अन्य
Home >> Abhivyakti >> Hamare Columnists >> Others
  • कर दरों से ज्यादा छेड़छाड़ न हो
    अब तक तो वित्त मंत्रालय में बजट की कवायद पूरी होने ही वाली होगी, इसलिए बजट पर वित्त मंत्रालय को कोई सलाह देने में कुछ देर हो चुकी है। फिर भी आगामी बजट को लेकर मैं अपने विचार रख रहा हूं। पांच वर्ष के लिए चुनी हुई सरकार को पांच नियमित बजट पेश करने का मौका मिलता है। एनडीए सरकार पहले ही दो नियमित बजट पेश कर चुकी है। यदि हम यह बात ध्यान में रखें कि पांचवां बजट चुनाव के ठीक एक वर्ष पहले पेश किया जाएगा, तो कह सकते हैं कि उससे कोई मूलगामी परिवर्तन लाने की अपेक्षा नहीं रखी जा सकती। ऐसे में तीसरा बजट इस सरकार के...
    04:40 AM
  • हिंदुत्ववादियों को फ्रांसीसी सबक
    फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांस्वा अोलांद ने यात्रा पर आए ईरानी राष्ट्रपति रूहानी की मांग के आगे झुकने की बजाय अाधिकारिक लंच ही रद्द कर दिया। ईरानी मेहमान ने उनसे अनुरोध किया था कि टेबल पर वाइन नहीं होनी चाहिए। इस खबर की भारत में कोई गर्मागर्म चर्चा नहीं हुई, जबकि एक छोटी-सी बात पर लंच रद्द करना बहुत बड़ा निर्णय कहा जा सकता है। वैसे भी हमारा संविधान वांछनीय सामाजिक नीति के रूप में शराब बंदी का आग्रह करता है और राष्ट्रपति ओलांद को राष्ट्रपति भवन में भारतीय राष्ट्रपति के साथ मुलाकात में दो बार...
    February 9, 03:15 AM
  • टिकाऊ पर्यावरण में भारत से बढ़कर कोई नहीं
    गुजरात के भोड़ासा में नई स्कूल बिल्डिंग बना रहे थे। मैं पहाड़ी आदमी हूं, उत्तराखंड में। मुझे हरियाली की आदत है तो मैंने ट्रस्टीज को कहा कि क्या हम ग्रीन बिल्डिंग बना सकते हैं। उन्होंने पूछा कि इसका क्या मतलब है तो मैंने कहा कि यदि इमारत में प्रकृति के नियमों का पालन करें तो ऐसी इमारत ग्रीन कहलाती है। उनकी रजामंदी के बाद मैंने आर्किटेक्ट को मेरा विचार समझाया। उसने इमारत को गोलाकार बना दिया ताकि हर कक्षा में हवा का प्रवाह अच्छा रहे। इस विचार ने विराट रूप धारण कर लिया। हमारे लिए ग्रीन यानी...
    February 8, 03:56 AM
  • अब नौकरियां पैदा करने पर ध्यान दें
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए यह करो या मरो जैसा वर्ष है। यदि 2016 में आर्थिक वृद्धि महत्वपूर्ण तरीके से नहीं बढ़ती और थोक में नौकरियां पैदा नहीं होतीं, तो हम अच्छे दिन भूल ही जाएं यही बेहतर होगा। रोजगार पैदा करने और गरीब देश को धनी बनाने का आदर्श नुस्खा तो श्रम-बल वाले, निम्न टेक्नोलॉजी के थोक उत्पादन का निर्यात है। इसी ने पूर्वी एशिया, चीन और दक्षिण-पूर्वी एशिया को मध्यवर्गीय समाजों में बदला। पिछले 60 वर्षों में भारत मैन्यूफैक्चरिंग की बस में सवार होने से चूकता रहा है और आज वैश्विक प्रति...
    February 3, 04:05 AM
  • चुनौती से भीतर दौड़ने लगती है बिजली
    दिल और दिमाग के दरवाजे खुले रखना ही रचनात्मकता की कुंजी है। उम्र बढ़ती है तो कहा जाता है कि सठिया गया है। मतलब यह है कि उस व्यक्ति ने दिल या दिमाग के दरवाजे बंद कर दिए हैं। अगर दरवाजे खुले रखें तो ताजा हवा आ सकती है। जब मैं 7-8 साल का था तब मेरे दोस्त 25-30 साल के थे। मुझे उन लोगों से मार्गदर्शन मिलता रहा। अब उम्र के इस पड़ाव पर मेरे दोस्त 20 की उम्र के हैं। उनसे ताज़गी मिलती है। कोई पूछता है कि आबिद भाई आपकी उम्र क्या है तो मैं कहता हूं, उम्र 20 साल है, लेकिन तजुर्बा 60 साल का है। मेरे बड़े दोस्तों में एक जैन मुनि...
    February 1, 04:44 AM
  • सरकारों का फैसला राजभवन में न हो
    अरुणाचल प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने के विरुद्ध याचिका पर, राज्यपाल की रिपोर्ट मांगने के साथ सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को 29 जनवरी तक जवाब दाखिल करने के लिए कहा है। मामले की अगली सुनवाई 1 फरवरी को होगी। अरुणाचल पूर्वोत्तर का सबसे शांत राज्य है, जहां अप्रैल 2014 में हुए चुनावों में कांग्रेस ने 60 में 42 सीटें जीतकर नबाम तुकी के नेतृत्व में सरकार बनाई थी। गत वर्ष 16 दिसंबर को कांग्रेस के 21 बागी विधायकों ने भाजपा तथा निर्दलीय विधायकों के सहयोग से निजी सामुदायिक भवन में बैठक करके उसे विधानसभा सत्र...
    January 28, 09:06 AM
  • जितनी बार गिरें, उतनी बार खड़े होना चाहिए
    मैं राज कपूर, मनमोहन देसाई, यश चोपड़ा जैसे निर्माता-निर्देशकों की फिल्में देखकर ही बड़ा हुआ हूं। पला-बढ़ा हिंदी फिल्मों के सितारों और निर्देशकों के बीच, लेकिन मैंने जब सोचा की मुझे फिल्मों में आना है तो मदद करने वाला कोई नहीं था। आज जब पीछे मुड़कर देखता हूं तो लगता है अच्छा ही हुआ कि किसी ने मदद नहीं की। मेरे पिता या मामाजी (ख्यात अभिनेता जितेन्द्र ) फिल्म इंडस्ट्री में हैं तो उनके लिहाज से एक आध मौका मुझे मिल जाता, लेकिन अपने पैरों पर तो नहीं खड़ा हो पाता। शुरुआत में मदद पाने वाले अगर आगे चलकर असफल हो...
    January 25, 04:26 AM
  • जीएसटी पर कांग्रेस की शर्तें न मानें
    राहुल गांधी ने हाल ही में कहा कि यदि सरकार ने कांग्रेस की शर्ते मान लीं तो जीएसटी (माल एवं सेवा कर) संविधान संशोधन विधेयक 15 मिनट में पारित हो जाएगा। उन्होंने भाजपा पर यह आरोप भी लगाया कि उसने यूपीए के सत्ता में रहते विधेयक को पारित होने देने में सात साल की देरी कर दी। काश! राहुल यह अजीब बयान देने से पहले तथ्यों की पुष्टि कर लेते, क्योंकि यह कहकर उन्होंने एक बार फिर खुद को उन लोगों के बीच मजाक का विषय बना लिया है, जो जीएसटी संबंधी सारे तथ्यों से वाकिफ हैं। जीएसटी से संबंधित संविधान (115वां संशोधन)...
    January 23, 05:05 AM
  • कॉल ड्रॉप से लूट पर लगाम कब?
    देश में 100 करोड़ से अधिक मोबाइल यूज़र द्वारा कॉल-ड्रॉप की अनदेखी मोबाइल कंपनियों के हजारों करोड़ की गैर-कानूनी आमदनी के महासागर को भर रहीं हैं। टेलीकॉम सेक्टर देश में सबसे बड़ा संगठित नेटवर्क है, जहां पिछले साल 4.5 लाख करोड़ मिनट की बातचीत से मोबाइल कंपनियों को 2.5 लाख करोड़ रुपए की आमदनी हुई, जो भारत की जीडीपी का 6 फीसदी है। मोबाइल से दो लोगों द्वारा की जाने वाली बात जब मोबाइल नेटवर्क में कमी की वजह से अचानक कट जाए तो तकनीकी भाषा में उसे कॉल ड्रॉप कहते हैं। ट्राई के अनुसार देश में रोजाना 2 करोड़ से...
    January 20, 03:50 AM
  • पॉजिटिव मतलब हमेशा कुछ नया जोड़ना
    नो निगेटिव अंक के एक साल पूरे होने पर यह लेख उन्होंने दैनिक भास्कर के लिए विशेष रूप से लिखा है। बैडमिंटन में मेरा प्रवेश बड़ा मजेदार रहा। मेरी मां जरूर क्लब के लिए बैडमिंटन खेलती थीं, वरना परिवार का कोई और सदस्य बैडमिंटन से अच्छी तरह वाकिफ नहीं था। मेरे माता-पिता ने मुझे बैडमिंटन में डालते हुए सोचा कि चलो इसकी बोरियत दूर होगी। बात यह हुई कि हम 1998 में हरियाणा से सीधे हैदराबाद शिफ्ट हुए थे और मेरे लिए यह बिल्कुल अलग ही परिवेश था। शुरुआत में तालमेल बिठाने में तो किसी को भी थोड़ी कठिनाई आती है। ऐसे...
    January 18, 04:56 AM
  • पाक से पहल का उद्‌देश्य स्पष्ट करें
    क्रिसमस के दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अचानक पाकिस्तान यात्रा ने भारतीय नेता की तूफानी दौरों वाली वैश्विक कूटनीति को सुर्खियां बटोरने वाला अंत दिया। इससे सवाल खड़ा हुआ कि खराब इतिहास वाले दो परमाणु शस्त्रों से लैस पड़ोसियों के अशांत रिश्ते भविष्य में क्या दिशा लेंगे। जिन लोगों को उम्मीद थी कि इस यात्रा से भारत-पाकिस्तान संबंधों में नाटकीय परिवर्तन आएगा, वे भी जानते थे कि सीमा पार से भारत में किसी आतंकी हमले से माहौल आसानी से खराब हो सकता है। ऐसा हमला क्रिसमस की खुशफहमी के एक हफ्ते बाद ही...
    January 15, 06:11 AM
  • सपनों को हकीकत में बदलने का विज्ञान
    सपने देखो, खूब-खूब और बड़े-बड़े सपने देखो, का आह्वान निःसंदेह सुनने में बहुत रोमांचक और उत्तेजक लगता है, लेकिन भगवद् गीता जैसे कर्मवादी ग्रंथ के होते हुए भी जहां देश की सामूहिक चेतना आज भी भाग्य एवं पूर्वजन्म के फल के मूलभूत सिद्धांत से संचालित हो रही हो, वहां इस तरह के आह्वान के खतरे भी कम नहीं रहते। भारतीय समाज; खासकर युवा वर्ग के अवचेतन में आज जो अनावश्यक बेचैनी महसूस करने की प्रवृत्ति घर कर गई है, उसका एक बड़ा कारण यह भी है। शायद इसी तथ्य को ध्यान में रखकर अब आईआईटी और आईआईएम जैसी शीर्ष तकनीकी एवं...
    January 11, 04:54 AM
  • कश्मीर मॉडल से पंजाब को सुरक्षा दें
    जब से नया वर्ष शुरू हुआ है, कई बातें लोगों को परेशान कर रही हैं। इसका संबंध पठानकोट वायु ठिकाने पर हुई घटनाएं हैं। दिसंबर 2015 में राजनीतिक क्षेत्र में हुई घटनाओं से उत्साह पैदा हुआ और भारत-पाक के बीच शांति की दिशा में परस्पर प्रयासों की उम्मीद बंधी थी। अब न सिर्फ उत्साह खत्म हो गया है बल्कि पाकिस्तान से सोशल मीडिया फीड और सरकार से कोई सकारात्मक संकेत नहीं मिल रहे हैं। हमले को लेकर कई दृष्टिकोण व्यक्त किए गए हैं। क्रमश: सारे ब्योरे सामने अा जाएंगे। अाइए, आतंकवाद विरोधी अभियान के कुछ पहलुओं और घटना...
    January 9, 04:26 AM
  • बैंकों को संभालें तो सुधरेगी इकोनॉमी
    भारत में बैंक खासतौर पर सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की हालत अच्छी नहीं है। इसका विस्तृत ब्योरा हाल ही में भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी ताज़ा वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट में दिया है। इस रिपोर्ट के कुछ तथ्य हमें आगाह करते हैं। हमें मालूम है कि भारतीय व्यवस्था पिछले कुछ वर्षों से अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रही है। चूंकि बैंक अर्थव्यवस्था में सहायक भूमिका निभाते हैं, इसलिए खराब होती अर्थव्यवस्था के विपरीत प्रभाव बैंकिंग क्षेत्र की सेहत पर पड़ना अपरिहार्य है। मेडिकल जगत से उदाहरण लेकर इसे समझाएं तो...
    January 7, 04:34 AM
  • खामोश करने वाली अनूठी बेबाकी
    आज अभिनेता और भाजपा नेता शत्रुघ्न सिन्हा अपनी बेबाक आत्मकथा एनीथिंग बट खामोश के विमोचन के साथ दिल्ली में खलबली मचा देंगे। संभव है राजनीति में तूफान आ जाए। मुझे तब कुछ अचरज हुआ जब उन्होंने मुझे इसकी प्रस्तावना लिखने के लिए आमंत्रित किया। उनके आग्रह पर मेरे पास उनकी शख्सियत के बारे में कहने के लिए बहुत-कुछ था: पूरी दुुनिया ही एक रंगमंच है और सारे स्त्री-पुरुष इसके खिलाड़ी हैं, अभिनेता, अभिनेत्रियां हैं और फिर भी जब नायक आता है, हीरो आता है तो रंगमंच उसके अभिनय को देखने के लिए मौन हो जाता है, कब...
    January 6, 04:39 AM
  • तैयारी है तो आधे रास्ते से वापस नहीं आएंगे
    एक वक्त होता है कि आप यह ढूंढ़ रहे होते हैं कि आप जिंदगी में करना क्या चाहते हैं। जब मेरी यह खोज चल रही थी तो मुझे अहसास हुआ कि मैं शायद लिखना चाहता हूं। यह वह किशोर उम्र का दौर था जब आप जवानी में कदम रखते हैं और एक ही मोहल्ले में आपको पांच-सात जगह मोहब्बत हो जाती है। फिर आप सोचते हैं कि किस तरह और कैसे मैं कुछ बनूं, तो जिंदगी कुछ इस तरह से शुरू हुई। 10वीं की परीक्षा के बाद छुटि्टयों में ऑल इंडिया रेडियो पर आबशार कार्यक्रम आता था, जिसमें गज़ले, नज्में बहुत चलती थीं और मैं बहुत सुना करता था, काफी मुतासिर भी...
    January 4, 04:04 AM
  • लाहौर पड़ाव से निकली उदारता
    प्रधानमंत्री प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काबुल से दिल्ली लौटते समय लाहौर उतरकर, जो भौंचक राजनय खेला है, वह कम से कम भाजपा का हिंदुत्ववादी राष्ट्रवाद तो नहीं है। उसमें लालकृष्ण आडवाणी की तरह जिन्ना को सेक्यूलर बताने वाला राष्ट्रवाद भले न हो, लेकिन उसमें जिन्ना की स्मृतियों को स्पर्श करने वाली प्रतीकात्मकता है। अगर ऐसा न होता तो वे लाहौर उतरने के लिए जिन्ना की सालगिरह को न चुनते। यह अलग संयोग है कि यह तिथि नवाज शरीफ के जन्मदिन के साथ साथ अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन से भी मैच करती है, इसलिए...
    December 31, 02:54 AM
  • सीबीआई को आज़ादी दें, बचाएं कीर्ति
    संदर्भ- दिल्ली क्रिकेट संघ में भ्रष्टाचार के आरोप और निष्पक्ष जांच का सवाल​ - कीर्ति आज़ाद भी इस सवाल का जवाब नहीं दे पा रहे कि दो वर्षों तक उन्होंने एसएफआईओ के आदेश के विरुद्ध अपील क्यों नहीं की या हाईकोर्ट में उसे चुनौती क्यों नहीं दी? - हवाला कांड में लालकृष्ण आडवाणी की तरह डीडीसीए मामले में जेटली के पाक-साफ निकलने की भविष्यवाणी किए जाने से स्वतंत्र जांच पर सवाल खड़े हो गए हैं। - जेटली व्यक्तिगत तौर पर इस मामले में पाक-साफ हो सकते हैं पर डीडीसीए के 13 वर्षों तक अध्यक्ष बने रहने से क्या उनकी...
    December 29, 12:55 PM
  • फैसला साहसी, आगे सतर्कता जरूरी
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अचानक लाहौर जाकर हमारे उपमहाद्वीप और दुनिया को चकित कर दिया, यह कहने से इस पहल का पूरा महत्व सामने नहीं आ पाता। इससे अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन की 1969 की पिंग-पांग डिप्लोमेसी याद आती है, जो उन्होंने राष्ट्रपति बनने के छह माह के भीतर शुरू कर दी थी। वह भी रूपांतरकारी फैसला था, जो एकदम सही वक्त पर लिया गया था। इससे उसे वियतनाम में चल रहे विनाशकारी युद्ध पर विचार करने और अंतत: उससे बाहर आने का मौका मिला। चीन के साथ रिश्ते सुधारने की नींव भी रख दी गई। मोदी...
    December 29, 04:12 AM
  • नौका पर 276 दिनों में दुनिया का चक्कर
    पश्चिम के एेतिहासिक रिकॉर्ड बताते हैं कि दुनिया की सबसे शुरुआती सागरीय गतिविधियां ग्रीक, फीनिशियन और रोमनों के भू-मध्यसागरीय क्षेत्रों में हुई थीं। कहीं भी आपको प्राचीन भारतीयों की समुद्री यात्राओं के कौशल का जिक्र नहीं मिलता। यह तो राजनयिक व इतिहासकार सरदार केएम पनिक्कर थे, जिन्होंने 1945 में एक मोनोग्राफ में साबित किया कि स्थिर मानसूनी हवाओं के कारण मानव जाति की शुरुआती सागरीय गतिविधियां भू-मध्यसागर में नहीं बल्कि अरब सागर और बंगाल की खाड़ी में हुई थीं। पनिक्कर के मुताबिक मोहन-जो-दारो के...
    December 28, 04:26 AM