संपादकीय
Home >> Abhivyakti >> Editorial
  • मैं फेल हूं
    हम सब फेल हैं। मेरा मतलब है, हम सब अच्छे लोग फेल हैं। - अज्ञात मैं फेल हो गया हूं। सब तरफ अंधेरा छा गया है। कोई मेरे साथ नहीं। मैं अकेला पड़ गया हूं। न कुछ समझ में आ रहा है, न ही कुछ करने की इच्छा बची है। विफलता कितनी अकेली होती है! अकेलापन नैराश्य बढ़ाएगा। वो अलग। धिक्कार है। मुझे घरवालों ने सब कुछ दिया। स्नेह से प्रेरित किया। फिर भी। मैं अब क्या करूं? विफलता ने मुझे जीते-जी, मार डाला है। मैं कुछ और करूं या न करूं, मैं मरना नहीं चाहता। फेल होकर तो बिल्कुल भी नहीं। हार के...
    20 mins ago
  • इस खबर से भारत के स्वास्थ्य नीति निर्धारकों को सतर्क हो जाना चाहिए कि भारत में कैंसर हृदय रोग के बाद दूसरी सबसे बड़ी जानलेवा बीमारी बन गया है। मेडिकल जर्नल जेएएमए ऑन्कोलॉजी की रिपोर्ट से सामने आया यह आंकड़ा चिंता उत्पन्न करता है कि 2013 में अपने देश में 11.70 लाख नए लोग कैंसर से पीड़ित हुए, जबकि 6.75 लाख लोगों की इस रोग से मृत्यु हो गई। कैंसर पिछले ढाई दशक में किस तेजी से फैला, यह इससे जाहिर है कि 1990 में इसके 6.24 लाख नए मरीज सामने आए, जबकि 4.26 लाख लोग इसकी वजह से काल-कवलित हुए थे। ग्लोबल बर्डन ऑफ कैंसर...
    06:18 AM
  • राजस्थान के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को हाई कोर्ट की फटकार सुननी पड़ी। इसलिए कि गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के लोगों ने हफ्ते भर से दिल्ली-मुंबई रेल मार्ग और जयपुर-आगरा राजमार्ग पर परिवहन रोक रखा है, मगर इस अलोकतांत्रिक व्यवहार के लिए एक भी आंदोलनकारी की गिरफ्तारी नहीं हुई। राजस्थान उच्च न्यायालय ने दोनों रास्तों से सारी रुकावटों को तुरंत हटाने का आदेश दिया, लेकिन गुरुवार को भी मुसाफिरों को राहत नहीं मिली। मुमकिन है कि कोर्ट की इच्छा का पालन इस वजह से नहीं हुआ हो कि प्रशासन भारी भीड़...
    May 29, 05:16 AM
  • अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल की संचालक संस्था फीफा के अनेक बड़े अधिकारियों की गिरफ्तारी की खबर से पूरा खेल जगत सकते में है। शुक्रवार को फीफा के नए अध्यक्ष और अन्य पदाधिकारियों का चुनाव होना है। इसी के लिए फीफा अधिकारी स्विट्जरलैंड के ज्यूरिख में इकट्ठे हुए हैं। वहीं बुधवार सुबह स्विस पुलिस ने छापा मारा। गिरफ्तारी अमेरिकी खुफिया संस्था फेडरल ब्यूरो ऑफ इंवेस्टीगेशन (एफबीआई) की जांच के आधार पर हुई। हिरासत में लिए गए सभी फीफा अधिकारियों एवं प्रायोजक तथा प्रसारक कंपनियों के प्रतिनिधियों पर अमेरिका...
    May 28, 06:38 AM
  • नरेंद्र मोदी सरकार सत्ता में अपनी पहली सालगिरह मना रही है, तो अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में आम आदमी पार्टी (आप) सरकार के 100 दिन का शोर खड़ा कर दिया है। प्रधानमंत्री ने सोमवार को मथुरा के पास अपनी बहु-प्रचारित रैली रखी, तो उससे थोड़ी ही देर बाद केजरीवाल ने दिल्ली के कनाट प्लेस स्थित सेंट्रल पार्क में अपनी कैबिनेट की बैठक रख दी। आज मोदी सरकार का एक साल पूरा होगा, तो लोगों का ध्यान दिल्ली विधानसभा की तरफ भी रहेगा, जिसका आप सरकार ने दो दिन का आपात अधिवेशन बुला लिया है। ऐसे नए-नए दांव चलते हुए केजरीवाल...
    May 26, 06:07 AM
  • जलवायु परिवर्तन के बढ़ते खतरे का मुकाबला करने के लिए सारी दुनिया अक्षय ऊर्जा की तरफ मुखातिब हो रही है, मगर भारत जैसे विकासशील देश के लिए, जिसके पास पर्यावरण-रक्षक तकनीक का अभाव है, यह स्रोत कुछ ज्यादा ही महत्त्वपूर्ण है। ग्रीन हाउस गैसों का सबसे ज्यादा उत्सर्जन ऊर्जा उत्पादन एवं उसके उपयोग में ही होता है, जबकि सौर, पवन, बायोमास, लघु-पनबिजली आदि जैसे अक्षय स्रोतों से प्राप्त ऊर्जा कमोबेश अहानिकर है, इसलिए उचित ही है कि भारत सरकार ने इन स्रोतों को विकसित करने को उच्च प्राथमिकता दी है। अब...
    May 25, 06:06 AM
  • सत्ता में सालभर गुजारने के बाद अब बारी नरेंद्र मोदी सरकार की यह बताने की है कि वह जनता की अपेक्षाओं पर कितनी खरी उतरी। इसका लेखा-जोखा लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली मीडिया के सामने आए, तो मोटे तौर पर उन्होंने दो बड़े दावे किए। पहला यह कि सालभर पहले मायूसी छाई थी, उसकी जगह अब आशा और उत्साह का माहौल है। दूसरी यह कि मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार-मुक्त शासन दिया है। उनकी बाकी बातें इन्हीं दो मजमूनों का विस्तार थीं। अच्छे दिन औद्योगिक प्रगति पर निर्भर है और इसका सारा दारोमदार बैंकिंग सेक्टर में आमूल...
    May 23, 06:17 AM
  • असंभव के विरुद्ध: मोदी सरकार के कौन से मंत्री,  किसलिए याद हैं आपको
    जनता को क्या चाहिए, यह जानने वाला राजा होता है। राजा को क्या चाहिए, यह जानने वाला मंत्री होता है। -अज्ञात मंत्री किन कारणों से याद रखे जाते हैं? विवादों के कारण। व्यक्तित्व के कारण। किसी घटना के कारण। किसी एक बात के कारण। मोदी सरकार के एक साल होने पर समूचे देश को यकायक चारों ओर मंत्री ही मंत्री दिख रहे हैं। साल भर वे बिल्कुल नहीं दिखे। कुछ जो दिखे, तो कोई कारण था। अभी मीडिया में बाढ़ सी आई हुई है। भयंकर स्पर्धा के युग में टीवी सीरियल की शूटिंग प्रतिदिन होती है। अगले ही दिन वो एपिसोड जारी जो करना...
    May 23, 03:55 AM
  • प्राचीन भारत के इतिहासकारों में आम सहमति है कि सम्राट अशोक की जाति अज्ञात है। कुछ इतिहासकारों के मुताबिक अशोक के दादा चंद्रगुप्त मौर्य का जन्म मुरा जाति की महिला से तत्कालीन शासक नंद के राजमहल में हुआ था। मुरा वर्ण-व्यवस्था के तहत शूद्र जाति थी। मगर बौद्ध ग्रंथों के आधार पर कुछ इतिहासकार चंद्रगुप्त को क्षत्रिय वर्ण का मानते हैं। वैसे भी मौर्य वंश तब की बात है, जब जाति का आज जैसा स्वरूप नहीं था। फिर अशोक के पिता राजा बिंदुसार थे। यानी अशोक का जीवन राजसी सुख-सुविधा में बीता। इसीलिए हैरतअंगेज...
    May 22, 06:30 AM
  • किसी सरकार की पहली वर्षगांठ कामकाज की उसकी दिशा और कामयाबियों के मूल्यांकन का खास मौका होता है। नरेंद्र मोदी सरकार जब अपना पहला साल पूरा कर रही है, तो स्वाभाविक है कि इस बारे में विभिन्न तरह के विचार सामने आएं। इन्हीं चर्चाओं के बीच भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन की टिप्पणी ने खास ध्यान खींचा है। न्यूयॉर्क के इकॉनोमिक क्लब में अपने संबोधन में राजन ने कहा, यह सरकार अत्यधिक अपेक्षाओं के साथ आई। मेरी राय में किसी भी सरकार से ऐसी अपेक्षाएं यथार्थ से मेल नहीं खाती हैं। राजन की राय में...
    May 21, 06:27 AM
  • नरेंद्र मोदी ने अपनी बात जनता तक पहुंचाने के लिए इंटरनेट का जिस कुशलता से उपयोग किया है, उसने सारी दुनिया का ध्यान खींचा है। निर्विवाद रूप से वे सोशल मीडिया पर सर्वाधिक लोकप्रिय नेताओं में हैं, इसीलिए उनसे असहमति जताने वाला हैशटैग ट्विटर पर वर्ल्ड ट्रेंडिंग में टॉप पर पहुंचा, तो उस तरफ बरबस ध्यान गया। असहमति का बिंदु हाल की चीन यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री की एक टिप्पणी है। शंघाई में उन्होंने कहा, एक समय था जब लोग कहा कहते थे कि उन्हें नहीं मालूम कि उन्होंने कौन-सा पाप किया कि उनका जन्म...
    May 20, 06:15 AM
  • अरुणा शानबाग भारत की अंतर्चेतना पर एक प्रश्न थीं। अपने समाज में महिलाओं के प्रति कितनी गंदी दृष्टि रखी जाती है और उनसे क्रूरता किस हद तक हो सकती है, वे हमें इसकी याद दिलाती रहीं। कर्नाटक में जन्मीं अरुणा मुंबई के सरकारी केईएम अस्पताल में नर्स थीं, जहां 27 नवंबर 1973 की रात एक वार्ड बॉय ने दुराचार करने की कोशिश में उन्हें बुरी तरह जख्मी कर दिया। अत्यंत घायल अवस्था में भी वार्ड बॉय ने उनसे अप्राकृतिक यौनाचार किया। तब से सोमवार तक वे कोमा में रहीं। उन्हें स्वस्थ करने में मेडिकल साइंस नाकाम रहा,...
    May 19, 06:27 AM
  • सात साल का बालक किसी गंभीर मुद्दे पर अपने प्रदेश के मुख्यमंत्री को अवाक कर दे- तो इसे समाज में लोकतंत्र की जड़ों के गहराने का प्रमाण ही माना जाएगा। पटना में ऐसा ही कुछ हुआ, जब नालंदा के सात वर्षीय कुमार राज के आगे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार नि:शब्द हो गए। किंतु बच्चे ने शिक्षा प्रणाली से जुड़ी जो बातें कहीं, उनका संबंध सिर्फ बिहार से नहीं, पूरे देश से है। कुमार राज को शिक्षा व्यवस्था पर भाषण देने के लिए बुलाया गया था। उसने दो बुनियादी सवाल उठाए। पहला तो सरकारी और प्राइवेट स्कूलों के बीच फर्क का...
    May 18, 06:42 AM
  • मौसम विभाग का कहना है कि मानसून 30 मई को केरल के तट पर पहुंच जाएगा यानी इस साल समय पर आगमन हो जाएगा। यह यदि देर से आए तो इसके कमजोर रहने की आशंका रहती है। जैसे पिछले साल यह केरल के तट पर हफ्ते भर की देरी से पहुंचा था और बारिश कम हुई थी। कृषि समाधान सुझाने वाली भारत की सबसे बड़ी कंपनी स्कॉयमेट ने 887 मिमी औसत वर्षा के साथ सामान्य मानसून होने का अनुमान व्यक्त किया है। यह पिछले साल अल-नीनो प्रेरित सूखे से ग्रस्त किसानों के लिए ही नहीं, सभी के लिए राहत की खबर है। किसान खुश तो सब खुश। आज भी हकीकत यही है कि देश...
    May 16, 07:03 AM
  • साल भर दाैड़ते-उड़ते रहे मोदी; दौड़ती-उड़ती रहीं हमारी उम्मीदें
    खुश रहना है तो दो तरीके हैं- कम खाना और गम खाना। - पुरानी कहावत नरेंद्र मोदी चलते ही इतनी तेजी से हैं कि देखने वालों में तत्काल एक उम्मीद जग जाती है। बराक ओबामा, मोदी से पूरे 11 साल छोटे हैं। नियमित जिम में पसीना बहाते हैं। बॉडी बिल्डर हैं। आप किन्तु उनके साथ मोदी के वीडियो क्लिप देखिए। एक गज़ब की फूर्ति। अमेरिकी राष्ट्रपति उनके बारे में जब भी बोलना शुरू करते हैं, सिर्फ उनकी एनर्जी की बात करते हैं। ऐसा ही अनुभव देशवासियों को पिछले साल लोकसभा चुनाव के दौरान हुआ था। वो गरजते। लोग जोश में भर उठते।...
    May 16, 06:59 AM
  • अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता नागरिकों का मौलिक अधिकार है, लेकिन भारतीय संविधान ने इस पर विवेक-सम्मत सीमाएं भी लगाई हैं। मगर यह मुद्दा बेहद पेचीदा है। नतीजतन, बार-बार सवाल उठता है कि कहने, लिखने या कला माध्यमों से भावों को अभिव्यक्त करने की आजादी की हद कहां तक होनी चाहिए। ऐसा ही प्रश्न सर्वोच्च न्यायालय के सामने था। क्या कोई साहित्यकार/कवि अपनी रचना में अपनी बात महात्मा गांधी के मुंह से कहला सकता है- वह भी अश्लील शब्दों में? एक मराठी पत्रिका ने ऐसी ही रचना छापी। बॉम्बे हाईकोर्ट ने निर्णय दिया कि...
    May 15, 06:16 AM
  • नरेंद्र मोदी ने विश्वास जताया है कि उनकी यात्रा से न सिर्फ भारत-चीन की दोस्ती मजबूत होगी, बल्कि एशिया और पूरे विश्व में विकासशील देशों के संबंधों के बीच यह दौरा मील का एक नया पत्थर बनेगा। चीनी नेतृत्व ने भी इस यात्रा को हाई-प्रोफाइल दर्जा देने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। यह सिर्फ दूसरा मौका है, जब चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग किसी विदेशी अतिथि का बीजिंग से बाहर जाकर स्वागत करेंगे। पिछले साल उन्होंने ऐसी अहमियत अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को दी थी। अब वे आज नरेंद्र मोदी की अपने गृह नगर एवं...
    May 14, 06:57 AM
  • बच्चों को लेकर एक धक्का पहुंचाने वाला फैसला
    प्रधानमंत्री बनने के बाद बच्चों से मन की बात करते हुए नरेन्द्र मोदी ने पूछा था कि चार बार पसीना किस-किस को आता है? किसी बच्चे ने नहीं कहा कि मुझे। तब मोदी ने कहा कि इतना खेलो कि दिन में चार बार पसीना आए। क्या उन्हीं की सरकार बच्चों को अब इस बात के लिए प्रेरित करना चाहती है कि खेलना छोड़, अपने परिवार के कारोबार में हाथ बंटाएं? पसीना न बहाएं, पैसे कमाएं? क्या उन्हीं की सरकार बच्चों को उनकी मर्जी से पढ़ने की राह से भटकाकर, उन्हें उनके परिवार के काम-धंधों में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित कर रही है?...
    May 14, 06:18 AM
  • राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग (एनजेएसी) की स्थापना के लिए हुए संविधान संशोधन की संवैधानिकता के सवाल पर न्यायपालिका और सरकार में अब स्पष्ट टकराव है। परिणाम जजों की नियुक्ति का ठहर जाना है। मुद्दा है कि सर्वोच्च न्यायालय और उच्च न्यायालयों के जजों की नियुक्ति कौन करे? सोमवार को सरकार ने दलील दी कि कॉलेजियम प्रणाली हमेशा के लिए मृत और दफना दी गई है। अटार्नी जनरल ने कहा कि अगर सुप्रीम कोर्ट हालिया संविधान संशोधन को रद्द कर देता है, तब संसद नया कानून बनाएगी। यानी 1990 के दशक में अपने दो फैसलों से...
    May 13, 06:30 AM
  • अनुपातहीन संपत्ति के मामले में बरी होने के बाद जयललिता ने कर्नाटक हाई कोर्ट के फैसले को सत्य और न्याय की जीत बताया, जबकि अभियोग पक्ष ने कहा कि उसे अपना पक्ष रखने का पर्याप्त मौका नहीं मिला। दरअसल, इस मामले में लोक अभियोजक कौन हो, यह विवाद सुप्रीम कोर्ट में दो हफ्ते पहले ही निपटा था। इस बीच हाई कोर्ट सुनवाई की आखिरी तारीख तय कर चुका था। अतः अभियोग पक्ष की शिकायत को निराधार नहीं कहा जा सकता। यह तो फैसले के बारीक विश्लेषण से ही जाहिर होगा कि हाई कोर्ट के जज न्यायमूर्ति सीआर कुमारस्वामी ने किस...
    May 12, 06:10 AM
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें