अन्य
Home >> Abhivyakti >> Hamare Columnists >> Others
  • जमीन के अलावा भी हैं चिंताएं
    लोकसभा में हाल ही में पास हुए भूमि अधिग्रहण बिल के प्रावधानों का विपक्षी पार्टियां अभी भी विरोध कर रही हैं। सरकार भी इसमें संशोधन के लिए इच्छुक दिख रही है। केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री राव वीरेंद्र सिंह के हालिया बयान से तो यही महसूस होता है। उन्होंने यह संकेत भी दिया है कि सरकार राज्यों से परामर्श लेगी और अधिग्रहण में गैर-कृषि या बंजर भूमि को वरीयता देगी। उन्होंने यह भी बताया कि सरकार केवल सार्वजनिक हित के कामों के लिए ही जमीन लेगी और अधिग्रहीत जमीन निजी कंपनियों और उद्योगपतियों को नहीं...
    04:23 AM
  • राष्ट्रपति-प्रधानमंत्री भारत लेकर उसके रत्नों के घर क्यों नहीं जाते?
    ऐसा क्यों है कि दादा साहब फाल्के अवाॅर्ड लेने के लिए तब तक इंतज़ार करना होता है जब तक आप व्हीलचेयर पर न आ जाएं।- न्यू मीडिया से। बहुत अच्छा है कि राष्ट्रपति ने अटल बिहारी वाजपेयी के आवास पर जाकर उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया। विश्व मंच पर मानवता की शक्ति पर सर्वमान्य भारतीय राजनेता के रूप में स्थापित अतुल्य अटल बिहारी वाजपेयी को सम्मानित कर हमने अपना ही सम्मान किया है। किन्तु बहुत बुरा है कि पं. मदनमोहन मालवीय के परिजन को उनका भारत रत्न प्राप्त करने राष्ट्रपति भवन जाना पड़ेगा। प्रश्न...
    March 28, 05:52 AM
  • मेक इन रूरल का अभियान भी चले
    प्रधानमंत्री की मेक इन इंडिया की पहल काफी अच्छी है। देश-दुनिया के निवेशकों को भारतीय उद्योगों में भागीदारी बढ़ाने की यह मंशा अच्छी कही जानी चाहिए। फिर आखिर ऐसा क्या है, जिसे हम अपने देश में निर्मित नहीं कर सकते। हर क्षेत्र में हमारे देश ने दुनिया में झंडे गाड़े ही हैं। अब मंगल ग्रह पर जाने की ही बात लीजिए। इस पहल ने दुनिया को भारत के विज्ञान-कुशल होने के दर्शन तो करा ही दिए हैं। देश को आत्मनिर्भर बनाने के अलावा इसकी अर्थव्यवस्था मजबूत करने के लिए मेक इन इंडिया आंदोलन जोरदार पहल है। किंतु नारे...
    March 27, 05:41 AM
  • इंटरनेट की आजादी का फैसला
    भारत में इंटरनेट की आजादी पर अपने पहले फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने आईटी अधिनियम की धारा 66ए को खारिज कर दिया, जिसमें आपत्तिजनक पोस्ट करने वाले को गिरफ्तार करने का अधिकार दिया गया था। कोर्ट ने कई पृष्ठों में दिए विस्तृत फैसले में कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी और उस पर लगी तर्कपूर्ण पाबंदियों का संतुलन यह धारा बिगाड़ती है। पढ़िए फैसले के प्रमुख अंश : संविधान के अनुच्छेद 32 के तहत दायर रिट याचिकाओं में कई महत्वपूर्ण और दूरगामी प्रश्न उठाए गए हैं। इनका प्राथमिक संबंध संविधान के अनुच्छेद 19 (1)(ए) के तहत...
    March 26, 10:37 AM
  • बिज़नेस आसान तो आएंगी नौकरियां
    देश ने नरेंद्र मोदी को महंगाई पर काबू पाने, भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने और नौकरियां वापस लाने के लिए चुना था। महंगाई काबू में आ गई है, पिछले दस माह में भ्रष्टाचार का कोई प्रकरण सामने नहीं आया है, लेकिन नौकरियां दूर-दूर तक नज़र नहीं आ रही हैं। मोदी का पूरा दारोमदार अपने मेक इन इंडिया कार्यक्रम से मैन्यूफैक्चरिंग को पुनर्जीवित कर हर माह अावश्यक दस लाख नई नौकरियां पैदा करने पर है। हालांकि, समस्या यह है कि मैन्यूफैक्चरिंग ने अब तक भारत को नीचा देखने पर मजबूर किया है। 1991 से ही भारत की आर्थिक वृद्धि...
    March 25, 05:27 AM
  • क्या रवि की मौत से हम सबक लेंगे?
    काफी अनिच्छा दिखाने के बाद कर्नाटक सरकार आखिर आईएएस अफसर डीके रवि की अस्वाभाविक मौत की सीबीआई से जांच कराने को राजी हुई है। उनकी मौत के पीछे निजी कारण भी बताए जा रहे हैं। सच तो जांच से ही उजागर होगा, लेकिन समय-समय पर मीडिया रिपोर्टों में अफसरों, घपलों-घोटालों की सूचना देने वाले व्हिसल ब्लोअर्स और सूचना के अधिकार के जरिये अलख जगाने वाले आरटीआई एक्टिविस्ट की हिंसक मौतों की खबरें पढ़ने को मिलती हैं। आरोप यही होता है कि भ्रष्ट व्यावसायिक हितों या माफिया गिरोहों ने अपनी करतूतें उजागर होने के भय से...
    March 24, 05:44 AM
  • जो दिल करे वह करना मुमकिन
    संदर्भ- बदलाव के चार पड़ाव से गुजरते भारत में खुलती संभावनाएं पुरानी पीढ़ी में आत्मविश्वास बहुत कम होता था। कही गोरे यानी श्वेत लोग आ गए तो हम बहुत झुक जाते थे या जबर्दस्ती की अकड़ दिखाते थे। यह अकड़ भी आत्मविश्वास की कमी ही दिखाती थी। जाति-व्यवस्था की जकड़न भी ढीली पड़ी है। यह हमारे देश की बहुत बड़ी खामी है। विदेशी हमारे ऊपर राज इसीलिए कर सके, क्योंकि जाति व्यवस्था के कारण हम बिखरे हुए थे। आज का भारत ऐसा हो गया है कि आप वह करो, जहां आपका दिल लगे। पहले ऐसा नहीं था। दिल कहीं लगा हुआ है, काम कोई और कर रहे...
    March 23, 04:00 PM
  • जितनी तेज़ी से स्पेक्ट्रम नीलामी में 1 लाख करोड़ कमाए,  वो तेज़ी हमें क्यों नहीं?
    एशिया में सबसे धीमी गति है हमारे इंटरनेट की। विश्व की सबसे तेज़ बढ़ती इकोनॉमी के लिए यह बड़ा खतरा बन सकता है। यह सुनने में विचित्र लगेगा। क्योंकि अर्थव्यवस्था तो मैदानोें से चलती है। खेतों से लहलहाती है। कल-कारखानों के पसीने से नहाकर निखरती है। सेवा करने वाले, परिश्रमी खुरदुरे हाथों से आकार लेती है। इंटरनेट की गति से खतरे जैसी क्या बात हो सकती है? आज देश की सबसे बड़ी उम्मीद मेक इन इंडिया है। और सबसे बड़ी योजना डिजिटल इंडिया। यह मात्र योजना नहीं है। करोड़ों नौजवानों का भविष्य है। क्योंकि 5 करोड़ नई...
    March 21, 06:01 AM
  • विश्व-आर्थिक दौड़ में मोदी मिशन
    लो कसभा ने अरुण जेटली की कांग्रेस नीत यूपीए सरकार की नुकीली चुटकियों के बावजूद वर्ष 2015-16 के आय-व्यय के ब्योरे पर अपनी मोहर जरूर लगा दी है, पर वास्तव में यहां भी समर्थ को नहीं दोष गुसाईं, वाली कहावत ही चरितार्थ होता प्रतीत होती है। विडम्बना यह है कि आय-व्यय के इस विहंगम जोड़-तोड़ में पहली बार एक औद्योगिक कर्मी और खेतिहर किसान को आमने-सामने खड़ा कर दिया गया है। किसान के बेटे के पास काम नहीं है, उसे जाॅब चाहिए। वह शहर की ओर भाग रहा है और बेरोजगार है। इसके विपरीत औद्योगिक क्षेत्र की स्थिति दयनीय होने के कारण...
    March 19, 04:54 AM
  • मसर्रत की रिहाई, सुरक्षा को चुनौती
    मुफ्ती मोहम्मद सईद की भाजपा समर्थित पीडीपी सरकार ने 7 मार्च को छुट्टी के दिन ताबड़तोड़ तरीके से अलगाववादी मसर्रत आलम को रिहा कर पूरे देश में राजनीतिक हलचल उत्पन्न कर दी है। उत्तरी कश्मीर की बारामूला जेल से हुई इस रिहाई पर संसद व उसके बाहर सभी राजनीतिक दलों ने तीव्र प्रतिक्रियाएं व्यक्त की हैं। भाजपा की स्थिति अत्यन्त दयनीय दिखाई दी और प्रारंभिक झटके के बाद उसने भी सईद को चेतावनी दे डाली। जवाब में पीडीपी सूत्रों ने कई अन्य पृथकतावादी तत्वों को रिहा करने की सूचना फैलाकर सनसनी पैदा कर दी।...
    March 17, 05:09 AM
  • कश्मीर की ऐसी आतंकी रुझान वाली सत्ता में आप बने हुए ही क्यों हैं?
    जिसको न निज भाषा तथा निज देश का अभिमान है। वह नर नहीं, नर पशु निरा है और मृतक समान है। - राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त गोधरा होए के अक्षरधाम, मिटािवशुं आतंकवाद नु नामोनिशान। ऐसा ही हर पोस्टर कहता था नरेंद्र मोदी का। बात 2002 के गुजरात चुनाव की है। हर भाषण, हर सभा में वे उग्र होकर आतंक को ललकारते। गुजरात जाकर मैंने वह चुनाव कवर किया था। कांग्रेस लड़खड़ाती थी। पूछती कि मोदी राज्य का चुनाव लड़ रहे हैं या राष्ट्र का? मोदी और कड़ा प्रहार करते। कहते- यदि मैं पािकस्तान और मियां मुशर्रफ का नाम लेता हूं तो...
    March 14, 07:03 AM
  • भू-अधिग्रहण से न रोजगार न तरक्की
    आने वाले दिनों में भूमि अधिग्रहण को लेकर लड़ाई और तेज होगी; संसद में और सड़कों पर भी। किसानों के विभिन्न संगठन 18 मार्च को जंतर-मंतर पर प्रदर्शन की तैयारी कर रहे हैं और उधर अन्ना हजारे 30 मार्च से पदयात्रा शुरू करने की योजना बना रहे हैं। सरकार खुद भी राज्यसभा में कड़ी चुनौती का सामना करने की तैयारी में लगी है, जहां उसका संख्याबल कमजोर है। लोकसभा ने भूमि अधिग्रहण विधेयक को 11 मामूली संशोधनों के साथ पारित कर दिया, जो 2013 के कानून में पहले से ही सामहित थे। ग्रामीण विकास मंत्री बीरेंद्रसिंह ने नए कानून के...
    March 13, 05:47 AM
  • नारी के खिलाफ अपराध कैसे रुके?
    महिला अधिकारों के लिए देश में पिछले दो वर्षों में नई रोशनी नजर आई है, जब निर्भया की शहादत ने पूरे राष्ट्र को उद्वेलित कर दिया था। दामिनी, गुड़िया और काजल पर अत्याचार के खिलाफ पूरा देश उठ खड़ा हुआ। एक दृश्य बहुत द्रवित करने वाला था। दिल्ली में आंदोलन के दौरान एक नन्ही बालिका के हाथों में मौजूद तख्ती पर लिखा था, नजर तेरी गंदी और परदा मैं करूं। मुझे लगा कि इस बालिका ने तख्ती के जरिये समूचे पुरुष समाज को आईना दिखाया है। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस हमने हाल में मनाया है और इस मौके पर उपलब्ध आंकड़े बताते...
    March 10, 07:08 AM
  • आप का संकट, राजनीति की उम्मीद
    आम आदमी पार्टी का विवाद उसके सत्ता में आने के एक महीने से भी कम समय में सामने आ गया और अभी खत्म हो गया है, यह कहना कुछ मुश्किल है। किंतु जो लोग इसे राजनीति में वैकल्पिक प्रयोग और नैतिकता की स्थापना के प्रयास की असफलता बता रहे हैं उनकी मंशा की तारीफ करते हुए भी यह कहना होगा कि अभी यह निष्कर्ष निकालने की जल्दबाजी करने की जरूरत नहीं है। आप एक अभिनव प्रयोग है और एक आंदोलन के पार्टी में बदलने व एक पार्टी के शासक दल के रूप में बदलने की जो कष्टप्रद प्रक्रिया है, यह उसी दौर से गुजर रही है। आंदोलन से लेकर...
    March 9, 06:47 AM
  • क्यों जरूरी है यही नहीं, सभी डॉक्यूमेंट्री दिखाना?
    कहने-सुनने-देखने-पढ़ने की स्वतंत्रता वास्तव में कोई नहीं देना चाहता। इसे तो छीनना ही पड़ता है। हां, छीनने की स्वतंत्रता तो कोई भी क्यों देगा! -अज्ञात फिर एक झूठी बहस। दिल्ली में हुई दरिंदगी पर डॉक्यूमेंट्री दिखाना सही है, या गलत? देखने वालों को तय करने दीजिए। कोई भी फिल्म, डॉक्यूमेंट्री, नाटक, किताब, समाचार, विचार राेक कैसे सकते हैं? कल तक तो पता था कि सरकार है। ताकत है। तरीके हैं। आज सब समान है। निराकार है। निराधार है। क्योंकि दिल्ली से लगी रोक लंदन क्यों मानेगा? बीबीसी ने जारी कर ही दी। करनी ही...
    March 6, 05:09 AM
  • कश्मीर में समझौता नहीं, समझदारी
    जम्मू-कश्मीर से जुड़े मुद्दों को लेकर आमतौर पर हम बहुत संवेदनशील होते हैं और ज्यादातर हमारा रवैया सनकभरा होता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि पिछले 25 वर्षों में देश के इस उत्तरी राज्य से हमें मुश्किल से ही मुस्कान लाने वाली कोई खबर मिली है। आंतरिक उथल-पुथल के इस दौर ने जम्मू-कश्मीर को अस्थिरता व हिंसा के बार-बार आने वाले दौर तक सीमित कर दिया है। राज्य के शासन में लोकतांत्रिक प्रभाव सुनिश्चत करने के हरसंभव प्रयास के बावजूद उस तक लोगों की पहुंच और शासन सवालों के घेरे में रहा है। सुरक्षा की स्थिति...
    March 3, 06:47 AM
  • बीजेपी नेता सिन्हा बोले- BUDGET से हुई निराशा, यह है 6 बड़े एक्सपर्ट्स की राय
    नई दिल्ली:अरुण जेटली ने शनिवार को एनडीए सरकार का पहला पूर्ण बजट पेश किया। जानकार मानते हैं कि बजट में आम आदमी के लिए कुछ भी खास नहीं है, हालांकि सरकार ने गरीबों के करीब दिखने की कोशिश की है। इसके अलावा, कॉरपोरेट को भी राहत देने की कोशिश की गई है। बजट पर राजनीतिक दलों से लेकर एक्सपर्ट्स तक की राय बंटी हुई है। फायनेंस और अर्थव्यवस्था से जुड़े छह एक्सपर्ट्स ने अपनी राय हमसे शेयर की है। पढ़ें... यशवंत सिन्हा (पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी नेता) भारत जैसे देश में बजट बनाना जटिल प्रक्रिया होती है, इसलिए...
    March 1, 01:25 PM
  • मोदी सरकार का बजट: आसान कारोबार, बढ़ेंगे रोजगार
    नरेंद्र मोदी सरकार का बजट पूरी तरह से इंफ्रास्ट्रक्चर, मैन्यूफैक्चरिंग और स्वरोजगार पर केंद्रित है। मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने के लिए कारोबार शुरू करने से बंद करने तक की प्रक्रिया आसान होगी। इसके लिए देसी-विदेशी निवेश बढ़ाने के लिए कई उपाय किए हैं। खासकर विदेशी निवेश को और सरल बनाया है। मैन्यूफेक्चरिंग में निवेश बढ़ने से रोजगार के साधन भी बढ़ेंगे। स्वरोजगार पर जोर छोटे उद्योगों को मदद घोषणा: मुद्रा बैंक बनेगा। एससी/एसटी उद्यमियों को प्राथमिकता देंगे। असर: देश में इस समय 5.77 करोड़ छोटे...
    March 1, 07:57 AM
  • मोदी सरकार का बजट: छूट से तीन गुना तो वसूल लेंगे
    सरकार ने बजट में खूब छूट देने का दावा किया। खुद ही बताया कि करीब साढ़े तीन करोड़ इनकम टैक्सपेयर्स को 8315 करोड़ रुपए की छूट दी है। एवज में 125 करोड़ लोगों से इनडायरेक्ट टैक्स के जरिए 23,383 करोड़ रुपए वसूलेगी। यानी जितनी छूट दी उससे करीब तीन गुना तो वसूल लेंगे। हालांकि सरकार ने 4 नए टैक्स फ्री फंड ऑप्शंस पेश किए। कालाधन रोकने पर ये 3 प्रस्ताव इसी सत्र में दो बिल लाएंगे कानून बना तो विदेश में कालाधन आय या संपत्ति की जानकारी नहीं दी या टैक्स चोरी की तो 10 साल तक की जेल होगी। - आरोपी अपील और समझौता आयोग में भी...
    March 1, 07:57 AM
  • मोदी सरकार का बजट: क्या यह बजट मुझे बेहतर क्वालिटी ऑफ लाइफ देगा
    क्वालिटी ऑफ लाइफ। बजट की हमारी थीम। यही सबकी उम्मीद। मेक इन इंडिया मोदी की थीम। हम जो बजट से चाहते हैं वह तो यही, कि क्या यह बजट मेरे, मेरे परिवार के जीवन को बेहतर बनाएगा? स्तर ऊंचा उठाएगा? किसी भी बजट का उद्देश्य यही-जीवन बेहतर बनाना ही होना चाहिए। सालों बाद मोदी सरकार के पास इसका मौका भी था। क्योंकि आज पूरा माहौल पक्ष में है। क्या यह बजट हमे क्वालिटी ऑफ लाइफ दे पाएगा? बजट के इस विशेष कवरेज में भास्कर इसी सवाल का जवाब ढूंढ़ने की कोशिश कर रहा है। सर्विस टैक्स में डेढ़ से दो फीसदी बढ़ोतरी से...
    March 1, 06:16 AM
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें