इस विश्वास का कारण पूछा तो उनके जवाब ने बहुत कुछ कह दिया, जरा उन फिल्मों को तो देखिए जो वे बनाना चाहते हैं, सारी सरकार के खिलाफ, राष्ट्र विरोधी। अब तो राष्ट्र विरोधी होने के आरोप तो जरा-जरा सी बात पर उछाले जा रहे हैं। गैर-सरकारी संगठनों से लेकर पत्रकारों, बुद्धिजीवियों से...
    January 22, 07:43 AM
  • पठानकोट में भारतीय वायु सेना के अड्डे पर हमले के तुरंत बाद कथित यूनाइटेड जिहाद काउंसिल (यूजेसी) के प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन ने उस घटना की जिम्मेदारी ली थी। तब उसके बयान को ध्यान भटकाने की कोशिश माना गया, क्योंकि भारतीय जांच एजेंसियों को उस कांड के पीछे जैश-ए-मोहम्मद का हाथ होने के ठोस सुराग हाथ लगे। बाद में पाकिस्तान ने यह धारणा बनाने की कोशिश की कि वह जैश पर कार्रवाई कर रहा है, लेकिन अब जाहिर है कि उन बातों में ज्यादा दम नहीं था। इससे भारत-पाक संबंधों को सुधारने की प्रक्रिया के प्रभावित होने की...
    January 22, 07:43 AM