वेद प्रताप वैदिक

Home >> Abhivyakti >> Hamare Columnists >> Ved Pratap Vaidik
  • अराजकता पर्व में जनता के धैर्य की परीक्षा
    नोटबंदी ने आम लोगों को जैसी मुसीबत में डाला है, वैसी मुसीबत तो भारत के लोगों ने न तो युद्धों के समय देखी और न ही आपातकाल के दौरान! इंदिरा गांधी के आपातकाल के मुकाबले नरेंद्र मोदी का आफतकाल लोगों के लिए ज्यादा प्राणलेवा सिद्ध हो रहा है, लेकिन क्या वजह है कि देश में बगावत का माहौल बिल्कुल नहीं है? लोग दिन-रात लाइनों में खड़े हैं, खड़े-खड़े दम तोड़ रहे हैं, किसानों की खेती चौपट हो रही है, मजदूर हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं, दुकानदार मंदी के शिकार हो रहे हैं, कर्मचारियों को तनख्वाह तक नहीं मिल पा रही है, शादियां मातम...
    December 2, 07:36 AM
  • भोपाल की मुठभेड़: खोखले तर्कों के तीर
    भोपाल की जेल से भागने वाले आतंकियों को मारकर मध्यप्रदेश पुलिस ने अनुकरणीय काम किया है। उसने भावी भगोड़ों की हड्डियों में कंपकंपी दौड़ा दी होगी। यदि सरकार जेलों के दरवाजे खोल भी दे तो भी आतंकी भागना पसंद नहीं करेंगे। वे मरने की बजाय जेल में मुफ्त की रोटियां तोड़ना ज्यादा पसंद करेंगे। 2013 में खंडवा जेल से भागे आतंकी देश के विभिन्न इलाकों से पकड़े गए थे। खंडवा जेल के उन्हीं आतंकियों ने भोपाल जेल के साथियों को दूसरे खंडवा के लिए उकसाया होगा। साजिश काफी तगड़ी थी। सबसे पहले सीसीटीवी के कैमरे के तार...
    November 5, 04:50 AM
  • हिंदुत्व नहीं, थोक वोट पर बहस की जाए
    आजकल सर्वोच्च न्यायालय इस मुद्दे पर विचार कर रहा है कि राजनीति में धर्म का इस्तेमाल किया जाए या नहीं? 20 साल पहले इसी अदालत का दिया गया वह निर्णय भी बहस का मुद्दा है कि हिंदू धर्म, धर्म नहीं है। वह जीवन-पद्धति है? क्या हिंदुत्व को धर्म या मज़हब या रिलीजन कहा जा सकता है? जाहिर है कि यह मुद्दा इतना उलझा हुआ है कि इस पर एक राय नहीं हो सकती। यदि अदालत कोई दो-टूक फैसला सुना देगी तो भी लोग उसे मानेंगे या नहीं, कुछ पता नहीं। आखिरकार, संसद को ही इस मसले पर कानून बनाना पड़ेगा। पिछले 20 साल से संसद इस मुद्दे पर मौन है।...
    October 22, 03:46 AM
  • गोवा में भारत के सपनों का ब्रिक्स बने
    हर सदस्य-देश के नाम का पहला अक्षर जोड़कर ब्रिक्स बना है। ब्राजील, रशिया, इंडिया, चाइना और साउथ अफ्रीका। अंग्रेजी में ब्रिक्स का अर्थ हुआ- ईंटें। पश्चिमी जगत की आक्रामक अर्थ-नीतियों के विरुद्ध ईंटों की दीवार खड़ी करना ही ब्रिक्स का मुख्य लक्ष्य है। पांच देशों के इस संगठन का आठवां सम्मेलन अब गोवा में हो रहा है, भारत की अध्यक्षता में। पहले इसमें सिर्फ चार देश थे। साउथ अफ्रीका बाद में जुड़ा। ब्रिक का पहला सम्मेलन 2009 में रूस में हुआ। दक्षिण अफ्रीका 2011 में इसका पांचवां सदस्य बन गया। यह संगठन काफी मजबूत...
    October 15, 05:51 AM
  • सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत जरूरी क्यों हैं?
    भारत और पाकिस्तान के बीच आजकल जो चल रहा है, वह अजूबा है। यह अंतरराष्ट्रीय राजनीति के इतिहास में एक विलक्षण प्रहसन के तौर पर जाना जाएगा। मुठभेड़ तो हुई है दो देशों के बीच, लेकिन दंगल उनके बीच नहीं, उनके अंदर चल रहा है। भारत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरोधी हाथ धोकर उनके पीछे पड़ गए हैं। वे कह रहे हैं कि भारत ने यदि नियंत्रण-रेखा के पार शल्य-चिकित्सा (सर्जिकल स्ट्राइक) की है तो सरकार कोई प्रमाण क्यों नहीं देती? दूसरे शब्दों में सरकार प्रचार में तो मेधावी है, लेकिन प्रमाण में मंदबुद्धि क्यों है?...
    October 8, 04:26 AM
  • भारत ईंट का जवाब पत्थर से क्यों न दे?
    उड़ी में हुए आतंकी हमले का मुंहतोड़ जवाब चाहे भारत सरकार न दे सकी हो, लेकिन कूटनीतिक दृष्टि से पाकिस्तान सारी दुनिया में बदनाम हो गया है। पाक प्रधानमंत्री नवाज शरीफ इस बार संयुक्त राष्ट्र यह सोचकर गए थे कि कश्मीर में चल रहे कोहराम को जमकर भुनाएंगे। भारत को बदनाम करेंगे और कश्मीर को अंतरराष्ट्रीय मुद्दा बना देंगे, लेकिन लेने के देने पड़ गए। उड़ी ने पाकिस्तान की सारी चौपड़ को हवा में उड़ा दिया। मियां नवाज़ के हर तर्क का जवाब भारतीय प्रवक्ताओं ने जमकर तो दिया ही, सबसे मजेदार बात यह हुई कि जिस भी विदेशी...
    September 24, 04:53 AM
  • कश्मीर पर अब खुलेगा शिवजी का त्रिनेत्र
    कश्मीर के घायल नौजवानों के प्रति हमदर्दी जताने के लिए केंद्र सरकार ने क्या-क्या नहीं किया? प्रधानमंत्री अौर गृह मंत्री ने उन्हें हमारे बच्चे तक कहा। उनके कंधों पर मधुर बयानों का मरहम भी लगाया। खुद गृहमंत्री कश्मीर भी गए। बाद में सभी राजनीतिक दलों का प्रतिनिधिमंडल भी गया। घायल नौजवानों के इलाज का भी इंतजाम किया। प्रदर्शनकारियों पर छर्रों का इस्तेमाल भी बंद किया गया। गृहमंत्री पहले हुर्रियत से बात करने को राजी नहीं थे। फिर राजी भी हो गए, लेकिन दो माह से चल रही मशक्कत का नतीजा क्या निकला? सिर्फ...
    September 10, 03:25 AM
  • अब भारत-पाक का प्रचार दंगल बंद हो
    पिछले पंद्रह दिनों से कश्मीर और बलूचिस्तान पर जैसी राजनीितक उठापटक चल रही है, वैसी पहले कम ही चली है। कश्मीर पर भारत और पाकिस्तान के बीच नोंक-झोंक तो हो ही रही है, भारत के अंदर भी नए-नए रुझान सामने आ रहे हैं। हमारी विदेश नीति और गृह नीति में काफी उथल-पुथल नज़र आ रही है। यदि हम प्रधानमंत्री, गृहमंत्री और वित्त मंत्री के बयानों पर ध्यान दें तो लगता है कि जैसे कोई शिशु-दौड़ चल रही है। लड़खड़ाहट बनी हुई है। कभी गिर रहे हैं, कभी उठ रहे हैं। फिर संभल रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कश्मीर पर अटलबिहारी...
    August 27, 04:08 AM
  • दोनों कश्मीर पुल बनें, बात हो तो सबसे हो
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 32 दिन बाद अपना मौन तोड़ा और अटलजी के पुराने नारे की शरण ली। कहा कि कश्मीर का मामला हल जरूर होगा, इंसानियत, जम्हूरियत और कश्मीरियत के दायरे में रहकर, लेकिन आज कोई नहीं जानता कि कश्मीर की जनता को संतुष्ट करने का गुरुमंत्र क्या है? भारत की संसद में कश्मीर पर जो बहस हुई, उससे साफ जाहिर होता है कि भारत के लोग कश्मीरियों को विदेशी, अजनबी या देशद्रोही नहीं समझते। वे कश्मीरियों के दुख में दुखी हैं। पाकिस्तान के लिए कश्मीर की खूंरेजी राजनीतिक मुद्दा, कूटनीतिक मौका तथा...
    August 13, 04:31 AM