Home » Personal Finances » Insurance » आपके बीमा एजेंट को पूछना चाहिए ये पांच सवाल

आपके बीमा एजेंट को पूछना चाहिए ये पांच सवाल

ए. एस. नारायणन | Nov 20, 2012, 01:01AM IST
आपके बीमा एजेंट को पूछना चाहिए ये पांच सवाल

अभिकर्ता की पृष्ठभूमि की जांच करना महत्वपूर्ण है। उसका पहचान-पत्र देख लें, ताकि उसकी प्रामाणिकता सुनिश्चित हो सके। साथ ही, बीमाकर्ता से संबंधित महत्वपूर्ण मानदंडों की जांच कर लें।
जीवन बीमा उत्पाद या पॉलिसी का चुनाव करते समय, आपके मन में कई सवाल और संदेह पैदा हो सकते हैं। पॉलिसी खरीदने से पहले इन सवालों का जवाब मिलना महत्वपूर्ण है।


हालांकि, आपका एजेंट आपकी आवश्यकतानुसार सर्वोत्तम पॉलिसी का चुनाव करने में आपकी मदद करने के लिए हाजिर है, लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि वह आपके कुछ अत्यावश्यक सवालों के जवाब दे, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि आप समझदारीपूर्वक निर्णय ले रहे हैं।


नीचे कुछ सर्वाधिक महत्वपूर्ण प्रश्न दिये गये हैं, जिन्हें आपको अपने एजेंट से पूछना चाहिए और जिनका आवश्यक रूप से आपको जवाब मिलना चाहिए:  वित्तीय लक्ष्य क्या है?


अपने बीमा प्लान का चुनाव करते समय, इसे अपने पहले कदम के रूप में लें। आपके लिए वह उद्देश्य जानना आवश्यक है, जिसके लिए आप अपना बीमा प्लान लेना चाहेंगे। आपका उद्देश्य सुरक्षा या वित्तीय सुरक्षा, अपने बच्चे की शिक्षा, सेवानिवृत्ति के लिए बचत, किसी बहुमूल्य परिसंपत्ति का स्वामित्व या आपकी बेटी की शादी हो सकता है। अपने बीमा उद्देश्यों की पहचान कर लेने के बाद आप दूसरे कदम की ओर बढ़ सकते हैं।
कितना खर्च करना चाह रहे हैं?


बीमा प्लान खरीदने का निर्णय ले लेना ही पर्याप्त नहीं है। आपके लिए उस राशि का मूल्यांकन करना भी आवश्यक है, जिसे आप इस बीमा प्लान के लिए प्रीमियम के रूप में खर्च करने के इच्छुक हैं। आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि यह निर्णय बुद्धिमानीपूर्वक लिया जाये, ताकि दीर्घकाल में आपको कोई पछतावा न हो और इसे पॉलिसी की पूरी अवधि के दौरान तक बनाये रखा जा सके।
आप कितने समय के लिए निवेश करना चाह रहे हैं?


आपके निवेश की अवधि आपके वित्तीय लक्ष्य पर निर्भर करेगी। यही कारण है कि निवेश की अवधि से संबंधित निर्णय लेने के साथ-साथ अपने प्रीमियम की राशि का मूल्यांकन करना भी आवश्यक है। इसका सावधानीपूर्वक मूल्यांकन करें क्योंकि जीवन बीमा प्लान तभी आपको सर्वोत्तम लाभ प्रदान करता है, जब आप इसकी पूरी अवधि के लिए निवेश को बनाये रखते हैं। कुछ प्लान के मामले में आपके लिए यह आवश्यक होगा कि आप अवधि के कुछ ही हिस्से के लिए प्रीमियम का भुगतान करें। सभी विकल्पों की जानकारी लेने का बाद ही आप आश्वस्त हों।


उदाहरण के लिए, यदि आपका लक्ष्य आपके बच्चे की पढ़ाई-लिखाई के लिए बचत करना है, तो निवेश की अवधि न्यूनतम १० वर्ष होगी, जबकि यदि आपका उद्देश्य सेवानिवृत्ति के पश्चात की जिंदगी के लिए प्रबंध करना है, तो पॉलिसी की अवधि कम-से-कम २५-३० वर्ष होगी।
कितना जोखिम ले सकते हैं?


जोखिम सहने की आपकी क्षमता आपके द्वारा किये जाने वाले निवेश पर अपेक्षित रिटर्न का महत्वपूर्ण निर्धारक है। निवेश का मौलिक सिद्धांत है - जितना अधिक जोखिम होगा, उतना ही अधिक रिटर्न प्राप्त होगा। इसलिए, जोखिम सहने की आपकी क्षमता यह निर्णय लेने में महत्वपूर्ण है कि आप यूनिट-लिंक्ड प्लान के साथ सहज हैं या पारंपरिक प्लान के साथ।


यूनिट-लिंक्ड प्लान में आपका रिटर्न आपके द्वारा चुने गये फंड के प्रदर्शन से जुड़़ा होता है। दूसरी ओर परंपरागत प्लान में, रिटर्न सुरक्षित होता है और कभी-कभी यह पूर्व-निर्धारित भी रहता है।
चूंकि जोखिम सहने की क्षमता हर व्यक्ति के लिए अलग-अलग होती है, इसलिए आपको जोखिम सहने की क्षमता का निर्धारण करने के लिए यथाशीघ्र विचार करना चाहिए:
उम्र या जीवन की अवस्था : कम उम्र का व्यक्ति अर्थात कोई युवा व्यक्ति अधिक जोखिम ले सकता है, चूंकि उस समय उस पर कुछ ही लोग आश्रित होते हैं, सुरक्षित आजीविका होती है और उसके सामने पैसा कमाने के लिए लंबा समय होता है।
परिसंपत्ति स्वामित्व : यदि किसी व्यक्ति के पास काफी परिसंपत्ति है और जिम्मेदारियां थोड़ी हैं, अर्थात उसका ''नेटवर्थÓÓ अधिक है, तो वह अधिक जोखिम ले सकता है, क्योंकि बाजार में उतार-चढ़ाव के चलते होने वाले अल्पकालिक नुकसान से उसकी परिसंपत्तियां उसे बचा सकती हैं।
निवेश अनुभव : जिन लोगों के पास वित्तीय बाजारों में निवेश का पूर्व अनुभव और जानकारी है, वे बाजार में अल्पकालिक उतार-चढ़ावों के दीर्घकालिक प्रभाव को समझते हैं, इसलिए वे अधिक जोखिम ले सकते हैं। 


उत्पाद को कितनी अच्छी तरह से समझते हैं?
एक बार आपने उत्पाद खरीदने का निर्णय ले लिया है, तो सुनिश्चित कर लें कि उत्पाद के बारे में आप अच्छी तरह से जान चुके हैं। इसलिए, आप निम्नलिखित बिंदुओं से परिचित हो लें:
*    क्या यह प्लान आपकी दुर्भाग्यपूर्ण मृत्यु की स्थिति में आपके अपेक्षित वित्तीय लक्ष्य को कवर करता है?
*    प्रीमियम के भुगतान का तरीका क्या है, अर्थात यह एकल प्रीमियम पॉलिसी है या नियमित प्रीमियम पॉलिसी। प्रीमियम भुगतान की अवधि पर भी विचार कर लें।
*    पॉलिसी की अवधि, परिपक्वता लाभ और समर्पण लाभ जैसी विशेषताओं के बारे में भी जानकारी ले लें। 
*    कुछ बीमा कंपनियां पॉलिसी अवधि के दौरान धारक को बोनस प्रदान करती हैं। इसलिए, पॉलिसी और कंपनी के बोनस ट्रैक रिकॉर्ड के बारे में जानकारी होनी चाहिए।


सबसे महत्वपूर्ण रूप से, इस बात की हमेशा सलाह दी जाती है कि आप अपने बीमाकर्ता के बारे में अच्छी तरह से जान लें। हालांकि आपका अभिकर्ता या एजेंट एक भरोसेमंद सलाहकार हो सकता है फिर भी आपके स्वयं के लिए भी थोड़ी पृष्ठभूमि की जांच करना महत्वपूर्ण है।


अपने अभिकर्ता से उसका पहचान-पत्र देख लें, ताकि उसकी प्रामाणिकता सुनिश्चित कर सकें और साथ ही, बीमाकर्ता से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण मानदंडों की जांच कर लें। ये मानक हैं-कंपनी की वित्तीय स्थिति, उसका फंड प्रदर्शन, दावा निपटारा प्रक्रिया और प्रक्रिया की सरलता, ग्राहक सेवा और कंपनी की शाखा नेटवर्किंग। ये सभी पहलू अभिकर्ता से पूछकर या कंपनी की वेबसाइट पर जाकर सत्यापित किये जा सकते हैं या कंपनी के अन्य ग्राहकों से पूछकर भी पता लगाया जा सकता है।
(लेखक बजाज आलियांज लाइफ इंश्योरेंस के मुख्य वितरण अधिकारी हैं)

आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
8 + 1

 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

रोचक खबरें

विज्ञापन

बॉलीवुड

जीवन मंत्र

स्पोर्ट्स

जोक्स

पसंदीदा खबरें

फोटो फीचर

 
Email Print Comment