Home » National » Latest News » National » Citing Delhi Prison Manual, Centre To Reject Afzal Family's Plea For His Body

अफजल गुरु रहेगा तिहाड़ में दफ्न!

dainikbhaskar.com | Feb 15, 2013, 09:36AM IST
नई दिल्ली/श्रीनगर/जम्मू. संसद पर 2001 में हुए हमले के दोषी और बीते शनिवार को दिल्ली की तिहाड़ जेल में फांसी पर लटकाए गए अफजल गुरु के परिवार के लिए मुश्किलें खत्म होती नहीं दिख रही हैं। अफजल गुरु के शव की मांग कर रही उसकी पत्नी तबस्सुम और भाई की मांग को केंद्र सरकार दिल्ली जेल मैनुअल के आधार पर नामंजूर करने की तैयारी में है।
 
इस बीच, घाटी में अफजल गुरु की फांसी को लेकर तनाव है। सुरक्षा एजेंसियों के लिए शुक्रवार का दिन अहम है जब आशंका है कि जुमे की नमाज के बाद तनाव बढ़ सकता है। इसी के मद्देनजर कश्मीर घाटी में सेना को हाई अलर्ट पर रखा गया है। घाटी में तनावपूर्ण माहौल के बीच पाकिस्तान भी अपनी तरफ से अशांति फैलाने की पूरी कोशिश कर रहा है। पाकिस्तान ने राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में संघर्ष विराम का उल्लंघन किया। भारतीय जवानों ने एक घुसपैठिए को मार गिराया। पाकिस्तानी सेना की ओर से बताया गया है कि घुसपैठ में मारा गया शख्स उनका सैनिक था। पाकिस्तान ने उसके शव की मांग की है। भारतीय सेना ने कहा है कि घुसपैठिए के शव को पाकिस्तानी सेना के हवाले कर दिया जाएगा। वहीं, अफजल गुरु की दया याचिका ठुकराने वाले राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के पास गृह मंत्रालय ने सात मामले अंतिम फैसले के लिए भेजे हैं। इनमें नौ लोग दोषी हैं।
 
 
अफजल की पत्नी तबस्सुम ने गृह मंत्रालय को चिट्ठी लिखकर अपने पति के शव की मांग की है। इस चिट्ठी के साथ ही जम्मू कश्मीर सरकार की तरफ से भी एक चिट्ठी गृह मंत्रालय को भेजी गई है, जिसमें अफजल के शव को उसके परिजनों को सौंपने की मांग पर सकारात्मक तरीके से विचार करने की अपील की गई है। दोनों चिट्ठियां गृह मंत्रालय पहुंच चुकी हैं। लेकिन अफजल के शव की मांग कर रहे परिवार को निराश होना पड़ सकता है। दरअसल, केंद्र सरकार दिल्ली जेल मैनुअल के उस प्रावधान का सहारा लेकर इस मांग को ठुकराने की तैयारी में है, जिसके मुताबिक मानव शरीर, किसी की भी संपत्ति नहीं हो सकती है। अफजल गुरु को फांसी दिए जाने के तुरंत बाद ही जेल के भीतर दफना दिया गया था। 
 
दिल्ली जेल मैनुअल के मुताबिक किसी कैदी का शव उसके परिजनों या मित्रों को तभी सौंपी जा सकता है जब उस पर दावा अंतिम संस्कार से पहले किया गया हो। शव को दफनाने के बाद अगर मृत कैदी के परिवार वाले या दोस्त शव की मांग करते हैं तो इसे पुलिस कमिश्नर के पास भेजा सकता है। तब पुलिस कमिश्नर विभिन्न कारकों पर विचार करते हैं। इनमें अहम कारक हैं-क्या कैदी की मौत किसी छुआछूत की बीमारी से हुई है या उसकी मौत को कितना वक्त बीत चुका है और क्या उसका शव आसानी से सुरक्षित कब्र से बाहर निकाला जा सकता है या नहीं? इन सवालों के आधार पर ही कमिश्नर निर्णय लेता है। अगर जेल प्रशासन को यह लगे कि शव के अंतिम संस्कार के दौरान विरोध प्रदर्शन हो सकता है तो शव को दफन किए जाने के पहले भी जेल प्रशासन शव की मांग को ठुकरा सकता है। 
 
 

(तस्वीर: तिहाड़ के जेल नंबर 3 की तरफ जाने वाला रास्ता, जहां अफजल को दफ्न किया गया) 
 

 
आगे की स्लाइड में पढ़िए, अफजल गुरु की फांसी के बाद कैसे हैं कश्मीर में हालात: 
 

15 फरवरी की खास खबरें
 
बसंत पंचमी के शाही स्नान पर दिखा अलग नजारा
भोजशाला में सरस्‍वती पूजा के लिए जुटे हिंदू, दोपहर में नमाज
फाइनेंस मिनिस्टर नहीं ये 6 लोग मिलकर बनाते हैं 122 करोड़ का बजट
अमेरिकी संसद में बजा मोदी का डंका
दिल्‍ली में छह साल की बच्‍ची से रेप, फिर बुरी तरह पिटाई  
दलेर मेहंदी के फॉर्म हाउस पर लिया कब्जा
हेलिकॉप्‍टर घोटाले में जसंवत सिंह और बर्लुस्कोनी उतरे बचाव में 
 
 
अफजल से जुड़ीं खबरें पढ़ें: 
 

फांसी के बाद तीसरे दिन अफजल के घर पहुंची चिट्ठी 

पीओके में उठी कश्‍मीर की आजादी की मांग, अफजल की फांसी का 'बदला' लेने की तैयारी शुरू? 


INSIDE STORY: 'चिंतन' के बाद अफजल पर 'टॉप गियर' में आई थी सरकार!


फांसी के बाद नहीं छूट रहा अफजल के 'भूत' से पीछा


जानिए, किस तरह अफजल ने तिहाड़ में गुजारे 11 साल


गिटार पर गजल गाने वाले अफजल की जिंदगी का सच, जानिए


 

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
5 + 7

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment