Home » International News » Pakistan » China Given Contract To Operate Gwadar Port

पाकिस्‍तानी बंदरगाह पर चीन का कब्‍जा, भारत की धड़कन बढ़ीं

एजेंसी | Feb 19, 2013, 08:14AM IST
पाकिस्‍तानी बंदरगाह पर चीन का कब्‍जा, भारत की धड़कन बढ़ीं
इस्लामाबाद। पाकिस्तान का सामरिक महत्व वाला ग्वादर बंदरगाह अब चीन की एक कंपनी के नियंत्रण में रहेगा। इस आशय के एक समझौते पर पाकिस्तान और चीन ने सोमवार को हस्ताक्षर किए। भारत में इस मुद्दे पर कड़ी चिंता जताई गई है। हालांकि पाकिस्तान ने इस चिंता को खारिज किया है। 
 
समझौते के अनुसार, गहरे समुद्र वाला यह बंदरगाह पाकिस्तान की ही संपत्ति रहेगा। लेकिन चीन की कंपनी इस बंदरगाह से होने वाले कामकाज के लाभ की हिस्सेदार रहेगी। चाइना ओवरसीज पोर्ट होल्डिंग्स लि. ने बलूचिस्तान प्रांत में स्थित ग्वादर बंदरगाह का नियंत्रण अपने हाथ में ले लिया है। इस मौके पर राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी ने कहा कि इससे पाकिस्तान और चीन के रिश्ते मजबूत होंगे। 
 
भारतीय सीमा से नजदीक होने के कारण बंदरगाह चीन की कंपनी को सौंपे जाने का समझौता भारत के लिए खतरनाक साबित हो सकता है (आगे के स्‍लाइड में पढें- क्‍यों बढ़ी भारत की चिंता और समझौते के क्‍या हैं मायने)। इस बीच, पाकिस्‍तान अंतरराष्‍ट्रीय न्‍यायालय (हेग) में भारत के खिलाफ एक मुकदमा हार गया है। इसके मुताबिक किशनगंगा प्रोजेक्‍ट के लिए भारत द्वारा पानी के इस्‍तेमाल पर उसकी आपत्ति खारिज हो गई है। इस मामले को अंतरराष्‍ट्रीय न्‍यायालय में पाकिस्‍तान ही ले गया था।
 

19 फरवरी की प्रमुख खबरें



पाकिस्‍तान ने सौंपा पोर्ट, अब भारत की छाती पर मूंग दलेगा चीन!


सोने से 40 गुना महंगा है उल्कापिंड, 1.21 लाख रुपए है एक ग्राम की कीमत


मिलिए शाही खर्च करने वाली हस्तियों से : 37 लाख में खाया 1 वक्‍त का खाना


रिलायंस को प्रभावशाली कंपनी बनाने में नाकाम हो रहे हैं मुकेश अंबानी


वेश्‍या ने बेटे को बनाया इंजीनियर, समाज के डर से दूर हुई बहू-बेटे से


सचिन वापसी कर विदाई मैच खेलें: ब्लाइंड बैंड


नरेंद्र मोदी के आगे कहीं नहीं ठहरते राहुल गांधी?

 

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
2 + 6

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment