Home » Rajasthan » Jodhpur » News » Promotion: 236 Third Grade Teacher Became Senior Teacher

पदोन्नति: 236 ग्रेड थर्ड शिक्षक बने वरिष्ठ अध्यापक

Bhaskar News | Dec 27, 2012, 05:21AM IST
पदोन्नति: 236 ग्रेड थर्ड शिक्षक बने वरिष्ठ अध्यापक
बीकानेर/जोधपुर.शिक्षा विभाग में उच्च पदों के बाद अब मंडलवार द्वितीय श्रेणी शिक्षक पदों की डीपीसी का काम शुरू हो गया है। बुधवार को कोटा मंडल में पांच विषयों की डीपीसी में 236 तृतीय श्रेणी शिक्षकों की पदोन्नति वरिष्ठ अध्यापक के पद पर हुई है। राजस्थान लोक सेवा आयोग के सदस्य पीके दसौरा की अध्यक्षता में कोटा उप निदेशक कार्यालय में हुई डीपीसी में वर्ष 2008-09 से 2010-11 के हिंदी, उर्दू, संस्कृत, गणित और सिंधी विषय के तृतीय श्रेणी शिक्षकों का चयन द्वितीय श्रेणी शिक्षक के पदों पर किया गया है। 
 
कोटा में बुधवार को इन वर्षो की कुल 14 डीपीसी हुई है। सामाजिक, विज्ञान और अंग्रेजी विषय के वरिष्ठ अध्यापकों की डीपीसी बाद में होगी। शासन उप सचिव शिक्षा ग्रुप दो महावीर स्वामी, डीओपी के प्रतिनिधि एनके गुप्ता, सदस्य सचिव उपनिदेशक कोटा मोहनलाल बनाड़ा तथा सदस्य के रूप में माध्यमिक शिक्षा निदेशक डॉ. वीना प्रधान भी मौजूद थी। 
 
इसके अलावा निदेशालय के संयुक्त निदेशक कार्मिक शिवजीराम और सहायक निदेशक विजय शंकर आचार्य को कोटा बुलाया गया था। शिक्षा निदेशक ने बताया कि द्वितीय श्रेणी शिक्षक पदों की डीपीसी अब मंडलवार की जाएगी। अन्य मंडलों में डीपीसी की तैयारी भी चल रही है। इस संबंध में सभी उपनिदेशक और जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देश जारी किए हैं।
 
मंडलवार प्रभारी नियुक्त  : 
 
द्वितीय श्रेणी शिक्षक पदों की डीपीसी के लिए मंडलवार प्रभारी नियुक्त किए गए हैं। माध्यमिक शिक्षा निदेशक डॉ. वीना प्रधान ने बताया कि सभी मंडल मुख्यालयों पर 28 और 29 दिसंबर को तृतीय श्रेणी शिक्षकों की वरिष्ठता सूचियां तैयार की जाएंगी। संबंधित जिशि अधिकारियों को रिकार्ड सहित मंडल मुख्यालय पहुंचना होगा। 
 
उपनिदेशक भी वहां मौजूद रहेंगे। निदेशालय के अधिकारी इसकी मॉनिटरिंग करेंगे। इसके लिए सहायक निदेशक सांग सिंह जोधपुर, सुभाषचंद्र महलावत जयपुर, घोष मोहम्मद अजमेर, राजकुमार सोनी कोटा, नरेन्द्र सोनी उदयपुर, संतोष सिंह भरतपुर और उमाशंकर किराड़ू को चूरू मंडल का प्रभारी बनाया गया है।
 
डीपीसी के लिए मंडल स्तर पर वरिष्ठता सूचियां बनाई जाएंगी। इनके आधार वर्ष 2008-09 से विषयवार डीपीसी की जाएगी। यहां यह विदित रहे कि पहले डीपीसी जिलेवार होती थी। वरिष्ठता सूचियां भी जिलेवार ही बनाई जाती थी।
 
52 अभ्यर्थी बनेंगे तृतीय श्रेणी शिक्षक
 
आरपीएससी से चयनित 52 अभ्यर्थी अब शीघ्र ही तृतीय श्रेणी शिक्षक बनेंगे। राज्य सरकार से पदों की मंजूरी मिलने के बाद इनकी नियुक्तियों का रास्ता साफ हो गया है। तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती 2006-07 के तहत कई अभ्यर्थी नियुक्तियां नहीं मिलने के कारण हाईकोर्ट में चले गए थे। कोर्ट अब तक करीब पौने दो सौ अभ्यर्थियों के मामलों में सरकार को नियुक्तियां देने के आदेश दे चुकी है। इन अभ्यर्थियों की सूचियां भी तैयार हैं। सरकार ने फिलहाल 52 पदों के लिए स्वीकृति जारी की है। 
 
निदेशालय ने इन अभ्यर्थियों को नियुक्तियां देने की तैयारी शुरू कर दी है। अब इन्हें शीघ्र ही जिला आबंटित करने की कार्रवाई की जाएगी। उसके बाद जिला शिक्षा अधिकारी नियुक्ति आदेश जारी करेंगे। यह अभ्यर्थी पिछले पांच साल से नौकरी के लिए संघर्ष कर रहे हैं।
 
पातेय वेतन के व्याख्याताओं को बोनस
 
शिक्षा विभाग में वर्ष 2008 में द्वितीय श्रेणी शिक्षक से पातेय वेतन पर बने व्याख्याताओं को भी बोनस मिलेगा। माध्यमिक शिक्षा निदेशक डॉ. वीना प्रधान ने इस संबंध में आदेश जारी किए हैं। पातेय वेतन के व्याख्याता इन दिनों उच्च माध्यमिक स्कूलों की 11वीं और 12वीं कक्षा को पढ़ा रहे हैं लेकिन उन्हें वेतन द्वितीय श्रेणी के पद का ही मिल रहा है। 
 
शिक्षा निदेशक ने इन्हें पूर्व के पद के समस्त परिलाभ देने का हवाला भी आदेश में दिया है।इससे पूर्व पातेय वेतन पर प्रधानाध्यापकों को भी बोनस देने के आदेश दिए गए थे। उसके बाद शिक्षक संगठनों ने पातेय वेतन व्याख्याताओं को भी बोनस देने की मांग की थी।
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
5 + 2

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment