संपादकीय

  • देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस
Home >> Abhivyakti >> Editorial

Editorial

मैनचेस्टर आत्मघाती विस्फोट से बढ़ेगा दमन और हमला

ब्रिटेन के मैन्चेस्टर अरेना में अमेरिका की पाप गायिका अरियाना ग्रैंड का मनमोहक कार्यक्रम समाप्त होते ही आत्मघाती विस्फोट के हृदयविदारक हमले ने 20 से अधिक लोगों की जान लेकर और 59 लोगों को घायल करके यह जता दिया है कि दुनिया में ऐसी ताकतें सक्रिय हैं जिनसे दूसरे हिस्से के युवाओं और बच्चों की खुशी देखी नहीं जाती। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इजराइल के बेथलेहम में कहा है कि वे युवा और सुंदर लोग थे जिनका खूबसूरत जीवन कुछ लोगों को रास नहीं आया। वे लोग बुरी ताकतों द्वारा जीवन की लड़ाई हार गए।...
04:45 AM

रेलवे में सुशासन लाना है तो ट्रेन देर से आने पर मुआवजा दें

भारतीय रेलवे ने हाल ही में बताया कि हर पांच में से एक ट्रेन देर से चलती है। कई ट्रेनें तो बीच के स्टेशनों पर देर से पहुंचती हैं और फिर वहां कम देर रुककर गंवाए वक्त की पूर्ति करती हैं। देर होने के चार प्रमुख कारण हैं। ट्रैक की कमी- कई मार्गों पर अब भी एकल ट्रैक ही है। रखरखाव की समस्या- जैसे इंजन फैल हो जाना। ठंड के दिनों में कोहरा और आखिरी कारण, कानून-व्यवस्था के मामले। अब ढांचागत वृद्धि में तो वक्त लगेगा। फिलहाल तो ट्रेनों के लिए कम से कम देरी सुनिश्चित करने के लिए रेलवे को जवाबदेह बनाना चाहिए।...
May 22, 06:55 AM

योजना बनाते रहने से घटती है जोखिम लेने की क्षमता

कोई बिज़नेस या काम करने का फैसला लेने और योजना बनाने के बाद अक्सर ऐसा लगता है कि अभी वक्त नहीं आया है, थोड़ा और पैसा इकट्ठा हो जाए, स्थिति थोड़ी और अनकूल हो जाए। ऐसी सोच व्यक्ति को कोई कदम उठाने से रोकती है। सिर्फ प्लानिंग करते रहने से व्यक्ति की जोखिम लेने की क्षमता कम होती जाती है। जब मैं अपनी जिं़दगी को मुड़कर देखता हूं, तो मैं ऐसे बहुत से प्लान देख सकता हूं, जो मैंने अपनी जिं़दगी में बनाए थे। मुझे हमेशा से योजनाएं बनाना बहुत पसंद था। लेकिन, जब मैं देखता कि वास्तव में कितने प्लान मैंने अमल में लाए...
May 22, 06:51 AM

व्यवस्था के चूहे से अन्न की मौत

इस देश में आदमी की सहनशीलता जबर्दस्त और तटस्थता भयावह है। पूरी व्यवस्था में मरे हुए चूहे की सड़ांध भरी हुई है। चूहे सरकार के ही हैं और मजे की बात यह है कि चूहेदानियां भी सरकार ने चूहों को पकड़ने के लिए रखी हैं। लेकिन वे किसी की पकड़ में आते ही नहीं है। क्यों? जांच की तो पता चला कि चूहेदानी में घुसने के छेद से बड़ा छेद बाहर निकलने का है, कोई पकड़ में नहीं आता। बाजार में जब गेहूं का दाना न मिलता हो, तब कोई मित्र अगर 25-30 किलो गेहूं दे, तो देश का भविष्य एकदम उज्जवल दिखने लगता है। कल एक मित्र ने 25 से 30 किलो आटा एक...
May 20, 05:54 AM

टेक्नोलॉजी से दूर हो सकती है स्कूलों में शिक्षकों की कमी

नई शिक्षा नीति की बात की जा रही है लेकिन, केंद्रीय विद्यालयों में प्रिंसिपल के 200 पद और वाइस प्रिंसिपल के 24 फीसदी पद रिक्त हैं। इसके अलावा देशभर के केंद्रीय विद्यालयों में शिक्षकों के दस हजार से ज्यादा पद खाली हैं। यह समस्या जवाहर नवोदय विद्यालयों में भी हैं, जिनमें प्रिंसिपल के 125 एवं वाइस प्रिंसिपल के 53 पद खाली हैं। शिक्षकों के भी 1,734 पद रिक्त हैं। हाल ही में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 50 नए केंद्रीय विद्यालय खोलने और इनके लिए 650 पदों की मंजूरी दी है, जबकि पुराने स्कूलों में शिक्षकों की कमी दूर करने की...
May 20, 05:52 AM

हेग के न्यायालय में जीत नई कूटनीति का नतीजा

कूटनीति में सबसे ज्यादा महत्व व्यावहारिकता का होता है लेकिन, पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय मसलों को अंतरराष्ट्रीय मंच पर न उठाने की नीति के कारण जहां ऐसी जरूरत हो, वहां भी हम झिझक महसूूस करते रहे हैं। इसलिए कुलभूषण जाधव का मामला संयुक्त राष्ट्र की कानूनी इकाई नीदरलैंड्स के हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) में ले जाने का फैसला मोदी सरकार के लिए आसान नहीं रहा होगा। इस न्यायालय का सत्र नहीं चल रहा था, तो कोर्ट याचिका की अनदेखी भी कर सकता था। याचिका स्वीकार होने के बाद भी भारत को अनुकूल...
May 20, 05:49 AM

गोपनीयता की चिंता से कहीं ज्यादा हैं आधार के फायदे

बीते कई महीनों से आधार कार्ड की गोपनीयता को लेकर बहस छिड़ी हुई है कि यह नागरिकों की प्राइवेसी के अधिकार को छिन तो नहीं रहा है। यह कहना गलत नहीं होगा कि आधार पहचान-पत्र के डेटाबेस की सुरक्षा उच्च कोटि की होनी चाहिए। इसके साथ यह भी सही है कि आधार कार्ड के उपयोग गोपनीयता संबंधी चिंताओं से कहीं ज्यादा है। हाल ही में वर्ल्ड बैंक के मुख्य अर्थशास्त्री पॉल रोमर ने कहां है कि आधार सफल व्यवस्था है तथा विश्व के सभी देशों को इसे अपनाना चाहिए। वर्ल्ड बैंक की डिजिटल डिविडेंड 2016 की रिपोर्ट में अनुमान लगाया...
May 19, 07:37 AM

जीएसटी की श्रीनगर घोषणा का राजनीतिक संदेश

प्रतीकों की राजनीति में माहिर भाजपा और उसके नेतृत्व में चल रही एनडीए सरकार ने वस्तु और सेवा कर(जीएसटी) लागू किए जाने से पहले श्रीनगर में जीएसटी परिषद की आखिरी बैठक आयोजित करके वहां के अलगाववाद से जूझ रही सरकार, सेना और समाज को सकारात्मक संदेश देने का कदम उठाया है। कश्मीर की वादियों के जिन गांवों और शहरों में पिछले सालभर से पत्थर चल रहे हैं, अब कम से कम दो दिन तक वहां से पूरी दुनिया के लिए भारतीय कर प्रणाली में होने वाले सबसे बड़े सुधार का संदेश जाएगा। संभव है कि कश्मीर के उन युवाओं पर भी इसका असर...
May 19, 07:31 AM

सरकार ने काम किया है तो प्रचार की क्या जरूरत?

मोदी सरकार आने वाले दिनों में अपने तीन वर्षों का रिपोर्ट कार्ड न्यू इंडिया के तहत रखने वाली है। सवाल यह है कि लोकतांत्रिक प्रणाली में अगर सरकार ने कार्य किए हैं, तो कामकाज पर प्रचार-प्रसार की संस्कृति क्यों हावी होती दिख रही है? क्या जनता को सरकारों द्वारा किए गए काम नहीं दिखते? देश इतना भी विकसित नहीं है कि व्यर्थ के विज्ञापनों पर अथाह धन बर्बाद किया जाए। देश में किसान आत्महत्याओं का दौर थमा नहीं है, बेरोजगारी अपने चरम पर है और एक करोड़ रोजगार निर्मित करने का वादा पूरा हुआ नहीं है। इन तीन...
May 18, 05:54 AM

रूस पर भारत की परमाणु कूटनीति का दबाव

भारत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति ब्लादीमीर पुतिन की अगले महीने होने वाली मुलाकात से पहले रूस पर परमाणु कूटनीति का कड़ा दबाव बनाकर यह जता दिया है कि जब दुश्मनों पर दबाव डालने से काम न बने तो दोस्तों से नाराजगी जताने का तरीका भी अपनाया जाना चाहिए। भारत के इस रुख ने चीन से नज़दीकी बढ़ा रहे रूस के भीतर बेचैनी पैदा कर दी है और संभव है कि वह भारत के पक्ष में कुछ सक्रियता दिखाए। रूस को उम्मीद थी कि भारत पुतिन और मोदी की मुलाकात से पहले कुडनकुलम में एटमी रिएक्टर विकसित करने संबंधी...
May 18, 05:47 AM

अब छद्‌म मुकदमे से परेशान करना चाहता है पाक

पाकिस्तान में भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को मृत्युदंड सुनाए जाने के बाद निश्चिंत नज़र आने वाला पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में बेचैन नज़र आ रहा है। कुलभूषण पर भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के अधिकारी होने तथा बलूचिस्तान में चल रहे अलगाववादी आंदोलन में वहां के लोगों की मदद करने का आरोप है, जबकि ऐसा साबित करने के लिए पाक के पास कोई साक्ष्य मौजूद नहीं हैं, सिवाय एक जबरन दिलाए गए बयान के। भारत मुख्यतः दो बिंदुओं पर पाक को घेर सकता है। भारत में कसाब को फांसी दिए जाने से पहले उसे कोर्ट में अपना...
May 17, 04:46 AM

लालू प्रसाद पर छापों का राजनीतिक असर होगा

लालू प्रसाद यादव और उनकी बेटी मीसा तथा दामाद की बेनामी संपत्ति पर पड़ने वाले छापे भले भ्रष्टाचार के विरुद्ध कार्रवाई हों लेकिन, उसका राजनीतिक असर पड़े बिना नहीं रहेगा। वजह साफ है कि गांधी-नेहरू और मुलायम सिंह के परिवार के बाद लालू प्रसाद और उनका परिवार सर्वाधिक राजनीतिक परिवार है और उसके इर्द-गिर्द विपक्षी एकता घूम रही है, इसलिए जनता दल(यू) ने छूटते ही टिप्पणी की है कि ये छापे राष्ट्रपति चुनाव के निमित्त विपक्षी एकता तोड़ने के लिए डाले गए हैं। दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी ने न सिर्फ यह कहा है कि...
May 17, 04:41 AM

जो फ्रांस के चुनाव में हुआ, वह भारत में क्यों न हो सका?

मेरे ही घर का आंगन, मेरा ही बल्ला, मेरी गेंद..बल्लेबाजी भी मैं ही करूंगा। आउट होने पर भी मानूंगा नहीं। जिन्हें लगता है कि मैं आउट हो गया हूं उन्हें टीम से ही निकाल दूंगा। जब मुझे लगेगा तब मैं बल्लेबाजी छोड़कर खेल बंद कर दूंगा। गलियों में खेले जाने वाले क्रिकेट में दिखने वाला यह दृश्य दिल्ली के राजनीतिक पिच पर भी दिखाई दे रहा है। जाहिर है क्रिकेट के इस वर्जन से मिलता-जुलता है आप नेता का व्यवहार। सत्तर सीटों की विधानसभा में विरोधी सदस्य सिर्फ चार और उसमें भी प्राय: विरोधी विधायकों को मार्शलों की...
May 15, 07:49 AM

आखिर यह है ट्रम्प परिवार के रूसी संबंधों का सच

- द न्यूयॉर्क टाइम्स एडिटोरियल बोर्ड अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कुछ ही दिन पहले फेडरल इन्वेस्टीगेशन एजेंसी (एफबीआई) के डाइरेक्टर जेम्स कोमी को बर्खास्त कर दिया। केवल इसलिए कि उन्होंने ट्रम्प और रूस के बीच संबंधों की जांच के आदेश दिए थे और वे उस पर सक्रियता से काम कर रहे थे। यह खबर दुनिया के लिए चौंकाने वाली थी कि कैसे ट्रम्प ने बिना देरी किए इतने बड़े अफसर को हटा दिया। दुनिया के कई अख़बारों ने इस खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया, इसी से पता चलता है कि एफबीआई डाइरेक्टर के पद का...
May 15, 07:49 AM

जब आप डर पर काबू पा लेते हैं तो जिंदगी को खोज लेते हैं

मेरे बचपन में हम ऑटोरिक्शा भी ले नहीं सकते थे और आमतौर पर पैदल ही चलना पड़ता था। आज जब मैं पीछे मुड़कर देखता हूं, तो मुझे लगता है कि मैं भाग्यवान था कि पैदाइशी धनी नहीं था और बड़े होते समय मेरे पास ज्यादा पैसे नहीं होते थे। इससे मैं अपने दिमाग का कहीं ज्यादा इस्तेमाल समाधान खोजने में करता था। इसके कारण मैं अत्यधिक रचनाशील और अपनी तरफ से पहल करने वाला व्यक्ति बन गया। चूंकि, मेरे पास खोने के लिए तो कुछ था नहीं तो मुझे बिल्कुल डर नहीं लगता था। मेरा परिवार सिंगापुर और दुबई जाकर कपड़े और इलेक्ट्रॉनिक्स...
May 15, 07:36 AM

