Home >> Blogs >> Bloggers >> Zahida Hina >> तारीख़ में आगे का सफर
Zahida Hina


ज़ाहिदा हिना पाकिस्तान की जानी-मानी उर्दू की लेखिका हैं। उनके कॉलम, कहानियां, निबंध, उपन्यास और नाटक दुनिया भर में प्रकाशित होते रहते हैं। उन्होनें अपनी पहली कहानी तब लिखी थी जब वे 9 साल की थीं। उन्होनें पत्रकार के रूप में कई ... Expand 
4 Blogs | 12 Followers
Zahida Hina के अन्य ब्लॉग

तारीख़ में आगे का सफर

Zahida Hina|Nov 17, 2012, 15:18PM IST
पाकिस्तान और हिंदुस्तान के विदेश मंत्रियों के दौरे के बारे में हमारी तमाम भाषाओं के अख़बारों में ख़ूब लिखा गया। इसके सियासी, आर्थिक और इंसानी पहलुओं पर हर-हर कोण से समीक्षा और विचार-विमर्श सामने आए। लेकिन साथ ही कुछ ऐसी तहरीरें भी छापी गईं जिनमें हिंदुस्तान को दुश्मन कहा गया। लेकिन अब वह नस्ल भी सामने आ गई है, जो पूछती है कि हम 65 साल पहले तक एक साझा इतिहास रखते थे, अब एक-दूजे के दुश्मन कैसे हो सकते हैं? हमारे कुछ लोग नाज करते हैं कि हम हिंदुस्तान से ज्यादा परमाणु हथियार रखते हैं और हमने एक बेहतरीन डिलिवरी सिस्टम बनाया है। ऐसे में जंगी जुनून फैलाने वालों से यह सवाल किया जाए कि आप लोगों को एक वक्त का भरपेट खाना नहीं दे पा रहे हैं, आपके शहर साफ पानी के लिए तरसते हैं। आपके यहां दुनिया की सबसे बड़ी झोपड़-पट्टियां और दुनिया के सबसे ज्यादा अनपढ़, कुपोषित और बीमार बच्चे पाए जाते हैं, अगर किसी इमारत में आग लग जाए तो उसे 48 घंटों तक बुझाना आपके लिए मुमकिन नहीं होता, बिजली आपके यहां 4 घंटेआती है और ज्यादातर आबादी 20 घंटे बिजली के लिए तरसती रहती है। ऐसे में आपके ये हथियार सवा-डेढ़ अरब इंसानों के किस काम के हैं?

हिंदुस्तान का बंटवारा इसलिए नहीं हुआ था कि ख़त्ते में दो दुश्मन ईजाद किए जाएंगे और उन्हें एक-दूजे की गर्दन चबाने के लिए छोड़ दिया जाएगा। आज जब दोनों मुल्कों के मंत्री कहते हैं कि हम अपनी कड़वाहटों और दर्दनाक अतीत को पीछे छोड़कर आगे की तरफ सफर करेंगे और अपनी नस्लों को इस जंग के भूत से निजात दिलाएंगे तो इंतहापसंद और जंग के जहन्नुम को भड़काने वाले गु़स्से से बेक़ाबू हो जाते हैं। हिंदुओं को अपना दुश्मन लिखने वालों को यह क्यों याद नहीं रहता कि वह जिस ज़बान में लिखते हैं, उस जबान की परवरिश फ़ारसी और उर्दू के बहुत से बेमिसाल हिंदू अदीबों ने की है और कर रहे हैं। उर्दू के हिंदी अदीबों की बनाई हुई डिक्शनरियां और उनकी दास्तानें, कैसे-कैसे हीरे-जवाहरात हैं जिनसे उर्दू शेरोअदब का दामन मालामाल है। 

पंडित रतन नाथ सरशार का अफसाना आज़ाद बश्शूलालजी की सिंहासन बत्तीसी, नेमचन्द खत्री का क़िस्सा गुलो सनोबर, जिसका आग़ाज हम्दोनात से हुआ है। पंडित दयानाथ वफा की मसनवी दाग़ दिल,पंडित दयाशंकर नसीम की गुलज़ार नसीम, लाला अंबे प्रसाद मदहोश का क़िस्सा गोपीचंद, मुंशी तोता राम शायान की मसनवी परकाला का आतिश, पंडित चकबस्त, पंडित दतात्रेय कैफी, पंडित तिलोकचंद महरूम, जगन्नाथ आज़ाद, फिराक़ गोरखपुरी। जदीद अफसाने और नॉविल निगारी पर नजर डालिए तो मुंशी प्रेमचंद, सुदर्शन, किशन चंदर, सरला देवी, राजेन्द्र सिंह बेदी, महिंदर नाथ, रतन सिंह दानिश्वरों और मालिक राम, डॉक्टर प्रकाश मोनिस, किशन चंद ज़ोबा, गोपी चंद नारंग, दीवान सिंह मफतून, डॉक्टर ज्ञान चंद जैन, रंगलाल चमन, शैशवनाथ मुनव्वर लखनवी और हां उनमें काली दास गुप्ता रज और सत्यपाल आनंद गुलज़ार जुत्शी, कुंवर महेन्द्र सिंह बेदी सहर और गुलजर। ये ऐसे लोग हैं, जिनमें से कई आज भी पाकिस्तान के स्कूलों और कॉलेजों में पढ़ाए जा रहे हैं और सिर्फ उर्दू ही क्या बल्कि पंजाबी, सिंधी, गुजराती, बंगाली जैसी तमाम ज़ुबानें हमारे इजतिमाई शऊर का हिस्सा हैं। इन तमाम जबानों में लिखने वाले हमारा साझा वरसा है। हीर गाई जाए तो वारिस शाह का जादू मुसलमान, हिंदू और सिख सब के सिर चढ़कर बोलता है। अमीर ख़ुसरो, कबीर और मीरा बाई हमें हर क़दम पर याद आते हैं। ये हमारे उपमहाद्वीप की रवादारी और दिलदारी का वह लशकारा है, जो दिलों खब जाता है। हम जिस रीति-रिवाज के मानने वाले हैं, इसमें सिरों के मीनार नहीं उठाए जाते। हमने बहुत दिनों तक 65 बरस की अपनी तारीख़ को नफरत का क़ैदी रखा। अब लाजिमी है कि हम अपनी तारीख़ को इस क़ैद से रिहा करें।
आपके विचार

 
कोड :
1 + 5

(1)
Latest | Popular
 
विज्ञापन

Popular Blogs

Featured Bloggers

Popular Categories

| Email Print Comment