संपादकीय
Home >> Abhivyakti >> Editorial
  • रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के इस इल्जाम पर सियासी विवाद खड़ा होना लाजिमी है कि कुछ पूर्व प्रधानमंत्रियों ने राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े डीप असेट्स के हितों की उपेक्षा की। पर्रिकर ने यह टिप्पणी गत 31 दिसंबर की रात गुजरात में पोरबंदर तट से लगे समुद्री क्षेत्र में पाकिस्तानी नौका में विस्फोट की घटना के संदर्भ में की। पर्रिकर सार्वजनिक रूप से कह चुके हैं कि उस नौका में संदिग्ध आतंकवादी थे, लेकिन कांग्रेस ने कई सवाल उठाते हुए इस बारे में सरकार से सफाई मांगी। पर्रिकर ने कहा कि इस बारे में ब्योरा...
    January 24, 06:53 AM
  • सर्वोच्च न्यायालय की इस व्यवस्था पर स्वाभाविक रूप से सबसे ज्यादा ध्यान केंद्रित है कि इंडियन प्रीमियर लीग में (चेन्नई सुपर किंग्स के मालिक के रूप में) व्यापारिक हित रखते हुए एन. श्रीनिवासन भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष का चुनाव नहीं लड़ सकते, लेकिन बारीकी से देखें तो इस फैसले के दूसरे पहलू दीर्घकालिक नज़रिये से कहीं ज्यादा महत्वपूर्ण हैं। कोर्ट ने तीन पूर्व जजों की एक समिति बना दी है, जो बीसीसीआई के ढांचे और कार्य-प्रणाली में सुधार एवं संशोधनों की सिफारिश करेगी। स्पॉट फिक्सिंग के...
    January 23, 06:42 AM
  • शेयर सूचकांक बुधवार को रिकॉर्ड ऊंचाई तक पहुंचे तो उसकी वाजिब वजहें हैं। विश्व बैंक के बाद अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने भी यह अनुमान जता दिया है कि अगले वर्ष तक भारत दुनिया में सबसे तेज गति से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बन जाएगा। उधर, स्विट्जरलैंड के दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के सालाना सम्मेलन के मौके पर जन-संपर्क कंपनी एडेलमैन ने दुनियाभर के कॉलेज शिक्षित लोगों के बीच किए गए सर्वेक्षण पर आधारित अपनी अध्ययन रिपोर्ट जारी की तो उससे भी भारत में बढ़ते भरोसे की तस्दीक हुई। उस सर्वे में...
    January 22, 05:03 AM
  • अब अरविंद केजरीवाल को निर्वाचन आयोग के एक और नोटिस का जवाब देना होगा। पहले उन्होंने भारतीय जनता पार्टी की दिल्ली शाखा के अध्यक्ष सतीश उपाध्याय पर तेज चलने वाले बिजली के मीटर की सप्लाई करने वाली कंपनी का मालिक होने का आरोप लगाया था। उपाध्याय ने आयोग से शिकायत की, जिसका निपटारा अभी नहीं हुआ है। इस बीच, केजरीवाल ने मतदाताओं को यह विवादास्पद सुझाव दे डाला कि भाजपा और कांग्रेस के लोग वोट के बदले उन्हें पैसा देने आएं तो वे पैसा तो ले लें, लेकिन वोट उनकी आम आदमी पार्टी (आप) को ही दें। उन्होंने कहा कि अब...
    January 21, 05:43 AM
  • संसदीय गरिमा के लगातार क्षरण पर देश का जागरूक जनमत चिंतित रहा है। मीडिया सहित कई मंचों पर यह चिंता व्यक्त होती रही है। इसी फिक्र को अब राष्ट्रपति ने स्वर दिया है, इसलिए बेहतर होगा कि सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों इसे सही भावना के साथ लें। अभिभावक की तरह प्रणब मुखर्जी ने उचित ही दोनों पक्षों को याद दिलाया है कि जब संसद विधायी कार्य में विफल होती है, तो उस पर से जनता का भरोसा टूटता है। इसी की ओर अागाह करते हुए उन्होंने कहा कि किसी भी हालत में संसदीय कार्यवाही में बाधा नहीं डाली जानी चाहिए। शोर मचाने...
    January 20, 05:27 AM
  • संवैधानिक संस्थाओं द्वारा सरकारी विज्ञापनों को अनुशासित करने का प्रयास और आगे बढ़ा है। पहले सुप्रीम कोर्ट ने इस बारे में दबाव बनाया। विज्ञापनों में इस्तेमाल होने वाली तस्वीरों के बारे में दिशा-निर्देश तय करने के लिए कोर्ट ने समिति बनाई थी, जिसकी रिपोर्ट पिछले वर्ष आई। एनआर माधव मेनन की अध्यक्षता वाली उस समिति ने स्पष्ट कहा कि सत्ताधारी पार्टी या व्यक्ति को लाभ पहुंचाने के मकसद से सरकारी विज्ञापन जारी नहीं होने चाहिए। अब केंद्रीय सूचना आयोग (सीआईसी) ने सरकार से विज्ञापनों में राजनेताओं के...
    January 19, 07:23 AM
  • मैनेजमेंट पढ़ने वाले युवाओं; उठो और दुनिया को दिखा दो योग्य कौन है, कैसे है
    कूद कर आगे बढ़ो। जो अपने ही उद्धार में लगे हैं - न तो स्वयं का उद्धार कर पाएंगे, न दूसरों का। ऐसा शोर मचाओ कि उसकी आवाज दुनिया के कोने-कोने तक पहुंच जाए। जो आपकी त्रुटियां निकालने बैठे हैं - काम के समय वे दिखेंगे ही नहीं। जुट जाओ। डर कैसा? नहीं है, नहीं है- कहने से तो सांप का विष भी नहीं रहेगा। बस, उठो। - स्वामी विवेकानंद इन्हें प्रोफेसर कहने से पहले अब एक बार सोचना पड़ेगा। जिनकी बात हो रही है, वे कोई जाधवपुर विश्वविद्यालय और शांति निकेतन के विश्वभारती के कुलपति नहीं हैं। उनका अपराध तो भारतीय...
    January 17, 07:28 AM
  • भारतीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सेंसर बोर्ड) की साख पर पहले भी सवाल उठते रहे हैं, लेकिन इसके अध्यक्ष पद से इस्तीफा देते हुए लीला सैमसन ने जो गंभीर आरोप लगाए हैं उनसे इस संस्था की विश्वसनीयता मिट्टी में मिल जाने का अंदेशा पैदा हो गया है। सैमसन ने बोर्ड के कामकाज में केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा हस्तक्षेप और जोर-जबर्दस्ती के साथ-साथ बोर्ड के अंदर भ्रष्टाचार का इल्जाम लगाया है। इस संदर्भ में यह याद करना प्रासंगिक है कि पिछले वर्ष सीबीआई ने बोर्ड के सीईओ राकेश कुमार को क्षेत्रीय भाषा की...
    January 17, 07:27 AM
  • चौंकाने वाले कदम उठाना रघुराम राजन की कार्यशैली का हिस्सा है। इसी का नज़ारा फिर देखने को मिला जब उन्होंने अचानक रेपो रेट (वो दर जिस पर रिजर्व बैंक अन्य बैंकों को कर्ज देता है) में 25 आधार अंकों की कटौती कर दी। अब ये दर 7.75 फीसदी हो गई है। यह कदम अभी उठाया जाएगा, यह किसी को अंदाजा नहीं था। न ही गुरुवार को रिजर्व बैंक की अगली मौद्रिक नीति की घोषणा होनी थी। संभव है राजन ने सरकार की ओर से पड़ रहे दबाव के कारण यह निर्णय लिया हो। बाजार ने इस खबर को आश्चर्य-मिश्रित उपहार के रूप में ग्रहण किया। नतीजतन, शेयर...
    January 16, 04:42 AM
  • फिल्म अभिनेता सलमान खान के प्रकरण में सुप्रीम कोर्ट ने यह व्यापक महत्व का प्रश्न उठाया है कि क्या आपराधिक मामले में सजायाफ्ता व्यक्ति इस दलील के आधार पर सजा पर रोक की मांग कर सकता है कि ऐसा न होने पर उसे नुकसान होगा? यहां मुद्दा प्राकृतिक न्याय का है और साथ ही कानून के समक्ष सबकी समानता का भी। 1998 में काले हिरण के शिकार के मामले में सलमान खान को पांच साल की कैद सुनाई जा चुकी है। वे पेशेवर मकसद से ब्रिटेन जाना चाहते हैं, लेकिन वहां के कानून के मुताबिक उस व्यक्ति को वीज़ा नहीं मिल सकता, जिसे किसी अदालत...
    January 15, 05:50 AM
  • सेनाध्यक्ष जनरल दलबीर सिंह सुहाग ने नई दिल्ली में इस बात का तथ्यात्मक विवरण प्रस्तुत किया कि पाकिस्तान में आतंक का ढांचा अभी भी कायम है, तो उधर इस्लामाबाद में अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी ने दो-टूक कहा कि पाक सरकार को उन सभी दहशतगर्द गुटों से लड़ना होगा जो अफगान, भारतीय और अमेरिकी हितों के लिए खतरा बने हुए हैं। केरी ने खासतौर पर लश्कर-ए-तैयबा और हक्कानी नेटवर्क का जिक्र किया। इसकी पृष्ठभूमि यह है कि पाकिस्तान ने खासतौर पर पेशावर हमले के बाद से तालिबान पर कार्रवाई का इरादा तो दिखाया है, लेकिन...
    January 14, 07:30 AM
  • दिल्ली के सवा करोड़ से ज्यादा मतदाता 7 फरवरी को मतदान तो राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र की नई विधानसभा चुनने के लिए करेंगे, लेकिन उनका निर्णय बेशक केंद्रीय और राष्ट्रीय राजनीति को भी प्रभावित करेगा। इस चुनाव में नरेंद्र मोदी और अरविंद केजरीवाल की लोकप्रियता खास कसौटी पर है। पिछले विधानसभा और लोकसभा चुनावों के दौरान सिर्फ छह महीने के अंतर पर दिल्ली के मतदाताओं ने बिल्कुल अलग रुझान दिखाया। दिसंबर 2013 में अपने नए दल आम आदमी पार्टी (आप) को अप्रत्याशित सफलता दिलवाकर केजरीवाल देशभर में चर्चा का विषय बन...
    January 13, 06:08 AM
  • जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री नहीं थे, तब भी उन्होंने वाइब्रेंट गुजरात सम्मेलन को बहुचर्चित और फलदायी आयोजन बना रखा था। इसका गुजरात की निवेश अनुकूल राज्य की छवि बनाने में विशेष योगदान रहा। विकास के एक खास नजरिये के रूप में गुजरात मॉडल चर्चा में आया तो उसके पीछे ऐसे ही प्रयासों की भूमिका थी। इससे नरेंद्र मोदी की विकास-पुरुष के रूप में साख बनी, जो आगे चलकर उनकी बड़ी राजनीतिक पूंजी साबित हुई। उसी पूंजी के सहारे स्पष्ट जनादेश पाकर आज वे भारत के प्रधानमंत्री हैं, तो यह स्वाभाविक ही था कि वाइब्रेंट...
    January 12, 05:42 AM
  • श्रीलंका में कुछ ऐसा हुआ, जिसका अनुमान लगाना कठिन था। महिंदा राजपक्षे को अपनी राजनीतिक शक्ति में इतना भरोसा था कि उन्होंने समय से दो साल पहले राष्ट्रपति चुनाव कराने का फैसला किया, लेकिन चुनाव की सारी दिशा उस समय बदल गई जब उनकी सरकार के मंत्री मैत्रिपाला सिरिसेना ने पाला बदल लिया। सिरिसेना भी राजपक्षे की ही तरह ग्रामीण पृष्ठभूमि के हैं, सिंहली हैं, उन्होंने लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (एलटीटीई) के खिलाफ लड़ाई के आखिरी दौर में सैन्य प्रबंधन में खास भूमिका निभाई थी और कुल मिलाकर साफ छवि के नेता...
    January 10, 06:47 AM
  • असंभव के विरुद्ध: कार्टूनिस्ट-जर्नलिस्ट मरे नहीं,   कार्टूनिस्ट-जर्नलिस्ट मरते नहीं
    फ्री एक्सप्रेशन इज़ नथिंग विदआउट द राइट टू ऑफेन्ड-स्टीफन शार्बोनिए, प्रधान संपादक-कार्टूनिस्ट, चार्ली एब्दो चार्ली एब्दो के संपादक-कार्टूनिस्ट-पत्रकारों के आतंकी हमले में अमर हो जाने को समर्पित यह कॉलम आतंक की इतनी तिरस्कार भरी हार पहले कभी नहीं दिखी। आतंक की इससे बड़ी, सम्मानजनक जीत हो जाती, यदि 8 और 9 जनवरी 2015 को कार्टून न बने होते। आतंकियों पर तीक्ष्ण कटाक्ष करने वाले कार्टून। इस्लामिक स्टेट, अल कायदा नामक हत्यारों के पथभ्रष्ट गिरोहों को तरह-तरह से बेनकाब करने वाले कार्टून। कार्टून को...
    January 10, 06:42 AM
  • एक बैरिस्टर जो महात्मा बनकर लौटा, तोहफे में मिली थी सोने की हथकड़ियां
    दिल्ली। भारत से व्यापार के लिए पश्चिम की ओर सदियों से प्रवासी जाते रहे, लेकिन 1893 में दक्षिण अफ्रीका के लिए जो प्रवासी रवाना हुआ उसके प्रवास ने इतिहास की धारा ही बदल दी। पश्चिमी संस्कृति में ढले बैरिस्टर मोहनदास विदेश गए थे और सत्याग्रह, ग्राम स्वराज, आत्मनिर्भरता के अनमोल विचारों के साथ एक महात्मा लौटा। आज गांधीजी जितने प्रासंगिक हैं, उतने कभी नहीं थे। महात्मा गांधी के स्वदेश लौटने को आज 100 वर्ष पूरे हो रहे हैं। आइए उस ऐतिहासिक दिन, उस ऐतिहासिक वर्ष को याद करें महात्मा गांधी और कस्तूरबा...
    January 9, 08:27 AM
  • सुनंदा पुष्कर की मौत का मामला ऐसे सवालों से घिर चुका है कि अब सिर्फ तेज रफ्तार एवं विश्वसनीय जांच ही दिल्ली पुलिस में लोगों का विश्वास बहाल कर सकती है, इसलिए यह उचित है कि अब पुलिस ने विशेष जांच दल बनाने का फैसला किया है। दिल्ली के एक पांच तारा होटल में सुनंदा पुष्कर की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत के तकरीबन एक साल बाद पुलिस इस निष्कर्ष पर पहुंची कि यह हत्या का मामला है। सुनंदा को जहर देकर मारा गया, लेकिन विष के प्रकार और शक के घेरे में कौन है, इस बारे में पुलिस ने कुछ नहीं बताया है। इस बीच सुनंदा के...
    January 8, 05:01 AM
  • एक वर्ष में भारत में आर्थिक खुशहाली की अकेली निशानी शेयर सूचकांक रहे हैं। वरना, केंद्र में पूर्ण बहुमत और स्पष्ट इरादों वाली सरकार बनने के बावजूद वास्तविक अर्थव्यवस्था में सुधार के लक्षणों का अभी तक इंतजार ही है। इसीलिए शेयर बाजारों में मंगलवार को आई भारी गिरावट गंभीर चिंता का विषय है। इसका संकेत है कि उच्च आर्थिक वृद्धि दर को फिर हासिल करने के रास्ते की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। इनकी जड़ें वैश्विक परिस्थितियों में हैं। एशिया और यूरोप में शेयर बाजारों में ताजा गिरावट का सीधा संबंध कच्चे...
    January 7, 06:08 AM
  • साइना नेहवाल जैसी राष्ट्र गौरव को पद्म भूषण सम्मान पाने के लिए अपना पैरोकार खुद बनना पड़े, तो इसे खिलाड़ियों के प्रति अधिकारियों के रवैये पर प्रतिकूल टिप्पणी ही समझी जानी चाहिए। फिलहाल केंद्रीय खेल मंत्रालय ने गलती सुधारते हुए इसी वर्ष पद्म भूषण पुरस्कार के लिए साइना के नाम की सिफारिश करने का एलान किया है मगर इसके पहले आई सूची में नाम न होने पर इस मशहूर बैडमिंटन खिलाड़ी को सार्वजनिक रूप से निराशा जतानी पड़ी और यह बताना पड़ा कि पिछले वर्ष उनकी क्या और कैसी उपलब्धियां रहीं। इससे शर्मनाक...
    January 6, 05:04 AM
  • पिछले कुछ दिनों की घटनाओं का निहितार्थ यही है कि हमारी सुरक्षा एजेसिंयों के लिए यह कड़े इम्तिहान का वक्त है। भारत विरोधी गुटों ने समंदर से आसमान तक दहशत का माहौल बनाने में अपनी ताकत झोंक दी है। गुजरात तट से लगे अरब सागर के जल-क्षेत्र में पाकिस्तानी नौका के रहस्यमय ढंग से नष्ट होने का रहस्य अभी सुलझा नहीं है कि भारत और काबुल के बीच किसी उड़ान के अपहरण की साजिश की चेतावनी सामने आ गई। यह अनुमान लगाने का पर्याप्त आधार है कि गणतंत्र दिवस से पहले आतंकवादी भारत में अशांति और भय का माहौल बनाना चाहते...
    January 5, 05:34 AM
विज्ञापन
 
 

बड़ी खबरें

 
 

रोचक खबरें

 

बॉलीवुड

 
 

जीवन मंत्र

 
 

स्पोर्ट्स

 

 

जोक्स

 

पसंदीदा खबरें