Home » National » Latest News » National » News For Delhi Gang Rape

देश के लिए निर्णायक बनी दिल्ली की घटना

Dainik Bhaskar | Dec 29, 2012, 10:35AM IST
देश के लिए निर्णायक बनी दिल्ली की घटना
16 दिसंबर की रात दिल्‍ली में चलती बस में गैंगरेप की शिकार हुई लड़की जिंदगी की जंग तो हार गई है, लेकिन वह समाज और सिस्‍टम की आत्‍मा को झकझोर कर गई है। जब वह होश में आई थी तो उसका पहला सवाल यही था कि क्या दोषी पकड़े गए? जब उसे पता चला कि वे पकड़े जा चुके हैं तो पीड़िता ने अपनी मां से कहा था कि उन्हें फांसी दी जानी चाहिए। यानी पीड़िता की आखिरी इच्छा थी कि उसके साथ दुष्कर्म करने वालों को मौत की सजा मिले। 
 
उसकी आखिरी इच्‍छा पूरी कराने के लिए जनता ने मुहिम छेड़ रखी है। इस मुहिम ने सिस्‍टम को भी झकझोरा है और कुछ सकारात्‍मक उम्‍मीदें जगी हैं। इस मामले में तो अब बलात्‍कारियों पर हत्‍या का केस चलेगा और पुलिस-वकील के लिए उनके लिए कोर्ट से फांसी की सजा मांगने में अब कोई कानूनी अड़चन नहीं है। लेकिन बलात्‍कार के बाकी मामलों में भी उन्‍हें ऐसी सजा मिले कि हर किसी को सबक मिल जाए, इसकी तैयारी भी अब हो सकती है।
 
बलात्‍कारियों के लिए फांसी की सजा तो काफी कम हो सकती है। इससे तो एक झटके में ही उन्‍हें जिंदगी से मुक्ति मिल जाएगी और उस दर्द का अहसास तक नहीं होगा जिसके साथ वे पीडि़त को छोड़ जाएंगे। सवाल यह भी है कि क्‍या बलात्‍कारियों को फांसी दे देने भर से बलात्‍कार की घटनाएं रुक जाएंगी? एक डर यह भी है कि अगर ऐसा हो गया तो कहीं हर घटना के बाद बलात्‍कारी पीडि़ता का कत्‍ल ही न करने लग जाए? वैसे भी, भारत में केवल एक-चौथाई मामलों में ही बलात्‍कारियों को अदालत में दोषी साबित कराया जा सकता है और उन्‍हें सजा होती है।
 
ऐसे में क्‍या यह जरूरी नहीं है कि सजा ऐसी हो जिससे बलात्‍कारी नहीं, बल्कि बलात्‍कार को खत्‍म करने में मदद मिले? बलात्‍कार की शिकार लड़की का कोई गुनाह नहीं होता, लेकिन उसे जीवन भर घुट-घुट कर जीना पड़ता है। तो फिर, उसे इस हाल में पहुंचाने वाले बलात्‍कारी को इतनी आसानी से छुटकारा देना ठीक होगा? क्‍या उसे भी कुछ ऐसी सजा नहीं मिलनी चाहिए, जिससे वह जीवन भर खौफ के साथ शर्मिंदगी भरी जिंदगी जीकर अपने पाप का प्रायश्चित करने के लिए मजबूर हो और दूसरों को भी उसे देख कर अपराध नहीं करने की प्रेरणा मिले? ऐसे में अगर सजा के तौर पर ये कुछ विकल्‍प अपनाए जाएं तो इस उद्देश्‍य की प्राप्ति हो सकती है-
 
बलात्‍कारी को नपुंसक बना दिया जाए
समाज-परिवार से बहिष्‍कृत कर दिया जाए
उसके सिर पर 'बलात्‍कारी' का टैटू बनवा दिया जाए
उसे जीवन भर जेल में रखा जाए
उसे वृद्धाश्रम की सेवा करने की सजा दी जाए
 
आप इस बारे में क्‍या सोचते हैं? अपनी बात कमेंट बॉक्‍स में पोस्‍ट कर दुनिया भर के पाठकों तक पहुंचा सकते हैं और बलात्‍कारियों के लिए सही सजा तय कराने के हमारे अभियान में भागीदार बन सकते हैं...
 
आगे क्लिक कर जानें कि दैनिक भास्‍कर के महाअभियान का क्‍या हुआ असर...

 



यह भी पढ़ें
दिल्ली गैंगरेप : इलाज कर रही डॉक्टर ने बयां की दरिंदगी की असली कहानी!
हर 40 मिनट में एक बलात्‍कार, 25 मिनट में छेड़छाड़
गुस्से से बॉलीवुड, 'रेपिस्ट को मारो गोली, बना डालो नपुंसक'
जानिए, चरम बर्बरता की इस घटना पर सभ्य समाज की प्रतिक्रिया

बिगड़ रही है पीड़िता की हालत, खून में फैल गया है इंफेक्‍शन
पहचान परेड से इंकार, बाप बोला-बलात्‍कारी को फांसी पर चढ़ाओ

महिला वैज्ञानिक बोलीं- लड़की छह लोगों से घिर गई थी तो समर्पण क्यों नहीं कर दिया?


आठ दोस्तों के साथ किया पत्नी का गैंगरेप, नेता ने दी नसीहत- तन ढंक कर रखें लड़कियां


सिपाही की मौत पर कौन बोल रहा झूठ- चश्‍मदीद या दिल्‍ली पुलिस?


पुलिस की राय में इन कारणों से होते हैं रेप


पढि़ए- युवा क्रांति के सबक


'तिहाड़ में आरोपी को पिलाया पेशाब


'सख्‍त' कानून बनने के बाद भी बीवी से बलात्‍कार की रहेगी 'छूट'!



 


 

BalGopal Photo Contest
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
4 + 8

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

BalGopal Photo Contest

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment