Home >> Haryana >> Special
  • समय सवा दो साल, लोग 329, सुराग किसी का नहीं
    रोहतक.कलेजे का टुकड़ा जब दिल से दूर जाता है तो भूख लगती है ना प्यास, हर वक्त उसके आने की आस लगी रहती है। हर आहट पर आंखें दरवाजे पर ठहर जाती हैं। ऐसा किसी एक परिवार के साथ नहीं, बल्कि उन सैकड़ों परिवारों के साथ रोजाना हो रहा है, जिनके परिवार का सदस्य घर से लापता है। पुलिस को शिकायत की जाती है तो परिजनों को डीडी काटकर हाथ में थमा दी जाती है और ढूंढने के नाम पर नतीजा वही ढाक के तीन पात। ऐसे में इंतजार के सिवाय इनके पास कोई चारा नहीं रहता। जिले के सवा तीन सौ परिवारों को ऐसी त्रासद स्थिति से गुजरना पड़ रहा...
    April 16, 08:46 AM
  • डरावनी है मंच के पीछे की कहानी, दर्द में रहकर भी जी उठता है सर्कस
    गुडग़ांव. सर्कस खिलाड़ी बड़े-बड़े करतब दिखा कर लोगों को हंसाते हैं। कुछ तो ऐसे खतरनाक खेल खेलते हैं, जो लोगों में रोमांच पैदा करते हैं। लेकिन इन्हें शरीर के साथ ही भावनात्मक दर्द भी झेलना पड़ता है। इनके बच्चे व परिवार इनसे दूर होते हैं, फिर भी इनके चेहरे पर तनाव नहीं झलकता है। गौशाला ग्राउंड में चल रहे ग्रेट बांबे सर्कस के कुछ कलाकारों से बात करने पर उनकी पीड़ा सामने आई।कलाकारों ने बताया कि उन्हें शारीरिक व मानसिक तनाव से भी गुजरना पड़ता है। कई लड़कियां गरीबी के कारण इस पेशे में आती हैं। बेटी की...
    April 16, 12:17 AM
  • पैसों का अभाव: मिट रहा शाही तालाब और रानी की छतरी का अस्तित्व
    बल्लभगढ़। नेशनल हाइवे के किनारे स्थित ऐतिहासिक रानी की शाही छतरी और शाही तालाब प्रशासनिक उपेक्षा की शिकार है। 4 साल पहले शाही छतरी की दशा सुधारने के लिए प्रशासन ने एक योजना बनाई थी। उस समय इसके जीर्णोद्धार पर करीब 10 लाख रुपए खर्च किए गए थे। लेकिन पैसे के अभाव में यह योजना बीच में ही अटक गई। नतीजा यह हुआ कि इस पर लगाए गए 10 लाख रुपए भी अब बर्बाद हो चुके हैं। वहीं शाही छतरी की हालत जर्जर है। प्रशासन ने नहीं ली सुध : इसके अलावा बल्लभगढ़ में और भी कई ऐतिहासिक धरोहरें हैं। लेकिन प्रशासनिक लापरवाही के...
    April 13, 07:06 AM
  • तड़पने की इजाजत है, न फरियाद करने की, घुटके मर जाओ, ये मर्जी हुक्मरान की
    रोहतक। न तड़पने की इजाजत है, न फरियाद करने की। घुटके मर जाओ, ये मर्जी मेरे हुक्मरान की। देश में बहाल हुए लोकतंत्र के 66 साल बाद भी यही तस्वीर है। नेताओं ने देश को चरागाह बना दिया है। जनता को वोट बैंक मानकर अपना उल्लू सीधा करते हैं। संसदीय चुनाव में क्षेत्रीय मुद्दे और आरोप-प्रत्यारोप का दौर राजनैतिक दलों की घटिया सोच उजागर करता है। अब मतदाता जागरूक हुआ है। बदलाव की आहट सुनाई पड़ रही है। गांधी नगर निवासी रिटायर्ड शिक्षक प्रेम चंद्र ने कहा कि चुनाव के दौरान ही मुद्दों की बात होती है। उसके बाद जनता...
    April 8, 08:21 AM
  • लोकसभा चुनाव प्रचार में प्रत्याशियों के साथ पुत्र भी बहा रहे पसीना
    फरीदाबाद। चुनाव प्रचार इस समय पूरे शबाब पर है। जैसे-जैसे चुनाव की तारीख नजदीक आती जा रही है वैसे-वैसे प्रचार की रंगत और तेज होती जा रही है। प्रत्याशी तो पूरे दमखम के साथ चुनाव प्रचार में लगे ही हैं उनके पुत्र भी चुनावी मैदान में खूब पसीना बहा रहे हैं। ये सुबह से ही अपनी युवा मंडली के साथ चुनाव प्रचार में कूद पड़ते हैं। ये प्रचार के दौरान विकास के बड़े-बड़े दावे करने के साथ ही प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवारों पर आरोप-प्रत्यारोप भी खूब लगा रहे हैं। कांग्रेस ने फरीदाबाद की पहचान लौटाईहै : अर्जुन...
    April 7, 08:58 AM
  • निर्वाचन आयोग: 10 अप्रैल को अवकाश का निर्देश, अवहेलना पर होगी कार्रवाई
    गुडग़ांव। निर्वाचन आयोग के निर्देश के अनुसार वोटिंग के दिन 10 अप्रैल को सभी प्रतिष्ठानों में सार्वजनिक अवकाश रखने का आदेश जारी कर दिया गया है। निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त शेखर विद्यार्थी ने जिले में पडऩे वाले सभी व्यापारिक प्रतिष्ठानों, शिक्षण संस्थानों, औद्योगिक केन्द्रों, दुकानों आदि सभी निकायों में कार्यरत कर्मियों व श्रमिकों को मतदान के दिन 10 अप्रैल को अवकाश देने के निर्देश जारी किए हैं, ताकि वे अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकें। उस दिन व्यापारिक प्रतिष्ठानों द्वारा किसी भी कर्मचारी...
    April 7, 08:57 AM
  • उनकी यादें: दो सेनानी, राजनीति में न आकर भी नेताओं से बड़ा सम्मान
    पानीपत। हरियाणा के दो स्वतंत्रता सेनानी जिन्होंने जनसेवा के लिए राजनीति का प्लेटफार्म नहीं पकड़ा। इसके बावजूद महात्मा गांधी और मोरारजी देसाई बाल मुकुंद अनुरागी और सोम भाई की जनसेवा की भावना की बेहद कद्र करते थे। अनुरागी ने हिंदी के लिए छोड़ी नौकरी नाती की सिफारिश से किया इनकार नाती रामदत्त शर्मा, रिटायर्ड अध्यापक गांधीजी के सहयोगी बालमुकुंद अनुरागी मेरठ में कद्दावर नेता थे। देश की आजादी के लिए लड़े। स्वाभिमानी अनुरागी ने नानकचंद एंग्लो संस्कृत विद्यालय (तत्कालीन) में जब अध्यापक के...
    April 6, 06:37 AM
  • किताबों से अलावा अब कॉलेज में दिखेगी हड़प्पा संस्कृति और वीरता की झलक
    हिसार। किताबों से हटकर हड़प्पा संस्कृति की असल चीजों से रूबरू होना चाहते हैं तो 5 अप्रैल को डीएन कॉलेज हो आइए। यहां दुनिया की प्राचीनतम सभ्यताओं में से एक हड़प्पा काल के राखी गढ़ी के पास खुदाई में मिले अवशेषों को सलीके से सजाया जा रहा है। इंटरनेट और टीवी की दुनिया से कुछ देर के लिए हटकर इस म्यूजियम में इतिहास को नजदीक से जानने का मौका मिलेगा। दयानंद कॉलेज में विश्व की 5 हजार साल पुरानी हड़प्पा संस्कृति से वैदिक, मुगल और ब्रिटिश काल तक की चीजों से परिचित हो सकेंगे। म्यूजियम को तैयार किया जा रहा...
    April 4, 06:39 AM
  • भिवानी-महेंद्रगढ़ लोकसभा सीट: काम नहीं, दूसरों के नाम पर मांग रहे वोट
    भिवानी-महेंद्रगढ़ लोकसभा सीट।इस सीट से तीन प्रमुख दावेदार हैं। भाजपा, इनेलो और कांग्रेस। तीनों दलों के प्रत्याशियों का प्रचार का तरीका लगभग एक जैसा है। रोजाना 35 से 45 गांवों में नुक्कड़ सभाएं करते हैं। सुबह 7 बजे दिनचर्या शुरू होती है। देर रात तक सिलसिला चलता है। दोपहर में भोजन करने के लिए किसी गांव में पेड़ों की छाया में बैठकर टिफीन खोल लेते हैं। तीनों काम को लेकर नहीं, दूसरों के नाम पर वोट मांग रहे हैं। भास्कर के तीन संवाददाताओं ने तीनों प्रत्याशियों के साथ गुजारा एक दिन। श्रुति को विकास की...
    April 3, 07:44 AM
  • जब बंसीलाल ने कहा- बिजली बिल माफ नीं करूंगा, मेरा छोरा चाहे चुनाव जीते या हारे
    भिवानी। बात 1999 के लोकसभा चुनाव की है। तब प्रदेश में हरियाणा विकास पार्टी (हविपा) की सरकार थी और बंसीलाल मुख्यमंत्री। हविपा के टिकट पर सुरेंद्र मैदान में उतरे। कांग्रेस ने धर्मबीर और इनेलो ने अजय चौटाला को उतारा। बाढड़ा हलके के लोगों ने सुरेंद्र के सामने शर्त रखी कि बिल माफ करवा दो, वोट दे देंगे। उस दिन घंटाघर पर रैली थी। सुरेंद्र ने कहा, पिता जी बाढड़ा के लोग बिलों की माफी चाहते हैं। रैली में घोषणा कर देना। रैली में बंसीलाल के भाषण में बिलों का कोई जिक्र नहीं होते देख, सुरेंद्र ने बिजली बिल माफी...
    April 3, 07:24 AM
  • मैंने एलपीजी कनेक्शन के कूपन लौटाए तो अटलजी ने गांव-गांव पहुंचा दिए सिलेंडर
    करनाल।एनडीए की सरकार थी और अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री। तब सिर्फ शहरी इलाकों में लोगों को रसोई गैस के कनेक्शन मिला करते थे। सांसद कोटे में कूपन आया करते थे। जो अपने विवेक से कूपन के जरिये कनेक्शन दिलवा सकते थे। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री आईडी स्वामी को भी कूपन मिले। लेकिन स्वामी यह कूपन लेकर अटल के पास गए और कहा, प्रधानमंत्री जी ये लो कूपन। कूपन कम हैं और कनेक्शन लेने वाले अधिक होते हैं। इतने में काम नहीं चलता। कोई योजना क्यों नहीं बनाई जाती। बस दो दिन बीते थे कि पेट्रोलियम मंत्री के साथ...
    April 3, 07:18 AM
  • रोहतक लोकसभा क्षेत्र: विकास और जाट आरक्षण की परीक्षा
    रोहतक। रोहतक लोकसभा सीट पर चुनाव कई मायनों में अहम है। चौधरी देवीलाल को लगातार तीन बार हराने वाले मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के बेटे और निवर्तमान सांसद दीपेंद्र हुड्डा यहां से कांग्रेस के उम्मीदवार हैं। इसे जाट लैंड कहा जाता है क्योंकि यहां कुल 15.67 लाख में से 5.90 लाख वोट उन्हीं के हैं। कांग्रेस विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ रही है। कांग्रेस के एक गुट के साथ-साथ विपक्ष भी कहता रहा है कि हरियाणा में अगर कहीं विकास हुआ है तो केवल रोहतक में हुआ है। केंद्रीय नौकरियों और शिक्षा में ओबीसी कोटे में...
    April 3, 07:13 AM
Ad Link
 
विज्ञापन
 
 
 

अपना शहर चुनें

 

बड़ी खबरें

 
 
 
 

रोचक खबरें

विज्ञापन
 

बॉलीवुड

 
 

जीवन मंत्र

 
 

स्पोर्ट्स

 

बिज़नेस

 

जोक्स

 

पसंदीदा खबरें