Home » Rajasthan » Pali » न्यूरोलॉजिस्ट करते हैं जहर से नसों का उपचार

न्यूरोलॉजिस्ट करते हैं जहर से नसों का उपचार

Matrix News | Jul 30, 2012, 01:19AM IST
बोटोक्स से लकवे व सेरिब्रल पाल्सी के मरीजों का उपचार
भास्कर न्यूज-!- जोधपुर
दुनिया में सबसे तेज जहर में से एक क्लॉस्ट्रिडियम बोटूलिनम, जिससे फूड पॉइजनिंग होने से जान चली जाती है, प्रचलित भाषा में इसे दवाई का रूप देकर बोटोक्स के नाम से जाना जाता है। सामान्यतया बोटोक्स का उपयोग कॉस्मेटिक सर्जरी में ही होता है। चेहरे की झुर्रियां मिटाने के लिए डॉक्टर इसके इंजेक्शन लगाते हैं, लेकिन इससे भी 'यादा उपयोग नसों की बीमारियों में होता है। खास तौर से न्यूरोलॉजिस्ट इसका उपयोग लकवे, सेरिब्रल पाल्सी, शरीर में किसी प्रकार की ऐंठन, अकडऩ, लगातार आंखों का झपकने या चेहरे पर किसी प्रकार खिंचाव या हाइपर एक्टिविटी के उपचार में करते हैं। उपचार भी कारगर साबित हो रहा है। सतत चिकित्सा शिक्षा ((सीएमई)) में भाग लेने जोधपुर आए अहमदाबाद के अपोलो अस्पताल के न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. मुकेश शर्मा ने रविवार को प्रेसवार्ता में बताया कि मसल्स रिलेक्स करने के लिए बोटोक्स का उपयोग किया
जाता है।

नसों की स्थिति के आधार पर ही बोटोक्स की डोज दी जाती है। इसका असर छह माह तक रहता है। इसके बाद मरीज को वापस इंजेक्शन लगवाना पड़ता है।
सेरिब्रल पाल्सी में फायदेमंद :
डॉ. शर्मा ने बताया कि सेरिब्रल पाल्सी में ब'चों के शरीर के अंग अकड़ जाते हैं। ऐसे में बोटोक्स की डोज उनकी नसों को रिलेक्स करती है। इससे अंगों में जहां नसों की अकडऩ से रुकावट होती है, वह धीरे-धीरे खत्म होने लगती है। इस दौरान मरीज को फिजियोथेरेपिस्ट की देखरेख में कसरत कराने से फायदा पहुंचता है। ऐसे मरीजों को लगातार डोज देने की जरूरत नहीं पड़ती। इसी तरह से लकवे से उभरने के बाद मरीज के अंगों को सामान्य बनाने में इसका उपयोग किया जाता है।
Ganesh Chaturthi Photo Contest
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
10 + 7

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

Ganesh Chaturthi Photo Contest

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment