Home » Rajasthan » Udaipur » Police Have Been Planned And That Incident!

पुलिस पकड़ने की प्लानिंग कर रही है और वो दे रहा है वारदातों को अंजाम!

Bhaskar News | Dec 08, 2012, 04:37AM IST
पुलिस पकड़ने की प्लानिंग कर रही है और वो दे रहा है वारदातों को अंजाम!

उदयपुर.पुलिस कुख्यात अपराधी आजम को पकडऩे की छह माह से प्लानिंग ही कर रही है और वो वारदात को अंजाम देता आ रहा है। उसके गुर्गे शहर के पैसे वाले लोगों के नाम व मोबाइल नंबर उस तक पहुंचा रहे हैं और वो उन्हें लाखों की रुपए देने की धमकियां दे रहा है। होटल व्यवसायी की हत्या की साजिश रचते गिरफ्तार हुए चार बदमाशों से भी पुलिस ज्यादा सच नहीं उगलवा सकी।


 


खुफिया पुलिस का मानना है कि सोहराबुद्दीन फर्जी एनकाउंटर मामले में सीबीआई का मुख्य गवाह होने से उसमें पुलिस का भय नहीं है। अब तक जिन भी व्यापारियों को मिले धमकी भरे फोन की कॉल डिटेल के मुताबिक आजम ने मुंबई से ही फोन किए हैं। इसके बावजूद पुलिस उस तक नहीं पहुंच पा रही है।


आजम और अयूब शाह ने किए कई फोन


पुलिस ने तर्क दिया था कि आजम अलग-अलग क्षेत्रों के एसटीडी बूथ से फोन कर लोगों को धमकी दे रहा है, ऐसे में उसकी लोकेशन ट्रेस नहीं हो पा रही है, जबकि व्यापारी प्रमोद छापरवाल की हत्या की साजिश रचने के दौरान आजम और अयूब शाह ने कई बार मोबाइल नम्बर से अपने गुर्गों को फोन किया, इसके अलावा जुलाई में सर्वऋतु विलास निवासी व्यापारी प्यारेकृष्ण पुत्र गोपी चंद ने थाने में आजम द्वारा धमकी मिलने का मामला दर्ज कराया था। व्यापारी के पास आया यह फोन भी मोबाइल नम्बर से किया हुआ था।


 


सीबीआई भी रख रही है नजर



शहर के व्यापारियों को आजम द्वारा दी जा रही धमकियों पर सीबीआई अधिकारी भी नजर रखे हुए हैं। हालाकि इस बारे में सीबीआई अफसर कुछ भी टिप्पणी करने से बच रहे हैं। उनका कहना है कि अगर कोई अपराध करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। पुलिस को इन सभी मामलों में स्पष्ट जांच करनी चाहिए।


'कानूनीरूप से जितना कर सकते हैं, कर रहे हैं। आजम का स्थानीय किसी व्यक्ति से लिंक बैठता है या भूमिका सामने आती है, तो उसे पकड़ सकते हैं।लेकिन सिर्फ शक के आधार पर किसी को गिरफ्तार नहीं कर सकते हैं।'



तेजराज सिंह, एडि. एसपी (सिटी)


 


अपराधियों की पुलिस से रही है मिलीभगत



शहर के कई शातिर अपराधियों की पुलिस से मिलीभगत रही है। थानों व पुलिस नियंत्रण कक्ष पर तैनात पुलिसकर्मी इन अपराधियों को पुलिस की जानकारी देते रहे हैं। सीबीआई जांच में भी शातिर अपराधी सोहराबुद्दीन के गुजरात में पुलिस के आला अफसरों से ताल्लुकात थे जो उसे वसूली में मदद करते थे। वर्ष 2000 से पहले शहर के कुख्यात अपराधी सिराज के पुलिसकर्मियों व अफसरों से ताल्लुकात थे।

BalGopal Photo Contest
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
7 + 1

 
विज्ञापन

क्राइम

बड़ी खबरें

BalGopal Photo Contest

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment