Home » Jharkhand » Ranchi » News » 100 किमी तक जाम, 20000 गाडिय़ां फंसीं

100 किमी तक जाम, 20000 गाडिय़ां फंसीं

Animesh Nachiketa | Sep 13, 2013, 13:24PM IST

रांची/घाटशिला। जमशेदपुर से बहरागोड़ा तक एनएच-33 के जाम होने के कारण 20 हजार से ज्यादा वाहन बुधवार से शुक्रवार दोपहर तक टस से मस नहीं हुए हैं। जाम में रांची-हावड़ा रूट की कई बसें भी फंसी रहीं। नक्सल प्रभावित इस इलाके में यात्रियों ने भगवान का नाम लेकर पूरी रात सड़कों पर बिताया।अनुमंडल प्रशासन दिन भर तामुकपाल के निकट सड़क पर बने बड़े-बड़े गड्ढों को भराने में जुटा रहा, लेकिन जब-जब लगा कि जाम खत्म हो जाएगा, तब-तब बारिश ने स्थिति और भी खराब कर दी। बारिश के कारण गड्ढों में डाली गई मिट्टी दलदल बन गई और वाहनों के फंसने का सिसिला जारी रहा। जाम में आम से खास तक फंसे रहे।


दूसरे रास्ते से जाना पड़ा मंत्री और विधायक को


परिवहन एवं कल्याण मंत्री चंपई सोरेन और क्षेत्र के दो विधायकों को इसी रास्ते से केरूकोचा जाना था। वहां उन्हें साबुआ हांसदा के शहादत दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में भाग लेना था। इसके लिए पूरा घाटशिला प्रशासन जुटा हुआ था। तामुकपाल के निकट एनएच 33 पर बने गड्ढा भरने के लिए सुबह से ही डीसीएलआर शंकर यादव लगे रहे। गड्ढे में फंसे वाहन को हटाने में करीब 4 घंटा लगा। जेसीबी से उस जगह समतल करने की प्रक्रिया चलती रही। बीच-बीच में डीसीएलआर मंत्री जी के पीए को जाम की स्थिति से फोन पर अवगत करा रहे। एसडीओ अमित कुमार भी मौके पर पहुंचे और काम में गति लाने का निर्देश दिया।इसके बाद स्थिति जस की तस थी।परिणामस्वरूप जाम की स्थिति ज्यों की त्यों बनी रही। बाद में मंत्री सहित विधायकों के काफिले को सोनाखून के कच्चे रास्ते से केरूकोचा तक जाना पड़ा।


बुधवार देर रात से जाम में फसे वाहन चालक एवं कोच बसों के यात्री भूखे प्यासे जाम हटने का इंतजार करते रहे। आगे की स्लाईड्स पर - 

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
1 + 7

 
विज्ञापन
 
Ethical voting

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

बिज़नेस

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment