Home » Himachal » Shimla » Kullu Airport To Tourist

पर्यटन स्थलों पर खर्च होंगे 86 करोड़ रुपए

भास्कर न्यूज | Dec 07, 2012, 00:35AM IST
पर्यटन स्थलों पर खर्च होंगे 86 करोड़ रुपए
शिमला .  प्रदेश के विभिन्न पर्यटन स्थलों पर 86 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। सरकार मुख्य के सचिव एस. रॉय ने कहा है कि केंद्र सरकार की मदद से कुल्लू एयरपोर्ट का विस्तार किया जाएगा। इसके लिए केंद्रीय सचिव केएन श्रीवास्तव के साथ 14 दिसंबर को उनकी नई दिल्ली में बैठक होगी, जिसमें रणनीति तय की जाएगी। 
 
उन्होंने कहा कि इससे पूर्व भी प्रदेश के हवाई अड्डों के विस्तार का मामला उठाया गया है, लेकिन भौगोलिक परिस्थितियों के चलते अब तक ऐसा संभव नहीं हो पाया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के लिए बंद पड़ी हवाई उड़ानों को जल्द बहाल करने का भी प्रयास किया जा रहा है।  
 
रॉय ने यह जानकारी वीरवार को पत्रकार वार्ता में दी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में मौजूदा वर्ष में अक्टूबर तक 10.26 फीसदी पर्यटक अधिक आए हैं। इसमें चार फीसदी विदेशी सैलानी अधिक रहे हैं। 
 
मुख्य सचिव ने कहा कि पर्यटन विभाग की तरफ से प्रदेश में 75 पार्किग स्थलों को विकसित किया जा रहा है। इन स्थलों पर करीब 2000 वाहन खड़े हो सकेंगे, जिससे पर्यटकों को प्रदेश में आने पर बेहतर सुविधा मिलेगी। शिमला, धर्मशाला और डलहौजी में पाíकंग स्थल विकसित करने की तरफ विशेष ध्यान दिया जाएगा, जिस पर करीब 452.27 लाख खर्च होंगे। 
 
बॉर्डर एरिया में इनर लाइन परमिट 
 
मुख्य सचिव एस. रॉय ने कहा कि यदि सेना की तरफ से अनुमति मिले तो बार्डर एरिया तक पर्यटकों को जाने की सुविधा होगी। इसके तहत बार्डर एरिया में इनर लाइन परमिट दिए जा सकते हैं। हालांकि, इसके लिए देश की सुरक्षा से संबंधित सभी पहलुओं पर पहले पड़ताल करने के बाद सेना की मदद ली जाएगी। 
 
दिसंबर में मसरूर उत्सव 
 
दिसंबर के अंतिम सप्ताह में कांगड़ा जिले के मशहूर पर्यटन स्थल मसरूर टेंपल में मसरूर उत्सव का आयोजन किया जाएगा। इसका उद्देश्य पर्यटकों का ध्यान मसरूर मंदिर की तरफ दिलाना है। धार्मिक पर्यटन के विस्तार की संभावनाएं तलाशी जा रही हैं। 
 
होम स्टे का विस्तार
 
पर्यटकों को शहरों से ग्रामीण क्षेत्रों तक ले जाने के लिए होम स्टे योजना का खाका तैयार किया गया है। इसके लिए प्रत्येक जिला से एक ऐसे गांव का चयन होगा, जहां पर्यटकों को बेहतर सुविधाएं मिले। इन क्षेत्रों में पर्यटकों को शहरों जैसी सुविधाएं दी जा रही हैं।
 
रेल-हवाई यातायात के विकल्प तलाशेंगे 
 
रेल एवं हवाई विस्तार की संभावनाएं तलाशी जाएंगी। फिर भी सड़क परिवहन पर विशेष ध्यान दिया जाएगा, क्योंकि यहां से ही अधिक सैलानी प्रदेश आते हैं।
 
-एस. रॉय, मुख्य सचिव, हिमाचल
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
6 + 10

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment