Home » Chhatisgarh » Raipur » निलंबन आदेश देखते ही आया हार्टअटैक, चल बसा शिक्षाकर्मी

निलंबन आदेश देखते ही आया हार्टअटैक, चल बसा शिक्षाकर्मी

rakesh malviya | Dec 15, 2012, 12:20PM IST
बालोद/गुरुर/रायपुर. छत्तीसगढ़ में एक शिक्षाकर्मी अपनी मांगों को लेकर चल रहे धरने से घर लौटा ही था तो उसका सामना सरकार के निलंबन आदेश से पड़ा। निलंबन आदेश पड़ते ही शिक्षाकर्मी को दिल का दौरा पड़ा और उसकी मृत्यु हो गयी। इससे शिक्षाकर्मियों में भारी रोष भर गया। वहीं सरकार उसे हार्ट पेशेंट बता रही है। 
 
 
छत्तीसगढ़ में पिछले आठ दिनों से शिक्षाकर्मियों का आंदोलन चल रहा है। इसमें संजय चतुर्वेदानी दो दिनों से राजधानी में धरने पर बैठा था। सुबह 8 बजे घर पहुंचने के बाद जैसे ही उसने निलंबन आदेश देखा, उसे दिल का दौरा पड़ा और वह बेहोश हो गया। थोड़ी देर बाद उसकी मौत हो गई।
 
उधर जिले में ही हर्राखेमा में पारसनाथ गिल्लहरे की पत्नी गायत्री ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। शुक्रवार को ही उसके पति को बर्खास्तगी का नोटिस मिला था।
 
 
शिक्षाकर्मियों ने आरोप लगाया है कि निलंबित होने के दबाव को वह नहीं झेल सका और हार्टअटैक हो गया।
 
धरनास्थल पर इस घटना की सूचना मिलते ही शिक्षाकर्मी आक्रोशित हो गए। शिक्षक पंचायत संघर्ष समिति के संचालक सदस्य संजय शर्मा, केदार जैन और वीरेंद्र दुबे ने चतुर्वेदानी की मौत के लिए निलंबन आदेश को जिम्मेदार ठहराया।
 
नौकरी चले जाने के भय से उसकी मौत हो गई। गुरुर के अध्यक्ष साहू व सीईओ एके वर्मा ने शिक्षाकर्मी के परिवार को 25 हजार रुपए की अनुग्रह राशि दी है।
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
1 + 6

 
विज्ञापन
 
Ethical voting

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

बिज़नेस

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment