Home » Rajasthan » Jaipur » News » Lock On The N-MART Showroom In Jaipur

जयपुर में भी N-MART के शोरूम पर ताला

Bhaskar News | Nov 13, 2012, 02:17AM IST
जयपुर में भी N-MART के शोरूम पर ताला
जयपुर.देशभर में ग्राहकों को रकम दोगुनी करने का झांसा देकर ठगी के आरोपों में फंसी कंपनी एन-मार्ट के जयपुर में स्थित शोरूम पर भी ताले लगे हैं। मानसरोवर रीको एरिया में गैलेक्सी मॉल की बिल्डिंग के ग्राउंड फ्लोर में स्थित कंपनी का शोरूम पिछले तीन दिन से बंद है। कंपनी ने शोरूम पर लगे सिक्यूरिटी एजेंसी को पिछले दो तीन माह से भुगतान नहीं किया है। बिल्डिंग का भी किराया बकाया है। 
 
ऐसे में ग्राहक आशंका जता रहे हैं कि कंपनी यहां से भी फरार हो गई है। हालांकि बंद शोरूम के बाहर सूचना चस्पा कर रखी है कि तकनीकी वजह से लेनदेन का काम बंद है। 
 
मुंबई कोर्ट में विचाराधीन मामले का हवाला देते हुए लिखा है कि हम ग्राहकों को सुविधा नहीं दे पा रहे हैं। इसके लिए खेद है। प्रदेश के अन्य जिलों में भी इस कंपनी का नेटवर्क है। 
 
यह जानकारी नहीं मिल पाई है कि जयपुर में कंपनी के कितने सदस्य हैं और उनकी कितनी रकम लगी है।
भास्कर टीम सोमवार शाम एन मार्ट के शोरूम पर पहुंची। 
 
बाहर तैनात सुरक्षा गार्ड मुकेश सोनी व दुर्गालाल ने बताया कि 10 अक्टूबर को शाम तक शोरूम खुला था। इसके बाद से शोरूम बंद है। उन्होंने बताया कि कंपनी ने उनकी सुरक्षा एजेंसी को पेमेंट भी नहीं किया है। ऐसे में उनका दो माह का वेतन भी अटका हुआ है। 
 
मॉल के मैनेजर ने बताया कि कंपनी ने पिछले तीन-चार महीनों का किराया भी नहीं चुकाया। उन्होंने बताया कि शोरूम में स्टॉक कम होने से छुट्टियों पर जाने की बात भी कह रहे थे। कंपनी का कोई भी अफसर वहां स्थिति स्पष्ट करने के लिए उपलब्ध नहीं था।
 
जयपुर सहित कई जिलों में नेटवर्क
 
देशभर में कंपनी के 147 मॉल हैं और 20 लाख से अधिक लोग इसके जाल में फंसे हैं। राजस्थान के जयपुर, कोटा, झालावाड़, भीलवाड़ा, अजमेर, जोधपुर, अलवर और हनुमानगढ़ सहित अन्य जिलों में इसका नेटवर्क हैं।
 
ऐसे करते थे ठगी
 
कंपनी ने लोगों से साढ़े पांच-पांच हजार लिए और चार साल में उन्हें 11 हजार रुपए करने का लालच दिया। हर महीने सामान खरीदने के लिए उन्हें 220 रुपए के 48 कूपन भी दिए गए। कंपनी का कहना था कि इन कूपनों के जरिए एनमार्ट के रिटेल शोरूम से मुफ्त में खरीदारी की जा सकेगी।
 
इसके अलावा चार साल तक हर माह 1,500 रुपए की क्रेडिट का लाभ भी ले सकेंगे। कुछ महीने तो ये सब चलता रहा। लेकिन अब एन-मार्ट के स्टोर बंद मिल रहे हैं। उन पर ताला लटका मिल रहा है।
 
अगस्त के महीने में एन-मार्ट की ओर से कंपनी के सीएमडी सीएमडी गोपाल शेखावत ने फेसबुक पर बयान जारी किया था। इसमें कहा गया था कि समस्या दो महीने में दूर कर ली जाएगी। 21 अगस्त के बाद तीन महीने बीत गए। लेकिन एन-मार्ट के स्टोर नहीं खुले। 10 नवंबर को एक बार फिर ट्विटर पर दावा किया गया था कि एक दिसंबर तक हालात सामान्य हो जाएंगे।
 
झूठी शान से बनाई छवि :
 
सूत्रों के मुताबिक मल्टी लेवल मार्केटिंग के तहत लोगों को फंसाने वाले शेखावत से जुड़े लोग शातिर ठग हैं। 
 
इन लोगों ने शेखावत की छवि धनकुबेर और राजनीतिज्ञ रूप से रसूखदार के रूप में बनाई थी। सूरत में लोग शेखावत के अतीत और वर्तमान से परिचित थे। इसलिए उसके गुर्गो ने बाहर के राज्यों में छवि बनाने का अभियान चलाया था। 
 
शेखावत हाथ में हीरे जड़ित सोने की अंगूठी, गले में सोने की ही मोटी चेन पहनता था। इसके करीबी लोग शेखावत को हेलीकॉप्टर और रॉल्स रॉयस का मालिक बताते थे। वे यह भी जोड़ते थे कि यह सब शेखावत ने मल्टी लेवल मार्केटिंग की कमाई के दम पर ही बनाया है।
 

बिल्डिंग का किराया कई माह से बकाया
 
 
देशभर में ग्राहकों को झांसा देकर ठगी का शिकार बनाने वाली कंपनी एन-मार्ट के जयपुर शोरूम पर ताले लग गए हैं। मानसरोवर रीको एरिया में गैलेक्सी मॉल की बिल्डिंग के ग्राउंड फ्लोर में कंपनी का शोरूम तीन दिन से बंद है। 
 
जानकारी मिली है कि कंपनी ने शोरूम पर लगे सिक्यूरिटी एजेंसी को दो-तीन माह से भुगतान नहीं किया है। इसके अलावा बिल्डिंग का भी किराया बकाया चल रहा है। ऐसे में ग्राहक आशंका जता रहे है कि कंपनी यहां से भी फरार हो गई है। हालांकि बंद शोरूम के बाहर सूचना चस्पा कर रखी है कि तकनीकी वजह से लेनदेन का काम बंद है। 
 
मुंबई कोर्ट में विचाराधीन मामले का हवाला देते हुए लिखा है कि हम ग्राहकों को सुविधा नहीं दे पा रहे हैं। इसके लिए खेद है। 
 
भास्कर टीम सोमवार शाम मानसरोवर रीको एरिया में गैलेक्सी मल्टीप्लेक्स में बने एन-मार्ट के शोरूम पर पहुंची। 
 
ग्राउंड फ्लोर में दरवाजे बंद थे। वहां दो कागज चस्पा थे। जिस पर लिखा था कि साइट सर्वर डाउन होने के कारण हम एन-मार्ट वाउचर स्वीकार नहीं कर रहे हैं। शोरूम के गेट के बाहर ड्यूटी पर तैनात सुरक्षा गार्ड मुकेश सोनी व दुर्गालाल ने बातचीत में बताया कि 10 नवंबर को शाम तक शोरूम खुला था। इसके बाद अगले दिन ड्यूटी पर पहुंचे। तब शोरूम बंद होने का पता चला। 
 
गार्डो ने बताया कि कंपनी ने उनकी सुरक्षा एजेंसी को पेमेंट का भुगतान नहीं किया। इससे उनका दो माह का वेतन भी अटक गया। मॉल मैनेजर ने बताया कि कंपनी ने तीन-चार महिनों का किराया भी नहीं चुकाया। शोरूम में स्टॉक कम होने से छुट्टियों पर जाने की बात भी कह रहे थे। कंपनी का कोई भी अफसर वहां स्थिति स्पष्ट करने के लिए उपलब्ध नहीं था।
 
हवाई सपने दिखाकर ठगी
 
एन मार्ट यानी न्यू लुक मल्टीट्रेड प्रा.लि. के सीएमडी गोपालसिंह शेखावत ने भी ठगी करने का नया तरीका नहीं निकाला। उसने भी दूसरी चिटफंड कंपनियों की तरह निवेशकों को महंगी लग्जरी कार, हवाई जहाज खरीदने, आकर्षक स्कीम के सपने दिखाकर उनसे रुपए वसूले।  मात्र 5500 रुपए में अपनी मल्टीट्रेड कंपनी का सदस्य बनाकर लोगों को आकर्षक स्कीमों का लाभ देने का झांसा दिया। 
 
इनमें चार साल बाद 11 हजार रुपए का लायल्टी बोनस, हर महीने आजीवन रायल्टी देने के वादे कर लोगों के साथ ठगी की। हवाई जहाज, 3 करोड़ रुपए की लग्जरी कार खुद के लिए खरीदी लेकिन आम आदमी को उसका मालिक बनने का सपना दिखाया। निवेशक इस झांसे में आ गया और अपनी लाखों रुपए की पूंजी गंवा बैठे। 
 
यह था ठगी का प्लान
 
खुद को रीयल स्टेट, कमोडिटी ट्रेडिंग, रिटेल स्टोर का संचालन करने एन मार्ट कंपनी का ठगी का प्लान दो पार्ट में था। पहपे पार्ट में निवेशक से 5500 रुपए जमा कराए जाते थे। 
 
बदले में कंपनी एक साल में 220 रुपए के 12 कूपन देती थी जिसकी कीमत 2640 रुपए होती थी। दूसरे पार्ट में एक साल बाद सौ रुपए के स्टाम्प पेपर पर निवेशक से एग्रीमेंट किया जाता था जिसमें 220 रुपए महीने के 36 वाउचर देने का वादा किया जाता था जिनकी कीमत 7920 रुपए बताई जाती थी। 
 
ग्रुप में 100 सदस्य बनने पर 60 हजार रुपए देने का वादा किया जाता था। इन सबके अलावा चार साल पूरे होने पर कंपनी प्रति व्यक्ति 11 हजार रुपए लायल्टी बोनस देने का वादा किया जाता था।
 
 
ब्लॉग में दावा, 16 को बताएंगे सच्चाई
 
 
ब्लॉग में 11 नवंबर को अपने को कंपनी का सहयोगी बताने वाले जितेन्द्र दुबे ने एन मार्ट की स्थिति स्पष्ट की है जिसमें बताया है कि कंपनी ने उनसे कोई ठगी नहीं की है। 
 
कंपनी अपने सारे वादे पूरे करेगी। साथ ही कंपनी के सीएमडी गोपालसिंह शेखावत 16 नवंबर को अपने साथियों के साथ इस पूरे मामले में मीडिया के सामने उपस्थित होकर सच्चाई बताएंगे।
 
ऐसे खुला मामला
 
कंपनी के ही ब्लाग के अनुसार हैदराबाद में एक एनजीओ कॉरपरेरेट फ्रॉड वाच ने अगस्त में कंपनी के खिलाफ द प्राइज चिट एंड मनी सकरुलेशन स्कीम (बैन) एक्ट 1978 के तहत एफआईआर दर्ज कराई थी जिसमें कहा गया है कि कंपनी इस कानून के तहत निवेशकों से मनी सकरुलेशन से संबंधित कोई काम नहीं कर सकती। 
 
इसके बाद पुलिस ने रिटेल स्टोर बंद करा दिए हैं। इस एफआईआर के बाद कंपनी ने अपने पक्ष में बाम्बे हाईकोर्ट का एक फैसला होने का जिक्र किया जिसमें अपने मनी सकरुलेशन से संबंधित कार्य को कानूनी बताने का दावा किया गया है।
 
निवेशकों की कमाई रईसी में लुटाई
 
एन मार्ट के सीएमडी गोपालसिंह शेखावत ने निवेशकों की गाढ़ी पसीने की कमाई को जी खोलकर लुटाया। उसने 3 करोड़ रुपए में लग्जरी कार खरीद ली। महंगे होटलों में जाकर रहना, सेमिनार करना, सोने के आभूषण पहन कर अपनी रईसी का जम कर दिखावा किया। उसने निवेशकों को एयरवेज और मीडिया कंपनी खोलने का झांसा भी दिया।
 

 

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
2 + 9

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

Money

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment