Home >> International News >> Bhaskar Gyan
  • चार्ली की जिंदगी की खास बातें: कम उम्र की लड़कियों से शादी करने का था शौक
    इंटरनेशनल डेस्क।चार्ली चैप्लिन 20वीं सदी के शुरुआती दौर के जाने-माने अभिनेताओं में से एक थे। बैगी आकार की ऊंची पतलून, अजीबोगरीब टोपी और जरूरत से ज्यादा लंबे जूते पहनना अपना स्टाइल बना लेने वाले चैप्लिन कुछ ही समय में हॉलीवुड आइकॉन बन गए। साइलेंट फिल्मों के शुरुआती दिनों में वो सबसे लोकप्रिय अभिनेताओं में से एक थे। अगर ये कहा जाए तो गलत नहीं होगा कि सिनेमा में अगर हास्य कलाकारों की बात होगी तो सबसे पहले का चार्ली चैप्लिन का ही नाम आएगा। चार्ली चैप्लिन का जन्म आज ही के दिन 16 अप्रैल 1889 ब्रिटेन में...
    April 16, 05:46 PM
  • जानिए क्यों अभी भी स्नोडेन के कम्प्यूटर तक नहीं पहुंच सका अमेरिका
    वाशिंगटन . अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनएसए) के बड़े खुलासे करने वाले एडवर्ड स्नोडेन साधारण व्यक्ति नहीं हैं। अमेरिका आज तक उनकी सही लोकेशन ढूंढ़ नहीं पाया। स्नोडेन ने दुनिया को बताया था कि अमेरिका मित्र देशों तक के खिलाफ जासूसी करता है। स्नोडेन ने पहली बार गार्डियन के पत्रकार ग्लेन ग्रीनवाल्ड को ई-मेल भेजा था। इस ई-मेल से ग्लेन समझ गए थे कि स्नोडेन के पास असाधारण कम्प्यूटर है। उनके ई-मेल को ग्लेन का पीजीपी सॉफ्टवेयर भी पकड़ नहीं पाया था। स्नोडेन ने एनएसए से बचने के लिए टैल्स...
    April 16, 11:28 AM
  • अब नोबेल चाहिए तो करना होगा 20 साल का इंतजार
    लंदन. प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार के लिए इंतजार की अवधि अब और बढ़ गई है। एक अध्ययन के मुताबिक किसी बड़ी वैज्ञानिक खोज का पता चलने और नोबेल प्रदान किए जाने के बीच की अवधि को लगातार बढ़ाया जाता रहा है। अब इसे बढ़ाकर 20 वर्ष कर दिया गया है। यह अध्ययन करने वाले फिनलैंड के आल्टो विश्वविद्यालय के प्राध्यापक सैंटो फॉर्चूनाटो ने कहा कि चूंकि मरणोपरांत नोबेल प्रदान नहीं किया जाता, इसलिए इससे विज्ञान के सर्वोच्च सम्माननीय संस्थानों की अवहेलना होने का खतरा उत्पन्न हो गया है। अध्ययन के अनुसार, जब-तक नोबेल...
    April 14, 12:04 PM
  • फेसबुक पर ज्यादा समय बिताने से महिलाओं की सोच होती है निगेटिव: रिसर्च
    वॉशिंगटन। जो महिलाएं ज्यादा समय फेसबुक पर लगाती हैं, खुद को लेकर उनकी सोच नकारात्मक हो जाती है। अमेरिका में वैज्ञानिकों ने एक शोध के बाद यह जानकारी दी है। कॉलेजों की 881 युवतियों पर शोध में रिसर्चर्स ने पाया कि ऐसी युवतियां फेसबुक फ्रेंड्स के साथ अपनी आदतों, शरीर और रहन सहन को कम्पेयर करने लगती हैं। इसके बाद उनमें खुद को लेकर नकारात्मक भाव पैदा होने लगते हैं, जो उनके लिए घातक हो सकता है।
    April 13, 11:44 AM
  • मंगल ग्रह पर सफेद रोशनी से हैरान हैं नासा के वैज्ञानिक
    अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के क्यूरोसिटी यान ने मंगल ग्रह पर ऐसी सफेद रोशनी देखी है, जो आज तक पहले कभी नहीं देखी गई। नासा के वैज्ञानिक इससे और हैरानी में पड़ गए हैं। नासा का मिशन लाल ग्रह पर जीवन की खोज करना है, जबकि वहां अब सफेद रोशनी दिखाई दी है। नासा के वैज्ञानिक इस पहेली को सुलझाने में जुटे हैं कि आखिर वह है क्या। कुछ वैज्ञानिक इसे वहां जीवन होने का संकेत भी मान रहे हैं। नासा की थ्योरी के अनुसार इस तरह की रोशनी को वहां एलियन्स के जीवन का सबूत बिल्कुल नहीं माना जा सकता। हालांकि ऐसा पहली बार...
    April 11, 06:26 PM
  • ढलती उम्र में भी कम नहीं होगी बीमारियों से लडऩे की क्षमता
    लंदन. उम्र ढलने के बाद भी अब बीमारियों से लडऩे की क्षमता नहीं घटेगी। क्योंकि वैज्ञानिकों ने शरीर में मौजूद थाइमस ग्रंथि को दोबारा तैयार करने में सफलता पा ली है। यह ग्रंथि सफेद रक्त कोशिकाएं (व्हाइट ब्लड सेल-डब्ल्यूबीसी) बनाती है। डब्ल्यूबीसी कई तरह के संक्रमण व बीमारियों से लडऩे में शरीर को सक्षम बनाती हैं। वैज्ञानिकों के मुताबिक, उम्र बढऩे के साथ डब्ल्यूबीसी की संख्या घटने लगती है। क्योंकि थाइमस ग्रंथि की क्षमता भी घट जाती है। इससे जाहिर तौर पर बीमारियों से लडऩे की क्षमता भी घट जाती है।...
    April 10, 10:18 AM
  • इजरायली कंपनी की ताकतवर बैटरी, 30 सेकेंड में होगी चार्ज
    वाशिंगटन. इजरायल की कंपनी ने एक ऐसी बैटरी बनाने का दावा किया है जो मात्र कुछ सेकेंड में ही स्मार्टफोन को पूरी तरह चार्ज कर देगी। इससे मोबाइल फोन के लिए घंटों चार्जिंग की समस्या से छुटकारा मिलेगा। स्टोरडोट द्वारा बनाई जा रही इस बैटरी के बारे में दावा किया जा रहा है कि रसायन संश्लेषित जैविक पेप्टाइड अणुओं (कैमिकली सिंथेसाइज्ड बायो ऑर्गेनिक मॉलिक्यूल्स) का इस्तेमाल किया गया है। जो कि बहुत ही छोटे हैं और इलेक्ट्रोड की कैपिसिटी व इलेक्ट्रोलाइट की परफोर्मेन्स बढ़ाते हैं। इस वजह से बैटरी बहुत ही...
    April 9, 10:19 AM
  • इंसान ने किया इस ग्रेट साइंस का इस्तेमाल, जानवरों को भी मिली नई जिंदगी
    प्रोस्थेटिक प्राचीन ग्रीक भाषा का शब्द है। मेडिकल साइंस के मुताबिक, यह आर्टिफिशियल डिवाइस होता है। जन्मजात, बीमारी और हादसे में अंग खो देने के बाद यह आर्टिफिशियल डिवाइस उस अंग की जगह काम करता है। यह प्राचीन विज्ञान की देन है। इसने दुनियाभर के करोड़ों लोगों को नया जीवन दिया है। मानव जगत में हमने इसका कई बार प्रयोग किया है, लेकिन जंतु जगत में भी कई जानवर इस विज्ञान का लाभ उठा सके हैं।आइए, जानते हैं ऐसे ही कुछ उदाहरणों के बारे में... चलने लगा जन्म से अक्षम डॉगी होपा चार साल का एक मिक्सड ब्रीड डॉगी...
    April 8, 03:20 PM
  • नाइकी ने आइकॉनिक लोगो के लिए चुकाए थे सिर्फ 35 डॉलर
    नाइकी का स्वूश लोगो कंपनी की पहचान है। इस लोगो को कैरोलिन डेविडसन ने बनाया था। जो उस वक्त पोर्टलैंड स्टेट यूनिवर्सिटी में ग्राफिक डिजाइन की पढ़ाई कर रही थीं। कंपनी के सहसंस्थापक फिल नाइट की कंपनी उस वक्त तक सफल नहीं हुई थी, इसलिए वे पोर्टलैंड स्टेट यूनिवर्सिटी में अकाउंटिंग की क्लास लेते थे। क्लास के दौरान उन्होंने डेविडसन को स्केचिंग करते देखा और जूते के डिब्बे के लिए डिजाइन बनाने का ऑफर दे दिया। डेविडसन ने उनके लिए कई डिजाइन बनाई, जिसमें से नाइट ने स्वूश को चुना। डेविडसन को दो डॉलर प्रति...
    April 6, 06:43 PM
  • अफगानिस्तान में विदेशी सेनाओं की वापसी और चुनाव के बाद कई चुनौतियां
    अफगानिस्तान में 5 अप्रैल से शुरू हो चुकी चुनावी प्रक्रिया के बीच देश के भविष्य के संबंध में सवाल उठाए जा रहे हैं। राष्ट्रपति और प्रांतीय चुनावों में बाधा डालने के लिए मार्च के महीने से भयानक रक्तपात की शुरुआत हो गई थी। वैसे, दस साल के दौरान मार्च पहला महीना था जब कोई अमेरिकी सैनिक नहीं मारा गया। लेकिन, अफगानों खासकर राजधानी काबुल के लोगों पर यह समय बहुत भारी रहा। काबुल के सबसे सुरक्षित सेरेना होटल पर तालिबानी हमले के बाद कई आत्मघाती हमले हुए हैं। लोगों की चिंता है कि जब साल के अंत में अमेरिका...
    April 6, 11:31 AM
  • अमेरिका में 101 साल पहले बच्चों को पार्सल से भेजते थे दूसरे शहर
    अमेरिका में एक समय ऐसा भी था, जब लोग छोटे बच्चों को पार्सल सेवा से कहीं भेजते थे। वर्ष 1910 के दशक में यही होता था। इसका कारण यह था कि बच्चों के साथ यात्रा करना आसान नहीं था और उसकी ज्यादा कीमत भी चुकानी पड़ती थी। पैसे बचाने के लिए कुछ अभिभावक अपने बच्चों को पार्सल कर देते थे। अमेरिकी पार्सल पोस्ट सर्विस में 1 जनवरी 1913 से पैकेज भेजने के नियम बनाए गए थे। नियमों के मुताबिक पैकेज का वजन 22 किलो से अधिक नहीं होना चाहिए था, लेकिन इसमें भी बच्चों को पार्सल करने की छूट थी। 19 फरवरी 1914 में चार साल की मेय...
    April 4, 10:53 AM
  • डॉल्फिन ने की वैज्ञानिकों से बात कहा: मेरे पास कचरा पड़ा है
    फ्लोरिडा. वह दिन दूर नहीं जब इंसान डॉल्फिनों से दोस्तों की तरह बात कर सकेंगे। ऐसे ही एक प्रोजेक्ट में शोधकर्ताओं को बड़ी सफलता मिली है। अमेरिका के फ्लोरिडा में एक डॉल्फिन ने उसके पास पड़े कचरे के बारे में शोध करने वाले बताया। इस प्रोजेक्ट का नाम ह्यूमन-टू-डॉल्फिन ट्रांसलेटर है। प्रोजेक्ट प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. डेनिज हर्जिंग डॉल्फिन के रिस्पॉन्स से बेहद उत्साहित हैं। प्रोजेक्ट में सेटासियन हियरिंग एंड टेलिमेट्री डिवाइस (चैट) इस्तेमाल की गई। इसके जरिए डॉल्फिन का संदेश शोधकर्ताओं तक पहुंचा।...
    April 3, 01:05 PM
Ad Link
 
विज्ञापन
 
 
 
 

बड़ी खबरें

 
 
 
 

रोचक खबरें

विज्ञापन
 

बॉलीवुड

 
 

जीवन मंत्र

 
 

स्पोर्ट्स

 

बिज़नेस

 

जोक्स

 

पसंदीदा खबरें