Home » Personal Finances » Investment » आकर्षक हैं कम अवधि के एफडी

आकर्षक हैं कम अवधि के एफडी

बिजनेस भास्कर नई दिल्ली | Nov 08, 2012, 02:05AM IST
आकर्षक हैं कम अवधि के एफडी

संभव है आपने छह महीने या उससे अधिक अवधि के किसी आर्थिक लक्ष्य के लिए पैसे जुटा लिए हों और आपके यह पैसे बैंक के बचत खाते में सुरक्षित हों। लेकिन कितना अच्छा हो अगर इसी कम अवधि के दौरान आपको बचत खाते की तुलना में ज्यादा ब्याज मिले! आप चाहें तो अपने पैसों का निवेश म्यूचुअल फंडों के लिक्विड फंडों में कर सकते हैं जहां न एंट्री लोड लगता है और न ही एक्जिट लोड।


लेकिन क्या बैंकिंग प्रणाली के साथ बने रहते हुए भी बेहतर रिटर्न पाना संभव है? कुछ बैंक बचत खाते में एक लाख रुपये से अधिक के जमा पर सालाना 6 फीसदी तक का ब्याज दे रहे हैं। यह विकल्प भी ज्यादा फायदे का नहीं है अगर इसकी तुलना कम अवधि के फिक्स्ड डिपॉजिट से की जाए।


अल्पावधि के एफडी
छह महीने से अधिक और एक साल से कम अवधि के फिक्स्ड डिपॉजिट पर बैंक अच्छे ब्याज दरों की पेशकश कर रहे हैं। यह बचत खातों पर कुछ बैंकों द्वारा दिए जा रहे ब्याज दर से कहीं अधिक है। सरकारी बैंक छह महीने से अधिक और एक साल से कम अवधि के फिक्स्ड डिपॉजिट पर इन दिनों आकर्षक ब्याज दे रहे हैं।


उदाहरण के तौर पर स्टेट बैंक ऑफ पटियाला इस अवधि के लिए 8.50-10.00 प्रतिशत, आईडीबीआई बैंक 8.75-8.90 प्रतिशत, इंडियन बैंक 7.50-9.25 प्रतिशत और सिंडिकेट बैंक 8.00-8.75 प्रतिशत ब्याज दे रहे हैं।


अनफिक्स्ड एफडी
लिक्विड फंडों की तरह ही देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने अनफिक्स्ड एफडी  की शुरुआत की थी। अगर आपको एफडी की निर्धारित अवधि के भीतर ही पैसों की जरूरत पड़ जाए और एफडी तुड़वानी पड़े तो पेनाल्टी देनी होती है। एसबीआई का अनफिक्स्ड एफडी ऐसे निवेशकों के लिए आदर्श है। एसबीआई के सेवानिवृत्त चीफ जनरल मैनेजर भास्कर नियोगी कहते हैं कि निवेशकों को लिक्विड फंड जैसी सुविधा उपलब्ध कराने के लिए एसबीआई ने अनफिक्स्ड एफडी की शुरुआत की थी।


उन्होंने बताया कि 7 दिन से अधिक और 180 दिन तक की अवधि के अनफिक्स्ड एफडी पर बैंक 6.5 प्रतिशत का ब्याज दे रहा है। इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि अगर पैसों की निकासी 7 दिन बाद की जाती है तो कोई पेनाल्टी नहीं लगाई जाती है। घटती ब्याज दरों का असर भी निवेश की अवधि में नहीं होगा। मतलब आपके निवेश पर निवेश की अवधि के दौरान घटती ब्याज दरों का असर नहीं होगा।


फ्लेक्सी एफडी
इस एफडी की खासियत यह है कि जमाकर्ता को बचत या चालू खाते की लिक्विडिटी जैसी सुविधा के साथ-साथ एफडी का अधिक रिटर्न भी मिलता है। बचत खाते की एक राशि निर्धारित होती है। इससे अधिक राशि स्वत: ही फिक्स्ड डिपॉजिट में चली जाती है जिस पर बचत खाते की तुलना में अधिक रिटर्न मिलता है।


मान लीजिए आपने किसी को बचत खाते में जमा राशि से अधिक का चेक दिया, ऐसे मामले में आपके एफडी से पैसे निकल जाएंगे और शेष राशि पर एफडी का ब्याज मिलना जारी रहेगा। सामान्य शब्दों में कहें तो फ्लेक्सी एफडी बचत या चालू खाते को एफडी से जोडऩे जैसा है।

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
4 + 8

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment