Home » National » Latest News » National » Rekha Is Rahul's New Neighbour

रेखा होंगी राहुल गांधी की नई पड़ोसन

संतोष ठाकुर | Feb 09, 2013, 07:18AM IST
राज्यसभा सदस्य रेखा अब कांगे्रस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की नई पड़ोसन होंगी। लंबे इंतजार के बाद सिने तारिका, सांसद रेखा को सरकार ने अति-विशिष्ट तुगलक लेन पर टाइप 7 का 5 नंबर बंगला देने का फैसला किया है। यह बंगला कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के 12 तुगलक लेन के बंगले के बगल में है। 5 नंबर बंगला पहले राज्यसभा सदस्य, प्रसिद्ध क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर को देने का फैसला किया गया था। उनके लिए इस बंगले की सुरक्षा जांच भी की गई थी लेकिन इस आवंटन को लेकर जब मीडिया में खबरें उछलीं तो तेंडुलकर ने यह कहते हुए बंगला लेने से मना कर दिया कि वह होटल में रहेेंगे। रेखा को सांसद बनने के बाद बलवंत राय मेहता लेन पर 15 नंबर का बंगला आवंटित किया गया था। लेकिन इसमें भाजपा के एक पूर्व सांसद रहते थे। रेखा को यह बंगला वैकेशन बंगलों के नाम पर दिया गया था। 
 
इसका तात्पर्य था कि मौजूदा आवंटी के खाली करने के बाद उन्हें यह बंगला दिया जाएगा। लेकिन बंगला खाली नहीं हुआ तो उनके लिए नए बंगले की तलाश शुरू की गई। सूत्रों के मुताबिक यह तलाश 5 तुगलक लेन पर आकर खत्म हुई है। यहां पर फिलहाल भाजपा सरकार में खेल मंत्री रहे विक्रम वर्मा रहते हैं। 
 
केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि रेखा के प्रतिनिधियों की ओर से प्रारंभिक संस्तुति मिल गई है। उन्हें बताया गया है कि उन्हें वैकेशन आधार पर यह बंगला दिया जा रहा है। जब यह बंगला खाली हो जाएगा तो उन्हें यहां का दौरा कराकर उन कार्यों की सूची ली जाएगी, जो मरम्मत के लिहाज से वह जरूरी बताएंगी। हालांकि प्रथम बार के सांसद को टाइप 5 या 6 का बंगला दिया जाता है। लेकिन इस श्रेणी के बंगला खाली न होने और रेखा की प्रसिद्धी को देखते हुए उन्हें न केवल टाइप 7 का बंगला देने का फैसला किया गया बल्कि उनके लिए राहुल गांधी के साथ वाले बंगले को चिन्हित किया गया। एक अधिकारी ने कहा कि इसका एक उद्देश्य अनावश्यक भीड़ को उनके बंगले तक आने से रोकना भी है। ऐसे में राहुल गांधी के साथ ही कई महत्वपूर्ण लोगों के निवास वाले इस लेन पर उनके लिए बंगला तलाश किया गया है, जिससे आम लोगों की आवाजाही पर सुरक्षा का बैरियर रहे। 
 
यह सड़क और यह बंगला 
 
तुगलक लेन खासा महत्वपूर्ण है। यहां 12 तुगलक लेन में राहुल गांधी रहते हैं। 2 तुगलक लेन में पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल को उनके राष्ट्रपति भवन से विदा होने के बाद रिहाइश दी गई थी। इसी लेन में पेट्रोलियम मंत्री वीरप्पा मोइली भी रहते हैं। पूर्व केंद्रीय गृह सचिव जीके पिल्लई भी इसी लेन में रहते थे। हालांकि इस बंगले को लेकर यह संयोग है कि इसमें रहने वाले दो बड़े लोगों का देहांत सड़क दुर्घटना में हुआ। इनमें एक दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री और पूर्व केंद्रीय मंत्री साहिब सिहं वर्मा हैं जबकि दूसरे हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री बंसीलाल के पुत्र सुरेंद्र सिंह हैं। कहा जाता है कि शायद इसी वजह से सचिन तेंडुलकर ने बंगला लेने से मना किया। हालांकि तेंडुलकर ने कहा था कि वह होटल में रहने में सक्षम है और सरकार पर अनावश्यक आर्थिक बोझ नहीं बढ़ाना चाहते हैं। हर बंगले की देखरेख पर एक साल में सरकार करीब 2 लाख रुपए खर्च करती है। 
 
मुझे फिलहाल जानकारी नहीं- विक्रम वर्मा 
 
पूर्व खेल मंत्री विक्रम वर्मा ने दैनिक भास्कर से मप्र से बातचीत में कहा कि हाल में उनकी एंजियोप्लासटी हुई है। उन्होंने संपदा निदेशालय, केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय से मार्च तक इस बंगले में रिहाइश के विस्तार का अनुरोध किया था। अगर यह बंगला किसी को आवंटित कर दिया गया है तो वह संपदा निदेशालय से सूचना मिलते ही यथाशीघ्र इसे खाली कर देंगे। स्वास्थ्य कारणों से उन्होंने इस बंगले में रिहाइश रखी हुई है। 
  
KHUL KE BOL(Share your Views)
 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

Email Print Comment