Home >> Blogs >> Bloggers >> Anuj Khare >> रचनात्मक स्तरहीन सपाट रचना पर साधुवाद
Anuj Khare


देश की बड़ी पत्र - पत्रिकाओं में व्यंग्य लेखों का नियमित का प्रकाशन। दो व्यंग्य संग्रह- चिल्लर चिंतन, परम श्रद्धेय, मैं खुद। फिलहाल दैनिक भास्कर समूह की साइटों में कार्यकारी संपादक।
8 Blogs | 8 Followers
Anuj Khare के अन्य ब्लॉग

रचनात्मक स्तरहीन सपाट रचना पर साधुवाद

Anuj Khare|Nov 14, 2012, 16:13PM IST
विनम्र आलोचक नए लेखक की तरह सादर समालोचना करता है, जो कुछ इस तरह हो सकती है-महोदय, आपकी बेहद रचनात्मक स्तरहीन और सपाट रचना को पढ़कर मेरा मन उत्साह से भर उठा। आप कह सकते हैं कि झूमने वगैरह भी लगा। उत्साह से इसलिए भरा कि आपकी इस अकेली रचना ने ही लेखन का सपना देखने वाले हजारों लोगों को प्रेरित कर दिया होगा। आपकी प्रेरणा भी उच्चस्तरीय खोजबीन का विषय है, क्योंकि साधारण प्रेरणा से इतना खूंखार लेखन संभव नहीं है। भूमिका में भी उस प्रेरणा का कोई खास खुलासा नहीं है, अन्यथा बाकी लेखकों का भी पर्याप्त मात्रा में भला हो सकता था।

इतनी मेहनत से आपने इतना निकृष्ट लिखा है कि साधुवाद देने को जी चाहता है। आपकी रचना को पढ़कर साफ समझ में आता है कि एक बार शुरुआत करने के बाद आपने निश्चित ही कलम तोड़कर फेंक दी होगी, अन्यथा अशुद्धियों के अलावा शब्दों के रिपीटेशन में जितनी सजहता है, वह पलटकर पढ़ने पर संभव नहीं हो पाती। प्रूफ की इन गलतियों के चलते कई नए शब्द हिन्दी भाषा को आपकी ओर से निजी तौर पर भी मिले हैं। 

भाषा के साथ भी आपने इस कदर खुलकर खेला है कि उई मां..! हाय दइया.! चोट्टा.! के अलावा किसी भांति दूसरे पक्ष के इमोशन व्यक्त नहीं किए जा सकते हैं। यह हुनर आजकल के लेखकों में कम ही देखने में आता है। रचना को पढ़कर साफ समझ में आता है कि यह पूरी तरह से मौलिक है, क्योंकि इस शैली में सरकारी किताबें लिखने वालों को छोड़कर कोई माई का लाल लिख ही नहीं सकता है। आपकी किताब में कई स्थानों पर हास्य के इतने मार्मिक प्रसंग हैं कि तय करना मुश्किल हो जाता है कि रोएं या बाल नोचें। बाद में किताब को सिर पर मारने से ही तसल्ली मिलती है। 

इसी तरह आपकी किताब में फुटनोट्स को वास्तव में फुट से ही कुचला गया है। भयंकर बारीक छपाई और सस्ती प्रिंटिंग के चलते न पढ़ने में कुछ आता है और हाथ लगाने से स्याही अलग मिट जाती है। जहां फुटनोट्स पढ़ने में आ भी जाते हैं, वहां ऐसा लगता है कि तकनीकी शब्दावली आयोग की किसी किताब से सीधे तमाचे मारते हुए यहां लाए गए हों। यानी रोमांटिक शब्द का अर्थ वैज्ञानिक अंदाज में समझाया गया है। कई जगह फुटनोट्स पेज को पार कर दूसरे में पैदल ही चले गए हैं। यह आक्रमण इतना बर्बर है कि दूसरे पेज के फुटनोट्स के फुट उखड़ गए हैं। 

आपके लेखन में तार्किकता इतनी है कि दूसरे अध्याय में विधवा के बच्चों का विस्तार से जिक्र है, जबकि आठवें में उसके विधवा हो जाने की जानकारी दी गई है। बारहवें अध्याय में इस चूक की तरफ ध्यान देकर दोनों तथ्यों के बीच कनेक्शन स्थापित किया गया है। हालांकि यहां तक पहुंचते-पहुंचते कई पाठकों का दम ही फूल जाता है और बाकियों के दिमाग का दही हो जाता है। वैज्ञानिकता यहां भारी जोर मारती है। फुटनोट्स में दमा के बायोकैमिक इलाज और दही बिलोकर छाछ या लस्सी बनाने की देसी विधि भी समझाई गई है। इस स्थान पर प्रूफ की कोई गलती नहीं है। 

क्लाइमैक्स में जब राज खुलता है तो चमत्कार हो जाता है। यानी पाठक जिस बात की कल्पना कर रहा था, ठीक वही बात निकलती है। पाठकों को इस तरह से चौंकाना आपकी अनूठी कल्पनाशीलता को दिखाता है। आपकी प्रतिभा देखकर हिंदी साहित्य इस कदर भौचक्का है कि उसे मुंह छिपाने तक की जगह नहीं मिल रही है।.. सो यदि आप आलोचना के क्षेत्र में उतरने वाले हैं, तो फटाफट लेख की कॉपी करवा लें। लेखक का नाम भर बदलते रहें।
आपके विचार

 
कोड :
5 + 4

विज्ञापन

Popular Blogs

Featured Bloggers

Popular Categories

| Email Print Comment