Home » National » Latest News » National » Nationwide Strike On February 20

महंगाई के खिलाफ 20 को मजदूर संगठनों की हड़ताल

एजेंसी | Feb 17, 2013, 12:27PM IST
महंगाई के खिलाफ 20 को मजदूर संगठनों की हड़ताल
नई दिल्ली. 'निष्क्रियता' और श्रम कानूनों के कथित उल्लंघन के विरोध में 11 मजदूर संगठनों और श्रमिक महासंघों ने 20 फरवरी से दो दिन की राष्ट्रव्यापी हड़ताल का आह्वान किया है। एआईटीयूसी के महासचिव गुरुदास दासगुप्ता ने कहा, 'यह पहला मौका है जब सभी मजदूर संगठन दो दिन की हड़ताल के लिए एकसाथ आए हैं। सरकार ने आसमान छूती महंगाई, सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों में विनिवेश और श्रम कानूनों के गैर-कार्यान्वयन पर कोई क दम नहीं उठाया है।' उन्होंने कहा कि संगठनों ने हड़ताल पर जाने का फैसला इसलिए किया क्योंकि सरकार उनकी मांगों को सुनने को तैयार नहीं है। इस संबंध में हमारी मांगों का कोई जवाब नहीं दे रही है। उन्होंने कहा, 'श्रम मंत्री मल्लिकार्जुन खडगे ने 13 फरवरी को अंतिम क्षणों में जो बैठक बुलाई उससे हमारा हड़ताल पर जाने का इरादा और भी पक्का हो गया। सरकार श्रम मंत्रालय से जुड़े इन मामलों में से किसी को सुलझाने के लिए आगे नहीं आई।'
 
 
10 करोड़ कर्मचारी शामिल होंगे 
 
मजदूर संगठनों का दावा है कि हड़ताल में करीब 10 करोड़ कर्मचारी शामिल होंगे। उन्होंने कहा, ‘केंद्रीय मजदूर संगठनों को हड़ताल के कारण जनता को होने वाली परेशानी पर खेद है।’ हड़ताल का आह्वान भारतीय मजदूर संघ, इंडियन नेशनल ट्रेड यूनियन कांग्रेस, ऑल इंडिया ट्रेड यूनियन कांग्रेस, हिंद मजदूर सभा, सेंटर फॉर इंडियन ट्रेड यूनियन, ऑल इंडिया यूनाइटिड ट्रेड यूनियन सेंटर और इसी तरह के अन्य संगठनों ने किया है। एआईटीयूसी की राष्ट्रीय सचिव अमरजीत कौर ने कहा कि अगर सरकार ने हड़ताल पर कोई कदम नहीं उठाया तो मजदूर संगठन अपने आंदोलन को और तेज करेंगे। उन्होंने कहा, ‘अगर सरकार अब भी नहीं जागी और उसने हमारी आवाज नहीं सुनी तो इसे बढ़ाया जाएगा।’ मजदूर संगठन बोनस और प्रोविडेंट फंड पर लगी सीमा हटाने के साथ ही सब के लिए पेंशन की भी मांग कर रहे हैं। 
 
 
 
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
1 + 9

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment