Home » Madhya Pradesh » Bhopal » News » Wives Of Teachers Will Also Fast

अध्यापकों की पत्नियां भी करेंगी अनशन

Bhaskar News | Feb 23, 2013, 06:09AM IST
अध्यापकों की पत्नियां भी करेंगी अनशन
भोपाल। समान कार्य व समान वेतन, छठवां वेतनमान दिए जाने समेत आधा दर्जन मांगों को लेकर अध्यापक संयुक्त मोर्चा के प्रांतीय पदाधिकारी 24 फरवरी को भोपाल में आमरण अनशन करेंगे। वहीं, 25 फरवरी को प्रदेशभर की महिला अध्यापक विधानसभा और मुख्यमंत्री हाउस का घेराव करेंगी। 
 
यह घोषणा मोर्चा के संयोजक बृजेश शर्मा व प्रवक्ता जितेंद्र शाक्य ने यादगार-ए-शाहजहांनी पार्क में जारी क्रमिक भूख हड़ताल के दौरान शुक्रवार को की। मोर्चा के अध्यक्ष मुरलीधर पाटीदार ने भी लड़ाई को मांगें न माने जाने तक जारी रखने की घोषणा की है। उन्होंने मोर्चा के संयोजक बृजेश शर्मा के साथ 24 फरवरी को भोपाल में आमरण अनशन करने की घोषणा की है।
 
आंकड़ों में नहीं उलझेंगे
 
मोर्चा के प्रवक्ता एनपी शर्मा व सह संयोजक उपेंद्र कौशल का कहना है कि सरकार का बजट निराशा जनक है। घोषणाएं कर सरकार हमें केवल आंकड़ों में उलझाकर धरना खत्म करवाना चाहती है। पदाधिकारियों ने कहा कि निलंबन करने जैसी धमकियों से हम नहीं डरेंगे। धरना स्थल पर साधना सिंह, राजेश गुप्ता, राशिद भाई, विजय तिवारी आदि ने सभा को संबोधित किया।
 
मोर्चा में फूट डालने के लिए नेताओं को नहीं किया सस्पेंड
 
जिला प्रशासन ने भोपाल के दो दर्जन अध्यापकों को स्कूल से अनुपस्थित रहने के कारण शुक्रवार शाम सस्पेंड कर दिया। अध्यापक मोर्चा के प्रांतीय पदाधिकारी और भोपाल जिले में कार्यरत एनपी शर्मा, जितेंद्र शाक्य और सह संयोजक उपेंद्र कौशल को सस्पेंड नहीं किया गया। कलेक्टर कार्यालय से जारी सूची में रातीबड़ संकुल से सर्वाधिक 17 और अरेरा कॉलोनी संकुल से 5 महिला सहायक अध्यापक व 1 महिला अध्यापक को सस्पेंड किया गया। मोर्चा पदाधिकारियों का आरोप है कि प्रशासन ने नेताओं को बचाकर फूट डालने का प्रयास किया है, ताकि हड़ताल खत्म कराई जा सके।
 
अतिथि शिक्षकों पर लाठीचार्ज, गिरफ्तार कर जेल भेजा
 
नियमितिकरण की मांग को लेकर दो दिन से प्रदर्शन कर रहे अतिथि शिक्षकों पर शुक्रवार को पुलिस ने लाठियां भांजीं। अतिथि शिक्षक रैली निकालकर विधानसभा का घेराव करने जा रहे थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें नीलम पार्क से आगे नहीं बढ़ने दिया। इसके बाद शिक्षक नारेबाजी करने लगे। इस पर पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। पुलिस ने करीब 84 अतिथि शिक्षकों को गिरफ्तार किया, जिन्हें देर रात रिहा कर दिया गया। गुरुवार से शाहजहांनी पार्क में प्रदर्शन कर रहे अतिथि शिक्षक शुक्रवार दोपहर करीब डेढ़ बजे रैली के रूप में विधानसभा की ओर बढ़े। समझाइश के बाद भी जब वे नहीं माने तो पुलिस को हल्का बल प्रयोग करना पड़ा। प्रदेश भर से जुटे अतिथि शिक्षकों का कहना है कि लंबे समय से मांग करने के बाद भी सरकार उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दे रही है। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि उनकी मांगें नहीं मानी गईं तो सरकार को इसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं।
 
 आगामी कार्यक्रम भी घोषित किए
 
रविवार को भोपाल में आमरण अनशन शुरू होगा।
 
सोमवार को महिला अध्यापक व अध्यापकों की पत्नियां भोपाल में 
प्रदर्शन करेंगी।
 
26 फरवरी से प्रांतीय पदाधिकारी प्रांत में, जिला पदाधिकारी जिलों में और ब्लॉक पदाधिकारी ब्लॉकों में एक साथ आमरण अनशन शुरू करेंगे। इसी दौरान जिलावार धरना भी शुरू हो जाएगा जो 10 मार्च तक जारी रहेगा।
 
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
7 + 10

 
विज्ञापन
 
Ethical voting

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

बिज़नेस

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment