Home >> Abhivyakti >> Hamare Columnists >> Others
  • कश्मीर को चाहिए संवेदनशील पहल
    अनौपचारिक संघर्ष के 25 साल किसी भी पैमाने से बहुत लंबा वक्त है। ऐसे संघर्ष ताकत के खिलाफ ताकत का आम मामला नहीं होते, जिसमें हिंसा के तौर-तरीकों और हथियारों के इस्तेमाल पर सीमित मर्यादा रहती है। ऐसे संघर्षों के पीछे लोग होते हैं, जिनकी कुछ अपेक्षाएं होती हैं। जम्मू-कश्मीर में देश के बाहर से प्रायोजित आंतरिक संघर्ष अनौपचारिक संघर्ष का एक उदाहरण है और यह बहुत लंबा खिंच गया है और इसका अंत नजर नहीं आता। ऐसा संघर्ष बहुत कठिन होता है और इसमें सेना के सभी स्तरों पर चौकस रहकर लगातार संघर्षरत रहना पड़ता...
    July 30, 07:32 AM
  • शिक्षा में सजा नहीं, रचनात्मकता हो
    हमारे उपमहाद्वीप में दुनिया के लगभग 19 फीसदी बच्चे रहते हैं। देश की आबादी के एक-तिहाई से ज्यादा हिस्से की, करीब 44 करोड़ लोगों की उम्र 18 वर्ष से नीचे है। केंद्रीय महिला व बाल विकास मंत्रालय के अध्ययन के मुताबिक इस आबादी में से 40 फीसदी को देखभाल और संरक्षण की जरूरत है। इससे पता चलता है कि देश में बच्चों को किस हद तक शारीरिक दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ता है। हाल ही में टीवी पर दिखाए गए सीसीटीवी फुटेज में कोलकाता के सॉल्ट लेक क्षेत्र में एक महिला तीन साल के बच्चे को निर्दयता से पीटती दिखाई दे रही थी।...
    July 29, 07:57 AM
  • यूक्रेन के संकट की वजह है यूरोप
    यूक्रेन के संकट ने दुनिया में मौजूद एक बड़ी खामी को रेखांकित किया है और यह खामी है रणनीति तथा सोदेश्यता से रहित यूरोप। यूक्रेन में पैदा हुए संकट से निपटने का अमेरिका नेतृत्व कर सकता है और उसे करना भी चाहिए, लेकिन यूरोप के बिना इस मामले में कुछ नहीं हो सकता। यूरोपीय संघ रूस का सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है। वह रूसी ऊर्जा का सबसे बड़ा ग्राहक है। रूसी कंपनियों में वह प्रमुख निवेशक है और रूसी पूंजी के लिए भी सबसे बड़े आकर्षण का केंद्र है। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के कुछ आलोचक चाहते हैं कि वे...
    July 28, 06:56 AM
  • क्या आपने बारिश को कभी इस तरह देखा है?
    कुछ ही लोग बारिश में चल पाते हैं। बाकी सब तो केवल गीले होते हैं। -रोजर मिलर तूफान गुजरने की प्रतीक्षा करना जीवन नहीं है। बारिश में नाच उठें, यह कला सीखना ही जीवन है। -अज्ञात बारिश बचपन है। बच्चे जैसी अबोध। नवजात सी निश्चल। मृग-छाैने सी चंचल। सिंह-शावक सी निर्भीक। वर्षा युवावस्था है। नवयुवकों जैसी पराक्रमी। नवयुवतियों सी निपुण। कैशोर्य सी गतिशील। षोड्षी सी निरन्तर। रमणी सी रहस्यमय। शेर सी दहाड़ती। हिरणी सी निर्दोष। बरसता पानी प्रौढ़ है। पिता जैसा गांभीर्य। मां सा विदुषी। बड़े भाई...
    July 26, 04:56 AM
  • प्रथम विश्वयुद्ध हमारा वीर पर्व नहीं
    यह एक अजीब संयोग ही था कि जिस समय दुनिया परेडों, भाषणों और स्मृति स्तंभों की मार्फत पहले विश्वयुद्ध की शतवार्षिकी धूमधाम से मनाने की फिराक में है, उसी समय गृहयुद्ध की आग में जलते यूक्रेन के विद्रोहियों ने गलती से इलाके के ऊपर से गुजर रहे मलेशियाई एयरलाइंस के एक यात्री विमान को सेना का विमान समझकर उसे मिसाइल से मार गिराया। कुछ ही मिनटों में 298 मासूम जानें मिट गईं। दरअसल, तकरीबन सौ सालों से हम युद्धों को रूमानी चश्मों से किताबों की मार्फत ही पढ़ते आए हैं। उनके शहीदों, ख्यातनाम कमांडरों और जीत का...
    July 23, 04:02 AM
  • नजर आने लगे हैं अच्छे दिनों के अंकुर
    सिग्नल देखने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान, वित्तमंत्री अरुण जेटली के बयानों और बजट भाषण तथा राष्ट्रपति के अभिभाषण से नई सरकार की आर्थिक प्राथमिकताओं और नीतियों का अंदाजा लगाते रहे। कई मानसून की गड़बड़ का अंदेशा होने पर आसमान निहारते रहे और काफी सारे लोग तो आलू-प्याज-टमाटर की कीमतों को सुबह-शाम निहारते रहे पर जब अचानक एक दिन देश के शीर्षस्थ आर्थिक अखबार ने लीड खबर दी कि वर्षों की गहरी निराशा के माहौल को मोदी-शासन के एक महीने के आंकड़ों ने धो दिया है, तो कई लोग चौंके। अब नई सरकार के काम और...
    July 22, 07:13 AM
  • दिल्ली में सरकार बनाने की बेताबी
    दिल्ली का ताजा राजनीतिक घटनाक्रम बड़ा रोचक हो गया है। किसी को भी अचरज हो सकता है कि जिस भाजपा ने 70 सीटों में 31 सीटें जीतने के बाद भी दिल्ली में सरकार बनाने के लिए दावा करने में भी रुचि नहीं दिखाई, अब राजधानी की सत्ता पर काबिज होने के लिए बेताब नजर आ रही है। हालांकि, अब उसके विधायकों की संख्या घटकर 28 हो गई है। दिल्ली विधानसभा का चुनाव जीतने वाले इसके तीन नेता हर्ष वर्द्धन, परवेश और राम सिंह विधुरी 2014 के लोकसभा चुनाव में संसद के निचले सदन के लिए चुने गए हैं। इस हालत में भाजपा कांग्रेस या आम आदमी पार्टी...
    July 21, 06:27 AM
  • कल्‍पेश याग्निक का कॉलम: आतंकी रूसी हों या कोई और; भयंकर शारीरिक यंत्रणा  से ही नष्ट होंगे
    मुझे शेरों की उस सेना का डर नहीं है, जिसका सेनापति एक भेड़ हो। मुझे तो भेड़ों की उस सेना से डर हैं, जिसका सेनापति शेर हो। - अलेक्ज़ेंडर द ग्रेट वह हल्के लाल रंग के बालों वाली युवती थी। घास की हरियाली को ख़त्म करती उसकी रक्तरंजित देह देखकर कोई भी थरथरा जाए। किन्तु सबसे डरावनी बात कुछ और थी। उसका मुंह खुला रह गया था। मानो हमले के ऐन वक्त वह कुछ कहना चाहती थी। जोर से। यूक्रेन के ग्राबेवो इलाके में साक्षात मौत पसरी पड़ी है। कोई पंद्रह किलोमीटर तक बस लाशें ही लाशें। मलेशियाई...
    July 19, 05:53 AM
  • बढ़ती आबादी पर स्थायी नीति जरूरी
    यह आम दिनों में से एक दिन था। दिल्ली में अपने शॉपिंग बैग, लैपटॉप, आई-पैड और रोते बच्चों को गोद में उठाए लोग चिंतापूर्वक रेलवे ट्रैक पर टकटकी लगाए देख रहे थे। उस संकरे से प्लेटफॉर्म पर खड़े रहने के लिए उन्हें मुश्किल से ही कोई जगह थी। उनके शरीर आपस में टकरा रहे थे। पैर जमाए रखने के लिए अनजाने ही संघर्ष चल रहा था। वे दिल्ली मेट्रो ट्रेन का इंतजार कर रहे थे, लेकिन जब वह आई तो अपने पीछे प्लेटफॉर्म पर बहुत सारे लोग छोड़ गई, क्योंकि वे सारे मेट्रो के संकरे से कंपार्टमेंट में नहीं समा सकते थे। जो थोड़े कम...
    July 18, 07:47 AM
  • ऐसे फैसलों से बदलाव नहीं आता
    एक ब्राह्मण ने गांव के सुनार से अपने लिए सोने की वजनी अंगूठी बनवाई। कुछ दिन बाद उसकी चमक फीकी पड़ने लगी और साल बीतते न बीतते उसके भीतर छुपाया गया एक लोहे का छल्ला दिखाई देने लगा। कुछ समय बाद वह जजमानी करके गांव वापस आया तो देखता है कि आंगन में एक भैंस बंधी हुई है। पत्नी ने बताया कि उसने सुनार से उसकी भैंस खरीद ली है। ब्राह्मण आपे से बाहर हो गया, तू नहीं जानती वह कितना बड़ा ठग है मेरी अंगूठी की ही तरह उसकी भैंस भी नकली होगी। पर यह तो दूध भी देती है, पत्नी ने कहा। तो दूध भी नकली होगा, पति बोला। पर हम तो वह रोज...
    July 16, 07:12 AM
  • कई बातें स्पष्ट कर सकते थे जेटली
    नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बने दो माह हो गए और यह बिल्कुल स्पष्ट हो गया है कि यह एक मोदी सरकार है। उन्होंने सरकारी दफ्तरों के शीर्ष पर बैठे सभी प्रमुख सचिवों से सीधा संपर्क स्थापित कर लिया है। वे उन्हें फैसले लेने और यदि कुछ गड़बड़ हो जाता है तो उनसे संपर्क करने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। सचिवों और प्रधानमंत्री के बीच मंत्रियों की दुविधापूर्ण स्थिति है, कैबिनेट के साधारण दर्जे को देखते हुए यह शायद अच्छा ही है। मंत्री तो खुश हो नहीं सकते। उन्हें रिश्तेदारों को नौकरियां देने की मनाही है। वे...
    July 15, 06:11 AM
  • क्या सीरिया में ऐसे स्थिरता लौटेगी?
    सीरियाई विपक्ष के कुछ तत्वों को प्रशिक्षण व पैसा मुहैया कराने के लिए 50 करोड़ डॉलर की राशि देने के ओबामा प्रशासन के फैसले को कांग्रेस में दोनों दलों से समर्थन मिला है। अमेरिकी राजनीतिक दलों में इस बात पर आमसहमति है कि यदि ओबामा प्रशासन ने तीन साल पहले यह किया होता तो सीरिया में स्थिति गृहयुद्ध में तब्दील नहीं होती। हालांकि, यह परंपरागत बुद्धिमत्ता सही नहीं है। अमेरिकी दखल के नतीजे सही निकले जरूरी नहीं है। ओबामा प्रशासन तो वाशिंगटन की किसी भयंकर स्थिित में कुछ करने की इच्छा के आगे झुक रहा है।...
    July 14, 12:05 AM
विज्ञापन
 
 

बड़ी खबरें

 
 

रोचक खबरें

 

बॉलीवुड

 
 

जीवन मंत्र

 
 

स्पोर्ट्स

 

बिज़नेस

 

जोक्स

 

पसंदीदा खबरें