Home » National » Latest News » National » Persons Behind Afzal Guru Hanging

कड़े फैसले के 4 बड़े किरदार

dainikbhaskar.com | Feb 10, 2013, 07:34AM IST

नई दिल्‍ली. आखिरकार अफजल गुरु को फांसी पर लटका दिया गया। ठीक उसी तरह जैसे 80 दिन पहले कसाब को फांसी दी गई थी। संसद पर हमले के दोषी अफजल को शनिवार सुबह 7.50 बजे फांसी दी गई और करीब 8:30 बजे
तिहाड़ के जेल नंबर तीन के पास दफन भी कर दिया गया। पूरे घटनाक्रम की वीडियो रिकॉर्डिंग भी की गई थी। इस पूरे घटनाक्रम के पीछे किसका हाथ रहा जानिए...



सोनिया गांधी जिन्होंने मंजूरी दी 
 
सोनिया गांधी ने 13 दिसंबर 2012 को गृहमंत्री से अफजल पर अपडेट मांगा था। उन्हें तेजी से मामला निपटाने को कहा था। 
 
जयपुर चिंतन शिविर के बाद ही भाजपा के हाथ से हर वो मुद्दा छीनने की रणनीति बनी जो चुनाव में नुकसान पहुंचा सकती थी। 
 
शुक्रवार को कांग्रेस कोर ग्रुप की बैठक में सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह से चर्चा के बाद शिंदे को हरी झंडी दे दी गई। 

गिटार पर गजल गाने वाले अफजल की जिंदगी का सच, जानिए




PHOTOS: फांसी का विरोध करने वालों की हुई पिटाई, मुंह पर कालिख भी पोती


परिवार ने मांगी कब्र पर इबादत की इजाजत



अफजल को फांसीः लश्‍कर ने दी बदले की चेतावनी
गुरु के चेहरे पर नहीं था कोई अफसोस, आखिरी 12 घंटों का ब्‍यौरा पढ़ें

अफजल को फांसी: शिंदे ने हड़बड़ में कर दी गड़बड़


फांसी से पहले अफजल ने मांगी थी कुरान, पढि़ए- उसके अंतिम पलों का ब्‍यौरा


तिहाड़ में ही दफन किया गया अफजल!


पाकिस्‍तान में बदले की भावना, उठी सरबजीत को फांसी की मांग


अंबानी ने दिया वैलेंटाइन को 400 करोड़ का गिफ्ट, शिल्पा को मिली3 करोड़ की अंगूठी


टाइमलाइन: संसद पर हमले से थर्रा उठा था देश



 

BalGopal Photo Contest
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
6 + 10

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

BalGopal Photo Contest

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment