Home » Chhatisgarh » Raipur » पुलिसवाली का गैंगरेप, १७ पुलिसवाले बने गवाह, और नतीजा यह

पुलिसवाली का गैंगरेप, १७ पुलिसवाले बने गवाह, और नतीजा यह

dilip jaiswal | Feb 20, 2013, 11:46AM IST

भाटागांव में महिला सिपाही से दुष्कर्म के बहुचर्चित मामले के आरोपी अदालत से छूट गए। जिस मामले में 17 पुलिसवाले गवाह थे उसमें पुलिस सबूत पेश नहीं कर सकी। उसके गवाहों के अलग अलग बयानों के कारण आरोपियों पर दोष साबित नहीं हो सका।

पुरानी बस्ती भाटागांव के सुनसान इलाके में महिला सिपाही से सामूहिक दुष्कर्म करने वाले आरोपी सबूतों के अभाव में बरी हो गए। पुलिस की थ्योरी और गवाहों का बयान न्यायालय में टिक नहीं सका। पुलिस साबित करने में नाकाम रही कि महिला आरक्षक के साथ आरोपियों ने दुष्कर्म किया है। विशेष सत्र न्यायाधीश ने संदेह का लाभ देते हुए दोनों आरोपियों को दोषमुक्त कर दिया। महिला सिपाही 27 मई 2012 की रात भाटागांव इलाके में सामूहिक दुष्कर्म की शिकार हुई थी। घटना की रिपोर्ट अगले दिन करवाई गई। महिला सिपाही से दुष्कर्म होने की घटना उजागर होने से पुलिस महकमे में खलबली मच गई। अफसरों ने आरोपियों को पकडऩे के लिए पूरी ताकत झोंक दी। आनन-फानन में भाटागांव इलाके रहने वाले राम नारायण सोनकर और राकेश सोनकर को गिरफ्तार किया। उनके खिलाफ धारा दुष्कर्म और एसटीएससी एक्ट के तहत कार्रवाई की गई। नौ महीने के भीतर ही इस चर्चित केस का फैसला सुनाया गया। आरोपी पक्ष के वकील बृजेश पांडे ने बताया कि कोर्ट में पुलिस की ओर से जितने दलीलें और सबूत पेश की वे साबित नहीं हो पाए। आरोपियों के खिलाफ 20 गवाह पेश किया गया। इसमें 17 पुलिस कर्मी थे।

आरोपियों को नहीं पहचाना : कोर्ट में महिला और उसका दोस्त आरोपियों को पहचान नहीं सके। वकील श्री पांडे का कहना है कि पहचान कार्रवाई में दुष्कर्म करने वाले वही हैं, यह भी साबित नहीं हो सका। फारेंसिक रिपोर्ट भी पीडि़ता के पक्ष में नहीं थी। 


21 फरवरी की खास खबरें


पहले जमीन छीनी, अब हिमाचल में रामदेव की एंट्री बैन
भूख की तड़प...कर्ज की मार, बहू-बेटियों से करवाते हैं जिस्म का कारोबार!  
बीजेपी के बैनर से आडवाणी बेदखल, नेताओं की हुई बोलती बंद  
रिकी पोंटिंग पर जुर्माना, कंगारुओं को पेस बैटरी पर भरोसा  
यहां बच्चों से पूछकर बनता है बजट, गली-मोहल्लों तक घूमती है सरकार  
बजट सत्र आज से, सरकार ने किया विवादों से परहेज 
भारत में पोर्न देखने के लिए सबसे ज्यादा यूज होता है 
कांस्टेबल ने पहले गर्लफ्रेंड को गोली मारी, फिर की खुदकुशी  
390 अरब रुपये का महादान, अजीम प्रेमजी बने सबसे बड़े भारतीय दानदाता  
आज प्राइवेट कंपनियों का भी बंद, खत्‍म हुए एटीएम से पैसे! 
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
3 + 4

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment