Home » Rajasthan » Ajmer » Pushkar Resident Rupee Unwilling To Take A Lease

जब ढहा आशियाना तो फूट पड़े आंसू!

Bhaskar News | Dec 12, 2012, 06:27AM IST
जब ढहा आशियाना तो फूट पड़े आंसू!

अजमेर.वन कार्मिकों ने बुधवार को महुआ बीड़ और अंदरकोट वन क्षेत्रों में कार्रवाई कर अतिक्रमण ध्वस्त किए। वन विभाग के दल को स्थानीय लोगों के विरोध का भी सामना करना पड़ा। डीएफओ राजीव चतुर्वेदी को सूचना मिली थी कि अंदरकोट वन खंड के नागफणी क्षेत्र और महुआ बीड़ वन खंड में रामदेव नगर में अतिक्रमण किए जा रहे हैं। चतुर्वेदी ने रेंजर ठाकरा राम की अगुवाई में एक दल गठित कर मौके पर भेजा। दल पहले नागफणी पहुंचा। 


 


विभागीय सूत्रों के मुताबिक यहां दो कमरे बनाए जा रहे थे। एक कमरा बन चुका था और दूसरे की दीवार बनाई जा रही थी। फॉरेस्टर मुल्केश सालवान, फॉरेस्टर शंकर सिंह, तारागढ़ वन चौकी प्रभारी सैयद रब नवाज जाफरी, गोपाल सिंह, सुरेंद्र कुमार, कर्ण सिंह, मिट्ठू और जयसिंह पंवार आदि ने इन अतिक्रमणों को ढहाया। बाद में यह दल रामदेव नगर पहुंचा।


 


यहां भी किए जा रहे अतिक्रमण को तोडऩे की कार्रवाई शुरू की। जैसे ही वनकर्मी मकान तोडऩे लगे, महिलाएं और बच्चे विरोध में आ गए। वनकर्मियों को खरीखोटी सुनाई और पक्षपात करने के आरोप लगाए। लेकिन वनकर्मियों ने लोगों की एक नहीं सुनी और अतिक्रमण हटा दिए। विभागीय सूत्रों का कहना है कि इन अतिक्रमणकर्ताओं की ओर से हाल ही में ताजा निर्माण किए जा रहे थे।



आशियाने उजड़े, बिलख पड़े



इधर जिन परिवारों के अतिक्रमण तोड़े गए वे गरीब परिवारों से थे। एक ही झटके में उनकी उम्र भर की जमा पूंजी नष्ट हो गई। आशियाने उजड़ते देख परिवार की महिलाएं बिलख पड़ीं। पड़ोसी उन्हें सांत्वना देते नजर आए। इन परिवारों के सामने चिंता यही थी कि अब ठंड के मौसम में कहां आसरा मिलेगा।

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
2 + 9

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment