Home » National » Latest News » National » Pakistan Broke The Ceasefire Agreement 26 Times In Last 5 Months

5 महीनों में 26 बार पाकिस्तान ने किया भरोसे का 'कत्ल'

dainikbhaskar.com | Jan 09, 2013, 12:43PM IST

नई दिल्ली. पाकिस्तान के नापाक इरादों की पोल खुलती जा रही है। पाकिस्तानी सेना ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) को पार करते हुए दो भारतीय जवानों को मारकर उनके सिर काट लेने पर देश में गुस्सा है। लेकिन यह कोई पहला मामला नहीं है। पाकिस्तान ने बीते पांच महीने में 26 बार भारत के भरोसे का कत्ल करते हुए युद्धविराम के समझौते को तोड़ा है। पाकिस्तान ने अगस्त, 2011 से लेकर जनवरी, 2013 के बीच हर महीने सीमापार से गोलीबारी की है या एलओसी को पार किया है।  

5 जनवरी, 2013 को पाकिस्तान ने पुंछ जिले की मेंढर तहसील के कृष्णा घाटी सेक्टर की पांच पोस्टों पर गोलीबारी की थी। वहीं, साल की शुरुआत में ही 1 जनवरी को पाकिस्तान की ओर से कृष्णा घाटी सेक्टर की तीन पोस्टों पर गोलीबारी की घटना सामने आई थी। वहीं, पिछले साल 30 दिसंबर को पुंछ जिले की तीन पोस्टों पर गोलीबारी की गई।

28 दिसंबर को कृष्णा घाटी सेक्टर की तीन पोस्टों पर पाक की तरफ से गोलीबारी हुई थी। 25 दिसंबर को भी कृष्णा घाटी सेक्टर में गोलीबारी। हिमाचल निवासी जवान शहीद हुआ था। 24 दिसंबर को पुंछ के बालाकोट सेक्टर में तीन पोस्टों पर गोलीबारी का मामला सामने आया था। 26 नवंबर को पुंछ जिले के कृष्णा घाटी सेक्टर की पांच पोस्टों पर गोलीबारी कर पाकिस्तान ने भरोसे को तोड़ा था। इस घटना से ठीक एक दिन पहले 25 नवंबर को पुंछ जिले के कृष्णा घाटी सेक्टर में भारत की दस पोस्टों पर ताबड़तोड़ गोलीबारी हुई थी। रॉकेट व मोर्टार भी दागे गए थे। 20 नवंबर को पुंछ के गुलपुर सेक्टर में गोलीबारी का मामला सामने आया था। 30 अक्टूबर को अरनिया सेक्टर में पाकिस्तान ने फायरिंग की थी। 29 अक्टूबर को पुंछ जिले के कृष्णा घाटी सेक्टर में चार पोस्टों पर गोलीबारी की गई थी। 18 अक्टूबर को पाकिस्तान ने आरएसपुरा सेक्टर में देर रात फायरिंग की थी। 17 अक्टूबर को देर रात पुंछ के कृष्णा घाटी सेक्टर और बलनोई सेक्टर में गोलीबारी की गई थी। 17 अक्टूबर को पाकिस्तान ने पुंछ सेक्टर में मोर्टार दागे व साढ़े तीन घंटे गोलीबारी की थी।


16 अक्टूबर को उड़ी में मोर्टार के साथ पाकिस्तान की ओर से तोप के गोले दागे गए थे। इसमें तीन भारतीय शहीद हुए थे। 28 सितंबर, 2012 को सांबा के चचवाल गांव में सीमा पर पाकिस्तानी सुरंग का खुलासा हुआ था। 17 अगस्त, 2012 को पाकिस्तान ने आरएसपुरा सेक्टर के अब्दुल्लियां में गोलीबारी की गई थी। 16 अगस्त को आरएसपुरा सेक्टर के अब्दुल्लियां में पाक गोलीबारी में बीएसएफ का जवान शहीद हुआ था। 15 अगस्त यानी स्वतंत्रता दिवस के मौके पर हीरानगर के पानसर, रठुआ और पहाड़पुर पोस्टों पर गोलीबारी। इसी दिन पाकिस्तान ने कृष्णा घाटी सेक्टर की तीन चौकियों पर जमकर गोलीबारी की थी। 11 अगस्त को रामगढ़ की नारायणपुर पोस्ट पर छोटे हथियार और मोर्टार से हमला हुआ था। 9 अगस्त को कश्मीर के गुरेज में घुसपैठ की कोशिश हुई थी, जिसे भारतीय सेना ने बहादुरी से नाकाम कर दिया था। इस दौरान एक जवान शहीद हुआ था। इसी दिन पुंछ में पाक सेना ने घुसपैठ करवाने के लिए कृष्णा घाटी सेक्टर में भारत की तीन पोस्टों पर दो घंटे गोलीबारी की थी। जबकि 6 अगस्त को पुंछ के गुंत्रिया सेक्टर में घुसपैठ करवाने के लिए पाक की गोलीबारी थी। इसी दिन हीरानगर की पहाड़पुर व पानसर पोस्ट पर पाकिस्तान की ओर से हुई गोलीबारी में बीएसएफ के दो जवान घायल हुए थे। जबकि 5 अगस्त को जम्मू में अरनिया सेक्टर की कोट कुब्बा पोस्ट पर पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी की गई थी।


'सब्र का इम्तिहान नहीं ले पाकिस्‍तान'


भास्कर हस्तक्षेप: ऐतबार का सिला यह तो ये सिलसिला ही खत्म हो


 


पढ़िए, 1971 के भारत-पाक युद्ध की कुछ अनसुनी कहानियां!
 
भारत-पाक में एटमी वार तो दुनिया झेलेगी कहर
 
पाकिस्तान का नया दुश्मन-राग
 
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
7 + 3

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment