Home » Jammu Kashmir » Jammu » Pakistan Asked To Refrain From Military Actions

सख्ती से डरा पाकिस्तान, सेना को हरकतों से बाज आने को कहा

एजेंसी | Jan 17, 2013, 05:39AM IST
सख्ती से डरा पाकिस्तान, सेना को हरकतों से बाज आने को कहा
नई दिल्ली/इस्लामाबाद/जम्मू। भारत की सैन्य और राजनीतिक सख्ती का असर दिखने लगा है। पाकिस्तान के सैन्य मुख्यालय ने अपने सैनिकों को सरहद पर जारी हरकतों से बाज आने को कहा है। पाकिस्तान के डायरेक्टर जनरल ऑफ मिल्रिटी ऑपरेशन्स (डीजीएमओ) ने अपने भारतीय समकक्ष को इसकी जानकारी दी है। 
 
बुधवार को भारत और पाक के डीजीएमओ ने सीमा पर जारी तनाव कम करने के उपायों पर बात की। हालांकि यह बातचीत सिर्फ 10 मिनट तक चली। पाकिस्तान के डीजीएमओ अशफाक अहमद नदीम ने पाक की ओर से उठाए गए कदमों के बारे में बताया।
 
उन्होंने कहा कि पाक सैन्य मुख्यालय ने अपनी सेना को एलओसी (नियंत्रण रेखा) पर संघर्ष विराम का उल्लंघन न करने और संयम बरतने के सख्त निर्देश दिए हैं। बातचीत में दोनों पक्षों ने तय किया कि सीमा पर हालात और नहीं बिगड़ने देंगे।
 
इस बीच पाकिस्तान में सरकारी रेडियो ने भी अशफाक अहमद नदीम के हवाले से बयान जारी किया है। इसमें कहा गया है कि दोनों पक्ष 742 किमी एलओसी पर तनाव कम करने पर राजी हैं। तय किया गया है कि हालिया घटनाक्रम की खबरों को मीडिया में बेवजह तूल न दिया जाएगा।
 
भ्रष्टाचार पर पाक पीएम की मनमोहन से तुलना
 
हिना रब्बानी ने भ्रष्टाचार के मुद्दे पर भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को एक जैसा बताया। कहा कि ‘भ्रष्टाचार की समस्या दक्षिण एशिया के कई देशों में है। आप देखें भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर भी भ्रष्टाचार के कई आरोप हैं।’ खर से भ्रष्टाचार और सुप्रीम कोर्ट द्वारा प्रधानमंत्री राजा परवेज अशरफ की गिरफ्तारी के बावत सवाल किए गए थे।
 
..इधर विदेश मंत्री हिना रब्बानी ने भारत को ही ठहराया दोषी
 
पाक विदेश मंत्री भी झुकीं, बातचीत की पेशकश की
 
इस्लामाबाद . सुबह भारत पर युद्ध भड़काने की कोशिश का आरोप लगाने वाली पाक विदेश मंत्री के तेवर महज 12 घंटे बीतते-बीतते ठंडे पड़ गए। बुधवार देर रात उन्होंने सीमा पर जारी तनाव पर चिंता जताई। साथ ही हालात में सुधार के लिए भारतीय विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद को बातचीत का न्योता भी दे डाला।
 
खर ने कहा कि दोनों देशों ने बातचीत बहाल करने के लिए बहुत मेहनत की है। काफी वक्त लगाया है। इसे जाया नहीं जाने देना चाहिए। इससे पहले खर ने कहा था कि भारतीय नेता युद्ध भड़काने जैसा बयान दे रहे हैं। पाकिस्तान भी जैसे को तैसा जवाब दे सकता था, लेकिन हम संयम बरत रहे हैं।
 
संयुक्त राष्ट्र में भारत ने पाक को सुनाई खरी-खरी
 
संयुक्तराष्ट्र। भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पाकिस्तान को आतंकवाद के मुद्दे पर कड़ा संदेश दिया है। भारतीय प्रतिनिधि हरदीप पुरी ने कहा कि आतंकवाद को राज्य नीति के हथियार के रूप में इस्तेमाल कर रहे देश अदूरदर्शी हैं। इस ‘भस्मासुर’ से उन्हें खुद भी गंभीर नुकसान उठाना पड़ा है।
 
सुरक्षा परिषद में बुधवार को आतंकवाद पर बहस हो रही थी। अध्यक्षता पाकिस्तान की विदेश मंत्री हिना रब्बानी ने की। पुरी ने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ संघर्ष सभी मोर्चो पर और निरंतर होना चाहिए। भारत आतंकी गुटों से निपटने के चुनिंदा रवैये को सहन नहीं कर सकता है।
 
 कादरी को गिरफ्तार करने का आदेश
 
इस्लामाबाद/लाहौर। पाकिस्तान सरकार को हजारों समर्थकों के साथ चुनौती देने वाले मौलवी ताहिर-उल कादरी की गिरफ्तारी के आदेश जारी कर दिए गए हैं। हालांकि पुलिस को गृह मंत्रालय की अनुमति का इंतजार है। इससे पहले कादरी ने सरकार को अल्टीमेटम दिया कि वह बुधवार रात तक सत्ता से हट जाए।  कादरी और 70 अन्य के खिलाफ इस्लामाबाद के कोहसर थाने में मामला दर्ज किया गया है।
 
इन पर हत्या की कोशिश, सरकारी काम में अड़ंगा डालने, पुलिस से हथियार छीनने और पुलिस अफसरों पर हमले के आरोप हैं। इस सिलसिले में स्थानीय मजिस्ट्रेट ने कादरी की गिरफ्तारी के लिए वारंट जारी किया है। 
 
इधर, नेशनल असेंबली के सामने डटे कादरी ने बुधवार को तीन घंटे के भाषण में कहा कि अब यह सरकार बर्दाश्त नहीं होगी। इसे आज या कल जाना ही होगा। अब भ्रष्टाचार और बर्दाश्त नहीं।
 
कादरी ने कुरान का हवाला दिया। सत्ता और विपक्ष दोनों के नेताओं पर लगातार हमले बोले। उन्होंने अपने समर्थकों से कहा कि नेताओं के कपड़े उतार दो ताकि उनके ‘टैटू’ नजर आ जाएं। 
 
कादरी के दावे के बावजूद उन्हें सुनने आई भीड़ की संख्या मंगलवार के मुकाबले कम हो गई। कादरी ने कहा कि वे अंतरिम सरकार या मुल्क के 18 करोड़ लोगों के नेता नहीं बनना चाहते। कादरी समर्थकों ने जिन्ना एवेन्यू पर तंबू तान दिए हैं। वहीं आग जला कर खाना पकाना भी शुरू कर दिया है।
 
इमरान खान को न्यौता
 
कादरी ने बुधवार को तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के नेता इमरान खान को भी आंदोलन में शामिल होने का न्यौता दिया। मंगलवार को इमरान ने कहा था कि अगर कादरी कहेंगे तो वे आंदोलन में शामिल होने पर विचार करेंगे।
 
हमारी सेना ने सीमा पार नहीं की: सेना प्रमुख
 
शेरनगर (मथुरा)। पाकिस्तान के आरोपों का सेना प्रमुख जनरल बिक्रम सिंह फिर खंडन किया है। शहीद हेमराज के गांव में जनरल ने कहा कि भारतीय सेना ने कभी सरहद नहीं लांघी। न ही कभी भड़काऊ फायरिंग की। उन्होंने कहा कि मानवाधिकार के मामले में दुनिया में भारतीय सेना का रिकॉर्ड सबसे अच्छा है। 
 
जनरल ने कहा कि भारत की ओर से अब तक सिर्फ जवाबी हमला किया गया है। बिक्रम सिंह बुधवार को शेरनगर स्थित शहीद हेमराज के घर गए थे। उन्होंने शहीद परिवार को ढाढ़स बंधाते हुए कहा कि यह कुर्बानी बेकार नहीं जाएगी। साथ ही शहीद हेमराज की मां और पत्नी को हर संभव मदद का भरोसा दिलाया। गांव से जुड़ी मांगों को लेकर जनरल ने कहा कि इस बारे में राज्य सरकार से बात की जाएगी।
 
18 जनवरी को सीधी आएंगे जनरल सिंह
 
सीधी(मध्यप्रदेश)त्नसेना प्रमुख जनरल बिक्रम सिंह शहीद लांस नायक सुधाकर सिंह के परिवार से मिलने 18 जनवरी को मध्यप्रदेश के सीधी आएंगे। उनके साथ रक्षा राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह भी होंगे। सुधाकर सिंह भी मेंढर में पाकिस्तानी सैनिकों के हमले के शिकार हुए थे।
 
पाक के प्रधानमंत्री की गिरफ्तारी में कानूनी पेंच
 
भ्रष्टाचार के मामले में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री राजा परवेज अशरफ की गिरफ्तारी जल्द होने के आसार नहीं हैं। इसमें कानूनी पेंच फंसे हुए हैं। सूचना मंत्री कमर जमान कैरा ने बुधवार को बताया कि गिरफ्तारी कानूनी प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही हो सकेगी। 
 
देश के सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री की गिरफ्तारी के लिए मंगलवार को 24 घंटे का समय दिया था।
 
ये हैं अड़चनें...
 
- प्रोसिक्यूटर जनरल पॉवर प्रोजेक्ट्स मामले में कथित घोटाले के संबंध में जांच के बाद रिपोर्ट राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) को सौंपेंगे।
- एनएबी छानबीन करने के बाद मामला दर्ज करने पर विचार करेगा।
- मामले को एनएबी से मंजूरी मिलने के बाद जवाबदेही कोर्ट गिरफ्तारी के आदेश जारी करेगी।
- अगर किसी कोर्ट ने जमानत नहीं दी तब इस पर अमल होगा।
 
चुनाव 15 मई तक
 
कैरा ने बताया कि सरकार का समय पूरा होने में कुछ ही समय बचा है। संसद और विधानसभाओं का कार्यकाल 16 मार्च को खत्म होगा। इनके चुनाव पांच मई से 15 मई के बीच होने की संभावना है। उन्होंने बताया कि सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को लिख कर दे दिया है कि चुनाव निर्धारित समय पर ही कराए जाएंगे।
 

 

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
6 + 10

 
विज्ञापन
 
Ethical voting

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

बिज़नेस

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment