Home » National » In Depth » Cigar Wine And Balasaheb, All About His Dining And Wining Habits

सिगार, मटन बिरयानी और व्हाइट वाइन के दीवाने बालासाहेब

Mark Manuel | Nov 15, 2012, 16:55PM IST
सिगार, मटन बिरयानी और व्हाइट वाइन के दीवाने बालासाहेब
भारत में शायद ही ऐसा कोई पत्रकार हो जिसने अपने कॅरियर के दौरान कभी न कभी शिव सेना सुप्रीमो बाल ठाकरे (पढ़ें मातोश्री से लाइव अपडेट)का साक्षात्कार लेना न चाहा हो। मैं खुद को बाकियों से ज्यादा सौभाग्यशाली मानता हूं। मैंने बाल ठाकरे का साक्षात्कार एक नहीं, कई बार किया। अंतिम बार मैंने उनका साक्षात्कार शराब पीने के दौरान किया था। सही मायनों में यह साक्षात्कार कम और आपसी बातचीत ज्यादा थी, क्योंकि हम राजनीति से इतर भोजन, शराब और सिगार जैसे विषयों पर बात कर रहे थे।
 
सिगार बाल ठाकरे का नया शौक था। हमने क्रिकेट पर भी बात की क्योंकि यह उनकी पुरानी पसंद रहा है। बाल ठाकरे के पसंदीदा क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर और सुनील गावस्कर रहे हैं। दोनों मराठी हैं और बाल ठाकरे तो मराठी मानुष के हितों की ही बात हमेशा करते रहे हैं। उन्होंने दोनों की सार्वजनिक तौर पर निंदा और तारीफ, दोनों की। यह इस बात पर निर्भर करता था कि वे पाकिस्तान के खिलाफ कैसा खेल रहे हैं। बाल ठाकरे ने पाकिस्तान की क्रिकेट टीम को कभी पसंद नहीं किया।
 
मुझे याद है, उस समय भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका का दौरा कर रही थी। भारत के विकेट लगातार गिर रहे थे, गुस्साए बाल ठाकरे ने टीवी बंद कर दिया। बाहर नवरात्रि का जश्न जारी था। उन्होंने मजाकिया लहजे में टिप्पणी की, 'यहां लोग डांडिया खेल रहे हैं और वहां दक्षिण अफ्रीकी हमारी डंडियां बिखेर रहे हैं।' यह टिप्पणी करते वक्त उनके हाथ में दारू का गिलास था। बातचीत के दौरान उन्होंने अपना टेप रिकार्डर ऑन नहीं किया था। वो हमेशा इसे ऑन कर देते थे ताकि बाद में कोई पत्रकार उनकी बात को गलत तरीके से पेश न कर दे। बाल ठाकरे किसी के डर से ऐसा नहीं करते थे, उन्हें किसी का डर था भी नहीं, लेकिन खराब पत्रकारिता से उन्हें बहुत खीज होती है। उन्हें कई बार उन बयानों पर सफाई देने के लिए मजबूर किया जाता था जो उन्होंने कभी दिए ही नहीं थे और गलत तरीके से प्रकाशित किए गए थे। 
 
ये भी पढ़ें-
राज को भी नहीं है बाल ठाकरे के पास जाने की इजाजत!  
पढ़ें, बाल ठाकरे के 6 विवादित बयान 
ठाकरे और उनके पूरे कुनबे के बारे में जानिए
ठाकरे से जुड़े आठ विवाद
दिग्विजय ने पहले ही दे दी श्रद्धांजलि

बुधवार शाम से गुरुवार सुबह तक का अपडेट पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
कार्टूनिस्ट से 'हिन्दू ह्रदय सम्राट' बनने की कहानी
गया में शुरू हुई ठाकरे परिवार के जड़ की 'खोज'

 
 
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
2 + 4

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment