Home » Rajasthan » Chittorgarh Zila » Begu » शरीर से ममत्व नहीं, प्रभु से राग करो

शरीर से ममत्व नहीं, प्रभु से राग करो

Bhaskar News Network | Feb 18, 2014, 03:24AM IST
शरीर से ममत्व नहीं, प्रभु से राग करो
बेगूं. शरीर से ममत्व नहीं प्रभु से राग करो, संसार असार एवं नश्वर है। प्रभु से राग उत्पन्न होने से ही सदगति प्राप्त हो सकती है। यह विचार पंडित कन्हैयालाल गोशाल ने काटूंदा चौराहे पर स्कूल खेल मैदान पर भागवत कथा में व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि महाभारत में कृष्ण ने अर्जुन से कहा की अर्जुन यहां तेरा कोई नहीं, रिश्ते-नाते सब छलावा मात्र है। तब ही गीता कि रचना हुई। कथा के तीसरे दिन कृष्ण के जन्म होने से पूर्व के दृष्टांतों का सजीव चित्रण किया। मंगलवार को कृष्ण जन्मोत्सव मनाया जाएगा।
- - -
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
5 + 5

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment