Home » Union Territory » Chandigarh » News » जब जैता जी ने गुरू तेगबहादुर जी का सर लेकर भागे थे

जब जैता जी ने गुरू तेगबहादुर जी का सर लेकर भागे थे

Pratik Shekhar | Feb 23, 2013, 11:42AM IST

चंडीगढ़। चमत्कार ना दिखाने और धर्म भी ना बदलने की वजह से लगातार जुल्म करने के बाद मुगल बादशाह ने जब चांदनी चौक पर सिखों के नौवें गुरु श्री गुरु तेग बहादुर जी का शीश काटा तो उसे आनंदपुर साहिब तक पहुंचाते हुए ट्राईसिटी के पास भी एक रात के लिए रखा गया था।


 


जीरकपुर में इस स्थान पर बना है गुरुद्वारा नाभा साहिब। कटे शीश को आनंदपुर साहिब पहुंचाने वाले भाई जैता जी को गुरु गोबिंद सिंह जी ने नाम दिया, रंगरेटा गुरु का बेटा।


 



ऊपर स्लाइड पर क्लिक कीजिए और पढि़ए आगे की खबर।



 

  
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
8 + 9

 
विज्ञापन
 
Ethical voting

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

बिज़नेस

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment