Home » Bazaar » Expert Comments » बाजार नहीं शेयर को देख कर बनाएं रणनीति

बाजार नहीं शेयर को देख कर बनाएं रणनीति

शार्दुल कुलकर्णी, सीनियर टेक्निकल एनालिस्ट, एंजेल ब्रोकिंग | Dec 10, 2012, 03:25AM IST
बाजार नहीं शेयर को देख कर बनाएं रणनीति

5750 से 5800 की ओर कोई भी गिरावट खरीद का अच्छा मौका मुहैया करा रही है। निवेशकों को इस रणनीति पर चलने की जरूरत है।
पि छले सप्ताह बेंचमार्क सूचकांकों ने लगभग आधा फीसदी बढ़त दर्ज की। गुरुवार को बाजार में उतार-चढ़ाव ज्यादा था लेकिन मायावती की वजह से सरकार को मल्टीब्रांड रिटेल में एफडीआई के मामले में संसद में जीत हासिल हुई और इससे बाजार में तेज रिकवरी दिखाई दी।


मल्टीब्रांड रिटेल में एफडीआई अब हकीकत बनती जा रही है और इससे आने वाले दिनों में आर्थिक सुधारों के कई और फैसले लागू हो सकते हैं। संसद में आर्थिक सुधारों के और बिल लाये जा सकते हैं। स्वाभाविक है इससे बाजार में तेजी की हवा बहने लगी है। इन संकेतों को देखते हुए निफ्टी 52 हफ्ते के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया।


यहां इस बात पर गौर करना जरूरी है कि बाजार के गिरने की संभावना उसी स्थिति में रहती है जब उसके आगे कोई गतिविधि न दिखती हो। इस संदर्भ में बाजार नेशनल इनवेस्टमेंट बोर्ड से जुड़े फैसले पर नजरें गड़ाए हुए है। एनआईबी का गठन निवेश के प्रस्ताव को तेज रफ्तार क्लियरेंस देने के लिए है। इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर की 1000 करोड़ रुपये से ज्यादा की परियोजनाओं को इसके जरिये सिंगल विंडो क्लीयरेंस मिल सकेगी।


नेशनल इनवेस्टमेंट बोर्ड से जुड़ा कोई भी सकारात्मक  खबर निवेशकों में नए उत्साह का संचार करेगा। तकनीकी तौर पर देखें तो बाजार पर इस समय तेजडिय़ों का असर है। हालांकि टेक्निकल सेटअप में निफ्टी और सेंसेक्स में ज्यादा परिवर्तन नहीं दिखाई दिया है लेकिन पिछले सप्ताह की तुलना में मिड और स्मॉल कैप शेयरों ने अच्छा प्रदर्शन साफ तौर पर सूचकांकों के प्रदर्शन से अच्छा रहा है। बीएसई मिडकैप इंडेक्स में पिछले पांच सत्रों में 2.3 फीसदी से ज्यादा की रैली दिखाई दी है। निफ्टी ने ऊंचा टॉप और ऊंचा बॉटम का फॉरमेशन बनाया हुआ है।


और हमारा मानना है कि 5750 से 5800 की ओर कोई भी गिरावट खरीद का अच्छा मौका मुहैया करा रही है। जहां तक निफ्टी के डेली चार्ट का सवाल है तो मोमेंटम ऑसिलेटर पूरे सप्ताह जरूरत से ज्यादा लिवाली के जोन में दिख रहा है। लेकिन इसमें गिरावट नहीं हुई है। यह साफ है कि बाजार में मजबूती है।


ऐसा लग रहा है कि बाजार के भागीदार कीमतों का पीछा करेंगे। खास कर मिडकैप और स्मॉल कैप शेयरों में। इसका मतलब है कि अगर पिछले तीन दिनों से न्यूनतम कीमत पर आप इन शेयरों को होल्ड कि ये हुए हैं तो आगे इसमें बढ़ोतरी दिख सकती है। इससे आपको फायदा हो सकता है। हालांकि इस समय ताजा लांग पोजीशन की सलाह नहीं दी जा सकती क्योंकि रिस्क और रिवार्ड का अनुपात संतुलित नहीं है।


जहां तक यूएस डॉलर के सूचकांक का सवाल है तो चार्ट काफी जटिल हो गया है। पिछले सप्ताह हमने एक बार 79 का लेवल पार हो जाने के बाद मंदडिय़ों का हेड और सोल्डर पैटर्न पक्का हो जाएगा। बहरहाल 79.6 से नीचे का लेवल टूटने से तेजडिय़ों के लिए बेहतर वक्त आ सकता है। हालांकि यहां यह गौर करना जरूरी है कि अगर अमेरिकी डॉलर का सूचकांक  81.5 अंक  को पार करता है। खास कर आठ सत्र से कम की अवधि में तो डॉलर में गिरावट की उम्मीद छोड़ देनी होगी।


जहां तक ग्लोबल मार्केट का सवाल है तो जर्मन डैक्स सूचकांक ने नया ब्रेकआउट दिया है हमारा मानना है कि यह 7800 की ओर बढ़ रहा है। जर्मन में अब सैंटा रैली दिखाई दे सकती है। डैक्स अक्टूबर के उच्चतम स्तर को पार करने में सफल रहा है। लेकिन डो-जोंस औद्योगिक सूचकांक ऐसा करने में नाकाम रहा है। अगले तीन सप्ताह में अमेरिकी बाजार में छुट्टियों का मूड रहेगा। इससे तेजडिय़े क्रिसमस के पहले कोई बड़ी पहल नहीं करेंगे।


करंसी के मामले में भी तकनीकी चार्ट पर कोई परिवर्तन नहीं दिख रहा है। हमारा मानना है कि रुपया 53 के आसपास मजबूत होगा। पहले भी हमारा आकलन यही था। बहरहाल कारोबारी चार से छह सप्ताह की अवधि में एमटीएनएल और एनबीसीसी के शेयर खरीद सकते हैं। एमटीएनएल को 26 से 27 के रेंज में खरीदें। 25 रुपये पर स्टॉप लॉस रखें और 31 का लक्ष्य लेकर चलें। एनबीसीसी को 157 से 160 के रेंज में खरीदें। इसमें 149 का स्टॉप लॉस रखें और 175 रुपये का लक्ष्य लेकर चलें।
डिस्क्लोजर : ऊपर जिन शेयरों की चर्चा की गई है, उनमें हमारी पोजीशन हो सकती है।


शार्दुल कुलकर्णी, सीनियर टेक्निकल एनालिस्ट, एंजेल ब्रोकिंग

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
3 + 6

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment