पावर गैलरी

Home >> National >> Power Gallery
  • इतना सन्नाटा क्यूं है भाई
    ये आदत बदल डालो :शौक भी बड़ी बुरी शै है। एक सेक्रेटरी साब हैं। पीएमओ के पसंदीदा थे। भारी-भरकम प्रतिष्ठा थी। कोई ऐसी-वैसी बात नहीं, लेकिन महज कुछ आदतों के चक्कर में अब धमक जाती रही है। और समस्या जीत गई : राम जेठमलानी अगर सदाबहार समस्या हैं, तो एस. गुरुमूर्ति भी सदाबहार संकटमोचक हैं। गुरुमूर्ति ने जेठमलानी की प्रधानमंत्री मोदी के साथ मुलाकात की व्यवस्था करा दी थी। लेकिन जेठमलानी के ज्येष्ठ पुत्र जनक का अचानक अमेरिका में देहांत हो जाने के कारण यह बैठक नहीं हो सकी। एक छोटी चिड़िया बोली- समाधान पर...
    September 20, 10:52 AM
  • लोकसभा-असेंबली इलेक्शन साथ चाहते हैं राष्ट्रपति
    यू आर एब्सोल्यूटली करेक्ट इन चार शब्दों के साथ राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी फिर एक बार बीजेपी के लाडले बन गए हैं। 2014 के चुनावों के पहले प्रणब मुखर्जी ने देश में स्पष्ट बहुमत की सरकार की जरूरत जताई थी। इस बार शिक्षक दिवस पर छात्रों से संवाद करते हुए राष्ट्रपति ने देश में विधानसभाओं और लोकसभा के चुनाव एक साथ कराने की वकालत की है। यह मुद्दा आडवाणीजी के समय से ही बीजेपी का पसंदीदा विषय है। हालांकि कांग्रेस, वामपंथियों और क्षेत्रीय दलों को इसमें खतरा नजर आता है। बीजेपी के एक नेता ने कहा- जब जीएसटी पारित...
    September 6, 10:37 AM
  • प्रणब दा के लिए बंगला खोजने की शुरुआत
    प्रणब दा का कार्यकाल अगले वर्ष जुलाई तक है। अगली बार राष्ट्रपति बनने की अनिच्छा वह जता चुके हैं। लिहाजा उनके लिए बंगला खोजने का काम शुरु हो गया है। ऐसा जो उनके उपयुक्त हो, और सुरक्षित हो। उनके पहले कलाम साहब को भी दिल्ली में बंगला दिया गया था। के.आर. नारायणन और प्रतिभा पाटिल कार्यकाल पूरा होने के बाद अपने अपने गृह राज्य लौट गए थे। प्रणब दा का इरादा दिल्ली में ही रहने का है। राष्ट्रपति भवन को नोटिस वैसे एक बात बताएं। प्रणब दा के मौजूदा निवास माने राष्ट्रपति भवन के बारे में एक बात बताएं। इसे...
    August 23, 10:57 AM
  • बाबुल का होगा दूसरा ब्याह
    केन्द्र सरकार में राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो का (दूसरा) विवाह 9 अगस्त को होना तय हुआ है। मजेदार बातें कई हैं। उनकी होने वाली धर्मपत्नी पेशे से एयर होस्टेस हैं, मुंबई-कोलकाता उड़ान के दौरान पहली बार मिले, बात हुई और पहली ही नजर में प्रेम हो गया। अब 9 अगस्त के समारोह में शामिल होने के लिए तमाम हस्तियों को निमंत्रण दिया गया है। पीएम को भी, बाबा रामदेव को भी, देश के सभी मुख्यमंत्रियों को और ममता बनर्जी को भी। ममता बनर्जी उस दिन अगरतला में होंगी, लेकिन वह कोलकाता में नवदंपति का स्वागत करेंगी। बाबुल ने...
    August 9, 05:00 PM
  • राजनाथ के पाकिस्तान जाने पर फैसला मोदी लेंगे
    सार्क के गृहमंत्रियों का सम्मेलन 4 अगस्त को पाकिस्तान में होना है। सवाल है कि राजनाथ सिंह इस बैठक में जाएं या न जाएं? अगर गए, तो दो बातें हो सकती हैं- वह पाकिस्तानी गृहमंत्री निसार अली खान से मिलें, या न मिलें। अगर मिले, तो पठानकोट हमले और कश्मीर से लेकर कुलभूषण तक बहुत लंबी बात होगी, और अगर न मिले, तो बात बहुत गंभीर हो जाएगी। फिर नवम्बर में वहीं सार्क शिखर सम्मेलन होना है। एक पखवाड़े में दो आत्महत्याएं विदेश मंत्रालय में एक पखवाड़े में जूनियर वर्ग के अधेड़ आयु के दो अधिकारी आत्महत्या कर चुके...
    July 26, 10:12 AM
  • भरोसा ईडी पर
    मनी लॉड्रिंग, फेमा, हवाला, काला पैसा- इन सबसे निपटना प्रवर्तन निदेशालय का काम है। प्रवर्तन निदेशालय में निदेशक करनैल सिंह पर मोदी सरकार को बहुत विश्वास है। विश्वास स्नेह में भी बदल रहा है। अगले महीने पेरिस में भ्रष्टाचार विरोधी वार्षिक कांफ्रेंस होनी है। आम तौर पर इस कांफ्रेंस में सीबीआई निदेशक या सीवीसी भारत का प्रतिनिधित्व करते आए हैं। लेकिन इस वर्ष पीएमओ ने करनैल सिंह का नाम भेजा है।टैम ब्रेम के निशाने पर... सुब्रह्मण्यम स्वामी आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन को हटाने की मांग करते हुए अब तक...
    July 26, 10:08 AM
  • 13 महीने बाकी, अब कौन बनेगा राष्ट्रपति?
    आज से पूरे 13 महीने बाकी हैं। यानी गठबंधन का जमाना होता, तो एक या दो सरकारों का भी गणित इतने टाइम में लगाया जा सकता था। खैर, अब वो जमाने लद गए और अब 13 महीने बाकी हैं राष्ट्रपति का चुनाव होने में। दो बातें साफ हैं। एक यह कि आज की स्थिति में बीजेपी का पलड़ा भारी रह सकता है, लेकिन अगर सारे गैर बीजेपी दल एक साथ हो गए, तो बीजेपी को परेशानी हो सकती है। फिर क्या होगा? क्या प्रणब दा फिर एक बार बनेंगे? बीजेपी उन्हें उम्मीदवार नहीं बनाएगी। और कांग्रेस? उसे प्रणब दा से ज्यादा भरोसा हामिद अंसारी पर है। उधर बीजेपी में...
    July 26, 10:07 AM
  • विकास वही, जो गुजराती मॉडल पर हो
    केंद्र सरकार में एक मंत्री हैं। भारी भरकम कद, भारी भरकम मंत्रालय और सोच ऐसी कि विकास के कई अर्थशास्त्री भी पीएचडी कर डालें। लेकिन मंत्रिपरिषद में फेरबदल के साथ उनको नए ज्ञान की प्राप्ति हुई है। ज्ञान यह है कि विकास वगैरह तो अपनी जगह है, विकास उसी को माना जाएगा जो गुजरात मॉडल के अनुरूप हो। यह ज्ञान उन्हें हाल ही में मिले राज्यमंत्री के तौर-तरीकों से प्राप्त हुआ है। सेल्फ गोल दा जवाब नहीं! जब टीम इतनी बुरी तरह मात खा चुकी हो तब भी सेल्फ गोल कैसे किया जाए- यह कांग्रेस से सीखा जा सकता है। इस कला की...
    July 19, 06:58 PM
  • ये हैं पीएम मोदी की 'बारीक तैयारी' के पीछे ?
    प्रधानमंत्री की विदेश यात्राएं सभी के लिए कौतुक का विषय हैं। देस परदेस- सभी के मन में सवाल है- आखिर कोई ऐसा कर कैसे सकता है? हाल की विदेश यात्रा में प्रधानमंत्री ने कुल पांच भाषण दिए। पांचों अलग। पांचों की सामग्री अलग। और सबसे अहम बात- पांचों की स्टाइल अलग। जैसे स्विटजरलैंड में पीएम धीमे सुर में बोले, ज्यादा नहीं बोले, संस्कृति पर कोई आख्यान नहीं, और बात खत्म। क्यों? क्योंकि स्विस लोग जोर से बोलना और ज्यादा बोलना पसंद नहीं करते। और पीएम इतनी बारीकी से तैयारी करके घर से निकले थे। इसमें उनकी मदद...
    June 15, 07:20 PM