Home » Madhya Pradesh » Bhopal » News » Opposition Walkout On Teachers And Farmer Issue

अध्यापक और किसानों के मुद्दे पर विपक्ष का वॉकआउट

Dainik Bhaskar News | Dec 12, 2012, 05:37AM IST

भोपाल। अध्यापकों और किसानों से जुड़ी समस्याओं को लेकर विपक्ष ने मंगलवार को सदन से वॉकआउट किया। इसके पूर्व राज्य सरकार के प्रवक्ता संसदीय कार्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंगलवार को विधानसभा में यह आश्वासन दिया कि शिक्षा विभाग में शामिल किए जाने और छठवां वेतनमान देने की मांग कर रहे हड़ताली अध्यापकों की समस्याएं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ बैठक में सुलझ सकती हैं। यह बैठक एक दो दिन में होगी। मंत्री ने कहा कि जिन शिक्षा कर्मियों को कांग्रेस की दिग्विजय सरकार ने 500 रुपए में रखा था, उन्हें इससे कई गुना वेतन मिल रहा है। उन्होंने दो बार व्यापमं की पात्रता परीक्षा में असफल रहे गुरुजियों को एक और मौका देकर नियमित करने से इंकार किया। विपक्षी सदस्यों ने सरकार के जवाब से असंतुष्ट होकर सदन से वाकआउट किया।


हड़ताल से स्कूलों में शिक्षण कार्य प्रभावित होने का यह मामला बसपा विधायक रामलखन सिंह, कांग्रेस के सुखदेव पांसे सहित पंद्रह विधायकों ने ध्यानाकर्षण सूचना के जरिए उठाया था। स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री नाना भाउ मोहोड़ ने कहा कि अध्यापक छात्र हित के विपरीत हड़ताल पर गए हैं। संसदीय कार्य मंत्री मिश्रा ने कहा कि अध्यापकों का संवर्ग नगरीय प्रशासन और पंचायत विभाग के तहत आता है। इसपर कांग्रेस विधायक रावत ने कहा कि यह जिन विभागों के तहत आते हैं, उन्हीं की तरह छठवां वेतनमान क्यों लागू नहीं किया जा रहा है? मंत्री ने कहा कि वेतनमान का मामला वित्तीय है, इस पर अध्यापकों के प्रतिनिधियों से सीएम की चर्चा के बात सहानुभूति पूर्वक निर्णय लिया जाएगा। नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा कि सदन चल रहा है तो हड़ताल के मामले में चर्चा में विलंब क्यों किया जा रहा है।


किसानों की आत्महत्याओं के मामले की जांच के लिए समिति बनाने की मांग


प्रदेश में किसानों की आत्महत्याओं के बढ़ते मामलों की जांच के लिए विधायकों की समिति बनाने की मांग को लेकर कांग्रेस विधायकों ने वॉक आउट कर दिया। प्रश्नकाल में यह मामला विधायक रामनिवास रावत ने उठाया था। उनका कहना था कि प्रदेश में रोजाना आठ किसान और खेतिहर मजदूर आत्महत्या कर रहे हैं। इसके जवाब में गृह मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा कि आत्महत्या की वजह कृषि कार्य नहीं है। ऐसे में आर्थिक सहायता का प्रावधान नहीं है। विधानसभा अध्यक्ष ईश्वरदास रोहाणी ने उन्हें समझाइश दी कि आत्महत्या के कारण को व्यवसाय से न जोड़ें। चर्चा आगे बढऩे पर नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने भी समिति बनाने की मांग कर दी। इस पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि न केवल देश के अन्य राज्यों बल्कि विदेशों में भी आत्महत्या के मामले बढ़ रहे हैं। विपक्ष इस पर राजनीति कर रहा है। सरकार के रूख से नाराज कांग्रेस विधायकों ने वॉक आउट कर दिया।

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
6 + 6

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment