150 साल से एक जैसी हो रही पूजा

150 साल से एक जैसी हो रही पूजा

ग्रीष्म और शरद काल की संधि बेला में माता का आगमन, इस पूरी प्रकृति के लिए अलौकिकता एवं दिव्यता की अनुभूति लिए होती है। कुछ इस प्रकार की छटा भी इस पुरातन पद्धति की पूजा में दृष्टिगोचर होती है। चास-बाजार दुर्गा माता मंदिर की ग्रामीण शैली की पूजा आज भी उसी रूप में विद्यमान है। इसमें कोई बदलाव आज तक नहीं आया है।...

आकर्षक पंडाल और प्रतिमाओं से सजा दरबार
आकर्षक पंडाल और प्रतिमाओं से सजा दरबार

महा सप्तमी के दिन चास में विभिन्न पंडालों और मंदिरों में मां दुर्गा के पट खुल गए। माता आदिशक्ति की पूजा और...

बीओआई ने की अभियान की शुरुआत
बीओआई ने की अभियान की शुरुआत

स्वच्छ भारत मिशन के तहत बैंक ऑफ इंडिया ने बुधवार से अभियान की शुरुआत की। कार्यक्रम का आयोजन...

देवियों की झांकी बनी आकर्षण का केंद्र
देवियों की झांकी बनी आकर्षण का केंद्र

नगर के सेक्टर चार में प्रजापिता ब्रह्मकुमारी संस्थान में चैतन्य देवियों की झांकी लोगों के...

बड़ी खबरें

न्यूज़ प्लस

बॉलीवुड

स्पोर्ट्स

जीवन मंत्र

JokesSmilies

और पढ़ें