Home » New Delhi » News » All Major Organs Of The Delhi Gang Rape Victim Stops Working, Now Just A Glimmer Of Hope

पीड़िता के सभी प्रमुख अंगों का काम करना बंद, अब उम्मीद की सिर्फ एक किरण

Bhaskar News | Dec 29, 2012, 02:15AM IST
पीड़िता के सभी प्रमुख अंगों का काम करना बंद, अब उम्मीद की सिर्फ एक किरण

नई दिल्ली. इलाज के लिए सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ हॉस्पिटल भेजी गई दिल्ली गैंगरेप पीड़िता का पार्थिव शरीर रविवार 03:30 बजे एयर इंडिया के विशेष विमान से दिल्ली पहुंचा। पिछले 13 दिन से जिंदगी के लिए मौत से लड़ रही 23 साल की छात्रा की सिंगापुर में मौत हो गई थी। पोस्‍टमार्टम के बाद उसके शव को लेकर विशेष विमान भारतीय समयानुसार रात लगभग 10:30 बजे भारत के लिए रवाना हुआ था। छात्रा का अंतिम संस्‍कार रविवार को दिल्‍ली में किया जा सकता है। 


वीडियोः क्या इस महिला के चीखते सवालों का जवाब दे पाएंगे हम?


पूरे देश में शोक की लहर  :


वहीं, मुंबई में बॉलीवुड की नामचीन हस्तियों ने पीड़िता की मौत पर गहरा शोक जताया है। सिर पर काली पट्टी बांधकर बॉलीवुड सितारों ने कैंडल मार्च भी निकाला। इनमें शबाना आजमी, जावेद अख्तर, हेमा मालिनी, जया बच्चन, ओम पुरी, दीपिका पादुकोण, सोनू निगम और रणबीर सिंह सहित और भी जाने-माने लोग मौजूद थे। श्रद्धांजलि देते हुए जावेद अख्तर ने ऐसे मामलों में फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाए जाने का समर्थन किया है। (पढ़ें देश के लिए निर्णायक बनी दिल्ली की घटना)


यहां क्लिक करकें देखें जंतर-मंतर पर प्रदर्शन के वीडियो


गैंगरेप पीड़िता की मौत की खबर जैसे ही फैली, पूरे देश में शोक छा गया। साथ में ही देशभर में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है। दिल्‍ली से लेकर दार्जिलिंग तक केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया जा  रहा है। लोगों का गुस्‍सा बढ़ रहा है। वे लगातार विरोध-प्रदर्शनों में शामिल हो रहे  हैं। उल्लेखनीय है कि रेप-पीड़िता की मौत की खबर आते ही संभावित उग्र विरोध-प्रदर्शनों की आशंका से सरकार ने पूरी दिल्‍ली में धारा 144 लागू कर, दस मेट्रो स्‍टेशन बंद कर और वीवीआईपी इलाकों की किलाबंदी कर दी थी। 


दिल्‍ली के जंतर-मंतर पर प्रदर्शनकारियों से मिलने पहुंचीं शीला दीक्षित के खिलाफ जमकर नारेबाजी हुई। लोगों ने उनका घेराव शुरू कर दिया। इसके बाद उन्‍हें अपने काफिले के साथ वापस लौटना पड़ा। जंतर-मंतर पर मृतका के लिए एक शोक सभा का आयोजन किया गया था। इसमें आगे की रणनीति बनाते हुए आंदोलन को और बढ़ाने का फैसला लिया गया। जंतर-मंतर पर कुछ लोग दिल्‍ली पुलिस के हेल्पलाइन नंबर 100 और 1091 का पोस्‍टर लेकर पहुंचे थे। प्रदर्शनकारी इन्‍हें देखते ही भड़क गए और पोस्‍टरों को फाड़ दिया।


वहीं, न्‍यूज चैनलों के लिए एनबीए ने गाइडलाइन जारी किया है। इसमें कहा गया है कि कोई भी न्‍यूज चैनल लड़की और परिजनों की कोई तस्वीर नहीं दिखाएगा। इसके अलावा, दाह संस्‍कार का समय और स्थान भी नहीं बताना है। साथ में  शव लेकर आने वाली गाड़ी का कवरेज नहीं करना है। यही नहीं, पीड़िता के घर न्‍यूज चैनल अपनी ओबी वैन भी नहीं भेज सकते हैं। यदि कोई न्‍यूज चैनल इस गाइड लाइन का उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। 


छात्रा ने शनिवार रात 02:15 बजे दम तोड़ दिया। सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर इसकी सूचना दी। निधन  का मुख्य कारण महत्वपूर्ण अंगों का फेल होना बताया जा रहा है (पढ़ें- तय थी मौत) । माउंट एलिजाबेथ अस्पताल  के चीफ एग्जीक्यूटिव केल्विन लोह ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए कहा कि स्थानीय समय के अनुसार सुबह लगभग 4:45 (भारतीय समयानुसार  02:15 बजे) लड़की ने दम तोड़ा। सिंगापुर में माउंट एलिजाबेथ अस्पताल के कर्मियों ने कहा कि वे लड़की की बहादुरी और उसके जज्बे को सलाम करते हैं। उस लड़की ने बेहद हिम्मत दिखाई और उसमें जीने की अदम्य इच्छा थी। यह उसकी हिम्मत ही थी कि बेहद नाजुक हालत में वह दिल्ली से सिंगापुर तक आ सकी। यहां उसे बचाने की पूरी कोशिश की गई। (तस्‍वीरों में देखिए दिल्‍ली का हाल)


गौरतलब है कि पीड़िता ने होश में आते ही पहला सवाल किया था कि क्या दोषी पकड़े गए। जब उसे पता चला कि वे  पकड़े जा चुके हैं तो पीड़िता ने अपनी मां से कहा था कि उन्हें फांसी दी जानी चाहिए। यानी पीड़िता की आखिरी इच्छा थी कि उसके साथ दुष्कर्म करने वालों को मौत की सजा मिले। 


इसी बीच, जानकारी मिली है कि 3 जनवरी को इस मामले में दिल्ली पुलिस चार्जशीट दाखिल करेगी।


(फोटो कैप्शन: पुलिस की मौजूदगी में सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल से पीड़िता का शव बाहर निकलते अस्पताल के कर्मचारी।)


ये भी पढ़ें- 


दिखावा था सिंगापुर ले जाना? पहले से तय था कि लड़की का बचना नामुमकिन


महिला वैज्ञानिक बोलीं- लड़की छह लोगों से घिर गई थी तो समर्पण क्यों नहीं कर दिया?


आठ दोस्तों के साथ किया पत्नी का गैंगरेप, नेता ने दी नसीहत- तन ढंक कर रखें लड़कियां


सिपाही की मौत पर कौन बोल रहा झूठ- चश्‍मदीद या दिल्‍ली पुलिस?


पुलिस की राय में इन कारणों से होते हैं रेप


पढि़ए- युवा क्रांति के सबक


हार्ट अटैक से सिपाही की मौत का दावा करने वाले डॉक्‍टर को नोटिस


PHOTOS: दिल्ली के हेड कांस्टेबल के अंतिम संस्कार पर पहुंचे VVIP


'तिहाड़ में आरोपी को पिलाया पेशाब


सख्‍त' कानून बनने के बाद भी बीवी से बलात्‍कार की रहेगी 'छूट'!

BalGopal Photo Contest
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
10 + 3

 
विज्ञापन

क्राइम

बड़ी खबरें

BalGopal Photo Contest

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment