Home >> Events >> Monsoon
  • भोपाल. कमजोर पड़ चुके मानसून ने विदाई की तैयारी कर ली है। मप्र से एक हफ्ते में इसकी विदाई हो जाएगी और 1 अक्टूबर तक यह राजधानी से वापस चला जाएगा। मौसम विभाग ने यह अनुमान जताया है। राजधानी में इस साल सामान्य से 31.93 फीसदी पानी कम बरसा है। अब इस आंकड़े के सामान्य स्तर तक पहुंचने की उम्मीद नहीं है।   जून से सितंबर तक के चार महीने ही मानसून सीजन के माने जाते हैं। इस दौरान शहर में अाैसतन 109 सेमी बारिश होती है। वैसे, सामान्य से  19 फीसदी कम बारिश (92 सेमी) को भी सामान्य मान लिया जाता है, लेकिन इस साल यह उम्मीद...
    September 20, 07:47
  • कमजोर मानसून से 90 लाख टन घट सकता है खाद्यान उत्पादन
    कृषि मंत्रालय ने शुक्रवार को प्रमुख खरीफ फसलों के उत्पादन का पहला अग्रिम अनुमान जारी किया। पहले अनुमान के हिसाब से देश में खरीफ खाद्यान्नों का उत्पादन पिछले सीजन के मुकाबले 89.7 लाख टन घट सकता है। 2014-15 खरीफ सीजन में 12.02 करोड़ टन खाद्यान उत्पादन होने का अनुमान है। जबकि पिछले खरीफ सीजन में यह आंकड़ा 12.92 करोड़ टन का था।   कृषि मंत्रालय के अनुसार इस कमी की मुख्य वजह मानसून के आने में देरी और कम बारिश है। इसकी वजह से तमाम खरीफ फसलों का रकबा घटा है। देश के कई भागों में अनियमित बारिश और सूखे जैसे हालात...
    September 20, 06:38
  • उत्तर प्रदेश में घटने के बावजूद देश में बढ़ेगा चीनी का उत्पादन
    2014-15 में चीनी का उत्पादन 2.5 करोड़ टन से 2.55 करोड़ टन होने का अनुमान इससे पहले ISMA का अनुमान  2.53 करोड़ टन का था 2014-15 में 52.9 लाख हेक्टेयर में गन्ने की बुआई होने का अनुमान इससे पहले 52.3 लाख हेक्टेयर में गन्ने की बुआई होने का अनुमान था ISMA के मुताबिक महाराष्ट्र में चीनी का उत्पादन 93 लाख टन हो सकता है 2014-15 में महाराष्ट्र में गन्ने का रकबा 11 फसदी बढ़कर 10.4 लाख हेक्टेय हुआ उत्तर प्रदेश में चीनी का उत्पादन घटकर 60 लाख होने की संभावना
    September 17, 12:00
  • फार्म कमिश्नर : उत्तर प्रदेश के 44 जिलों को सूखा ग्रस्त घोषित
     बारिश में देरी की वजह से 33. 7 लाख हेक्टयर में कम हुई बुआई  साल 2014-15 में कपास की बुआई रिकॉर्ड स्तर पर  मानसून की स्थिति 2009 के मुलाबले इस साल बेहतर  उत्तर प्रदेश में 44 जिलो को सुखा ग्रस्त घोषित किया गया  हरयाणा में कुल 18 जिलो को सुखा घोषित किया गया है  मध्य भारत के लिए अगले दो हफ्ते बारिश के लिए महत्वपूर्ण  मध्य प्रदेश  राजस्थान में बारिश की वजह से बुआई में सुधार
    September 17, 12:55
  • मॉनसून सीजन के अंतिम महीने में रिकवरी
    मॉनसून सीजन का ये अंतिम महीना चल रहा है इस दौरान मॉनसून में काफी रिकवरी देखने को मिली है हालांकि अभी भी देश में सामान्य से करीब 11 फीसदी कम बारिश हुई मध्य और दक्षिण भारत में स्थिति कुछ हद तक ठीक है लेकिन पूर्वी और उत्तर पश्चिम भारत के कई इलाकों का हालात अभी भी चिंताजनक है खास तौर से उत्तार प्रदेश, हरियाणा, पंजाब और मराठवाड़ा में बेहद कम बारिश हुई है ऐसे में सोयाबीन की कीमतों मे फिर से तेजी देखी जा रही है वायदा में इसका दाम करीब 1 फीसदी चढ़ा सरसों, चना और ग्वार में भी बढ़त पर कारोबार मसालों में...
    September 16, 01:49
  • उत्तर प्रदेश में 11 फीसदी घट सकता है चावल का उत्पादन
    देश के सबसे बड़े चावल उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश में चावल का उत्पादन 2014-15 में 11 फीसदी घटकर 1.27 करोड़ टन रहने का अनुमान है। राज्य सरकार के पहले अनुमान के मुताबिक उत्तर प्रदेश में ज्यादातर फसल का उत्पादन घट सकता है। राज्य के अधिकारियों के मुताबिक कम बारिश होने से उत्पादकता घट सकती है। कृषि मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक 4 सितंबर तक उत्तर प्रदेश में धान की बुआई 58 लाख हेक्टेयर में हुई है जो कि पिछले साल के मुकाबले 2.7 फीसदी कम है।             कैसा रहा मौसम का हाल   मौसम विभाग के मुताबिक...
    September 15, 03:51
  • ग्वालियर बना तालाब: इस मानसून में पहली बार 45 मिनट में 9. 3 सेमी बारिश
    ग्वालियर. लंबे इंतजार के बाद बुधवार की शाम गरज चमक के साथ बादल ऐसे बरसे कि शहर पानी-पानी हो गया। घंटेभर की बारिश में करीब आधा घंटा टूट कर पानी बरसा। पानी ने शहर की हर सड़क तालाब सी नजर आई। पानी में घिरे लोगों ने अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए रास्ता बदला पर जिस सड़क से गुजरना चाहा, उसी पर इतना पानी था कि चार पहिया वाहनों के पूरे पहिए उस में डूब गए।   ऐसे में दो पहिया वाहन वालों की तो और फजीयत हुई। फजीयत की जड़ में बदहाल ड्रेनेज सिस्टम था,जो हकीकत में है ही नहीं। निगम प्रशासन के मुख्यालय से लेकर निगम...
    September 11, 04:47
  • कपास के रिकॉर्ड उत्पादन और भारी ग्लोबल रिजर्व से कीमतों में गिरावट की आशंका
    देश में इस साल कपास की बुआई पिछले साल के मुकाबले ज्यादा हुई है और अमेरिकी एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट के मुताबिक, कपास का उत्पादन रिकॉर्ड 3.78 करोड़ बेल रह सकता है। साथ ही चीन में कपास का भरपूर रिजर्व स्टॉक है जिसके कारण देश के कपास निर्यात में 35 फीसदी की कमी देखने को मिल सकती है। वहीं, पूरी दुनिया में कपास का उत्पादन खपत से ज्यादा होने का अनुमान भी लगाया जा रहा है। चीन से मांग घटने की वजह से न्यूयॉर्क में कपास वायदा इस साल 24 फीसदी तक फिसल चुका है। अमेरिका में उत्पादन बढ़ने और ग्लोबल स्तर पर रिकॉर्ड...
    September 10, 04:37
  • महाराष्ट्र में 20% कम हुई बुआई, मक्के का रकबा 4.7% घटा
    कमजोर मानसून की वजह से देश में मक्के की बुआई देश में घट गई है। कृषि मंत्रलाय के आंकड़ों के मुताबिक 77.1 लाख हेक्टेयर में मक्के की बुआई हुई है। पिछले साल समान अवधि में 80.9 लाख हेक्टेयर में बुआई हुई थी। 28 अगस्त को खत्म हफ्ते में मक्के की बुआई पिछले साल के मुकाबले 4.7 फीसदी घट गई है। जुलाई के मध्य में मानसून ने रफ्तार पकड़ी थी जिससे बुआई में सुधार तो हुआ है लेकिन करबा अभी भी पिछले साल से कम है। पूरे देश में अब तक 685.1 मिमी बारिश हुई है जो कि सामान्य से 11 फीसदी कम है। जून में सामान्य से 43 फीसदी कम बारिश हुई है।  ...
    September 9, 03:14
  • मध्य प्रदेश में खरीफ फसलों का 46% बढ़ सकता है उत्पादन
    मध्य प्रदेश में खरीफ फसलों की रिकॉर्ड उत्पादन की संभावना मध्य प्रदेश में मूंग का उत्पादन 188 फीसदी बढ़कर 98,000 टन रहने का अनुमान 2014-15 में सोयाबीन का उत्पादन 44 फीसदी बढ़ने की संभावना मध्य प्रदेश में सोयाबीन का उत्पादन 72 लाख टन रहने का अनुमान   4 फीसदी बढ़ सकता है कपास का उत्पादन, 712,000  बेल होने की संभावना 2014-15 में 1.98 करोड़ टन खरीफ फसल का उत्पादन होने का अनुमान पिछले साल के मुकाबले 46 फीसदी बढ़ सकता है उत्पादन 
    September 9, 01:52
  • राजस्थान में खाद्यान्न फसलों की बुआई 25 फीसदी घटी
    राजस्थान में 50 लाख हेक्टेयर में खाद्यान्न फसलों की हुई है बुआई ग्वार की बुआई घटकर 13.3 लाख हेक्टेयर रही। पिछले साल 28.6 लाख हेक्टेयर में हुई थी बुआई राजस्थाम में कपास का रकबा 1 लाख हेक्टेयर घटकर 12 लाख हेक्टेयर रहा कास्टर सीड की बुआई 193,000 हेक्टडेयर से घटकर 263,000 हेक्टेयर हुआ सोयाबीन की बुआई मामूली बढ़ी, 976,000 हेक्टेयर से बढ़कर 975,000 हेक्टेयर रहा राजस्थान में मक्का की बुआई 14.6 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 15.4 लाख हेक्टेयर में हुई दालों की बुआई 655,000 हेक्टेयर में हुई है, पिछले साल 773,000 हेक्टेयर में हुई थी   
    September 9, 01:03
  • रबड़ का आयात 15% बढ़ा, कीमतें पांच साल के निचले स्तर पर
    अगस्त में नेचुरल रबड़ का आयात 15 फीसदी बढ़ गया है। अगस्त में 42,499 टन रबड़ का आयात हुआ। रबड़ बोर्ड के मुताबिक अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत कम होने के कारण घरेलू टायर बनाने वाली कंपनियां इंपोर्ट कर रही है। दक्षिण एशियाई देश इंडोनेशिया, थाईलैंड, वियतनाम और मलेशिया से नेचुरल रबड़ आयात करते है। आयात बढ़ने की वजह से घरेलू बाजार में पिछले एक साल में रबड़ की कीमतें करीब 34 फीसदी तक गिर चुकी हैं। इस साल करीब 22 फीसदी रबड़ सस्ता हुआ है। वहीं पिछले तीन महीने में 14 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई।   जानकारों की...
    September 9, 12:33
Ad Link
 
विज्ञापन
 
 
 

बड़ी खबरें

 
 
 

रोचक खबरें

विज्ञापन
 

बॉलीवुड

 
 

जीवन मंत्र

 
 

स्पोर्ट्स

 

 

जोक्स

 

पसंदीदा खबरें