Home » Chhatisgarh » Raipur » नसबंदी के लिए लगाया एक इंजेक्शन और सांसे ही हो गयी बंद

नसबंदी के लिए लगाया एक इंजेक्शन और सांसे ही हो गयी बंद

rakesh malviya | Dec 07, 2012, 12:57PM IST

रायगढ़। तमनार के सरकारी शिविर में नसबंदी से पहले जांच के लिए लगाए गए इंजेक्शन के बाद एक महिला बेहोश हो गई। उसे जिला अस्पताल रिफर किया गया, जहां चेकअप के 10 से 15 मिनट बाद उसकी मौत हो गई। शिविर में तीन और महिलाओं की भी हालत बिगड़ गई, जिन्हें इलाज के बाद देर शाम तक छुट्टी दे दी गई। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में गुरुवार को महिला नसबंदी के लिए शिविर लगाया गया। इसके लिए 87 महिलाओं ने पंजीयन कराया। लेकिन नसबंदी के पहले ही महिला शहोद्रा भगत की मौत हो गई।

पत्थलगांव निवासी अनिल भगत और शहोद्रा भगत के दो बच्चे हैं। अनिल पिछले एक साल से ससुराल (तमनार के बरभांठा चौक)में रहकर एक कांट्रेक्टर के यहां ड्राइवर का काम करता है। आज अनिल के घरवाले बहू शहोद्रा को तमनार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए।

परिजनों के मुताबिक नसबंदी ऑपरेशन से पहले महिला का टेस्ट किया गया। टेस्ट के बाद उसे जाइलोकेन इंजेक्शन लगाया गया। इसके बाद उसे होश ही नहीं आया। एक-डेढ़ घंटे तक वहां के डॉक्टर इलाज करते रहे। फिर जिला अस्पताल में डॉ.आरएन मंडावी ने उसका चेकअप किया। 10 से 15 मिनट बाद महिला चल बसी।


दोषी डॉक्टर हो कार्रवाई: अनिल भगत ने रोते हुए कहा कि उनकी पत्नी की मौत के जिम्मेदार सिर्फ डॉक्टर हैं। बेहोशी का इंजेक्शन लगने के बाद उसे होश नहीं आया। परिवारवालों ने दोषी डॉक्टरों पर कड़ी कार्रवाई की मांग की है।




 

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
8 + 9

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment