Home » Jharkhand » Ranchi » News » Ranchi Daughter Won The Young Scientist Award

रांची की बेटी ने साईंस में बजाय डंका, जीत लिया यंग साइंटिस्ट अवार्ड

मुकेश बालयोगी। | Dec 07, 2012, 11:46AM IST
रांची की बेटी ने साईंस में बजाय डंका, जीत लिया यंग साइंटिस्ट अवार्ड

रांची।रांची की डॉ. चारुलता को प्लांट बायोटेक्नोलॉजी में महत्वपूर्ण योगदान के लिए वर्ष 2012 का यंग साइंटिस्ट अवार्ड दिया गया है। बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में एक दिसंबर को हुए एकेडमी के 82वें सम्मेलन में पूर्व केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. एमजी के मेनन ने उन्हें अवार्ड दिया। यह अवार्ड नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज की ओर से हर साल उभरती वैज्ञानिक प्रतिभाओं को दिया जाता है। इस पुरस्कार के लिए देशभर के विज्ञान के पांच क्षेत्रों के 12 वैज्ञानिकों को चुना गया था। डॉ. चारुलता फिलहाल राष्ट्रीय पादप जैव प्रौद्योगिकी अनुसंधान केंद्र, दिल्ली में वैज्ञानिक हैं। वे पौधों में सूखा रोधी जीनों के विकास पर काम कर रही हैं। उनके पिता प्रवीण कुमार गुप्त राज्य सांख्यिकी निदेशालय में संयुक्त निदेशक के पद पर कार्यरत हैं।

तो सूखे पर होगी किसानों की जीत

क्लाइमेट चेंज के कारण देश के अलग-अलग हिस्से को हर साल सूखे का सामना करना पड़ता है। ऐसे में कृषि उत्पादन गिरने से किसानों के सामने रोजी-रोटी का संकट पैदा हो जाता है। बड़े पैमाने पर सूखा पडऩे से देश में खाद्यान्न संकट भी पैदा हो सकता है। देश में कई ऐसी पारंपरिक फसलें हैं, जिन पर सूखे का प्रभाव नहीं पड़ता है। कउनी (फॉक्सटेल मिलेट) इन्हीं में से एक है। आर्थिक दृष्टि से फायदेमंद न होने के कारण किसान इसकी खेती करना लगभग छोड़ चुके हैं। डॉ. चारुलता सूखे का सामना करने वाले कउनी के जीनों पर शोध कर रही हैं। वे इसे धान और मक्के के बीजों में डालकर सूखे पर किसानों को जीत दिलाना चाहती हैं। रिसर्च का लैब ट्रायल सफल हो चुका है। दो-तीन चरणों में ट्रायल एंड एरर प्रोसेस के जरिए सुधार के बाद किसानों के लिए बीज का उत्पादन शुरू कर दिया जाएगा।

गौरव की बात

"यंग साइंटिस्ट अवार्ड नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज, इंडिया का एक प्रतिष्ठित पुरस्कार है। रांची की बेटी को यह पुरस्कार मिलना गौरव की बात है। इससे प्लांट बायोटेक्नोलॉजी के क्षेत्र में शोध करने वाले झारखंड के युवाओं को भी प्रेरणा मिलेगी। अगर उनके रिसर्च का फील्ड ट्रायल सफल हो जाता है तो झारखंड जैसे सूखा प्रभावित क्षेत्र को इससे काफी फायदा मिलेगा।"- डॉ. जेड ए हैदर, हेड, बीएयू बॉयोटेक्नोलॉजी।

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
5 + 2

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment