Home » International News » International » Chernobyl Nuclear Disaster In Pictures

तस्वीरें:हिरोशिमा-नागासाकी परमाणु धमाके से 100 गुना ज्यादा भीषण हादसा

एजेंसी | May 19, 2012, 08:49AM IST
तस्वीरें:हिरोशिमा-नागासाकी परमाणु धमाके से 100 गुना ज्यादा भीषण हादसा

तेईस साल पहले, 26 अप्रैल 1986 की सुबह (ठीक 01.24 बजे) दुनिया का सबसे बड़ा परमाणु हादसा घटित हुआ। यूक्रेन स्थित चेर्नोबिल पावर प्लांट का एक रिएक्टर फट गया। दो धमाकों ने रिएक्टर की छत को उड़ा दिया, और उसके अन्दर के रेडियो धर्मी पदार्थ बाहर को बह निकले। बाहर की हवा ने टूटे रिएक्टर के अन्दर पहुँच कार्बन मोनोक्ससाइड को ज्वलित कर दिया। इसके फलस्वरूप आग लग गयी जो नौ दिन तक धधकती रही। क्योंकि रिएक्टर के चारों ओर कंक्रीट की दीवार नहीं बनी थी, इसलिए रेडियोधर्मी मलबा वायुमंडल में फैल गया।

इस दुर्घटना में जो रेडियोधर्मी किरणें निकलीं वे हिरोशिमा और नागासाकी पर गिराए गए परमाणु बम से 100 गुना अधिक थीं। अधिकतर मलबा, चेर्नोबिल के आस पास के इलाकों में गिरा, जैसे यूक्रेन, बेलारूस और रूस। परन्तु रेडियोधर्मी पदार्थों के कण, उत्तरी गोलार्ध के तकरीबन हर देश में पाए गए।

इस हादसे में 32 व्यक्तियों की मौत हो गई तथा अगले कुछ महीनों में 38 अन्य व्यक्ति रेडियोधर्मी बीमारियों के कारण मर गए। 36 घंटों के अन्दर करीब 59430 लोगों को वहाँ से निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर पहुँचाया गया।

इस भयानक दुर्घटना के कारण 200,000 व्यक्तियों को विस्थापित होना पड़ा, धरती का एक बड़ा भाग प्रदूषित हुआ और अनेको की रोज़ी रोटी का नुकसान हुआ। सन 2005 की एक रिपोर्ट के अनुसार, करीब 600,000 लोग तीव्र रेडियोधर्मिता के शिकार बने तथा इनमें से 4000 लोग कैंसर से मृत्यु के शिकार हुए। इस पूरे प्रकरण में 200 अरब डॉलर का संभावित नुकसान हुआ।

इसके अलावा, जीवित व्यक्तियों की मानसिकता पर जो प्रभाव पड़ा, उसको नहीं मापा जा सकता है। हादसे के बाद कई लोग शराबी हो गए, और कई लोगों ने आत्महत्या कर ली।

तस्वीरों में देखिए इस हादसे की भयावहता...

BalGopal Photo Contest
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
9 + 1

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

BalGopal Photo Contest

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment