Home » Bihar » News » Cold Claimed 20 Dead In 72 Hours In Rohtas Bihar

बिहार लाइवः ठंड ने ली 72 घंटे में 20 लोगों की जान, एक जिले की है दास्तां

Bhaskar News | Jan 09, 2013, 12:30PM IST
सासाराम। कहर बरपा रही ठंड ने रोहतास जिले में 72 घंटों के  अंदर 20 लोगों की जान ले ली है। प्रशासन ठंड से मरने वालों की संख्या पांच बता रहा है। सैकड़ों लोग ठंड मारने से बीमार होकर विभिन्न अस्पतालों में ईलाज करा रहे  हैं। रोहतास जिला में तापमान का पारा चार डिग्री से नीचे चला गया है। ठंड के इस कहर से पूरे जिले में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। प्रखंड वार मिले  आंकड़ों के अनुसार अब तक सर्वाधिक पांच लोग करगहर प्रखंड में ठंड के कारण मरे हैं। जबकि सदर प्रखंड सासाराम में तीन, नोखा में तीन, नौहट्टा में तीन, काराकाट में दो, रोहतास में दो, चेनारी में एक व्यक्ति की मौत हुई है। कैमूर पहाड़ी के उपर तापमान चार डिग्री के नीचे है।
 
 
मैदानी इलाके में यह छह डिग्री के आसपास डोल रहा है। वैसे तो प्रशासनिक  आदेशों के अनुसार जिले के सभी स्कूल बंद हो गए हैं। परंतु अभी भी चौक-चौराहों पर अलाव की व्यवस्था देखने की नहीं मिली। इन हालातों में रात को खुले आसमान के नीचे गरीब तबके के कई परिवार या तो टायर और कागज जलाकर जीने को विवश है या फिर झोपड़ियों में हाथ-पांव समेटकर सुबह होने का इंतजार करते हैं। पिछले एक सप्ताह से जिल में लगातार कहर बरपा रही ठंड से अभी भी निजात मिलता नहीं दिख रहा। जिला जनसंपर्क पदाधिकारी रविभूषण सहाय ने बताया कि अलाव जलाने के लिए सभी प्रखंड पदाधिकारियों को जिला प्रशासन ने  आदेश निर्गत कर दिया है। उम्मीद है कि मौसम का मिजाज भांपकर विद्यालयों को और भी बंद किया जायेगा। फिलहाल ठंड का कहर जारी है। 
 
 
धान की खरीद नहीं होने से किसानों में आक्रोश
 
आरा। दो महीने में राज्य सरकार भोजपुर जिले के किसानों से मात्र 400 क्विंटल धान की खरीद की है। जबकि जिले में धान खरीद का लक्ष्य एक लाख एक हजार क्विंटल है। सरकारी अफसरों की लापरवाही या सरकार के गलतनीतियों से तंग आकर जिले के किसान अपने धान को औने-पौने दाम पर बिचौलियों के हाथों बेच रहे है। किसानों के इस मुद्दे को लेकर माले 21 जनवरी को अनुमंडल मुख्यालय पर किसानों के साथ मिल कर उग्र प्रदर्शन करने का ऐलान कर दिया है। माले पूर्व विधायक सुदामा प्रसाद ने बताया कि सात नम्बर को राज्य सरकर ने राज्य भर के किसानों से 30 लाख मैट्रिक टन धान खरीदने का लक्ष्य रखा है। वहीं भोजपुर जिले में एक लाख एक हजार क्विंटल धान खरीदने का लक्ष्य रखा गया है। सरकार ने नियम बना रखा है कि जिनका म्युटेशन होगा उसी किसान का धान सरकार खरीदेगा। वहीं बटाईदारों के धानों का खरीद तबतक नहीं किया जायेगा जबतक किसान अपना दस्तावेज उपलब्ध नहीं करायेंगें है।  इसी नियम को खत्म कर, पंजाब की तरह सभी किसानों के धान को बिना कागज के खरीद करने संबंधी मांग को लेकर माले 21 जनवरी को अनुमंडल मुख्यालय पर उग्रप्रदर्शन करेगा। वहीं सरकारी दुकानों द्वारा किसानों के धान नहीं खरीदे जाने नाराज राजद विधायक भाई दिनेश ने जिले के किसानों के साथ मिलकर 15 जनवरी से जिले के हर प्रखंड मुख्यालय पर चरणबद्ध प्रदर्शन करने का ऐलान कर दिया है।
 
 
बिजली की कमी पर भड़के उपभोक्ताओं 
 
सासाराम। रोहतास जिला में लगातार बाधित रहने वाली बिजली को लेकर उपभोक्ताओं में जगह-जगह आक्रोश है। मंगलवार को जिला मुख्यालय से लेकर बिक्रमगंज अनुमण्डल मुख्यालय तक दिनभर आंदोलन चलता रहा। आंदोलन में सासाराम के समीप उपभोक्ताओं ने सड़क पर नाला रखकर टायर  जलाते हुए यातायात ठप किया। वहीं बिक्रमगंज में एसडीओ और जेई को बंधक बना लिया।  सासाराम के तकिया मुहल्ला में आक्रोशित उपभोक्ताआंे ने सासाराम-चौसा पथ को जाम कर यातायात अवरूद्ध कर दिया। सड़क जाम करने वालों में सासाराम नगर पर्षद के उपाध्यक्ष सहित कई जनप्रतिनिधि शामिल थे। लगभग दो घंटे तक सड़क जाम के बाद वहां पहुंचे प्रशासनिक अधिकारियों और विभागीय पदाधिकारियों ने आश्वासन देकर जाम हटवाया। उधर बिक्रमगंज अनुमण्डल मुख्यालय में नगर पर्षद के उपाध्यक्ष विरेन्द्र प्रसाद और कांग्रेस नेता अमरेन्द्र पाण्डेय के नेतृत्व में आक्र ोशित बिजली उपभोक्ताओं ने कार्यालय पहुंचकर सहायक अभियंता सोमनाथ पासवान तथा कनिय अभियंता संतोष कुमार को बंधक बना लिया। वहां पहुंचे एसडीओ राजेश कुमार ने उपभोक्तोआंे को समझा-बूझाकर दोनों अधिकारियों को मुक्त कराया। जहां २४ घंटें के अंदर विद्युत व्यवस्था बहाल करने का आश्वासन दिया गया है। बताते चले कि जिले में पिछले एक सप्ताह से बिजली आपूर्ति की स्थिति काफी दयनीय है। 
 
 
टाटा मैजिक के धक्के से किसान की मौत
 
सासाराम। रोहतास जिला के दिनारा प्रखंड मुख्यालय में एनएच 30 को पार करते समय कुण्ड गांव के किसान श्री भगवान सिंह बूरी तरह घायल हो गये। जिन्हें घायल अवस्था में इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया। जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। 
 
 
जुआ खेलते रंगेहाथ संगठित 27 जुआरी गिरफ्तार
 
भागलपुर। मुंगर जिले की सीमा पर अवस्थित जिले के बाथ थाना क्षेत्र के हलकाराचक गांव में संतोष राय के घर में चल रहे संगठित तरीके से जुआ अड्डे पर छापेमारी कर 27 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। दाव लगा रहे जुआड़ियों के पास से 1 लाख 14 हजार नकद रुपए, 25 तास की गड्डी, दर्जनों कौड़ी, शराब की बोतले, दर्जनों सीगरेट से भरे पैकेट, पान गुटखा, 3 सूमो विक्टा और 1 बाइक बरामद किया है। पकड़े गए लोगों में ज्यादातर मुंगेर, बांका और भागलपुर के शामिल है। डीएसपी (विधि-व्यवस्था) मो. फरोगुद्दीन के नेतृत्व में बाथ, सुल्तानगंज और शाहकुंड थाना की पुलिस द्वारा की गई छापेमारी के बाद पुलिस को यह कामयाबी मिली है। जिले में चल रहे जुआड़ियों का अबतक का यह सबसे बड़ा अड्डा संचालित का पर्दाफास हुआ है। 
 
कैसे चलता था जुआ का कारोबार
 
डीएसपी (विधि-व्यवस्था) मो. फरोगुद्दीन ने बताया कि जुआड़ियों के मुख्य सरगना सह मकान मालिक संतोष राय ने मुंगर और बांका जिले के जुआड़ियों को टाटा सूमो और नजदीक के जुआड़ियों को बाइक से बुलाता था। जुआ खेलने के दौरान जुआड़ियों के लिए नशा आदि की भी व्यवस्था रखे हुए था। हारने वाले जुआड़ियों को उंचे दर पर लोन लेने की भी सुविधा दी गई थी।
 
पुलिस के लिए यह बड़ी कामयाबी है। टीम में शामिल सभी लोगों को पुरस्कृत किया जाएगा। केएस अनुपम, एसएसपी, भागलपुर
 
 
जेडीयू के प्रदेश महासचिव पर प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश
 
भागलपुर। नीतीश कुमार की पार्टी जदयू के प्रदेश महासचिव राजकुमार सिंह द्वारा एससीएसटी थानाध्यक्ष राजेश कुमार को ही बर्वाद करने की धमकी देने के मामले में मंगलवार को एसएसपी केएस अनुपम ने प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दे दिया है। इससे प्रदेश महासचिव की पेरशानी और भी बढ़ गई है। 
 
क्या था मामला
 
महासचिव राजकुमार सिंह के ठीकेदार भाई अशोक सिंह को एससीएसटी थानाध्यक्ष राजेश कुमार ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। इस पर राजकुमार ने थानेदार पर छोड़ने के लिए दबाव बनाया था। कोर्ट की दुहाई देते हुए थानाध्यक्ष ने थाने से रिहा करने से साफ मना कर दिया था। इससे तिलमिलाए प्रदेश महासचिव ने थानेदार को बर्वाद करने की धमकी दी थी। 
 
आरोपी पर ये है आरोप
 
आरोपी अशोक पर एसीएसटी थाने में लोदीपुर थाना क्षेत्र के जमसी गांव स्थित हरिजन टोला निवासी बुच्चन हरिजन की पत्नी सोनी देवी ने प्राथमिकी दर्ज कराई थी। जिसमें उसके साथ सरेआम मारपीट, कपड़ा फाड़ देने, पैसे छीन लेने और जाति सूचक गाली देने का अरोप लगाया था। जांच के दौरान डीएसपी ने पीड़िता का आरोप सही पाते हुए अपनी रिपोर्ट एसएसपी को सौंप दी। इसके बाद राजकुमार सिंह के खिलाफ सरकारी काम में बाधा डालने का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है।
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
10 + 10

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment