Home >> Abhivyakti >> Editorial
  • क्या आपने बारिश को कभी इस तरह देखा है?
    कुछ ही लोग बारिश में चल पाते हैं। बाकी सब तो केवल गीले होते हैं। -रोजर मिलर तूफान गुजरने की प्रतीक्षा करना जीवन नहीं है। बारिश में नाच उठें, यह कला सीखना ही जीवन है। -अज्ञात बारिश बचपन है। बच्चे जैसी अबोध। नवजात सी निश्चल। मृग-छाैने सी चंचल। सिंह-शावक सी निर्भीक। वर्षा युवावस्था है। नवयुवकों जैसी पराक्रमी। नवयुवतियों सी निपुण। कैशोर्य सी गतिशील। षोड्षी सी निरन्तर। रमणी सी रहस्यमय। शेर सी दहाड़ती। हिरणी सी निर्दोष। बरसता पानी प्रौढ़ है। पिता जैसा गांभीर्य। मां सा विदुषी। बड़े भाई...
    04:56 AM
  • केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्ष वर्द्धन ने एक ऐसी समस्या पर दो-टूक बयान दिया है, जिससे लगभग हर आम आदमी को कभी न कभी पीड़ित होना पड़ता है। डॉक्टरों और पैथोलॉजी जांच सेंटरों के बीच मिलीभगत की शिकायत इतनी गहरी हो चुकी है कि उससे न सिर्फ आम मरीज, बल्कि ईमानदार डॉक्टर भी परेशान हैं। हर्ष वर्द्धन खुद मेडिकल डॉक्टर हैं। अतः उन्हें मालूम है कि मरीजों को कैसे ठगा जा रहा है। लोकसभा में उन्होंने कहा कि बीमार लोगों की गैर-जरूरी जांच लिखी जाती है, क्योंकि जांच सेंटर डॉक्टरों को कमीशन देते हैं। स्वास्थ्य...
    July 25, 04:58 AM
  • पुरुषों की तुलना में महिलाओं की संख्या में तेजी से आती गिरावट भारत में आपातकालीन स्थिति में पहुंच गई है। इस संकट के उन्मूलन के लिए अविलंब कदम उठाने की जरूरत है। यह चेतावनी संयुक्त राष्ट्र ने दी है। कहा जा सकता है कि यह कोई नई जानकारी नहीं है। बहरहाल, संतान के लिंग चयन की बढ़ती प्रवृत्ति और उसके परिणामों के बारे में संयुक्त राष्ट्र की ताजा रिपोर्ट ने हमें फिर आगाह किया है कि बेटी पर बेटे को तरजीह देने की हमारी मानसिकता समाज के लिए कितने बड़े संकट को न्योता दे रही है। संयुक्त राष्ट्र ने कहा है,...
    July 24, 05:10 AM
  • यह सवाल अप्रासंगिक नहीं है कि भ्रष्टाचार के आरोपी एक अतिरिक्त जज को पहले सेवा विस्तार देने और फिर उसे स्थायी न्यायाधीश बनाने के मामले का खुलासा जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने इतनी देर से क्यों किया? अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा है कि अगर जस्टिस काटजू को तथ्य मालूम थे और इसको लेकर वे इतने चिंतित थे, तो उन्हें तभी बोलना चाहिए था। यह भी कहा गया है कि काटजू चाहते तो मद्रास हाईकोर्ट का मुख्य न्यायाधीश होने के नाते आरोपी अतिरिक्त जज से सारे काम वापस ले सकते थे। मगर वे नौ साल चुप रहे। दो प्रधान...
    July 23, 04:05 AM
  • शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) से अकाली दल ही क्या पूरे सिख समुदाय- की जुड़ी भावनाओं को समझा जा सकता है। कांग्रेस से अकाली दल का पुराना टकराव भी सर्वज्ञात है। फिर गुरुद्वारों की आमदनी अकूत है, इसलिए कोई पक्ष उन पर से अपना नियंत्रण आसानी से खत्म नहीं होने देगा। अतः जब विधानसभा चुनाव से ठीक पहले हरियाणा की कांग्रेस सरकार ने इस राज्य में एसजीपीसी की अलग इकाई बनाने का कानून पारित कराया, तो उसको लेकर तीखा विवाद उठना ही था। अब इसके दो मोर्चें सामने हैं। पंजाब में अकाली दल (बादल) ने इसे...
    July 22, 07:12 AM
  • मलेशियाई विमान एमएच-17 को मिसाइल से मार गिराने की घटना के बाद से पश्चिमी देशों ने रूस के राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन को चेतावनी देने के लहजे में बात की है। परंतु वे यह बताने में विफल रहे हैं कि पुतिन ने उनकी मर्जी के मुताबिक व्यवहार नहीं किया तो वे क्या करेंगे? असल मुद्दा यह है कि यह दुखद घटना यूक्रेन में लंबे समय से जारी संकट का परिणाम है। संकट पिछले वर्ष विस्फोटक दौर में पहुंच गया। परिणामस्वरूप यूक्रेन का एक क्षेत्र क्रीमिया रूस में शामिल हो चुका है। रूसी मूल की बहुसंख्या वाले कुछ पूर्वी इलाके...
    July 21, 06:25 AM
  • फिलिस्तीन के गाजा इलाके से जुड़े संकट पर साफ रुख न अपनाकर भारत सरकार ने अपने लिए अनावश्यक समस्या खड़ी की है। दिल्ली स्थित इजरायल और फिलिस्तीन के प्रतिनिधियों की प्रतिक्रियाओं से साफ है कि भारत के दुविधा भरे रुख से दोनों पक्ष असंतुष्ट हैं। दूसरी तरफ इससे संसद में व्यवधान पैदा हुआ। अब स्थिति यह है कि सरकार की अनिच्छा के बावजूद राज्यसभा में इस मसले पर (संभवतः सोमवार को) बहस होगी। असमंजस की वजह शायद यह है कि मौजूदा सरकार अपने वैचारिक रुझान के कारण इजरायल से सहानुभूति रखती है, मगर वह गाजा इलाके में...
    July 19, 08:38 AM
  • कल्‍पेश याग्निक का कॉलम: आतंकी रूसी हों या कोई और; भयंकर शारीरिक यंत्रणा  से ही नष्ट होंगे
    मुझे शेरों की उस सेना का डर नहीं है, जिसका सेनापति एक भेड़ हो। मुझे तो भेड़ों की उस सेना से डर हैं, जिसका सेनापति शेर हो। - अलेक्ज़ेंडर द ग्रेट वह हल्के लाल रंग के बालों वाली युवती थी। घास की हरियाली को ख़त्म करती उसकी रक्तरंजित देह देखकर कोई भी थरथरा जाए। किन्तु सबसे डरावनी बात कुछ और थी। उसका मुंह खुला रह गया था। मानो हमले के ऐन वक्त वह कुछ कहना चाहती थी। जोर से। यूक्रेन के ग्राबेवो इलाके में साक्षात मौत पसरी पड़ी है। कोई पंद्रह किलोमीटर तक बस लाशें ही लाशें। मलेशियाई...
    July 19, 05:53 AM
  • प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह का यह आश्वासन स्वागतयोग्य है कि सरकार संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की परीक्षाओं में भाषा के आधार पर कोई भेदभाव नहीं होने देगी। हालांकि मुद्दा सिर्फ भाषा का नहीं है, फिर भी केंद्रीय मंत्री के लोकसभा में दिए बयान से उम्मीद बनी है कि यूपीएससी परीक्षाओं में 2011 से शामिल सिविल एप्टीट्यूड टेस्ट (सी-सैट) पर भारतीय भाषा माध्यम से तथा मानविकी विषयों के साथ पढ़े ग्रामीण पृष्ठभूमि के छात्रों ने जो एतराज उठाए हैं, उनका संतोषजनक हल निकल सकेगा। सरकार ने...
    July 18, 07:45 AM
  • ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) का अपना अंतरराष्ट्रीय बैंक बनाने का सपना आखिरकार हकीकत बन गया है। इससे सत्तर वर्ष पहले अमेरिका में न्यू हैंपशर के ब्रेटन-वुड्स में 44 देशों के प्रतिनिधियों द्वारा विश्व बैंक और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की स्थापना के बाद उनकी तर्ज पर समानांतर संस्थाएं बनाने की कोशिश पहली बार फलीभूत हुई है। विश्व बैंक और आईएमएफ के जरिये अमेरिका तथा अन्य पश्चिमी देशों द्वारा पूरी दुनिया पर अपना आर्थिक एजेंडा थोपने की शिकायतें गुजरे दशकों में खूब की...
    July 17, 07:27 AM
  • नरेंद्र मोदी सरकार आर्थिक वृद्धि दर को गति देने के वादे के साथ सत्ता में आई है, इसलिए स्वाभाविक ही है कि वह उद्योग एवं कारोबार जगत की चिंताओं को दूर करने की तत्परता दिखाए। इन चिंताओं में एक प्रमुख नया भूमि अधिग्रहण कानून है, जिसकी कई सख्त धाराओं को बुनियादी ढांचे और औद्योगिक विकास की राह में रुकावट माना गया है। अतः केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय ने इन प्रावधानों की समीक्षा में फुर्ती दिखाई है। इस मकसद से पिछले महीने के आखिर में राज्यों के राजस्व मंत्रियों की बैठक बुलाई गई। उसमें आए सुझावों...
    July 16, 07:11 AM
  • इसे फुटबॉल की महिमा ही कहेंगे कि भारत जैसे देश में भी इसके विश्वकप टूर्नामेंट का जोश और जुनून बन जाता है, जिसकी अपनी फुटबॉल टीम विश्वस्तर पर कहीं नहीं ठहरती। टेलीविजन रेटिंग, इंटरनेट ट्रेंडिंग और मार्केटिंग कंपनियों के आंकड़ों के मुताबिक भारत में इस टूर्नामेंट को इस बार आठ से साढ़े आठ करोड़ दर्शक मिले। यह कुछ महीने पहले हुए टी-20 क्रिकेट विश्वकप को मिली दर्शक संख्या के तकरीबन दो-तिहाई के बराबर है। यह आंकड़ा चौंकाने वाला है कि सोशल मीडिया पर सर्वाधिक चर्चा के लिहाज से भारत ब्राजील के बाद दूसरे...
    July 15, 06:10 AM
विज्ञापन
 
 

बड़ी खबरें

 
 

रोचक खबरें

 

बॉलीवुड

 
 

जीवन मंत्र

 
 

स्पोर्ट्स

 

बिज़नेस

 

जोक्स

 

पसंदीदा खबरें