प्रकृति से जुड़ा मन सुविधाओं की ओर नहीं भागता

बचपन से ही किसान और जवान को लेकर केवल परेशान हो जाने वाली बात सुनता आया हूं। अक्सर गांव की छवि एक दुखदायी जगह की होती है, जहां गरीबी है, भुखमरी है, कीचड़ है और सिर्फ असुविधाएं हैं। मुझे हमेशा लगता कि गांव के प्रति जो इस तरह की मानसिकता है, इसे बदलने की जरूरत है। दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद पांच साल पत्रकारिता की नौकरी की और मैं फिर किसानी करने बिहार स्थित अपने गांव पूर्णिया जिले के चनका लौट आया। यह अचानक नहीं हुआ। नौकरी करते हुए ऐसे लोगों से मुलाकात हुई जिनके भीतर गांव...
May 15, 07:29 AM

असंभव के विरुद्ध: कश्मीर में सैनिक के जनाज़े पर पथराव से देश पथराया क्यों नहीं?

युवाओ, उठो, सैनिकों के लिए कुछ पल प्रतिदिन दो षड्यंत्र से हिन्दुस्तान पर अवैध कब्जा करने वाले मुगलों में से एक जहांगीर जब अंतिम सांसें ले रहा था, तब उससे आखिरी इच्छा पूछी तो उसने कहा -कश्मीर! यानी आतताइयों- आतंकियों-विदेशी लुटेरों की आंखें पहले दिन से आखिरी सांस तक कश्मीर पर थीं।- अज्ञात मेरे देश के नवयुवतियो-नवयुवको, आपके कुछ पल चाहिए। देश के लिए। बल्कि, मानवीयता के लिए। जिसकी कश्मीर घाटी में भारी कमी होती जा रही है। और ऐसा निकृष्ट कृत्य कुछ मुट्ठीभर आतंकी, स्वयं को बेचकर, मानवीय...
May 13, 06:42 AM

आप निगाह में हैं, इसलिए हंसते रहें....

कबीर और गालिब चाहे जब याद आते हैं। मंदिर से फरसा निकले या मस्जिद से तलवार, कबीर याद आते हैं। प्यार करने वाले पिटते हैं, तो गालिब याद आते हैं। अब किसी बात पर हंसी नहीं आती। डरा आदमी कैसे हंसे, फिर भी वे कहते हैं हंसो। मैं आत्महत्या करते किसानों का हाल पूछता हूं, तो वे देश के अमीर दिखाकर विकास बताते हैं, कहते हैं- हंसो, हंसता हूं तो लगता है, अपराध कर रहा हूं... वे सुबह-शाम हंसते हैं। वे भाव-बेभाव हंसते हैं। वे सशरीर हंसते हैं। वे रो रहे हों तो भी हंसते हुए लगते हैं। हंसी उनके चेहरे पर भ्रष्टाचार की तरह...
May 13, 06:28 AM

श्रीलंका में संस्कृति के जरिये रिश्ते बढ़ाने की कोशिश

बुद्ध पूर्णिमा के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दो दिवसीय श्रीलंका यात्रा इस उपमहाद्वीप की श्रेष्ठ सांस्कृतिक परम्परा के माध्यम से आधुनिक राजनय को साधने का एक प्रयास है। इसके तहत चीन की अपार आर्थिक-सामरिक ताकत के मुकाबले भारत की पारम्परिक ताकत की अथाह गहराई को खड़ा करने की कोशिश की जा रही है। उम्मीद है कि श्रीलंका भारत के साथ नए किस्म के पंचशील समझौते के बंधन में बंधेगा। इसका तात्कालिक असर दिखाई भी पड़ा है और श्रीलंका ने चीन की पनडुब्बी को फिलहाल इस महीने कोलंबो के बंदरगाह में खड़ा...
May 13, 05:45 AM

भारत में ई-कॉमर्स के असली फायदे कब मिलेंगे ?

मार्केटिंग और स्ट्रैटेजी पर श्रेष्ठतम पुस्तकों में से एक में अल रिएस और जैक ट्राउट ने जो 22 नियम तय किए हैं उनमें से एक नियम कहता है कि लंबी अवधि में हर बाजार दो घोड़ों की दौड़ का मैदान बन जाता है। फ्लिपकार्ट के देश में बिज़नेस शुरू करने के दस साल बाद हौड़ में हमें दो प्रमुख घोड़े नज़र आने लगे हैं- एमेजन और फ्लिपकार्ट, क्योंकि स्नैपडील तथा फ्लिपकार्ट का विलय अंतिम चरण में पहुंच गया है। एक तरफ तो फ्लिपकार्ट पिछले तीन वर्षों में अधिग्रहण के क्षेत्र में जरूरत से ज्यादा सक्रिय रही है और इसने...
May 13, 04:29 AM
पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

* किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.