Home » Lifestyle » Awkash » "Whenever You Get Angry To Hit A Nail In The Wall '

‘जब भी तुम्हें गुस्सा आए तो एक कील दीवार में ठोक देना’

Danik bhaskar.com | Dec 06, 2012, 13:04PM IST
‘जब भी तुम्हें गुस्सा आए तो एक कील दीवार में ठोक देना’

एक लड़का बहुत गुस्सैल था। उसे बात-बात पर गुस्सा आता था। पिता ने उसे कीलों से भरा बैग देकर कहा, ‘जब भी तुम्हें गुस्सा आए तो एक कील दीवार में ठोक देना।’




पहले दिन उसने 40 कीलें ठोक दीं। धीरे-धीरे उसने गुस्से पर काबू करना सीख लिया और दीवार पर कीलों की संख्या कम होती चली गई। उसने पिता से कहा, ‘पिताजी मैंने गुस्से पर काबू करना सीख लिया है।’


 


पिता ने कहा, ‘बेटा, अब रोज एक कील दीवार से निकालो, जब तक तुम्हारा गुस्से पर नियंत्रण रहे।’ कुछ दिन बाद सारी कीलें निकल जाने पर उसने पिता से कहा, ‘मैंने सारी कीलें निकाल ली हैं।’


 


तब पिता ने उसे दीवार के छेद दिखाते हुए कहा, ‘जिस प्रकार दीवार में कील ठोक कर निकालने के बाद उसमें छेद बन जाते हैं, इसी तरह जब गुस्से में कोई बात कहते हैं तो वे बातें हमारे मन में भी इसी तरह निशान छोड़ देती हैं। माफी मांगने के बाद भी उन शब्दों के निशान बने ही रहते हैं।’

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
7 + 2

 
विज्ञापन
 
Ethical voting

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

बिज़नेस

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment