Home » Science And Technology » Tropical Ants Use Magnetic Compass To Get Home

चीटियों के बारे में सामने आई एक बेहद चौंकाने वाली रिसर्च

Agency | Mar 14, 2012, 11:55AM IST
चीटियों के बारे में सामने आई एक बेहद चौंकाने वाली रिसर्च
बर्लिन. मरुस्थल में भोजन की तलाश में निकलने वाली चीटियां रेत पर निशान नहीं रहने के बावजूद लौटते वक्त अपने घर (बांबी) का पता लगा लेती हैं और इसमें उन्हें मदद मिलती है पृथ्वी के चुम्बकीय संकेतों से। जर्मनी में मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट फॉर केमिकल इकोलॉजी के वैज्ञानिकों के अनुसार, दृश्य संकेतों तथा महक के अतिरिक्त वे चुम्बकीय तथा कम्पन के संकेतों से भी अपनी बांबियों का पता ढूंढ लेती हैं।

चीटियों के लिए लौटते वक्त अपनी बांबी में ही लौटना जीवन-मरन का सवाल होता है, क्योंकि यदि वे गलती से भी किसी अन्य बांबी में घुस जाती हैं तो वहां की चीटियां उन्हें मार डालती हैं या उन पर हमला कर देती हैं।

वैज्ञानिकों ने अध्ययन के जरिये यह पता लगाने का प्रयास किया था कि क्या चीटियां अन्य संकेतों के अभाव में पृथ्वी के चुम्बकीय व तरंगीय संकेतों से भी अपनी बांबियों का पता लगा सकती हैं?

अध्ययनकर्ता कॉर्नेलिया बूहमैन के अनुसार, "हम यह देखकर हैरान रह गए कि ऐसा होता है।"

मैक्स प्लैंक की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि चीटियों को अपने साथियों द्वारा सांस लेने के क्रम में छोड़े जाने वाले कार्बन डाइऑक्साइड की महक से भी बांबियों का पता ढूंढ़ने में मदद मिलती है।

इस अध्ययन से यह भी पता चलता है कि चीटियों में प्रतिकूल परिस्थितियों में भी खुद को ढाल लेने का कौशल होता है। इसके अतिरिक्त उनमें भी पक्षियों की तरह पृथ्वी के तरंगों को भांप लेने की क्षमता होती है।
BalGopal Photo Contest
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
5 + 9

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

BalGopal Photo Contest

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment