• WhatsApp Hit: जब ओबामा ने मोदी से पूछा- यार, ये केजरीवाल कौन है?

    WhatsApp Hit: जब ओबामा ने मोदी से पूछा- यार, ये केजरीवाल कौन है?
    Office
    ओबामा, मोदी से: यार, ये केजरीवाल कौन है? मस्त काम कर रहा है बन्दा! . मोदी : हूं, ऐसा क्या कर दिया......... . ओबामा : इस बंदे ने दिल्ली के पीतमपुरा में गुप्ता जी के घर... Expand
    ओबामा, मोदी से: यार, ये केजरीवाल कौन है? मस्त काम कर रहा है बन्दा! . मोदी : हूं, ऐसा क्या कर दिया......... . ओबामा : इस बंदे ने दिल्ली के पीतमपुरा में गुप्ता जी के घर के आगे 12 दिन से पडा कूड़ा हटवा कर के झाड़ू लगवा दी और मिश्रा जी के घर के आगे पानी का छिड़काव करवाया वो अलग !!! . मोदी (चौंकते हुए) : लेकिन, आपको कैसे पता? . ओबामा : New York Times में पूरे 6 पन्नों का विज्ञापन दिया है।   Collapse
    Share on facebook
  • BIG HIT: जब संता ने कहा आज मेरी छुट्टी है, नहीं तो मैं ट्रक चलाता हूं...

    BIG HIT: जब संता ने कहा आज मेरी छुट्टी है, नहीं तो मैं ट्रक चलाता हूं...
    Santa Banta
    साइकल से संता ने एक आदमी को टक्कर मार दी और बोला- आप बहुत लक्की हो। घायल व्यक्ति- ओए, एक तो मुझे साइकल मारी और ऊपर से कह रहा है कि मैं लकी हूं, कैसे?  संता-... Expand
    साइकल से संता ने एक आदमी को टक्कर मार दी और बोला- आप बहुत लक्की हो। घायल व्यक्ति- ओए, एक तो मुझे साइकल मारी और ऊपर से कह रहा है कि मैं लकी हूं, कैसे?  संता- आज मेरी छुट्टी है, नहीं तो मैं ट्रक चलाता हूं।   संता का बेटा बंटी बंता के बेटे पप्पू से- यार, तुमने स्कूल आना क्यों छोड़ दिया? पप्पू- मेरे पापा कह रहे थे कि एक जगह बार-बार जाने से इज्जत कम हो जाती है।   संता-बंता से - जब तेरे पास मोबाइल है और मेरे पास भी मोबाइल है, तो तूने लैटर क्यों भेजा? बंता ओय…मैंने तुझको कॉल किया था... तो किसी दीदी ने उठाया और बोलीं प्लीज ट्राय लैटर। Collapse
    Share on facebook
  • Fake Shake: एसी की हवा खाने के लिए ATM में गार्ड बन गया सिविल इंजीनियर

    Fake Shake: एसी की हवा खाने के लिए ATM में गार्ड बन गया सिविल इंजीनियर
    Other Jokes
    गाजियाबाद, यूपी में जहां लाखों लोग गर्मी और बेरोजगारी से परेशान हैं, वहीं एक बेरोजगार सिविल इंजीनियर ने इन दोनों से बचने का अनोखा तरीका ढूंढ निकाला है।... Expand
    गाजियाबाद, यूपी में जहां लाखों लोग गर्मी और बेरोजगारी से परेशान हैं, वहीं एक बेरोजगार सिविल इंजीनियर ने इन दोनों से बचने का अनोखा तरीका ढूंढ निकाला है। प्रमोद नाम के उस इंजीनियर ने एक बैंक के एटीएम में गार्ड की नौकरी कर ली है। एक चर्चित इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर चुके प्रमोद को यह आइडिया उस समय आया, जब कुछ दिन पहले वो अपने अकाउंट में बैलेंस चेक करने एक एटीएम में घुसा था। दोपहर का टाइम था और गर्मी की वजह से उसका बुरा हाल था। अंदर घुसते ही एसी की ठंडी हवा में उसे ऐसा सुकून मिला कि बाहर निकलने का मन ही नहीं किया। चार-चार बार बैलेंस चेक करने के बाद भी जब वो वहीं खड़ा रहा तो गार्ड को शक हुआ। उसने पूछा- “भाईसाब, क्या हुआ?”, प्रमोद ने जवाब दिया- “कार्ड अंदर फंस गया है”, तो गार्ड ने कहा- “हटो, मैं देखता हूं!” बस इसी बात पर दोनों में झगड़ा शुरू हो गया। गार्ड उसे एटीएम से बाहर धकेलने लगा। इस बात पर प्रमोद बोला कि तो तुम अंदर क्यों बैठे हो, तुम भी बाहर चलो। “मैं तो अपनी ड्यूटी कर रहा हूं। तुम्हारी तरह खाली नहीं हूं। यह कहते हुए गार्ड ने झटककर खुद को छुड़ाया और “एसी में रहना है तो हमारी तरह नौकरी करो” कहते हुए वापस अंदर जा बैठा। यह सुनते ही प्रमोद के दिमाग की बत्ती जल गई। उसने सोचा- “यार, चार पैसे भी मिलेंगे और एसी की ठंडी हवा भी।” उसने फुटपाथ से ’10वीं, 12वीं, ग्रेजुएशन पास/फेल गार्ड, हेल्पर, सुपरवाइजर बनें और 8000 से 15000 तक कमाएं’ वाली जॉब का फॉर्म लेकर तुरंत अप्लाई कर दिया और उसी दिन नौकरी भी शुरू कर दी। जब घरवालों ने उससे पूछा कि “आजकल सारा दिन कहां गायब रहते हो?” तो उसने यह कहते हुए टरका दिया कि “एक कंपनी में ‘समर जॉब’ मिल गई है।” वह 8 के बजाय 16 घंटे की नौकरी करने लगा, क्योंकि उसे गर्मी से भी तो बचना था। अब प्रमोद से प्रेरित होकर देश के लाखों बेरोजगार इंजीनियर गार्ड की नौकरी के लिए अप्लाई कर रहे हैं। वे गर्मी से तो बचेंगे ही, साथ में कुछ पैसे भी मिल जाएंगे। यानी आम के आम और गुठलियों के दाम।  (काल्पनिक खबर- फेकिंग न्यूज) Collapse
    Share on facebook
  • सोचना तो पड़ेगा: कभी गर्ल्स कॉलेज के पास ऐसा कोई बोर्ड क्यों नहीं होता?

    सोचना तो पड़ेगा: कभी गर्ल्स कॉलेज के पास ऐसा कोई बोर्ड क्यों नहीं होता?
    Other Jokes
    धीरे चलिए कभी गौर किया है गर्ल्स कॉलेज के पास ऐसा कोई बोर्ड नहीं होता जिस पर लिखा हो “धीरे चलिए, आगे कॉलेज है, क्योंकि सबको पता है कि यहां सभी धीरे ही... Expand
    धीरे चलिए कभी गौर किया है गर्ल्स कॉलेज के पास ऐसा कोई बोर्ड नहीं होता जिस पर लिखा हो “धीरे चलिए, आगे कॉलेज है, क्योंकि सबको पता है कि यहां सभी धीरे ही चलेंगे।   काश तू बकरी होती तो तेरे सींग अपने दोनों हाथों से पकड़कर हिलाता और पूछता “बता बेवफा कौन?” और तू जवाब देती मैं...मैं...मैं...।   स्कूल टाइम में की हुई सबसे फेमस शिकायत। मैडम ये बेंच हिला रहा है लिखने नहीं देता। टीचर- जिसे सुनाई नहीं देता उसको क्या कहेंगे?   स्टूडेंट- कुछ भी कह दो, उसको कौन-सा सुनाई देता है।   गोलू पार्टी से रात को देर से घर गया। अगले दिन दोस्तों ने उससे पूछा- बीवी ने कुछ कहा तो नहीं? गोलू- न न, कुछ खास नहीं... ये दो दांत तो मुझे वैसे भी निकलवाने थे। Collapse
    Share on facebook
  • BIG HIT: जब 35000 फीट की ऊंचाई पर एक हवाई जहाज में आ गई खराबी

    BIG HIT: जब 35000 फीट की ऊंचाई पर एक हवाई जहाज में आ गई खराबी
    Other Jokes
    एक हवाई जहाज अपनी नियमित उडान पर, 35000 फीट की ऊंचाई पर था, तभी उसमें कुछ तकनीकी खराबी आ गई। एयर होस्टेस ने सब को पैराशूट बैग दिए और बाहर कूदने को कहा, सभी ने... Expand
    एक हवाई जहाज अपनी नियमित उडान पर, 35000 फीट की ऊंचाई पर था, तभी उसमें कुछ तकनीकी खराबी आ गई। एयर होस्टेस ने सब को पैराशूट बैग दिए और बाहर कूदने को कहा, सभी ने फौरन छलांग लगा दी, लेकिन एक बुजुर्ग, एक किशोर एवं एक नेताजी रह गए, क्योंकि पैराशूट बैग दो ही बचे थे।  नेताजी- हमरा जाना बहुत जरूरी है। देश की जनता हमरा इंतजार कर रही है। मुझे बैग दे दो बच्चे। बुजुर्ग- मैं अपने पोते की शादी में जा रहा हूं, मेरा जाना भी बहुत जरूरी है। किशोर- मेरा एक्जाम है, मैं नहीं रुक सकता। नेताजी से सब्र नहीं हुआ। उन्होंने बहस से निकलकर तुरंत बैग उठाया और बाहर छलांग लगा दी। बुजुर्ग- (किशोर से) बेटा अब तुम कूद जाओ मैं तो बहुत जी चुका।  किशोर- नहीं! हम दोनों कूदेंगे। बुजुर्ग- पैराशूट बैग एक ही बचा है, ऐसे में ये कैसे संभव हो पाएगा? किशोर- अंकल! आप चिंता न करें, नेताजी तो मेरा ‘स्कूल बैग’ लेकर कूद गए हैं। Collapse
    Share on facebook

बदले की आग

FUNNY PICTURES

ONE LINER

हंसगुल्ले

विज्ञापन

Funny Videos

घनचक्कर

LO KAR LO BAAT