Home » Himachal » Hamirpur » भास्कर पडताल:-कब पिसेगा, कब मिलेगा, नौनिहालों को दलिया, सप्लाई की लेट-लतीफी के लिए कौन जिम्मेदार? न

भास्कर पडताल:-कब पिसेगा, कब मिलेगा, नौनिहालों को दलिया, सप्लाई की लेट-लतीफी के लिए कौन जिम्मेदार? नवंबर तक का आंगनबाडिय़ों को मिला था स्टॉक, सप्लाई को करना होगा इंतजार

Matrix News | Dec 12, 2012, 06:03AM IST
भास्कर पडताल:-कब पिसेगा, कब मिलेगा, नौनिहालों को दलिया, सप्लाई की लेट-लतीफी के लिए कौन जिम्मेदार? नवंबर तक का आंगनबाडिय़ों को मिला था स्टॉक, सप्लाई को करना होगा इंतजार
भास्कर पडताल:-कब पिसेगा, कब मिलेगा, नौनिहालों को दलिया, सप्लाई की लेट-लतीफी के लिए कौन जिम्मेदार? नवंबर तक का आंगनबाडिय़ों को मिला था स्टॉक, सप्लाई को करना होगा इंतजार
अनिल शर्मा . हमीरपुर
जिले के जिन आंगनबाड़ी केंद्रों में मिड-डे मील बनाने के लिए दलिए का स्टॉक ही खत्म है। भास्कर ने पड़ताल में पाया कि नौनिहालों को दलिएके लिए अभी इंतजार करना होगा क्योंकि केंद्रों में इसकी सप्लाई आने में समय लगेगा। जानकारी के अनुसार एक दिन पहले ही दलिए को लेकर एफसीआई के मंडी कार्यालय की ओर से रिलीजिंग ऑर्डर जारी हुआ है। ऐसे में गेहूं से कब दलिया पिसेगा और कब नौनिहालों तक पहुंचेगा, इसके बारे में कहना अभी मुश्किल है। छोटे बच्चों के लिए दलिया सबसे पौष्टिक आहार माना जाता है। सप्लाई की इस लेट-लतीफी के लिए कौन जिम्मेदार है, यह बड़ा सवाल है।
इसलिए सप्लाई में देरी
आंगनबाड़ी केंद्रों को चार माह का राशन इकट्ठा दिया जाता है जिसमें दलिया भी शामिल है। यह राशन नवंबर माह तक के लिए दिया गया था। कायदे से अगली सप्लाई दिसंबर के शुरुआत में केंद्रों को मिल जानी चाहिए थी। हालांकि इसकी प्रक्रिया निदेशालय स्तर पर पूरी की जाती है। दिसंबर का आधा माह खत्म होने को है, मगर दलिया तैयार ही नहीं है। एफसीआई के मंडी एरिया ऑफिस की ओर से 10 दिसंबर 2012 को 1050 क्विंटल गंदम का आरओ जारी किया है। महिला एवं बाल विकास निदेशालय की ओर से दलिया पीसने का टेंडर फ्लोर मिल को दिया जाता है।
अक्टूबर में भेजी थी डिमांड
सीडीपीओ कार्यालयों से दलिए की डिमांड जिला कार्यक्रम अधिकारी कार्यालय को दी जाती है, जहां से इसे आगे निदेशालय को भेजा जाता है। जिले के 6 प्रॉजेक्टों से अक्टूबर माह में 887.5 क्विंटल की डिमांड भेजी गई थी। नवंबर खत्म होते ही सप्लाई आ जानी चाहिए थी, लेकिन इस बार अब तक इसकी सप्लाई नहीं हुई है। देरी की वजह से उन आंगनबाडिय़ों को दलिया नहीं मिल पा रहा है, जहां इसका स्टॉक खत्म हो गया है। क्यों सप्लाई और स्टॉक को लेकर पहले ही पूरी तैयारी नहीं की गई? इस लेट-लतीफी के लिए कौन जिम्मेदार है। आंगनबाडिय़ों को सिविल सप्लाई कॉर्पोरेशन की ओर से सप्लाई की जाती है। निदेशालय जिस फ्लोर मिल को गेहूं का आरओ काटता है, वह एफसीआई के गोदाम से स्टॉक उठाती है और दलिया पीस कर सिविल सप्लाई कॉर्पोरेशन के गोदाम में पहुंचाती है। इस गोदाम से सीडीपीओ कार्यालयों को खुद इसका स्टॉक उठाना होता है। सोमवार को नादौन की एक फ्लोर मिल ने 160 क्विंटल गेहूं का स्टॉक उठाया है। अभी भी पीस कर दलिया बना कर देने और आंगनबाडिय़ों तक इसे पहुंचाने में कई दिन का समय लग जाएगा। गेहूं की अलॉटमेंट में भी देरी हुई है। आंगनबाडिय़ों को इंटीग्रेटिड चाइल्ड डवलपमेंट सर्विसेज के तहत यह राशन मिलता है।
कोट
सीडीपीओज से दलिया की जो डिमांड आई थी, उसे निदेशालय अक्टूबर माह में फॉरवर्ड कर दिया गया था। सप्लाई जल्द ही आ जाएगी। संबंधित मिल को आरओ काट दिया है। 887.5 क्विंटल की डिमांड भेजी थी।
प्रदीप ठाकुर, डीपीओ, महिला एवं बाल विकास विभाग हमीरपुर
कोट
एक दिन पहले ही एफसीआई ने गेहूं का आरओ काटकर दिया है। जिस फ्लोर मिल द्वारा दलिया बना कर देना है, उसने 160 क्विंटल गंदम का स्टॉक उठा लिया है। जल्द ही इसकी सप्लाई गोदाम में आ जाएगी।
विजय ठाकुर, एरिया मैनेजर, सिविल सप्लाई कॉर्पोरेशन हमीरपुर
कोट
10 नवंबर को आरओ रिलीज किया गया है। फ्लोर मिल ने 160 क्विंटल गंदुम का स्टॉक उठा लिया है।
राजेंद्रपाल इंचार्ज, एफसीआई गोदाम, कुठेड़ा
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
7 + 5

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

बिज़नेस

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment