Home » Maharashtra » Pune » News » Pictures Pune Bus Accident

पुणे की सड़कों पर दौड़ी मौत की बस..देखें तस्वीरें

विनोद यादव/ दैनिक भास्‍कर डॉट कॉम | Jan 26, 2012, 07:34AM IST


पुणे.  एसटी बसचालक ने अंधाधुंध ड्राइविंग करके बुधवार की सुबह आठ लोगों की जान ले ली। इतना ही नहीं उसने 30 अन्य को बुरी तरह घायल भी कर दिया। इस घटना से शहर में खलबली मच गई। नागरिकों ने बस चालक को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया है। पुलिस आयुक्त मीरा बोरवणकर ने बताया कि संतोष मारुति माने महाराष्ट्र राज्य परिवहन विभाग में बतौर चालक काम करता है।


 


 


मंगलवार की शाम वह गाणगापूर से पुणे बस लेकर आया था। शाम साढ़े सात बजे से उसका विश्राम का समय था। उसने पूरी रात विश्राम कक्ष में विश्राम किया। बुधवार की सुबह वह अनधिकृत रूप से पुणे-सातारा बस (नं-एमएच 14 बीटी 1532) लेकर स्वारगेट एसटी स्टैंड से तेज रफ्तार में चार पहिया, दोपहिया गाड़ियों, पैदल जा रहे लोगों को टक्कर देते गाड़ी चलाता रहा। आखिरकार उसे उसे निलयम थिएटर के पास पकड़ा गया। सूत्रों के मुताबिक माने इस तरह से गाड़ी चला रहा था कि वह इंसानों को नहीं बल्कि कीड़े मकौड़ों को कुचल रहा है। वह कई स्थानों पर लोगों को कुचलता गया। घटना को देख रहे लोगों ने भी दांतों तले उंगली दबा ली। कुछ ने उसे रोकने की कोशिश की किंतु उस पर नियंत्रण पाना पुलिस तक के लिए भी संभव नहीं हो पा रहा था। तकरीबन एक घंटे तक उसने सड़कों पर जमकर हंगामा किया। स्वारगेट एसटीबस डिपो से निकलकर उसने वहां से पुलगेट, कैंप, मित्रमंडल चौराहा तथा अन्य मार्गो से गलत दिशा से निलयम थियेटर तक गाड़ी चलाई। इस बीच उसने 20 से 30 गाड़ियों को टक्कर मारेकर नुकसान पहुंचाया। इस दौरान आठ लोगों की मौत हो गई। वहीं 30 लोग घायल हो गए। कुछ समाचार माध्यम नौ मौतों की जानकारी दे रहे हैं, लेकिन नौवीं मौत की पुष्टि नहीं हो सकी। लष्कर पुलिस थाने के मार्शल दीपक काकड़े ने पुलगेट क्षेत्र से उसका पीछा किया। उसे रोकने के लिए काकड़े ने बस पर पांच फायर भी किए। इस बीच पुलिस व एसटी कर्मी भी उसका पीछा करते रहे।
निलयम थिएटर के पास चालक माने ने बस पर से नियंत्रण खो दिया। बस की गति कम हुई तभी उसका पीछा कर रहे छात्र शरीफ इब्राहीम कुट्टी ने अपनी जान खतरे में डालकर उसे बस से बाहर खींच लिया। गुस्साए लोगों ने उसकी जमकर पिटाई की। उसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। स्वारगेट पुलिस थाने में उसपर हत्या और हत्या के प्रयास जैसी धाराएं लगाई गई हैं। उसके खिलाफ बस चालक एस. जे. हेंद्रे ने रिपोर्ट दर्ज कराई है। हेंद्रे ही उस बस को सातारा ले जानेवाला था। इस बीच पता चला है कि   माने ने इससे पूर्व इस्तीफे की भी पेशकश की थी। उसका कहना था कि उसे लंबी दूरी के रूट पर नहीं भेजा जाये। सूत्रों के मुताबिक माने को गुरुवार को अदालत में पेश किया जाएगा।
मृतकों एवं घायलों में अधिकतर युवा :    पुलिस सूत्रों के मुताबिक हादसे में अधिकतर युवाओं की मौत हुई है। घायलों में भी ज्यादातर युवा शामिल हैं। अक्षय पिसे, मिलिंद गायकवाड़, पूजा भाऊराव पाटील, रामललित शुक्ला, पिंकेश खंडेलवाल, शुभांगी सूर्यकांत मोरे, अंकुश बाबूराव तिकोणे और श्वेता धवल ओसवाल की मौत हो गई है। 30 घायलों को शहर के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।
माने मेरे सामने बस चुरा कर ले गया :   पुणे-सातारा-पुणो एसटी बस चालक एस. जे. हेंद्रे ने बताया कि वह सुबह करीब सवा आठ बजे सातारा से बस लेकर आया और स्वारगेट स्थानक पर लगाई। उसने कंडक्टर से कहा कि मेरी बस में यात्रियों को बैठाओ। इसके बाद वह चाय पीने के लिए जा ही रहा था कि उसने देखा कि माने उसकी बस लेकर जा रहा है। उसी समय उसने एक व्यक्ति को जोरदार टक्कर दी। 
मुख्यमंत्री ने हालचाल पूछा :   इस बीच मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने विभिन्न अस्पतालों में जाकर घायलों का हालचाल लिया। उन्होंने कहा कि घटना की जांच के लिए एसटी, पुलिस और परिवहन आयुक्त की संयुक्त टीम गठित की गयी है। ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति से बचने के लिए चालकों का नियमित परीक्षण किया जाएगा। दूसरी ओर उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने भी अस्पताल जाकर घायलों का हालचाल पूछा। उन्होंने कहा कि मामले की गहराई तक जांच की जाएगी।
मनोरोगी है चालक :   माने विगत ग्यारह वर्षो से एसटी में बतौर चालक कार्यरत है। वह सोलापुर जिले के कोंढाली गांव का निवासी है। उसका परिवार वहीं रहता है। वह वर्ष 2009 से स्वारगेट डिपो में कार्यरत है। उसके परिचित उसे मनोरोगी बता रहे हैं। वर्ष 2010 से वह सोलापुर में एक मनोचिकित्सक से इलाज भी करवा रहा है।  वह स्वारगेट डिपो स्थित विश्राम कक्ष में ही रहता है। उसके लाइसेंस में पुणे के नवीपेठ का पता दिया हुआ है। इससे पहले भी वह चार बार सड़क दुर्घटनाएं कर चुका है।
छात्र ने किया पीछा :    महाविद्यालय काछात्र शरीफ इब्राहीम कुट्टी निलयम थिएटर क्षेत्र तक उसका पीछा करता रहा। वहां उसकी बस की गति थोड़ी कम हुई तो कुट्टी ने कुछ लोगों की मदद से चालक के केबिन का दरवाजा खोला और उसे बाहर निकाल लिया।मृतकों को 1 लाख रु.


 


 


महाराष्ट्र राज्य परिवहन विभाग के प्रबंधक निदेशक दीपक कपूर ने स्वारगेट पुलिस स्टेशन जाकर घटना के बारे में जानकारी ली। उन्होंने बताया कि इस घटना में मारे गये आठ व्यक्तियों के परिजनों को एसटी द्वारा एक-एक लाख रुपये जबकि गंभीर घायलों को 75 हजार रुपये की राशि मदद के रूप में दी जाएगी। इसके अलावा घायलों के इलाज का खर्च एसटी द्वारा ही किया जाएगा। गुस्से में था माने 


 


 


बुधवार की सुबह सहायक यातायात निरीक्षक एस. एम. धमकले ने बताया कि एस. जे. हेंद्रे नामक चालक सातारा से पुणे बस लेकर आया। वह जल्दी की बस पर जाना चाहता था, किंतु पहले से ही चालक तय थे इसलिए उसे भेजने से इनकार किया गया। इससे गुस्सा हुए माने ने बाहर आकर सातारा जानेवाली बस पर कब्जा किया। और बस लेकर तेज गति से निकल गया। एसटी कर्मियों ने उसका पीछा किया।
तीन किलोमीटर उल्‍टी दौड़ाता रहा बस: 9 को कुचला, 27 जख्‍मी 
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
9 + 4

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment