मधुरिमा
Home >> Madhurima
  • नौतपा में मेहंदी ज़रूर लगाना चाहिए, पूरा शरीर शीतल हो जाता है। दादी का यह नुस्ख़ा वे अब भी मानती हैं। आज भी कांसे के कटाेरे में मेहंदी घोलते ही आंखों के आगे पूरा बचपन घूम गया। दादी हर त्योहार, हर परम्परा कितने चाव से निभाती थीं। हर प्रथा के साथ रिश्तों में ताज़गी भर देती थीं। मेहंदी मांडने की रीत भी इससे अछूती नहीं थी। हर एक तीज-त्योहार पर ख़ासकर राखी पर तो मेहंदी मांडना-रचाना नितांत ज़रूरी था। दादी का आदेश रहता था, सब भाइयों की छिंगली में मेहंदी रचेगी, क्योंकि यह निशानी है बहनों वाले भाई की... और सब...
    August 28, 09:47 AM
  • जले पर झट से घी लगा दो, ताकि ठंडक मिले। हम ऐसे ही कई नुस्ख़ों पर पर विश्वास करते हैं, लेकिन इस और ऐसी ही अन्य ग़लतियाें के कारण मरीज़ की मुसीबत बढ़ जाती है। जलने पर सिर्फ़ पानी की ठंडक रसोई में काम करते वक़्त हाथ जलने पर कई लोग ठंडक पाने के लिए जले पर मक्खन, घी या तेल लगा लेते हैं। इससे संक्रमण फैल सकता है और टूथपेस्ट के रसायन घाव बढ़ा भी सकते हैं। सही तरीक़ा- जलन शांत करने के लिए ठंडे पानी में कुछ देर हाथ डालकर रखें। जलन शांत होते ही घाव पर मलहम लगाएं, पर पट्टी क़तई न बांधें। घाव गम्भीर हो, तो तुरंत डाॅक्टर...
    August 28, 09:41 AM
  • पोषण का बेहतर अवशोषण
    पोषक तत्व अकेले कुछ ख़ास कमाल नहीं दिखा पाते। इनके बेहतर अवशोषण के लिए दूसरे पोषक तत्वों का साथ ज़रूरी है... जिस प्रकार किसी परिवार को चलाने के लिए सभी सदस्यों का एक-दूसरे के साथ तालमेल बहुत आवश्यक है, ठीक उसी प्रकार भोजन में पाए जाने वाले पोषक तत्व भी एक-दूसरे पर निर्भर रहते हैं और अकेले सही ढंग से कार्य नहीं कर पाते। यही नहीं, किन पोषक तत्वों का मेल किनके साथ बेहतर होगा, यह जानना भी आपके लिए बहुत ज़रूरी है। यहां ऐसी ही कुछ जोड़ियों के उदाहरण दिए जा रहे हैं, जिनसे आप अधिक से अधिक पोषण प्राप्त कर सकते...
    August 28, 09:30 AM
  • अच्छे रिटर्न देते फंडस...
    लाभ कमाने के लिए आप बाज़ार में निवेश करना चाहते हैं, लेकिन उसके उतार-चढ़ाव से डरते हैं, तो म्यूचुअल फंड फ़ायदेमंद सौदा हो सकता है। शेयर बाज़ार के ज़रिए मोटी कमाई ज़रूर की जा सकती है, लेकिन वहां जोखिम भी बहुत ज़्यादा है। दूसरी ओर, निवेश के पारम्परिक विकल्प (एफडी, पीपीएफ आिद) में पैसा सुरक्षित रहता है, पर बढ़त कम मिलती है। इसलिए वित्त विशेषज्ञ बचत का कुछ हिस्सा म्यूचुअल फंड में लगाने की सलाह देते हैं। विभिन्न कम्पनियां अपने म्यूचुअल फंड के ज़रिए निवेशकों से जुटाई गई राशि शेयर और अन्य वित्तीय साधनों में...
    August 28, 09:25 AM
  • वयं रक्षाम:
    राखी कहती है कि बहन, भाई का ख़्याल रखे और भाई बहन की संकट से रक्षा करे।इसके और मायने भी हैं, जिसमें सबसे महत्वपूर्ण है- भाई, बहन को संकटों से निबटने के लिए हर तरह से सशक्त बनाए... हमारे देश में राखी से जुड़ी एक रस्म लोकप्रिय है। इस दिन भाइयों वाली बहनें अपनी हथेलियों के पिछले हिस्से में मेहंदी लगवाती हैं, वहीं बहनों वाले भाई अपनी कनिष्ठिका को मेहंदी से रचाते हैं। यह निशानी होती है, बहनों वाले भाइयों और भाइयों वाली बहनों की। गौरव महसूस करते हैं वे जिनकी उंगली पर मेहंदी रची होती है। गर्व से सारे...
    August 27, 11:20 AM
  • सैलाब
    कश्मीर की वादियां फिर से सांस लेने लगी थीं। फ़िज़ा भी गुनगुनाने लगी थी, कि नौकरी लगते ही मेरी पहली पोस्टिंग श्रीनगर हो गई। दिल ख़ुश हो उठा। ज़िंदगी की शुरुआत इतनी ख़ूबसूरत होगी, सोचा न था। श्रीनगर में बाढ़ के बाद जनजीवन काफ़ी सामान्य दिखाई दे रहा था। शाम को डल झील के किनारे टहलना, झील में तैरते हाउसबोट, फूलों से लदे शिकारा को निहारना किसी सपने से कम न था। उसी दौरान कुछ दिनों के लिए पहलगाम जाकर वहां काम सम्भालने का आदेश मिला। मैं अगली सुबह ही निकल पड़ा। तीन घंटे का सफ़र वादियों की ख़ूबसूरती के बीच कब...
    August 26, 12:00 AM
  • रेशम की डोर...
    मम्मी-मम्मी, कल स्कूल में रेशम की राखी बनाना सिखाएंगे। मुझे रेशम का धागा दिलवा दो ना। बिटिया की बात सुनकर सीमा अपने बचपन के ख़्यालों में खो गई। दादी ने उसे रेशम के धागे से राखी बनाना सिखाया था। चमकीले रेशम की सुंदर राखी जब उसने सितारों से सजाकर अपने भाई की कलाई पर बांधी थी, तो उसके भाई ने भावावेश में उसे गले लगा लिया था। लेकिन रेशम की डोर में गांठ टिकती ही नहीं थी। राखी बार-बार खुल जाती और भाई बार-बार उसके पास आकर राखी बंधवाता रहा। तब एक बार झुंझलाकर उसने दादी से कहा था, दादी, इसकी डोरी बदल दो न।...
    August 26, 12:00 AM
  • हर रूप में जंचती है साड़ी...
    ऑफ़ वाइट साड़ी का चौड़ा बॉर्डर, तिस पर गुलाबी और नारंगी रंग का टच कितना ख़ूबसूरत लग रहा है न! एक बार फिर फैशन परेड में चौड़े बॉर्डर वाली साड़ियां अव्वल हैं। तरह-तरह के मटेरियल के साथ ज़री, ज़रदोज़ी, बनारसी या पैच वर्क के बाॅर्डर वाली साड़ी चुन सकती हैं। इसके अलावा कंट्रास वैलवेट की पतली किनारी भी काफ़ी पसंद की जा रही है। जॉर्जेट, क्रेप, शिफॉन जैसे मटेरियल में प्रिंटेड साड़ियाें का बोलबाला है। ये साड़ियां ज़रा भी नहीं फूलतीं, तो इन्हें पहनना और दिनभर सम्भालना बहुत सहूलियतभरा होता है। टाई एंड डाई प्रिंट्स भी...
    August 26, 12:00 AM
  • तोहफ़ा भी हो ख़ास
    राखी बहनों का सबसे पसंदीदा त्योहार होता है। भाइयों की जेब ख़ाली और बहनों की तो चांदी ही चांदी। ज़ाहिर है आप भी इस राखी अपनी बहनों के लिए तोहफ़े के विकल्प सोच ही रहे होंगे। ऐसे में हमारी सलाह है कि चॉकलेट्स, परफ्यूम या कपड़ों के बरसों-पुराने विकल्पों के बजाय कुछ नया सोचें...। जैसे... ई-गिफ्ट वाउचर्स लड़कियों को शॉपिंग से भला कौन अलग कर पाया है! ऐसे में उनके ऑनलाइन शॉपिंग के जुनून के लिए शॉपिंग गिफ्ट वाउचर्स से बेहतर और कुछ नहीं। इस विकल्प के दो फ़ायदे भी हैं। पहला- आपको घर से बाहर जाकर तोहफ़ा ढूंढने की...
    August 25, 02:39 PM
  • मोटी के बिना पहली राखी
    मोटी और मैं... जैसे टॉम और जैरी! हम दोनों के बीच क्या रिश्ता था, यह समझाने के लिए यह उदाहरण सबसे सटीक बैठता है। वह मुझसे तीन साल बड़ी है, लेकिन उसकी हरकतों से लगता है कि मैं उससे बड़ा हूं। हर्षु! मेरा लैपटॉप चल नहीं रहा, देख न... हर्षु! मेरे साथ बैठकर बैंक का फॉर्म भरा दे... हर्षु! मैं अकेले बाज़ार नहीं जाऊंगी, तू भी चल न! अरे हां! मैं बताना ही भूल गया, वह मुझे हर्षु बुलाती है। और वह कौन...? वह मेरी नकचढ़ी, ग़ुस्सैल, थोड़ी-सी पागल, बहुत ज्य़ादा रोतली बहन, रागिनी दीदी। यक़ीन मानिए, यहां दीदी लिखते हुए मुझे बहुत ज़ोर से हंसी आ...
    August 25, 02:32 PM
  • हमेशा चार्ज हो मोबाइल
    ऑफिस के किसी काम से शहर से बाहर जाना हुआ। दिनभर मीटिंग्स में उलझी रही, फिर होटल पहुंची तो थकान के कारण नींद आ गई। कुछ घंटे बाद ही मेरी वापसी की ट्रेन थी। उठने पर पर याद आया कि सोने से पहले मोबाइल चार्ज करना ही भूल गई! हालांकि स्टेशन के लिए निकलने में 20-25 मिनट बाक़ी थे, पर सोचा कि अब इतनी कम देर में क्या होगा, ट्रेन में ही मोबाइल चार्ज कर लंूगी। आपाधापी में घर पर फोन भी नहीं कर पाई। स्टेशन पहुंचने तक मेरे मोबाइल की बैटरी ख़त्म हो चुकी थी। ट्रेन में मेरी सीट के नज़दीक वाला चार्जिंग पोर्ट काम नहीं कर रहा था...
    August 25, 02:30 PM
  • आप जवान हैं, क्या दिल भी...
    हम दिल की सेहत को अक्सर उम्र के साथ जोड़ते हैं। 30-32 साल में दिल को क्या ख़तरा! यही सोचते हैं न आप भी? यदि हां, तो ज़रा सम्भल जाइए... दिल की बीमारियों का ख़तरा तो 45-50 की उम्र के बाद होता है... मैं शाकाहारी हूं, तो मुझे इसका कैसा डर! यदि एक बार मुझे उच्च रक्तचाप की समस्या हो गई, तो फिर रोज़ व्यायाम करने से क्या फ़ायदा! हमारे देश में दिल की बीमारियों को लेकर लोग आमतौर पर ऐसी भ्रांतियों पर विश्वास करतेे हैं। जानकारियों के अभाव से कई बार ख़तरे की स्थिति में पड़ जाते हैं। दिल के स्वास्थ्य को लेकर लापरवाही नहीं बरतनी...
    August 19, 02:23 PM
  • मददगार एेप्स
    मोबाइल ऐप्स पढ़ाई आसान बनाने में आपकी मदद कर सकते हैं, चुनिंदा पर ग़ौर करें... Camscanner- लाइब्रेरी की किताब का कोई हिस्सा महत्वपूर्ण है और उसकी जानकारियां लिखनेे का वक़्त नहीं, तो कैमस्कैनर के ज़रिए उसकी तस्वीर लेकर पीडीएफ या सॉफ्ट डॉक्यूमेंट फाइल के रूप में सेव कर सकते हैं। इसके बाद इस स्कैन किए गए डॉक्यूमेंट का प्रिंट आसानी से निकल जाएगा, तो सीधे प्रिंटेड नोट्स मिलेंगे। कैमस्कैनर की मदद से आसानी से नोट्स बनाएं और दोस्तों से भी साझा करें। Evernote- इसके ज़रिए बिल्कुल नए अंदाज़ में नोट्स बना सकते हैं। इनमें...
    August 19, 02:20 PM
  • हॉस्टल में घर जैसे रहो़!
    यूं तो हमारे ऑफिस के हर हिस्से की तरह वॉशरूम भी हमेशा साफ़ रहता है, पर आज उसकी हालत देखकर मन ख़राब हो गया। किसी के कीचड़ वाले फुटवेयर्स के निशान पूरे फर्श पर बने थे। ख़ुद को समझाया कि जाने कितनेे लोग यहां आते हैं, तो कभी-कभार ऐसा हो सकता है। ख़ैर! क्लीनिंग स्टाफ को इसकी जानकारी देकर मैं काम में लग गई, ताकि आगे किसी को दिक़्क़त न हो। हां, इस वाक़ए ने मुझे मेरे हॉस्टल वाले पुराने दिन और हमारी वॉर्डन नंदा मैम की याद ज़रूर दिला दी। हमारा बहुत बड़ा हॉस्टल था, जहां क़रीब 1000 छात्राएं रहती थीं। इस भीड़ को नियंत्रित रखने...
    August 19, 02:15 PM
  • आपका मूड ख़राब है?
    मनमुताबिक़ काम न हो पाए, तो बुरा लगता ही है... लेकिन हमेशा उखड़े मूड में रहेंगे, तो सबसे ज़्यादा नुक़सान आपको ही पहुंचेगा। कभी-कभी हम सभी का मूड बिगड़ता है, कुछ अच्छा नहीं लगता, छोटी-छोटी बातें हमें चिढ़ा देती हैं... पर लम्बे समय तक यह रवैया क़ायम रहे, तो रिश्तों में दरार आना और हमारे विकास पर बुरा असर पड़ना स्वाभाविक है। ग़ौर कीजिए... सबके साथ होता है... मनोवैज्ञानिक पल-पल बदलने वाले हमारे मूड को मूड स्विंग्स के नाम से पुकारते हैं। उनके मुताबिक़ युवावस्था के दौरान शरीर में होने वाले हॉर्मोनल बदलाव इसकी बड़ी...
    August 19, 02:09 PM
  • आइशैडो आंखों को एक अलग निखार देता है, लेकिन समस्या तब होती है, जब यह बिगड़ जाए। ऐसे में... क्या करें- एक साफ़ आइशैडो ब्रश (या साफ़ ईयरबड) लेकर फैले हुए शैडो को साफ़ करें। चाहें तो किसी हल्के रंग का शैडो लेकर फैले हुए शैडो के ऊपर लगाएं, जिससे पुराना रंग हल्का हो जाए। ध्यान रखें- शैडो उंगलियों से न लगाकर ब्रश से लगाएं। कोशिश करें कि हर रंग के लिए अलग-अलग ब्रश का इस्तेमाल हो सके। यह सम्भव न हो, तो हल्के व गहरे रंगों के लिए दो अलग-अलग ब्रश रखें। इसके अलावा मेकअप करने से पहले प्राइमर लगाएं, ताकि मेकअप फैले नहीं...
    August 19, 02:00 PM
  • मैं एक मल्टीनेशनल कम्पनी में कार्यरत हूं। पिछले पांच सालों से कम्प्यूटर, फोन, टैबलेट सब पर काम करने की आदी हूं। पर अफ़सोस होता है कि काम करने के सही तरीक़े को लेकर अनजान रही। अब कहीं जाकर सही रखरखाव के तरीक़े सीख पाई हूं। मैं अक्सर अपने मेलबॉक्स को लेकर परेशान रहती थी। सुबह उठती, तो फोन पर मेल चेक करती। जो ज़रूरी होता, वह खोलकर पढ़ लेती और बाक़ी बाद के लिए छोड़ देती। दफ़्तर पहुंचते ही फिर ईमेल देखती, काम के मेल पढ़कर बाक़ी ऐसे ही छोड़ देती। इस वजह से कभी न खुल पाने वाले प्रमोशनल मेल्स मेरे ईमेल इनबॉक्स में...
    August 19, 01:57 PM
  • पैरों तले ख़त़रा तो नहीं?
    चप्पलों के चुनाव में लापरवाही कहींआपके लिए बड़ी समस्या न खड़ी कर दे... पैरों की अच्छी सेहत सुनिश्चित करने के लिए इस ख़तरे को समझना और सतर्कता बरतना ज़रूरी है। किसी महिला ने कहा है, आप ख़ुशियां नहीं ख़रीद सकते, लेकिन फुटवेयर्स तो ख़रीद ही सकते हैं। दोनों चीज़ें समान ही हैं! जिसने भी यह बात कही, बिल्कुल ठीक कही है। महिलाओं के लिए फुटवेयर्स का चुनाव ठीक लिबास की तरह होता है। जितनी तन्मयता से ये लिबास चुनती हैं, कुछ वैसा ही हाल फुटवेयर्स चुनते समय भी रहता है। इस चुनाव के वक़्त रंग, रूप, स्टाइल को अधिक तवज्जो...
    August 19, 01:40 PM
  • बाज़ार से लाएं या घर पर बनाएं?
    कुछ वक़्त पहले तक दही, पनीर, मठा आदि चुनिंदा दुकानों पर ही उपलब्ध थे, पर अब कई नामी कम्पनियां भी ये उत्पाद बेच रही हैं। इडली, डोसे का घोल, तरह-तरह के मसाले, चिप्स जैसी हर एक चीज़ दुकानों में उपलब्ध है। इनका इस्तेमाल रसोई का समय और मेहनत बचाने की सहूलियत देता है, पर ज़रूरी नहीं कि सेहत के लिए भी ठीक हो। जानते हैं, क्या बाज़ार से ख़रीद सकते हैं और कितनों के घरेलू विकल्प ही फ़ायदेमंद हैं... घर पर बनाएं पनीर अधिकांश लोग पनीर ख़रीदते हैं, जबकि आहार विशेषज्ञ घर का पनीर उपयोग करने की सलाह देते हैं। दरअसल, बाज़ार का...
    August 19, 01:17 PM
  • सेहत से जोड़े योग
    पिछले कुछ दशकों में योग ने कई लोगों को नींद से जगाकर अपनी सेहत के प्रति सजग रहने को प्रेरित किया है। योग लगभग 5000 वर्ष पुराना है, लेकिन हमारे देश में अब भी बहुत से लोग इसे लेकर अनभिज्ञ हैं। ऐसे लोगों के लिए यह पुस्तक एक उचित मार्गदर्शन है। लोगों का मानना होता है कि योग सबके लिए नहीं है। परंतु यह पुस्तक इस विद्या की ज़रूरत व फ़ायदों के बारे में समझाकर इस बात को पूरी तरह से नकार देती है। इस पृथ्वी पर रहने वाला कोई भी इंसान, इस शास्त्र को समझकर और सीखकर योग साधना कर सकता है। एक आम भ्रांति यह भी है कि...
    August 19, 01:09 PM