आवरण कथा
Home >> Madhurima >> Cover Story
  • बोर की बुहार
    पौ फटने वाले पलों में पूरा जगत सूरजमुखी हो जाता है। नव कल्पना, नवविचारों के स्वागत में सुनहरी आभा से दमकता। भोर का माहात्म्य ही ऐसा है। सुबह-सुबह प्रार्थना करने, ध्यान लगाने या ऊपरवाले को याद करने के संस्कार हर इंसान को मिलते हैं। कितने इसका सारी उमर पालन करते हैं, यह बात और है लेकिन जो ऐसा करते हैं, उनमें से कई केवल इसे एक रवायत या आदत के तौर पर देखते हैं। एक अंग्रेज़ी की लेखक ने एक कार्यक्रम में बताया कि वे सुबह उठकर पंद्रह से बीस मिनट तक ध्यान करती हैं और उसके बाद ही सुबह की चाय लेती हैं।...
    November 26, 12:00 AM
  • दुल्हनों ! मेरी कहानी सुनो
    जान पहचान, दोस्ती, पसंदगी, प्यार के साथ एक- दूसरे की पसंद-नापसंद, कामकाज और परिवार के बारे में जानना काफी नहीं है। असली जानकारियां शादी के बाद होती है! हमारी शादी को पूरे बारह महीने हो गए हैं। मैं जान-बूझकर एक साल नहीं कह रही हूं। यह पूरा अरसा ख़ुशियों से भरा रहा, लेकिन सच कहूं, तो मैं यह नहीं कह सकती कि पता ही नहीं चला, एक साल कैसे गुज़र गया! दिन उड़े नहीं, बल्कि बाक़ायदा चलते हुए गए। जाना। हालांकि अब मुझे यह सोचकर हंसी आती है कि शादी के पहले मैं सोचती थी मुझे कुछ जानने की ज़रूरत ही नहीं है! और...
    November 20, 11:59 AM
  • The Legnedary Heroes
    We know that you are super-fascinated with the super-heroes. You idolize and connect well with them. Hence, we got you a compilation of their stories. Have a super read! WOLVERINE Marvel Comics He was approached with a chance to change the world, by Professor Charles Xavier. After joining Professors X-Men, Wolverine has been using his mutant powers, to heal, peak physical condition, and razor sharp bone claws to fight for the peaceful coexistence of humans. SUPER MAN DC Comics The most recognized superhero in pop culture, Superman has been elevated to mythic folk-hero status. Rocketed to Earth from the dying planet Krypton, he was found by a farming couple who named the boy Clark Kent. Discovering his enormous powers, they instilled in him strong moral valuesand inspired him to become a (super) hero. Captain America Marvel Comics ego of Steve Rogers, a frail young man who gave USA a patriotic boost during the World War II. He is a super soldier who derives his strength from a serum and carries an indestructible shield. He is armed with an indestructible, boomerang-like shield that can be used as a weapon, and for defence purpose too. SPIDERMAN Marvel Comics The bite of a spider granted Peter Parker incredible powers. When a burglar killed his...
    November 14, 12:00 AM
  • दूत है बच्चे
    बाल दिवस बच्चों से जुड़ी पारिवारिक जिम्मेदारी का अहसास कराने भी आता है, क्योंकि आपके नाम का ही नहीं, आपकी परवरिश का भी प्रतिनिधित्व करते हैं बच्चे। बा ल दिवस आ रहा है। बच्चों का दिन। उत्सव होंगे। बच्चों को ख़ास होने का अहसास कराया जाएगा। लेकिन इस दिन की एक और भूमिका भी है- अभिभावकों, परिजनों और स्कूल को यह याद दिलाने की कि बच्चे आपके प्रतिनिधि हैं। परिवार के लिए तो यह हर तरह से लागू होने वाला सच है। बच्चे का व्यवहार, उसकी आदतें, उसकी ज़बान घर के माहौल के, परवरिश के सारे राज़ खोल देती है। जिस लम्हे...
    November 12, 12:00 AM
  • सुखद बदलाव
    (फोटो प्रतीकात्मक) विवाह के पश्चात स्त्री और पुरुष, दोनों का जीवन बदलता है। बावजूद इसके हमारे समाज में सारी सीखें दुल्हन के लिए ही होती हैं। दूल्हे को शायद ही कुछ बताया या मानसिक रूप से तैयार किया जाता है। कुछ दशक पहले भले ही इससे कोई दिक़्क़त न होती हो, क्योंकि तब वधू को ही नए घर-परिवार और रिश्तों के अनुसार अनिवार्य रूप से ढलना पड़ता था और संयुक्त परिवार में लड़के का जीवन कमोबेश पूर्ववत ही रहता था, किंतु अब ज़माना बदल गया है। परिवार का स्वरूप और रिश्तों के समीकरण भी बदले हैं। परवरिश, महिलाओं की...
    November 5, 12:05 AM
  • रंग-ढंग किसके ?
    खालिस होने को हम पिछड़ापन मानते हैं। न यकीन हो, तो कस्बों को देखिए, जो शहरों से खरे हैं, लेकिन पिछड़े समझे जाते हैं। अपने आस-पास की भाषा सुनिए। तौर-तरीकों और रहन-सहन पर गौर कीजिए। हर पहलू में यह बात सच नजर आएगी। सुंदर, रंगीन पगड़ियां बांधे ग्रामीण शहर में नज़र आएं, तो जानिए कि आड़े वक़्त से गुज़र रहे हैं। बुरे समय में ही गांव को शहर आना पड़ता है। और अगर किसी शहरी इंसान के सिर पर पगड़ी दिखे, तो वो ज़रूर किसी शामियाने में होगा। लेकिन न तो चेहरे पर रौब-दाब होगा, न पैरों में कड़े चमड़े वाले जूते-जूतियां...
    October 29, 12:03 AM
  • हिल-मिल झिलमिल करवाचौथ
    अनूठा उत्सव है करवाचौथ का। पृथ्वी के दूसरे हिस्से के लोग इसे कौतूहल से देखते हैं। निबाह के मायने और उसका आनंद समझाने वाले इस पर्व के मुरीद कई हैं। चांद के सामने, सदा बढ़ते रहने वाले प्रेम की आकांक्षा लिए उठते हैं करवे और अर्घ्य देते हैं। शादी के चाव का एक हिस्सा करवाचौथ भी है। यह पर्व भी है, व्रत भी, साथ पर नाज़ भी और निबाह का संकल्प भी। प्रतीकात्मक हैं इसकी रस्में। निराहार रहना भी एक संकेत है कि अन्न-जल भले न मिले, पर साथ सदा बना रहे। कितने ही मन सम्भल जाते हैं इस दिन। रस्मों को ढकोसला कहने वाले...
    October 24, 04:59 PM
  • महालक्ष्मी म गृहे धनंपूरय
    देवी लक्ष्मी की कृपा पाने की मनोकामना के साथ दीपावली पूजन किया जाता है। पूजन में श्रद्धा का स्थान निश्चित रूप से सर्वोपरि है, किंतु वह रीतिनुसार हो तो सोने पर सुहागा हो जाता है... ल क्ष्मी पूजन के लिए अनेक सामग्रियां हैं। आप इन्हें जुटाने के यथासम्भव प्रयास कर सकते हैं- लक्ष्मी, गणेश, सरस्वती और कुबेर की प्रतिमा या चित्र, मिट्टी या धातु कलश, पीतल का दीपक, मिट्टी के दीपक, रोली, मौली, पान, सुपारी, धूप, कर्पूर, अगरबत्ती, गुड़, चावल, जौ, गेहूं, दूर्वा, शमीपत्र, पुष्प माला और पुष्प, श्वेत आर्क पुष्प,...
    October 22, 11:26 AM
  • शुक्र है कमजोरियां हैं
    मामला घर का हो या बाहर का, हुक्म चलाने का लोभ किसी से नहीं छूटता। सामाजिक जीवन में क़दों की नापजोख भी इसी आधार पर होती है कि चलती किसकी है। सब आनंदित होते हैं हुक्म चलाने में, किसी पर लगाम कसे रखने में। लेकिन मन के किसी कोने में ख़ुद पर किसी और के नियंत्रण का बोध भी समाया रहे, ये कुदरत का क़ानून है। मुखर नियंत्रण सबके जीवन में होते हैं। और ख़ामोश कमज़ोरियां भी। हर इंसान ख़ुद को शीर्ष पर ही देखने की कल्पना करता है। वहां से दुनिया सुंदर दिखती है, इसलिए नहीं। बल्कि यह जानते हुए भी कि वहां अकेलापन होगा,...
    October 16, 02:01 PM
  • रावण भी रोया था....
    शत्रु बहुत निकट आ पहुंचा था। मैं अंत को अपने समीप देख सकता था, यद्यपि मैं इसे स्वीकार नहीं करना चाहता था। कल ही तो अपने पुत्र की चिता को मुखाग्नि दी है। अब तो कुछ बचा ही नहीं था, केवल राम से अंत तक युद्ध करना ही शेष था। परंतु मैं किसलिए युद्ध कर रहा था? मेरा साम्राज्य समाप्तप्राय था, मेरे पुत्र की मृत्यु हो चुकी थी, मेरी रानी की मान-मर्यादा को धूल में मिला दिया गया था। अब शेष था ही क्या? जिस प्रकार कोई तीव्र लहर समुद्र के किनारे खड़ी चट्टान को क्षत-विक्षत कर देती है, उसी प्रकार मैं भी जर्जर होता जा...
    October 1, 12:38 PM
  • शक्तिम प्रणमाम्यम
    भगवती शक्ति जगत का पालन करती है। शक्ति के बिना संसार अशक्त हो जाता है। शक्ति ई कारांत है, स्त्रीलिंग है। शक्ति के अभाव में शिव भी शव हो जाता है। शक्ति ही जगन्माता है। नारी स्वरूपा है। मां है। ऋग्वेद के दशम् मंडल के 125वें सूक्त में आदिशक्ति जगदम्बा कहती हैं- मैं सम्पूर्ण ब्रह्मांड में भूलोक व सर्वलोक का विस्तार करती हूं। अखिल विश्व मेरी विभूति है। शारदीय नवरात्र को शाक्त महापर्व भी कहा जाता है। यह शक्ति संचय का महापर्व है। पूजा, अर्चना, व्रत, उपवास, जप, तप से शक्तिसंचय होता है। मां की कृपा...
    September 24, 12:36 PM
  • क़द बता देता है...
    जम्मू-कश्मीर में बारशि के कारण नदी-नहरें उबल पड़ीं। श्रीनगर में झेलम नदी ने अचानक अपने कनिारे तोड़ दएि। उस इलाक़े को पानी-पानी कर दयिा, जसिने ख़ुद को हमेशा इस तरह की मुश्कलिों से महफ़ूज़ माना था। क़ुदरत भी अजीब शै है। इंसान को याद दलिा ही देती है किउसके बस में कुछ नहीं। जब वो अपनी मनमानी करेगी, इंसान को सब भुला देगी। वो तमाम भेद भी, जन्हिें लोग अब तक अपनी ज़िन्दगीसे भी बड़ा मानते रहे हैं। सैलाब सब नाप लेता है। नापकर, बराबर करके दखिा देता है कुछ बड़ा नहीं क़ुदरत से, कुछ छोटा नहीं कसिी से। आपदाएं एकाएक यह...
    September 17, 12:53 PM
विज्ञापन
 
 

बड़ी खबरें

 
 

रोचक खबरें

 

बॉलीवुड

 
 

जीवन मंत्र

 
 

स्पोर्ट्स

 

बिज़नेस

 

जोक्स

 

पसंदीदा खबरें