Home » National » Latest News » National » Afzal Guru News

अफजल गुरु का शव कश्मीर भेजने को तैयार

गोविंद चौहान/विनीता पांडेय | Feb 18, 2013, 08:09AM IST
जम्मू/नई दिल्ली. संसद पर हमले के लिए मौत की सजा पा चुके अफजल गुरु को फांसी दिए जाने के विरोध में कश्‍मीर के अलगाववादी नेताओं ने शुक्रवार को कश्‍मीर को बंद रखने का निर्णय किया है। दिल्‍ली में नजरबंद सैयद अली शाह गिलानी ने बंद की घोषणा की है। उन्‍होंने क‍हा कि हमारे पास कोई विकल्‍प नहीं बचा है। इसलिए हमें अफजल गुरु की फांसी के विरोध में सड़क पर उतरना होगा। उधर, डीएमके प्रमुख एम करुणानिधि ने मांग की है कि देश से मौत की सजा को हमेशा के लिए खत्‍म कर देना चाहिए। 
 
इन सबके बीच, अफजल ने 9 फरवरी को फांसी दिए जाने से कुछ समय पहले उर्दू में 10 लाइनों की एक चिट्ठी अपनी पत्नी के नाम लिखी थी। चिट्ठी में अफजल ने इस बात के लिए खुदा का शुक्रिया अदा किया था कि 'ऐसी अहमियत और कद' के लिए उसे चुना गया। अफजल ने चिट्ठी में अपने परिवार से अपील की थी कि शोक मनाने की जगह उन्हें इसका (फांसी का) सम्मान करना चाहिए। चिट्ठी में अफजल ने ऊपर तारीख के तौर पर 09-02-2013 लिखा और समय के रूप में 6.25 बजे दर्ज किया। 
 
चिट्ठी में अफजल ने परिवार के लिए कोई निजी संदेश नहीं लिखा बल्कि सत्य और इंसाफ की ही बातें कीं। अफजल ने लिखा, 'अल्लाह का लख-लख शुक्रिया कि उसने मुझे इस कद के लिए चुना। ऐसा मानने वालों को मेरी मुबारकबाद। हम सब लोग सच और इंसाफपसंदी के लिए हमेशा खड़े रहे और हमारा अंत भी सच और इंसाफ की राह पर होना चाहिए। अपने परिवार से मेरी प्रार्थना है कि गम में डूबने की जगह उन्हें उस कद का सम्मान करना चाहिए जो मुझे मिला है। अल्लाह तुम्हारा सबसे बड़ा रक्षक और मददगार है।' 
 
अफजल की चिट्ठी के मतलब के बारे में जब उसके रिश्तेदार यासिन से पूछा गया तो उसने कहा, 'यह कश्मीर के लोगों पर निर्भर है कि वह इसका क्या मतलब समझते हैं।' वहीं, हुर्रियत नेता मोहम्मद अशरफ सहराई ने अफजल की चिट्ठी को 'संघर्ष के जीवन की एक थाती' करार दिया। सहराई के मुताबिक, 'चिट्ठी से साफ है कि फांसी पर चढ़ने से पहले उसे कोई पछतावा नहीं था और वह संतुष्ट होने के साथ ही शुक्रमंद था। अफजल ने कश्मीर को यह संदेश दिया है कि सच के लिए संघर्ष करते रहो।' 
 
अफजल के भाई यासीन गुरु ने मीडिया को बताया कि यह चिट्ठी उन्‍हें दो दिन बाद मिली, लेकिन इसे कुछ दिन बाद खोला गया और इसे खोलते ही पूरा परिवार रो पड़ा था।
 

(तस्वीर में: अफजल की आखिरी चिट्ठी जिसमें लिखा था,
 
'सुबह के 6: 25                          9.2.2013 
 
बिस्मिल्लाहिर्रहमानअर्रहीम
मोहतरम अहले ख़ाना (परिवार) और अहले ईमान (ईमान वालों) अस्सलाम अलैकुम. 
अल्लाह पाक का लाख शुक्रिया कि उसने मुझे इस मुक़ाम के लिए चुना. बाक़ी मेरी तरफ़ से आप तमाम अहले ईमान (ईमान वालों) को भी मुबारक हो कि हम सब सच्चाई और हक़ के साथ रहे और हक़ो सच्चाई की ख़ातिर आख़िरत हमारा इख़्तिताम (अंत) हो - अहले ख़ाना को मेरी तरफ़ से गुज़ारिश है कि मेरे से इख़्तेताम (अंत) पर अफ़सोस की बजाए वो इस मक़ाम का एहतराम (सम्मान) करें. अल्लाह पाक आप सबका हाफ़िज़ ओ नासिर (सुरक्षा करने वाला और मददगार) है.
 
अल्लाह हाफ़िज़.')

 
 


18 फरवरी की खास खबरें


 


POLL : कौन होगा अगला पीएम: राहुल, मोदी, नीतीश या मायावती? क्लिक करें और बताएं


PHOTO: 8 बजे फांसी से पहले, 6.25 पर अफजल ने लिखा था यह आखिरी खत


चीन के पास दो गुना तो अमेरिका के पास है भारत से 15 गुना ज्यादा सोना


वेश्‍या का दर्द: जिस बेटे को दी इज्‍जत की जिंदगी, वह मां संग महसूस करता है 'बेइज्‍जती'


मोदी को 'कप्‍तानी' देने पर भाजपा तैयार! बेनी ने कहा- मैं हूं नरेंद्र मोदी का 'बाप'


कंगारुओं से पिटेंगे सचिन? लोकल गेंदबाजों ने तीन बार किया क्लीन बोल्ड




 

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
4 + 2

 
विज्ञापन
 
Ethical voting

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

बिज़नेस

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment